मामा के बेटे से गांड मरवाने इक्षा हुई। Cousin Gay Sex Xxx Kahani

यह Cousin Gay Sex Xxx Kahani हुई। मेरे मामा के बेटे से गांड मारने की है। उसकी लंबाई, गोरा रंग और मजबूत शरीर है। मैं उसके साथ रहने की पूरी कोशिश करता था ताकि हम दोनों एक दूसरे से मिल सकें।

नमस्कार, मैं पार्थ सक्सेना हूँ। नाम बदल गया है।

आज मैं आपको एक असली सेक्स कहानी बताने जा रहा हूँ।

आपने मेरी पिछली कहानी मामा को मुठ मारते देखा। Gay Ki Mast Gand Kahani

यदि आप भी अपनी कहानी इस वेबसाइट पर पब्लिक करवाना चाहते हैं तो नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके अपने कहानी हम तक भेज सकते हैं, हम आपकी कहानी आपके जानकारी को गोपनीय रखते हुए अपनी वेबसाइट पर प्रकाशित करेंगे

कहानी भेजने के लिए यहां क्लिक करें ✅ कहानी भेजें

पढ़ी थी।

ये मेरी पहली Cousin Gay Sex Xxx Kahani है। जय, अगर कोई भूल हुई है तो अपने छोटे भाई को माफ करना।

मैं मुरादाबाद में रहता हूँ। मेरी लम्बाई पांच फुट तीन इंच है। देखने में मैं सामान्य हूँ।

Hot Cousin Hindi Gay Sex Stories

मैं भी ज्यादा कसरत नहीं करता। मैं सिर्फ सुबह जॉगिंग करता हूँ और कुछ हल्की-फुल्की एक्सरसाइज करता हूँ। कुल मिलाकर, मेरी बॉडी बहुत सुंदर और सुंदर है। यद्यपि रंग सांवला है

यह तब हुआ था, जब मैं बी।कॉम का पहला वर्ष था।

उस समय मेरी उम्र बीस वर्ष थी।

यह गर्मियों की छुट्टी है। मेरे मामा का लड़का उस समय हमारे घर रूकने आया था।

अमित है। उसकी उम्र २२ वर्ष है। वह गोरा रंग का है और पांच फुट छह इंच लंबा है. वह फिट शरीर है।

उसका शरीर सुंदर और आकर्षक है। उस पर हमेशा मेरा ध्यान था और कभी-कभी मुझे लगता था कि वह भी मुझे उसी तरह देखता था, जैसे मैं उसको देखता था।

वह दवा फैक्टरी में काम करता है।

उसकी इसी नौकरी के दौरान हमारा मिलना हो सका था, इसलिए इसका उल्लेख करना महत्वपूर्ण है।

कथा के अंत में आपको पता चलेगा।

वह मुझे गाड़ी चलाना सिखाने के बहाने से बार-बार मुझसे चिपक कर बैठ जाता था।

उस समय हमारे पास गाड़ी नहीं थी, इसलिए मुझे गाड़ी चलानी नहीं आती थी।

बार-बार वह या तो मेरी कमर पकड़ लेता था या मुझसे सीधे चिपक जाता था।

मैं भी उसके ऐसा करने से बहुत खुश था, इसलिए मैं विरोध नहीं करता था।

एक रात, हम सब घर वालों ने खाना खाकर बिस्तर पर चले गए।

लंबे इंतज़ार के बाद भी, पापा ने कहा कि आज सब छत पर सो जाएंगे।

मैंने छत पर जाने से मना कर दिया क्योंकि मैंने उस दिन कॉलेज में बहुत मस्ती की थी और दोस्तों के साथ खेली थी, और मेरे पैर बहुत दुख रहे थे।

मैं छत पर नहीं चला।

पिताजी ने कहा कि तुम गर्मी में नीचे सोओ, जबकि हम लोग छत पर सोने जा रहे हैं।

जब सब लोग चले गए, भईया भी चला गया।

मैंने मन ही मन सोचा कि अगर भाईया भी रूक जाएं तो आज रात मुझे कुछ नहीं करना चाहिए था, कम से कम उसका लंड छूने को मिल जाएगा।

लेकिन ऐसा नहीं हुआ।

भईया सबके साथ छत पर चले गए, और मैं अकेला अपने बेड पर लेट गया।

फिर आधे घंटे बाद प्रकाश भी आया।

लाइट आने के पांच मिनट बाद किसी के छत से नीचे गिरने की आहट हुई।

मैंने सोचा कि सभी नीचे आ रहे हैं।

यह सोचकर मैं लेट गया और कमरे के दरवाजे की ओर देखने लगा।

मैं भाईया को अपने बगल में अपना तकिया पकड़े हुए आ रहा था।

मैंने भईया से पूछा कि क्या बाकी सभी लोग नहीं आ रहे हैं?

Indian Cousin Gay Xxx Story

नहीं, सबने मना कर दिया, भईया ने कहा। उन्हें लगता है कि दस से पंद्रह मिनट बाद फिर से लाईट चली जाएगी। इसलिए कोई नहीं आया। मैं अपनी बुआ (मेरी माँ और भैया की बुआ) से बातचीत करके नीचे सो गया।

यह कहकर वह मेरे बगल में लेट गया।

जिससे मैं मन ही मन खुश हो गया और पंखा चला कर लेट गया।

लेकिन मुझे नींद आने वाली थी। मैं भईया के पास लेटकर ऐसे ही पड़ा रहा।

थोड़ी देर बाद, मैंने अपना हाथ उसके पेट पर रखकर नींद में होने की कोशिश की।

मैं ऐसे ही सोने की कोशिश करता रहा।

पर अनजाने डर से मेरा दिल बुलेट ट्रेन की तरह तेज धड़क रहा था।

फिर मैं कुछ देर बाद अपना हाथ थोड़ा नीचे करके देखने लगा कि भईया सो रहा था या जाग रहा था।

जब भाईया ने कुछ नहीं किया, तो मैंने सोचा कि वह अब गहरी नींद में सो गया है।

धीरे-धीरे मैं भईया के लंड पर अपना हाथ रखने लगा।

इसे भी पढ़ें   बहन और भाभी एकसाथ चुदी (सामूहिक चुदाई) भाग-2

लंड हाथ में लेते ही मेरा दिल धड़कने लगा।

मैं कुछ समय इंतज़ार करता था। भईया ने कुछ नहीं किया।

फिर मैं बिल्कुल निडर हो गया।

उस समय भईया का लंड सो गया था। फिर भी बहुत दिलचस्प लग रहा था।

मैंने धीरे-धीरे उसके लोवर में अपना हाथ डालकर उसके लंड को पकड़ लिया।

उसका लंड पूरी तरह से गर्म था और बाल नहीं थे।

लंड को पकड़ते ही मैं करेंट सा दौड़ने लगा। जब मैं भईया के लंड को धीरे-धीरे दबाने लगा, तो उसमें तनाव आने लगा।

मैंने फिर अपना हाथ बाहर निकाला।

अब मैं धीरे-धीरे भईया का पजामा निकालने लगा। मैं भईया गहरी नींद में था।

मैंने कोशिश की और भईया का पजामा उसके घुटनों तक करके बैठ गया।

जब मैं भैया का लौड़ा हाथ में लिया, तो मैं चौंक गया।

भईया का लौड़ा पूरा तन कर कमरे की छत को नमस्कार कर रहा था।

उसका लंड 7 इंच का हो गया।

पहले मैंने सोचा था कि अगर मैं इस लंड को अपनी गांड में लूंगा तो यह मेरी गांड में एक सुरक्षित गुफा बना देगा।

फिर मैंने सोचा कि मूसलों से क्या डरना, जब ओखली में सर दे दिया है।

मैं पागल हो गया जब मैं नीचे झुककर भईया का लंड सूंघा।

जब मैं अपनी जीभ निकालकर भईया का प्री-क्रीम चाटा, तो मुझे उसका नमकीन स्वाद आया।

मैं इसे बहुत पसंद किया।

मैंने धीरे-धीरे उसके लौड़े को चाटना शुरू किया।

मैं उसके लौड़े का स्वाद लेने लगा क्योंकि मुझे लगा कि भईया सो रहा है।

तब अचानक भाईया ने कहा, “मेरी रानी, तड़प मत करो. अब इसे अपने होंठों से दबा ले।”

मेरी गांड फट गई जब मैंने देखा कि भाईया जाग रहा है।

Gay Sex Desi Xxx Kahani

मैं भयभीत होकर दूर चला गया।

भईया ने मेरा हाथ पकड़कर अपने ऊपर खींचा, जिससे मैं सीधा उसके ऊपर गिर गया और मेरे होंठ उसके होंठों से टकरा गए।

डर मत, मेरी जान, भईया ने मेरे होंठों को चूमते हुए कहा।

भयभीत होकर मैंने भईया से पूछा: क्या आप सो नहीं रहे थे?

तो भाईया ने कहा कि मुझे नींद कब आती है जब मैं तुम्हारे साथ सोता हूँ। तुमने मेरे पेट पर हाथ रखा, तब से मैं अपने आप को रोका हुआ था। मैंने उसी समय से तुमको अपने साथ खींचने से बस जाने से रोका था।

यह कहते हुए भाईया ने एक लंबी मुस्कुराहट दी और अपनी जीभ मेरे मुँह में डालने लगी।

यह मेरे लिए और भी बेहतर था। मैं इसे खुद चाहता था।

मैं भाईया को भी किस करने लगा।

मैं भईया का लौड़ा एक हाथ से हिला रहा था और दूसरे हाथ से उसे पकड़कर किस कर रहा था।

तब अचानक मेरे भाई ने मेरा सर पकड़ा, उसे अपने लौड़े के पास ले जाकर रोका और कहा, “अब मेरी जान नहीं रोका जाएगा।” तुम्हारी स्माइल को देखकर कितनी बार मुठ मारी है? आज तो वास्तव में इसे चूसकर उसका रस निकाल लो।

यह सुनकर मुझे बहुत खुशी हुई कि भईया भी मुझे पसंद करता है।

भईया का बड़ा लौड़ा मैं अपने मुँह में डालकर चूसने लगा, लेकिन पूरा लौड़ा कहां आने वाला था?

फिर भी भईया अपना सर छत की तरफ करके आंखें बंद करके स्मूच करने लगा, जब मैं मजे से उसके लौड़े को चूसने लगा।

“आह आह इस्स…” भैया की आवाज निकलने लगी।

मैंने भईया का लौड़ा उसके मुँह से निकालकर कहा, भईया, धीरे-धीरे बोलो या चुप हो जाओ, अगर किसी ने सुन लिया तो बुरा होगा।

कोई नहीं आएगा, भईया ने कहा। सुबह सात या आठ बजे कोई नहीं उठेगा।

मैंने पूछा कि ऐसा क्यों हुआ?

तो भईया ने कहा कि मैं जिस दवाई फैक्ट्री में काम करता हूँ, वहाँ मैं काम करता हूँ। यह नींद की दवा भी है। हम दोनों आज बाहर की कृपा से मनोरंजन करेंगे।

उसने सब कुछ बताया।

वास्तव में, भईया ने हमारे भोजन के बाद सबके भोजन में चुपके से अपनी दवा दी थी।

मैंने आपको मेरे भोजन में क्यों नहीं डाला?

तो भईया ने कहा: मैं जानता था। मैं तुमसे चाहता था, तुम भी मेरे साथ सेक्स करना चाहते हो। मैं अपने आप को छूने और मुझे देखने के तरीके को समझ गया।

मैं भगवान को चुंबन देने लगा।

फिर भईया ने कहा, “अब बहुत हो गया, चुपचाप चूस लो।” मैं रुक नहीं सकता।

मैं भईया का लौड़ा चूसने लगा। मैं उस पर थूकता, कभी चाटता और फिर से चाटता।

इसे भी पढ़ें   गांड चुदवाने में मुझे बहुत मज़ा आया | Hindi Xxx Gand Chudai Ki Kahani

तब भाईया ने अपना लौड़ा मेरे गले तक उतारकर मेरे सिर पर हाथ रखा।

इससे मुझे घबराहट होने लगी और मुझे सांस लेना पड़ा।

भाईया मेरे मुँह को चोदने लगा और मैं नाक से सास लेने लगा।

पिताजी ने मुझे पांच मिनट तक बेदर्दी से चोदने के बाद अपना सारा माल मुझे ही दे दिया।

फिर भी उसने लौड़ा मुँह से नहीं निकाला, इसलिए मुझे उसके लंड का रस पीना पड़ा।

फिर उसने अपना लौड़ा मेरे मुँह से निकाला, और मैंने एक लंबी सांस ली।

पहले मुझे घिन था, लेकिन उसके माल का नमकीन स्वाद मुझे बहुत पसंद आया।

फिर भईया ने मुझे ऊपर खींचा और अपने माल को मेरे मुँह और होंठों पर चाटने और चूमने लगा।

लंबे समय तक किस करने के बाद, भाईया ने मुझे पलटकर मेरी टी-शर्ट उतारी और मेरी सुंदर शरीर को चाटने और चूमने लगा।

मेरे शरीर पर कोई बाल नहीं है, इसलिए भाईया की जीभ आराम से मेरे शरीर पर फिसल रही थी।

तभी भईया ने दूसरी घुंडी पर अपनी उंगलियां फिराने लगी और मेरा एक निप्पल अपने मुँह में ले लिया।

मैं पागलों की तरह चिल्लाने लगा।

Gay Cousin Free Sex Kahaniya

मैं भाई को उठा कर उसकी गोदी में बैठ गया और उसकी टी-शर्ट भी उतार दी।

भईया का शरीर हल्का था, जो मुझे हमेशा पसंद था।

मैं उसके शरीर को चाटने लगा और धीरे-धीरे दोनों नंगे हो गए।

मैंने देखा कि भईया का लौड़ा उठने लगा।

भईया ने अपना लौड़ा मेरे मुँह में दिया और मुझे बेड पर सीधा लेटा दिया।

मेरी नाक पर उसके टट्टे लगने लगे। भईया मुझे चोदने लगा।

मैंने कुछ समय बाद भाईया का लौड़ा मुँह से निकालकर कहा, “अब नहीं रूका जाता।” अब बस अपनी बीवी बनाओ।

भईया ने कहा कि विचार करो, बहुत बड़ा है। क्या आप पूरा करेंगे?

मैंने कहा कि भईया, आपके लिए जान भी हाजिर है।

मुझे प्यारी किस करके भईया ने कहा, “जाओ तेल ले आओ, नहीं तो तुमको बहुत दर्द होगा।”

मैं जल्दी से उठा और भापघर में गया और सरसों का तेल एक कटोरी में ले आया।

मैंने भईया को तेल लगाया और वह औंधा लेट गई।

मेरे बाबू को बहुत जल्दी है, भईया ने हंसते हुए कहा।

हां, मैंने हंसकर कहा।

भईया ने मुझे सीधा करके मेरी टांगें अपने कंधे पर रखीं।

फिर अपने लौड़े पर तेल लगाकर उसे पूरी तरह से चिकना कर दिया।

फिर, जब मैंने कहा कि “भईया जल्दी करो ना”, भईया ने कहा, “रुक तो जा मेरी जान… पहले कमरे की लाइट जला लूँ देखो कि मेरी जान बिना कपड़े के कैसी लगती है।”

भईया ने कमरे की रोशनी जलाकर मुझे देखने लगा।

भईया मेरा हल्का सांवला चिकना शरीर देखकर पागल हो गया।

भईया के हल्के वालों वाला शरीर देखते ही मेरा शरीर गर्म होने लगा।

फिर मैं भईया का गोरा तेल से चमकता हुआ लौड़ा देखा।

मैंने कहा, भाई, देर मत करो। तुरंत इसे मेरे अंदर डालकर अपना बना लो।

भईया मेरे पास आकर मेरी टांगें उठा कर मेरी गांड में उंगली डालने लगे।

फिर झुककर कहा, “मेरे लिए बस कुछ दर्द सह लोगे ना!”

मैंने कहा कि चिंता मत करो, भईया, आपके लिए जान हाजिर है।

यह सुनकर भईया बहुत खुश हो गया और मुझे एक किस देकर मेरी कुंवारी गांड पर अपना लौड़ा रगड़ने लगा।

भईया ने अचानक मुझे एक हल्का धक्का दिया, जिससे उसके लौड़े का टोपा मेरी गांड में घुस गया।

मैंने भाईया को नहीं बताया, हालांकि मुझे बहुत दर्द हुआ।

किंतु भईया ने समझा और मुझे किस करने लगे।

तुम मुझे कब से पसंद करते हो?

मैंने कहा, जब मैंने तुम्हें नहाते देखा।

तुम मुझमें क्या अच्छा लगता है, भईया ने पूछा।

मैंने कहा: तुम्हारे होंठ।

तुम अभी कहां हो, भईया ने पूछा।

मैंने कहा, तुम्हारी बांहों में।

फिर भाईया ने पूछा: दर्द हो रहा है?

हां, मैंने कहा।

तब भाई ने मुझे एक किस दिया और कहा कि आज से तुम मेरे हो गए।

तब मुझे लगा कि भईया का पूरा लम्बा लौड़ा मेरी गांड में घुस गया है और हल्का खून बहने लगा है।

बातों बातों में भईया ने अपना लौड़ा पूरा अन्दर घुसने दिया।

उस समय मुझे जलन और हल्का दर्द हुआ।

बाद में भैया कुछ देर रुका और हल्का सा लंड बाहर निकालकर वापस अन्दर डाल दिया।

इसे भी पढ़ें   मालिक के लड़के ने मेरी माँ को चोद दिया | Mom Chudai Ki Hindi Sex Stories

मेरी आंखों से आंसू बह गए क्योंकि मुझे बहुत दर्द हुआ।

भईया को ये देखकर बहुत बुरा लगा, लेकिन भईया मुझे बहुत प्यार करते थे।

मेरा बहुत ख्याल था।

तब भाईया ने कहा, “बाबू, दर्द हो रहा है, तो रहने दो।”

यह कहते ही भईया उठने लगा।

उसे खींचते हुए मेरी टांगें फैल गईं और मेरे कंधे पर आ गईं।

मैंने कहा, भईया, कुछ पाने के लिए कुछ संघर्ष करना पड़ता है।

भईया ने ये सुनकर मुझे किस करने लगा।

Antarvasna Cousin Hot Xxx Gay Stories

वह अपना लौड़ा अंदर बाहर करने लगा।

Gay sex में पहले कुछ मिनट मुझे बहुत दर्द हुआ, लेकिन बाद में मुझे मजा आने लगा।

अब मैं मजाक करते हुए कहता हूँ, “अह इस्स भईया जोर से… और जोर से करो आह आज मुझे अपनी बीवी बना लो।” चीखने लगा।

साथ ही भईया ने सीत्कार करते हुए कहा कि आज से तू मेरी रानी होगी और मैं तेरा राजा हूँ।

फिर भाईया मुझे बहुत जोर से चोदने लगा।

पंखा चलने के बाद भी कमरे में गर्मी थी।

भईया मुझे चोदते हुए मेरे सीने से चिपक गया। सीने पर हम दोनों का पसीना चपक रहा था।

मुझे और भी मज़ा आ रहा था जब भईया अपना पूरा लौड़ा मेरी गांड से बाहर निकालकर अंदर डाल रहा था।

बीच-बीच में भईया भी हेलीकॉप्टर से मुझे मार रहे थे।

जब भाईया हेलीकॉप्टर से मुझे मार रहा था, तो मैं खुशी से चिल्ला रहा था, “आह मजा आ गया भईया।”

यह सुनकर भईया खुश हो जाता और मुझे जोर से चोदने लगता।

इस पोजीशन में बहुत देर चुदने के बाद मेरी टांगें दुखने लगीं।

तब मैंने कहा, भाई, स्थान बदलो।

ठीक है, भईया ने कहा।

जब भईया ने अपना लंड मेरी गांड से निकाला, मुझे बहुत अच्छा लगा।

फिर मैं भईया को सीधा लेटा कर उसके लंबे लौड़े पर बैठ गया।

मैं भईया के लौड़े पर कूदने लगा जब उसने अपने हाथ मेरी कमर पर रखे।

“आह चोदो भईया मुझे चोदो आह मजा आ रहा है,” मैंने कहा। चीख रहा था।

तो भाईया भी कमर उठा कर बोला, “मेरे बाबू ले।”

भईया तेज चोदने लगा।

मैं भी उसके लौड़े पर कूदने लगा।

Gay Hot Porn Xxx Stories

तभी भईया ने मुझे उल्टा पटका और मुझे चित लेटाकर अपना लौड़ा घुसाकर जोर से चोदने लगा।

मैं खुश होने लगा।

तब भईया का लौड़ा कड़क हुआ।

मैंने सोचा कि भाईया अब टूटने वाला है।

दो मिनट बाद भाईया मेरे ऊपर लेट गया और मेरी गांड में झड़ गया।

हम दोनों आराम से सांस लेने लगे।

वह उठ गया और मुझे किस करने लगा।

वह मेरी गांड में से निकलने लगा और मुझे बहुत जलन हुई।

भी बहुत दर्द हुआ।

तब भाईया उठ गया।

पहले उसने अपना लौड़ा साफ किया, फिर मेरी गांड।

भईया की यह क्रिया मुझे बहुत पसंद आई।

मैं अपनी गांड साफ करने के बाद भाईया ने भी मुझे कपड़े पहनने में मदद की।

फिर मुझे अपने कपड़े पहनाकर दर्द कम करने वाली एक गोली दी।

मेरे पास आकर लेट गया और मुझे किस करने लगा।

ये कहानी भी पढ़े – अनजाने में माँ को चोद दिया। Mom And Son Chudai Kahani

फिर भईया मुझे प्यार करने के बाद सो गया।

उस दिन के बाद, भाईया हमारे घर आता था या मैं नानी के घर जाता था, हम दोनों साथ रहते और साथ सोते थे।

उस रात, भईया मुझसे और अधिक प्यार करने लगा।

दोस्तो, यह मेरे ममेरे भाई और मैं दोनों के साथ गे सेक्स की कहानी थी।

मैं आशा करता हूँ कि आपको मेरी Cousin Gay Sex Xxx Kahani पसंद आएगी।

Related Posts

Report this post

मैं रिया आपके कमेंट का इंतजार कर रही हूँ, कमेंट में स्टोरी कैसी लगी जरूर बताये।

1 thought on “मामा के बेटे से गांड मरवाने इक्षा हुई। Cousin Gay Sex Xxx Kahani”

Leave a Comment