मामा को मुठ मारते देखा। Gay Ki Mast Gand Kahani

Gay Ki Mast Gand Kahani में पढ़ें, मैंने अपनी मामा को मुठ मारते देखा। जब मैंने उनका लंड देखा तो मुझे उसे छूने की इच्छा हुई। क्या हुआ मैंने मामा के लंड को सोते हुए छुआ?

दोस्तो, मैं आपको अपनी मर्द मामा से गे सेक्स की एक कहानी सुन रहा हूँ।

आपने मेरी पिछली कहानी नींद की गोली देकर मॉम को चोदा। Step Mother Xxx Kahani

पढ़ी थीं।

यदि आप भी अपनी कहानी इस वेबसाइट पर पब्लिक करवाना चाहते हैं तो नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके अपने कहानी हम तक भेज सकते हैं, हम आपकी कहानी आपके जानकारी को गोपनीय रखते हुए अपनी वेबसाइट पर प्रकाशित करेंगे

कहानी भेजने के लिए यहां क्लिक करें ✅ कहानी भेजें

अब तक आपने पढ़ा था कि समीर ने क्या किया, यानी मैंने अपनी मामा को ऐसा करते देखा था, जो उसने पहले कभी नहीं किया था या सोचा था।

अब Gay Ki Mast Gand Kahani:

मामा बाहर आ गए।
मैं सोने की कोशिश कर रहा था।

Hot Gay Sex Stories

कुछ देर में वे भी बेड पर आकर लेट गए।

मामा सुख से सो रहे थे, लेकिन उनका लंड और मलाई मुझे पागल कर रहे थे।

बाथरूम का वही सीन मेरे मन में निरंतर चल रहा था।
फिर मुझसे रहा नहीं गया, तो मैं उनकी रजाई में हाथ डालकर उनके लंड को सहलाने लगा।

मैं खुश हो गया।
लेकिन मुझे पता नहीं था कि मेरी ये गलती मुझे कष्ट देगी।
क्योंकि मामा सो रहे थे और मुझे तिरछी नजरों से देख रहे थे

मैं सिर्फ उनके हथियार को रगड़ने में व्यस्त था।
उनका लंड भी फूल गया।

उनके अंडरवियर को फाड़कर उनके लौड़े को बाहर निकालने का मेरा मन था।
लेकिन मुझे पता नहीं था कि मामा जाग रहे हैं।

मेरी नज़रें नीचे की तरफ थीं जब मैं उनका लंड सहला रहा था।
“बाहर निकाल कर हिलाओ!” एक आवाज ने मेरे कान में कहा।

मेरे हाथ अचानक रुक गए और मैं पलट गया।
अब मेरी धड़कनें तेज होने लगी।
मैं गिरफ्तार हो गया।

अब क्या होगा, मैं नहीं जानता था!
क्या होगा अगर मामा ने किसी को बताया?
मुझे बहुत नुकसान होगा।

डर से मेरे रोंगटे खड़े हो गए, लेकिन इतने में मेरे कंधे पर मामा का हाथ था।

“डरो मत, मैं कुछ नहीं कहूंगा,” उन्होंने कहा, मेरे हाथ सहलाते हुए। मेरी ओर देखो।

वह उठकर बैठे हुए थे, जब मैंने धीरे-धीरे उसकी ओर देखना शुरू किया।

वह पूरी तरह से नंगे ही बैठे थे, जो कमरे की धीमी रोशनी में भी स्पष्ट था।

तभी मामा ने लाइट जला दिया।
मैं सिर्फ इस बात को ध्यान में रख रहा था कि लंड मेरी आंखों के ठीक सामने था।

मैं बस लेटकर उसको निहार रहा था। मामा भी देख रहे थे कि मेरी आंखें फटी की फटी रह गईं।

फिर उन्होंने मुझसे पूछा: मेरा लंड कैसा लगा?
तुरंत होश में आकर मैं उठकर बैठ गया।

“यह बहुत बड़ा है!”
‘बड़े लंड क्यों अच्छे नहीं लगते?’

मैंने कहा कि नहीं, मामा, ऐसा नहीं है, लेकिन तुम वास्तव में बहुत बड़े मादरचोद हो।
“आपको क्या पसंद है?” मामा ने पूछा।

मैंने कोई उत्तर नहीं दिया।
मामा, आप इसे घुमा रहे थे। अच्छी तरह से मसल रहे थे। इसका अर्थ यह आपको पसंद आया है। फिर आप शर्मा क्यों रहे हैं? ऐसा लगता है कि आप बहुत अच्छी तरह से सहला रहे हैं. आप इसे कहाँ से सीखा?

मैं अभी भी शांत था।
तुम कुछ बोलते क्यों नहीं, उन्होंने पूछा। क्या हुआ?

फिर वे मेरा हाथ लेकर कहने लगे, “देखो, हम अभी दोस्त बन गए हैं।” आज हमने बहुत कुछ की मस्ती की। हम दोनों एक दूसरे से बहुत खुल गए हैं, और तुम भी बड़े हो गए हो। इस उम्र में बहुत सारी बातें होती हैं, जो हम किसी से नहीं बता सकते। पर आप जो भी पूछते हैं, मुझसे बता सकते हैं!

मामा की ये बात सुनकर मुझे भी साहस आया।
अब मैं भी उनसे खुलकर बोलने लगा था।

मैंने उनके लंड की ओर देखा और पूछा: तुम्हारा इतना बड़ा कैसे बना? यह मेरा आधा भी नहीं है।

मामा, आपकी समझ से बाहर कई कारण हैं। इसके लिए एक विशिष्ट व्यायाम किया जाता है, जो इसे जीवंत करता है।
अगर आपको बुरा नहीं लगेगा, मैं आपसे एक बात कहूँगा।
मामा, मत बोलो।

मैं: थोड़ी देर पहले मैंने आपको इसे हिलाते देखा था।
मामा, मैं दरवाजा बंद कर दिया था!
मैं एक होल से ऊपर।

मामा, उसमें क्या हुआ? तुम भी तो हिलाता होगा!
मैंने सर को ना में हिलाया।

मामा, कुछ भी नहीं। चिंता मत करो, मैं तुम्हें सिखा दूंगा।
मैं, और वह, उसमें से सफेद पेशाब क्यों निकला?

मामा, वह आदमी का बीज है, उसे पेशाब नहीं कहते। जिससे बच्चे होते हैं। आप ऐसे कुछ नहीं समझेंगे, रुको। मैं पूरी तरह से समझा सकता हूं अगर आप चाहते हैं।

मैं: ठीक है, मामा।
मामा, नहीं। एक शर्त पर स्पष्ट करूँगा!

मैं—किस तरह की शर्त?
मामा, मैं सिर्फ तुम्हें बताऊंगा कि मैंने तुम्हें सब सिखाया है।

मैं- नहीं, मैं किसी को बताऊंगा। ये केवल हम दोनों के बीच में रहेगा।
मामा, मैं तुम्हें पहले ही सिद्धांत सिखा चुका हूँ. अब मैं अभ्यास से सिखाता हूँ। ताकि आपको आगे भी कोई समस्या नहीं होगी।
मैं—ठीक है, मामा।

मैं खुश था और सब कुछ जानने का जुनून था, इसलिए मैं तैयार था।
लेकिन मुझे पता नहीं था कि आज मेरी वर्जिनिटी खत्म हो जाएगी।
जैसे आज मेरी सुहागरात थी और मेरा कुंवारापन टूटने वाला था।

इसे भी पढ़ें   फेसबुक पर मिले आदमी से मरवाई गांड | Indian Hindi Gay Sex Stories

आज, एक भांजा अपनी माँ से सेक्स के बारे में सीखने वाला था।
वह भी खुश है।
आज उसे पता चलने वाला था कि दर्द क्या है।
यही भांजा उससे मिलने वाले मजे के लिए दुखी होने वाला था।

मामा, आज मैं तुम्हें जो कुछ सिखाऊं, उसे पूरी तरह से समझ लेना और इस बात का ध्यान रखना कि किसी को इसका पता नहीं चला।
मैं—हाँ।

मामा, इसे ठीक से देखो।
मैंने उनके लंड पर देखा।

उन्हें अपने लंड को हाथ में पकड़ते हुए कहा कि यह सिर्फ urination के लिए नहीं बल्कि सेक्स के लिए भी उपयोग किया जाता है। वीर्य इससे निकलता है। बच्चा पैदा होता है जब वह एक स्त्री की चूत में जाता है। यह एक ऐसा खेल है जिसे पूरी तरह से वयस्क लोग खेलते हैं। एक विशिष्ट बात यह है कि लड़के भी लंड खेलते हैं। आप इसके साथ खेल भी सकते हैं। आप इसके साथ खेलना चाहते हैं या नहीं, यह आप पर निर्भर करता है।

मैं भी खेलना चाहता हूँ और सेक्स के बारे में अधिक जानना चाहता हूँ।
मामा—ठीक है, मैं कहता हूँ कि तुम करते जाओ।

मैं—हाँ।
मामा, अपनी अंडरवियर पहले निकालो। मैं जानना चाहता हूँ कि आप इसके लिए पूरी तरह से तैयार हैं या नहीं।

मेरी हालत लंड और चूत की बातें सुनने से पहले ही खराब हो गई।
मामा के सामने नंगे होने में अब मुझे शर्म आ रही थी, मेरा लंड पूरा तन चुका था।

मेरी दृष्टि उनका आधा खड़ा लंड पर थी।
अब मुझे नंगा होने को कहा गया। इसलिए मैं शर्म से रोंगटे खड़े कर रहा था।

मामा, शर्मा मत करो, मैं भी नंगा हूँ।

फिर मैं पलंग से नीचे उतर गया और पीठ करके उनकी तरफ खड़ा रहा।
मैं अपनी अंडरवियर धीरे-धीरे नीचे कर रहा था।

मैं झुका और मेरी गोल गांड उनके सामने आई।
मेरा होल झुककर उन्हें देख सकता था।

उनके मुख से “वाव।” निकला, जो अच्छी तरह से सुनाई दिया।

वह अपने लिंग को मसल रहा था जब मैंने देखा।
फिर से मैं सीधा खड़ा होकर उनकी तरफ आकर बैठ गया।

मेरा लंड छह इंच का था जब वह पूरा तन गया था।
उसने कहा और मेरा लंड पकड़ा।

मामा, तुम्हारा लंड भी सुंदर है। सावधानीपूर्वक इसका ख्याल रखोगे तो यह भी मेरे जैसा बलवान बनेगा। तगड़ा और अच्छा लंड एक महिला को बहुत मजा देता है, और हम भी खुश होते हैं जब वह खुश होती है।

मैं शर्मा गया और पलटकर एक बाजू हो गया।
इससे मेरी गोल गांड, चिकनी गदराई हुई, उनके सामने थी।

उन्हें देखने की मेरी हिम्मत ही नहीं हो रही थी, जब मैं तकिए में मुँह रखा था।

फिर उन्होंने मुझे आसान बनाना चाहा।
लेकिन मैं नहीं उठा।

फिर वे मेरे पीछे आकर मुझसे लिपटकर लेट गए।

Gay Sex Story Hindi Me

इसलिए उनका लंड मेरी गांड में फिट हो गया।
मेरी गांड में उनका लंड धक्के लगा रहा था और वे मेरे गालों पर किस कर रहे थे।

“तुम कितना शर्माते हो, अब उठ भी जाओ,” मामा हर बार प्यार से कहती थी।
“शर्माओ नहीं उठ जाओ,” वे फिर से धक्का देते। हम बहुत कुछ सीखेंगे।

अब मुझे उनके धक्के पसंद आने लगे।
वह अपने लंड को मेरे छेद पर रगड़ते हुए मुझे कुछ अजीब लग रहा था।

उनके प्यार भरे शब्द इस आग में घी का काम कर रहे थे।

मैं अब नहीं रह सकता।
मैंने तुरंत अपनी चाल बदली और अपने आप को उनके कसके से पकड़ा।

मैं अपने सर उनकी बांहों में छिपा कर रखा था, और उनके बदन की भीनी-भीनी खुशबू मुझे मदहोश कर रही थी।

मेरे मुँह के पास उनके निप्पल का बड़ा सा दाना था।
उसे चूसने के लिए मेरे होंठ बेकरार हो रहे थे।
मैंने उसके साथ खेलने लगा और अपनी जुबान निकाली।

उतरते ही मामा ने मुझे दूर कर दिया और मेरे माथे को चूमा और कहा, “समीर मेरी जान, ऐसे नहीं करते, रुको, मैं ही बताता हूँ।”

ऐसा कहकर उन्होंने मुझे पीठ के बल लिटाया और मुझ पर आ गए।
मैं जो भी करूँगा, तुम मेरा साथ देना, वे मेरी तरफ गौर से देखने लगे। तुम भी मेरे साथ मज़ा लेंगे।
मैंने हां में जवाब दिया।

फिर उन्होंने मेरी दोनों आंखों पर किस किया, मेरे माथे को चूमा, फिर मेरे कान की लौ को होंठों से चूमा।
वे मेरे सीने को चूमते हुए मेरे गले को चूमने लगे।

मैं सिर्फ कामुक सिसकारियां निकाल रहा था।
जीवन में मैंने पहले कभी ऐसा सुंदर अनुभव नहीं किया था।

जब उनके होंठ मेरे शरीर को चूमते हैं, ऐसा लगता है मानो मेरे शरीर में कोई करंट दौड़ रहा है।
मैं खुश होकर मजे ले रहा था।

पर वे अचानक चुम्बन करने लगे।
अब मेरी भी बंद आंखें खुल गईं।

“समीर, तुम बहुत सुंदर हो,” उन्होंने कहा जब मैं उनकी तरफ देखा। बदन पर एक भी बाल नहीं है। आज तक मैंने किसी लड़की का ऐसा बदन नहीं देखा। क्या मैं आपको पसंद है?

शर्म से मेरा चेहरा फिर से लाल हो गया।

“जी मामा, मुझे आप बहुत पसंद हैं,” मैंने उनकी आंखों में झांकते हुए कहा।

उन्हें मेरा जवाब कितना भा गया था, इसका संकेत उनके चेहरे पर आई खुशी थी।

इसे भी पढ़ें   गांड चुदवाने में मुझे बहुत मज़ा आया | Hindi Xxx Gand Chudai Ki Kahani

मुझे पूरी तरह से उनका लंड चुभ रहा था।

मैंने कहा, “मुझे तुम्हारा लंड चुभ रहा है।”

मुझे अपने पैर हल्के से मोड़ने को कहा।
मैं अपने पैरों को फैलाकर पीछे मुड़ गया।

फिर वह फिर से मेरे ऊपर लेट गया और मुझसे पूछा, क्या मैं अब भी चुभ रहा हूँ?
मैंने सर को ना में हिलाया।

फिर मुझे गौर से देखा।
हम एक दूसरे से टकरा रहे थे।

उनके लंड को मेरी गांड चूम रही थी।

उतरते समय उन्होंने मेरे होंठों पर अपने होंठ रख दिए।
अपने आप मेरी आंखें बंद कर लीं।

Gay Hindi Sex Kahani

वह मेरी जुबान को अंदर से चूसने लगे।
मुझे किस करते हुए वे अपनी कमर नीचे से हिला रहे थे।

मैं उनके मुँह से मीठा रस पी रहा था।
हम एक दूसरे में खो गए।

हमने दस मिनट तक किस किया।
हम एक दूसरे के मुँह में किस कर रहे थे और उनके लंड के धक्के मेरी गांड पर अच्छे लग रहे थे, इसलिए वह भी नीचे उछल रही थी।

मैं उनके बड़े लंड को चूम रहा था।
इसलिए अब मेरे छेद में कुछ चिकनाहट महसूस होने लगी।

मैं समझ नहीं पा रहा था, लेकिन मज़ा आ रहा था, इसलिए मैं जो हो रहा था उसे एन्जॉय कर रहा था।

अब मैं उनका टोपा मेरे छेद पर महसूस कर रहा था।

मामा मुझे किस करते हुए थोड़ा सा ऊपर नीचे हो रहे थे, इसलिए टोपा भी छेद पर धक्का लगा रहा था।
पड़ने वाले धक्कों से मेरा छेद कुछ खुलता था।

अब तक पूरी जिंदगी में मुझे इतना आनंद नहीं मिला था जितना अब।
मैं सिर्फ उनका साथ दे रहा था।

अब मामा मुझ पर से उठ गए।
मेरे होंठ अभी भी गीले थे।

फिर मुझसे पूछा।
मामा, आपको क्या लग गया?
मुझे बहुत अच्छा लगा।

उनके लंड पर मेरा ध्यान पड़ा।
पूरी तरह से टाईट लंड पर कुछ लगा हुआ था, जिससे वह चिकना लग रहा था।
लंड के छेद पर बूंद जम गई।

मैंने मामा से ये क्या है?
उन्होंने कहा कि ये पूर्व-कम है। योनि को चिकना करने के लिए इसका उपयोग किया जाता है।

फिर मैंने कहा, “यह अब वेस्ट हो जाएगा।” क्योंकि योनि यहाँ नहीं है।
उनका कहना था कि कोई नहीं। आप चाहें तो इसे वेस्ट होने से बच सकते हैं।
मैं: कैसे?

फिर मामा ने मुझे गेम खेलने के बारे में बताने लगा।
मामा, ये बहुत शक्तिशाली है, वास्तविक पुरुष की निशानी है। अगर कोई इसे पीता है, तो उसे इतनी शक्ति मिलती है कि वह ट्राय कर सकता है।

Gay Ki Free Sex Kahaniya

मैं, लेकिन मामा, ये बेकार होगा!
मामा, एक काम करो। हम दोनों मिलकर इसे पीते हैं। तुम एक काम करो। फिर हम किस करेंगे और इसे साझा करेंगे।

मैं भी ऐसा ही करने का विचार करता था।
लेकिन मुझे अजीब लग रहा था।

मामा तकिए पर बैठ गए।

फिर मैंने उनके तगड़े हथौड़े की तरह एक लंड हाथ में लिया।
वह हाथ में लेते ही फनफनाने लगा, प्री-कम निकलकर लंड से बहने लगा।

उसे मुँह में लेने के लिए मैं थोड़ा झुका।
तब मामा ने मुझे रोक लिया और बोलने लगे।

मामा: अरे समीर, ये भी तुम्हारी गांड पर लगेगा. मैं भी उसे साफ कर दूंगा। तुम मेरी तरफ गांड करके बैठ जाओ और फिर झुक जाओ, ताकि मैं पीछे से तुम्हारा छेद साफ करूँ और तुम मेरा भी ठीक से करोगे।
मैं भी 69वें स्थान पर आ गया।

मामा का लंड मेरे मुँह के सामने था और मेरी गांड उनके सामने।

मैं अपना मुँह आगे बढ़ाते हुए उनके लंड को हाथ में पकड़ा।

उतने पर मुझे अपनी गांड के छेद पर कुछ गर्म और गर्म लग गया।
पीछे मुड़कर देखा कि मामा मेरी गांड को अपनी जुबान से चूस रही थी।

पहले मुझे अजीब लगता था, लेकिन बाद में मुझे बहुत अच्छा लगा।
मैं रोने लगा, “आह… ओह… यस… मजा आ रहा है मामा… बहुत अच्छा लग रहा है और करो ना!”

फिर वह मुझे चूसने लगे।
मैंने भी लॉलीपॉप की तरह उनकी लंड चूसने लगा, जोर से दबाकर बड़ा टोपा उसके मुँह में भर लिया।

मैं लंड पर अपनी जुबान घुमा रहा था।
वह मेरी सुंदर गांड के छेद को साफ करते हुए उनके लंड को चाट रहे थे।

अब मैं लंड के प्री-कम का खट्टा स्वाद पसंद करता हूँ।
मैंने उनका पूरा लंड धोया।

फिर उन्होंने कहा, “अब वापस आ जाओ।”

मैं उसी तरह पलट गया और उन्हें किस करने लगा।
हमने बहुत देर तक किस किया और एक दूसरे का रस पीया।

मैं, मामा, आपका प्री-कम बहुत सुंदर था. आपका कड़क और चौड़ा सीना भी बहुत सुंदर है। कितने सुंदर हैं निप्पल, मेरे भी ऐसे क्यों नहीं हैं?
मामा, कौन कहता है कि तुम्हारा सीना खराब है? तुम्हारी सुंदरता और मुलायम शरीर को देखो। कितने बड़े और सॉफ्ट निप्पल हैं? यह लगता है कि बहुत दूध भरा है। आप अपनी माँ को इन्हें चूसने का अवसर नहीं देंगे?
मैं कहता हूँ मामा, क्यों नहीं?

ऐसा कहते ही मामा मेरे दोनों निप्पलों को जोर से चूसने लगी।

“आह… आ… आ… आह…” की सिसकारियां मुँह से निकल रही थीं, मानो मेरे अंदर कोई करंट लग गया हो।
मैं सातवें आसमान पर चला गया।

इसे भी पढ़ें   पीजी में लड़के का लंड चूसा। Gay Boy Sex Story

मैं बहुत देर तक मामा के निप्पल चूसता रहा।

फिर मुझे उठाकर बेड पर बैठने को कहा।
बैठ गया।

अब वह मुझे बताया कि आज तक आपने अपना पानी नहीं निकाला था। अब मैं निकालूंगा और पानी निकालना भी दिखाऊंगा।
मैंने “हां” कहा। कहा।

Gay Xxx Desi Kahani

मेरे सामने मामा खड़े हो गए।
मेरे सामने उनका बड़ा लंड लटक रहा था।

अब लॉलीपॉप की तरह मेरे लंड को चूसो, उन्होंने कहा।
मैंने भी इसी तरह किया।

मेरे मुँह में उनका बड़ा सा लंड पूरा नहीं जा रहा था, लेकिन मैं खुशी से चूस रहा था।

उन्होंने रोते हुए कहा, “आह… समीर… ओह… यस चूसो और चूसो… इसे खा जाओ पूरा… ये तुम्हारा ही है… आह ले लो इसे… आह।”
अब वह मेरे मुँह को चोदने लगा।

कुछ दस मिनट के बाद उन्होंने अपनी जगह बदली और नीचे पलंग पर लेट गए।
मुझे फिर से लंड चूसने और पानी पीने को भी कहा।
मैं भी ऐसा करना शुरू किया।

अब वे मेरे मुँह को और अधिक जोर से चोद रहे थे।
मैं भी साँस लेने में मुश्किल हो रहा था।

नीचे से उछल उछल कर मेरे मुँह में लंड डाल रहे थे, मेरा मुँह पकड़कर।

फिर मुझे अचानक मुँह में कुछ गर्म और गर्म महसूस हुआ।
उनके वीर्य ने मेरा मुँह भर लिया।

मुँह इतना खुला था कि वीर्य की पिचकारी गले में उतर गई।

उसकी जांच इतनी उत्कृष्ट थी कि मैंने उसे पूरा पी लिया और लंड को चाटकर साफ कर दिया।
मामा, मेरा पानी कैसा लगा? क्या यह मनोरंजन था?
मामा, मैं बहुत हंसा। बहुत अच्छा लगा।

मामा, अब तुम्हारी बारी है। अब मैं आपका पानी निकालता हूँ। मैं भी उसे मुँह में लेना चाहता हूँ; चलो बैठो।

फिर उन्होंने मुझे बिठाकर मेरा लंड चूसने लगा।
मुझे उनके गर्म मुँह का स्पर्श, लंड टनटना और सारे शरीर में अंगारे महसूस हुए।

धीरे-धीरे मेरे मुँह से सिसकारियां निकल रही थीं।
मैं मदहोश हो रहा था, आह मामा, प्लीज़, चूसो, मुझे खुशी हो रही है, आह और चूसो।

जीवन में मैं पहली बार पानी निकालने वाला था और वह मुझे एक लंड देकर मेरे होश उड़ गए।

सातवें आसमान पर पहुंचकर उसे स्वर्ग का अनुभव हुआ।

मैंने चीख मारी और उनके सर को कसकर पकड़ा।

मेरा लंड उसी समय उनके मुँह में गिर गया।
वे सारा जल पी गए।

संतुष्ट होकर मैं बेड पर गिर गया।
मामा मेरे बगल में आकर लेट गईं।

क्या तुम्हें अच्छा लगा? मामा ने मेरी तरफ देखा।
मैं-हां मामा, मैं बहुत खुश था। आज आपने मुझे बहुत मनोरंजन दिया। सेक्स सिर्फ इतना ही है क्या?

मामा, नहीं समीर, ये यौन क्रिया की शुरुआत है। वास्तविक सेक्स में इससे भी अधिक मज़ा आता है। लंड चूत या गांड में जाना और भी मज़ा देता है।
मैं सोचता हूँ कि इतना बड़ा लंड वास्तव में आपकी गांड में गिर जाएगा! कैसे होगा?

मामा, शुरुआत में दर्द होता है। लेकिन इसके बाद बहुत मज़ा आता है।
मैं भी इसका आनंद लेना चाहता हूँ, मामा। तुम मेरी गांड में अपना लंड डाल देंगे?

मामा, तुम इससे आगे चल नहीं पाओगे। तुम्हारी गांड कुंवारी है और मैं बहुत बड़ा हूँ।
मैं, मामा, सेक्स का पूरा आनंद लेना चाहता हूँ।

मामा, अभी नहीं। हम बस इतना करेंगे। मैं तुम्हें दुःख नहीं देना चाहता, और मैं भी नहीं चाहता कि तुम जिद करो। अब सो जाओ, और हां, किसी को हमारी बात मत बताओ।
मैं—ठीक है, लेकिन मैं कुछ शर्तों के अधीन आपकी बात मानूँगा!

Antarvasna Hindi Gay Sex Stories

मामा, क्या शर्त है?
मैं: तुम्हारा लंड बहुत अच्छा था। मेरी शर्त है कि आप हर दिन मुझे अपना लंड चुसाने और पानी पिलाने के लिए ऐसा ही करेंगे।

मामा: अवश्य मेरी रानी।
मुझे रानी? मैं एक लड़की हूँ?

ये कहानी भी पढ़े – Bhojpuri Devar Sex – भाभी ने अपने टाइट तरबूज का स्वाद चखाया

मामा, मैं रानी नहीं, राजकुमार हूँ। तुम किसी लड़की से कम नहीं हो!

फिर मैं उनसे गले लगा।
मेरा लिंग उनके लिंग से चिपक गया।

मुझे कसकर उनकी बांहों में भर लिया।
उनके मर्दाना शरीर की सुगंध मुझे प्रसन्न करती थी।

हम एक बार फिर एक दूसरे को किस करके सो गए।

मैं अगली बार आपको एक गांड फाड़ने वाली Gay Ki Mast Gand Kahani बताऊंगा।

Related Posts

Report this post

मैं रिया आपके कमेंट का इंतजार कर रही हूँ, कमेंट में स्टोरी कैसी लगी जरूर बताये।

Leave a Comment