पीजी में लड़के का लंड चूसा। Gay Boy Sex Story

Gay Boy Sex Story में पढ़ें कि मैं अपने PG में रहने वाले लड़के को कैसे पसंद करने लगा। जब हम दोस्त बन गए, मैं एक दिन उसके कमरे में उसके लंड से खेल रहा था।

मेरा नाम राहुल है। मेरी उम्र २५ वर्ष है।

यह Gay Boy Sex Story पांच साल पहले हुई थी, जब मैं स्नातक द्वितीय वर्ष का विद्यार्थी था।

आपने मेरी पिछली सेक्स कहानी मेरी गांड मरवाने की इक्षा। New Gay Bottom Sex Stories

पढ़ी थीं।

Hot Boy Hindi Gay Sex Stories

मेरे बाजू वाले प्राइवेट पीजी कमरे में एक लड़का रहता था।

वह मेडिकल एंट्रेंस टेस्ट की तैयारी कर रहा था।

उसे फुटबाल और क्रिकेट खेलने में बहुत रुचि थी।

वह मध्य प्रदेश के एक गाँव से था; वह एक बड़े ठाकुर परिवार का बेटा था।

उसका रंग सांवला था, लेकिन उसकी त्वचा बहुत चमकदार थी।

बिना रैपर के लगता था कि कोई फ्रेश चॉकलेट है।

उसका कद छह फीट से कुछ अधिक था; कद काठी अच्छी थी।

उसने जिम और अन्य अभ्यासों से अपने शरीर को काफी सुडौल बना रखा था, इसलिए लड़कियां उसके पास अधिक से अधिक आना चाहती थीं।

वह खूबसूरत शरीर और रूप के बावजूद अत्यंत सरल स्वभाव का था; उसे लड़कियों से शर्म आती थी।

लखनऊ की कई लड़कियां उसे चाहती थीं, लेकिन वह शायद अभी पढ़ाई में ध्यान कर रहा था।

लेकिन बाद में उसके बारे में कुछ और पता चला तो बात समझ में आ गई।

वह बात आपको कहानी में आगे भी समझ आ जाएगी।

जब मैंने पहली बार देखा, मैं भूल गया कि मैं लड़का हूँ। काश ये मुझे मिल गया होता।

मैं उसके पास आने लगा।

मैं धीरे-धीरे उसका अच्छा दोस्त बन गया।

वह मेरे साथ रहना अधिक पसंद करने लगा क्योंकि मेरी पढ़ाई अच्छी थी।

उसे क्या पता था कि मैं उसके लंड से भूखा हूँ?

मैंने रात को उससे कुछ बात करने के लिए फोन किया क्योंकि मुझसे तीन चार महीने तक बर्दाश्त नहीं हुआ।

तब लगभग बारह बज रहे थे।

Desi Gay Boy Xxx Kahani

उसका कमरा बगल में था, वह लगभग दो घंटे बाद आया।

मैं इतनी देर क्यों लगा दी?

उसने मुस्करा कर कहा, “यार, मैं हिला रहा था जब तुमने मैसेज भेजा।”

मैं जानबूझकर पूछा: क्या मैं नहीं समझा?

उसने कहा, अरे भाई मुट्ठ मार रहा था।

मैंने प्रतिक्रिया दी, जैसे मैंने इस शब्द को पहले कभी नहीं सुना था; मैंने पूछा: ये मुट्ठ मारना क्या है?

तुम भी नहीं जानते, बोला वह। उसे मुट्ठ मारने को कहते हैं जब आप लंड को हाथ से पकड़कर आगे पीछे करके उसका सड़का निकालते हैं।

उसकी इतनी खुली बात सुनकर मेरा रक्तचाप बढ़ गया।

वह मेरे सामने अपने लंड की बात कर रहा था और मुझे वही चाहिए था।

उस वक्त मुझे ऐसा लगा कि इसके लंड को मुँह में लेकर खूब चूसूँ।

लेकिन मैंने नियंत्रण खो दिया और उससे कहा, “तुम्हारे पास तो बहुत सी लड़कियां हैं।” तो क्या मुट्ठ मारने की जरूरत है? आप चाहें तो चूत भी प्राप्त कर सकते हैं।

हां, यार, लेकिन मुझे इधर किसी से यौन संबंध नहीं बनाना, वह हंस कर बोला। मुझे गाँव की एक लड़की से प्यार है।

मैं अब तक जानता था कि उसकी ये वही बातें थीं।

मैंने कहा: “अच्छा..।” अब मुट्ठ मारने में कितने दिन लगते हैं?

वह हंसते हुए कहा, “तुम तो यार… इसी बात पर अटक गए!”

मैंने कहा, “अच्छा रहने दो,भाई!”

तब तक, एक दिन के अंतराल पर, वह बोला, जो अक्सर सोने से पहले इसी समय होता है।

मैंने कहा, “ठीक है भाई, अब सुबह बात होगी और मैं सो जाऊँगा।”

वह शुभ रात्रि कहकर चला गया।

Antarvasna Hindi Gay Ki Chudai Kahani

मैंने सोचा कि आज इसने अपना लंड बाहर निकाला है, जिसका अर्थ है कि अब वह परसों मुट्ठ मारेगा।

काश मैं उसी समय उसे शादी की पेशकश करता, तो शायद वह मेरे साथ शादी कर लेता।

लेकिन वह मुझसे बात भी नहीं करेगा अगर बुरा लगता है।

मैंने सब कुछ भाग्य पर छोड़ दिया और जब एक दिन चला गया तो मैंने सोचा कि आज कोशिश करके रहूँगा।

जो होगा, उसे देखना होगा।

साढ़े दस बजे रात को मैं उसके कमरे में पहुंच गया।

उस दिन मैं घुमा फिरा कर सेक्स की बात करता था।

थोड़ी देर बाद उसने कहा, “यार, मुझे अब कुछ करना है, तुम जाओ!”

मैंने सवाल उठाया: क्या करना है?

वह इस बात से थोड़ा नाराज हो गया और पूछा-यार, सब कुछ बताना क्या जरूरी है?

वह सिर्फ गुस्से में कहा कि मुझे बस अपनी गर्लफ्रेंड से फोन करके सेक्स करना है!

मैंने कहा कि अगर आप चाहते हैं तो मैं कुछ कर सकता हूँ। एक बार फिर करो!

वह गुस्सा होकर बोला, “यार, मुझे समझ नहीं आ रहा है कि आज आप ये बकवास क्यों कर रहे हैं।”

मैंने कहा: सुनो। अगर आप अपनी गर्लफ्रेंड से आंख बंद करके बात करते हैं और अपने लंड को चूत की तरह प्यार करते हैं..। साथ ही, अगर आपको अपने लौड़े को हाथ भी नहीं लगाना पड़े तो?

वह हंसते हुए पूछा, “अरे, यहाँ चूत कहां है?” आपके पास क्या है?

मैंने कहा कि तुम बस आंख बंद करके कुछ देर बात करो, फिर देखो।

उसे कुछ समझ आया।

उसने ऐसा ही किया।

दस मिनट बाद, वह ऊपर से अपने लंड पर हाथ फेर रहा था, और मैं खुद अपने हाथ से उसके लंड को मसलने लगा।

उसने मुझे रोका ही नहीं, बल्कि हल्के से आंख खोलकर मुस्करा भी दिया।

अब वह बहुत गर्म हो गया था, उसने फिर से अपनी आंखें बंद कर लीं।

उसकी पैंट के ऊपर से ही उसका लंड कड़क होने लगा था।

वह अंडरवियर भी नहीं पहने हुए था, जब मैंने उसकी पैंट की जिप खोली।

उसका लंड बड़ा था।

जब मैंने छूकर देखा, मैंने सोचा कि इसे लौड़ा कहते हैं।

मैं अपने गे बॉय जीवन में पहली बार इतना खुश था।

मैंने तुरंत उसका लंड मुँह में ले लिया।

ऊपर से देखने में वह बहुत सुंदर था, लेकिन साला शायद अंदर से लौड़े को नहीं धोता था।

उसके लंड से इतनी तेज महक आ रही थी कि मुझे बुरा महसूस हुआ।

लेकिन उस समय इस विषय पर कुछ भी कहना उचित नहीं था।

वह अपनी प्रेमिका से बात करते हुए मेरे सर पर हाथ फेर रहा था और लंड को मेरे मुँह में देने लगा।

लंड को मुँह से निकालकर मैंने उसकी तरफ देखा।

मैं कुछ कहना चाहता ही था कि उसने अपनी एक उंगली से मुझे कहा कि मैं बोलना नहीं।

उसने लंड को फिर से इशारा किया कि इसे चूसकर खुश हो जाओ।

मैंने उसके गोटों और लंड को लगभग दो घंटे तक चाटा।

अंततः वह उठा और मुझे घेर लिया।

मैंने कुछ भी नहीं समझा कि ये क्या करने वाला है।

तभी उसने अपनी पूरी खुशबू मेरे चेहरे पर डाली और हल्के से हंसते हुए लेट गया।

मैं लज्जित होकर मुँह पौंछ रहा था।

Nonveg Hot Boy Xxx Sexy Kahani

“आज तो मजा आ गया, यार,” उसने धन्यवाद देते हुए फोन रख दिया। तुम बहुत सुंदर चूसते हो। आज मेरे पास सो जाओ!

मैंने पूछा कि आपको बुरा तो नहीं लगा?

वह हंसने लगा, कहते हुए, “यार, मुझे तुम्हारे मुँह को चोदने से ज्यादा मजा आया।” अब इस बात को किसी से नहीं कहना। आपको भी कोई डर नहीं है। यद्यपि तुम लड़कियों की तरह नहीं फंस सकते, लेकिन आज जिस तरह से तुमने लंड चूसा है, मुझे मज़ा आया। लंड चुसवाने का इतना मजा मैंने पोर्न में नहीं देखा था। अब सो जाओ।

मैं लेट गया और जल्दी ही गहरी नींद आ गई।

अगले दिन, न जाने क्या हुआ, उसने मुझसे कहा कि अब मुझसे बात नहीं करना।

मैं बहुत डर गया, लेकिन फिर भी मैंने उससे कुछ बात करने का प्रयास किया।

उसने पूछा कि आपने ये सब कैसे किया? तुम एक लड़का हो!

मैंने कहा कि मैं गे हूँ।

मैंने उसे सब कुछ बताया।

तो उसने सही कहा..। मैं अपना लंड तुम्हें दे सकता हूँ, लेकिन कुछ शर्तों पर।

मुझे लगता था कि शर्त के साथ दे रहा है..। कम से कम देगा।

मैंने पूछा कि शर्त क्या है?

उसने कहा कि पहली शर्त यह है कि आप इस बारे में कभी भी किसी को नहीं बताएंगे। तुम्हारी लंड चूसते समय की एक फोटो चाहिए ताकि मैं तुम्हें एक्सपोज कर सकूँ।

मैंने उत्तर दिया: ठीक है।

उसने कहा कि दूसरी शर्त यह है कि मैं लड़कों में कोई दिलचस्पी नहीं रखता, इसलिए आपको थोड़ा गुस्सा से सेक्स करना होगा।

मैं भी इसमें सहमत था।

Xxx Desi Boy Gay Sex Kahani

तीसरी शर्त में उसने कहा कि मैं अपने मन की बात करूँगा, न कि आपकी बात!

इस पर भी मैंने हां कहा।

ठीक है, वह हंसा। यार, एक और बात है कि मैं हर दिन मुट्ठ मारता हूँ। मैंने उस दिन झूठ बोला कि मैं एक दिन छोड़कर एक दिन करता हूँ।

मैंने उसकी तरफ देखा।

वह फिर से पूछता है: क्या आप इसे समझते हैं?

मैंने उत्तर दिया: नहीं!

उसने कहा कि आपको हर 24 घंटे में एक बार लंड को खुश करना होगा।

मैंने कहा: ठीक है।

वह हँसने लगा।

मैंने फिर कहा कि मुझे भी कुछ कहना है।

क्या?

मैंने कहा कि लंड बहुत बदबूदार था, इसे थोड़ा साफ करो।

उसने इस पर हंसकर कहा, “बेटा, सब कुछ अपने आप करो।” आपको सिर्फ बाल धोना या लंड धोना होगा। अब गंधों को सूंघने की भी आदत डाल लो।

वह बहुत बदल गया था जब से मैंने उसका लंड चूसा था।

तब से वह मुझे यौन दृष्टिकोण से देखने लगा।

हम दोनों चुप रह गए।

ठीक है, मैं बहुत थका हूँ। उठने के बाद आ जाना. मैं थोड़ा सोने जा रहा हूँ। जब मैं मैसेज करूँगा, तो आ जाना।

मैंने कहा: ठीक है।

मैं फिर अपने कमरे की ओर चल पड़ा।

उसने मुझे रूम पर पहुंचते ही कहा कि मैं थका हूँ और तुम्हें मेरी मालिश करनी है, इसलिए आ जाओ।

मैंने कहा, नहीं।

मैं फोन को पकड़ा।

कुछ मिनट बाद वह स्वयं मेरे कमरे में आया और कहा, “यार, फिर से एक बार चूस दो, तब ही सो पाऊंगा।”

शर्त के अनुरूप मैंने हां दिया और काम पर लगा दिया।

Gay Porn Story In Hindi

बीच में देखा तो वह लंड चुसवाते हुए वीडियो बना रहा था।

सिर्फ एक लंड की फोटो आनी थी, जिसमें उसका चेहरा नहीं आने वाला था। मैं लंड चूसते हुए साफ दिखूँगा..। इस तरह का वीडियो वह बना रहा था।

अब मालिश भी करो, उसने कहा, लंड चुसवाने के बाद।

मैंने कुछ नहीं कहा।

उसने कहा कि पुरुषों की सेवा करो और खुशी मिलेगी।

मैं अपने आप को नियंत्रित नहीं कर पाया और मन लगाकर उसकी मालिश की।

वह मेरे कमरे में ही सोने लगा था, जब वह अचानक उठा और कहा, “अब अकेले में मुझे मेरे नाम से मत पूछो।” मालिक या ठाकुर कहना। मैं इसे पसंद करता हूँ।

वह बाहर चला गया जब मैंने हां में सर हिला दिया।

ये कहानी भी पढ़े – मामा को मुठ मारते देखा। Gay Ki Mast Gand Kahani

जब वह जा रहा था, उसने कहा कि आज रात दोनों सुहागरात मनाएंगे। मैं कमरा साफ करता हूँ। तुम मेरी दुल्हन बनकर रेडी रहना। तुम्हारी गांड आज रात चुदाई की जाएगी।

मैंने खुशी से हां में सर हिलाया।

दोस्तो, मैं अगली गे बॉय सेक्स कहानी में लिखूँगा कि ठाकुर साहब का लंड मेरी गांड में कैसे घुसा और क्या हुआ।

आप मेरी Gay Boy Sex Story पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

Related Posts

Leave a Comment