सगी मौसी को गर्लफ्रेंड बनाकर चोदा। Porn Mousi Xxx Sex Kahani

Porn Mousi Xxx Sex Kahani में पढ़ें, मैं मामा के घर गया और कुंवारी मौसी को देखकर मौसी को चोदने लगा। मैं मौसी को पटाने के विभिन्न उपायों को आजमाने लगा।

मैं कामेश्वर हूँ।

साथ ही, मैं इंसेस्ट सेक्स पसंद करता हूँ।

इसी तरह की एक Porn Mousi Xxx Sex Kahani है।

यदि आप भी अपनी कहानी इस वेबसाइट पर पब्लिक करवाना चाहते हैं तो नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके अपने कहानी हम तक भेज सकते हैं, हम आपकी कहानी आपके जानकारी को गोपनीय रखते हुए अपनी वेबसाइट पर प्रकाशित करेंगे

कहानी भेजने के लिए यहां क्लिक करें ✅ कहानी भेजें

हायर सेकेंड्री परीक्षा पूरी करने के बाद गर्मी छुट्टी पर मेरे मामा जी के घर गया।

उनका घर गांव में है।

मेरी मामा मामी और मेरी छोटी मौसी उनके घर में रहते थे।.

लता मेरी मौसी है।

मेरी पिछली कहानी

मम्मी की सहेली मेरे लंड के निचे आ गई। Hot Xxx Aunty Ki Antarvasna

जब मैंने उन्हें चोदा, वे कुंवारी थीं और कॉलेज जाती थीं।

मेरी मौसी उस समय घर में स्कर्ट टॉप या मैक्सी पहनती थीं।

कालेज में जाते समय वे सूट पहनती थीं।

Indian Mousi Sex Story

पर जो कुछ भी वे पहनी थीं, वे सुंदर और एकदम सेक्सी माल लगती थीं।

घर में लता मौसी ब्रा पहनती थीं।.

तब उनकी ब्रा 32 नंबर की थी।.

वे ब्रा नहीं पहनती थीं, इसलिए उनके बूब्स चलते हुए हिलते रहते थे।

मैंने सोचा कि मैं मौसी के साथ रहूँगा।

घर में मेरी मौसी अपने कपड़ों का ध्यान नहीं रखतीं।

वह स्कर्ट या पैंटी पहनते हैं, जो उनकी जांघ दिखाते हैं।

मैं चुपचाप देखता रहता था।

मैं उनकी जांघों को छूना चाहता था।

मौसी की छाती के उभारों पर मेरा ध्यान लगा रहता।

मौसी की पैंटी खोलकर उनके बड़े बूब्स को चोदने का भूत सा सवार हो जाता था, लेकिन फिर शांत हो जाता था।

कुल मिलाकर, मैं हर समय मौसी को चोदने का एकमात्र उपाय सोचता रहता था।

मैं पढ़ाई करते हुए मेरी मौसी के कमरे में घुस जाता था और रात को भी उसके कमरे में सो जाता था।

मैं सोते समय दरवाजा अंदर से सिटकिनी लगाकर बंद कर देता था कि किसी तरह रात को मौका मिला तो मौसी के ऊपर चढ़कर उन्हें चोद दूंगा।

कभी-कभी मेरी लता मौसी रात को स्कर्ट या नाईटी पहनकर सोती थीं।

रात को हम दोनों कुछ समय पढ़ते रहे।

मैं हेडली चेइस के मस्त राम, एक रोमांटिक, सेक्सी जासूसी उपन्यास को उनसे छिपाकर पढ़ता।

सेक्स कहानी पढ़ते हुए मेरा जेम्सबांड (लंड) खड़ा हो जाता था और देर रात तक जागता रहता था।

बीच-बीच में मौसी को हल्के से देखता रहता।

जब मौसी सो जातीं, मैं जाग जाता और उनकी जांघ या मम्मों के ऊपर से थोड़ा कपड़ा हटते ही उन्हें उत्सुक निगाहों से देखता रहता।

जब मौसी नींद में टांग ऊपर करतीं, तो मेरा लंड खड़ा हो जाता जब मैं उनकी नंगी जांघ देखता।

लंड गजब टन टन करने लगता है और सोचता है कि सब कुछ भूलकर बस अभी जाकर मौसी को नंगी करके उनके ऊपर चढ़ जाऊँ और उनकी फ़ुद्दी में अपना लंड घुसाकर उनको चोद दूँ।

मैं मन में यही सोचता था कि मैं लता मौसी को चोदूँगा।

पर उन्हें कैसे पटाऊँ?

एक रात मैंने मौसी से कहा, “मौसी, मुझे अकेले डर लग रहा है।”

डर मत, मैं नहीं हूँ, बोलीं मौसी।

“मौसी, मुझे बहुत डर लग रहा है,” मैंने कहा।

तुम्हारे साथ मैं सोऊंगा।

हां, बेटा, आ जा मेरे साथ सो जा, बोली मौसी।

कभी कभी मेरी मौसी मुझे बेटा कह कर बुलातीं, खास कर मामा मामी के सामने!

मौसी के साथ मैं लेट गया।

मैं सो नहीं पाया।

मैं मौसी की ओर देख रहा था कि मैं उनसे चिपककर लेट जाऊं जब वे सो जाएं।

मैं लता मौसी के चूतड़ देख रहा था जब मुझे नींद नहीं आ रही थी।

मेरे मन में मेरी मौसी की चोदने लायक मखमली गांड की सुंदर कल्पना चल रही थी।

लता मौसी कुछ देर सो गईं, और उनकी नाक से सों-सों की आवाज आने लगी।

मैं लता मौसी की ओर झुककर लेट गया।

मेरा तना हुआ लंड उनकी गांड पर टन टन कर रहा था।

भयभीत होकर मैंने मौसी की कमर पर एक हाथ रखा।

मैं बहुत खुश था।

Hot Mousi Porn Kahani

कुछ देर बाद, लता ने मौसी की एक चूची पर हाथ लगाया।

इतना मक्खन सा दूध टच करना बहुत अच्छा लगा।

कुछ देर बाद मौसी पीठ के बल लेट गईं और सीधी हो गईं।

उनके मम्मों के उभार को देखकर दबाने की इच्छा हुई।

दूध के पहाड़ों को देखकर मैंने एक हाथ उनकी छाती पर रखा।

बिना ब्रा के, मौसी की बड़ी, गोल गोल चूचियां थीं।

मैंने साहस करके अपने हाथ को काम करने की अनुमति दी।

थोड़ा दबाकर हाथ ने मौसी के दूध को सहलाया।

अचानक मौसी जग गई, देखकर गुस्सा हो गई और कहा, “कामु, ये क्या कर रहे हो?”

डर से मैंने कहा कि मैं सो रहा था।

वह सो गया होगा।.

मैं जानबूझकर ऐसा नहीं किया।.

तुम इतनी परेशान हो क्यों?

ठीक है, बोली मौसी।.

जाओ चुपचाप।

मैं सोने की कोशिश करने लगा, लेकिन नींद नहीं आ रही थी।

मौसी ने सो गया।

फिर मैं मौसी के पीछे सो गया।

अगले दिन फिर से वही हुआ।

मैं मौसी के साथ सो गया क्योंकि मैं डर गया था।

मेरी तरफ पीठ करके मौसी सो गई।

मैं अपनी लता मौसी से चिपक गया जब वे सो गईं।

मौसी की चूची पर मेरा हाथ और उसके कमर पर मेरी टांग।

मैं कुछ देर रुककर उनके दूध को कपड़े के ऊपर से ही सहलाने लगा।

मेरे हाथ ने उनके निप्पल को खोज निकाला।

वह मुझे कुछ कड़क होता सा महसूस हुआ जब मैंने उंगली से उसके निप्पल को कुरेदा।

एक बार मुझे समझ नहीं आया कि निप्पल सदा कड़क रहता है या मेरे स्पर्श से कड़क हो गया है।

थोड़ी देर निप्पल से खेलने के बाद मैंने मौसी की नाईटी ऊपर कर दी और उनकी चमकदार जांघ को सहलाने लगा।

हाथ निरंतर चूत की तरफ बढ़ने लगा और जल्द ही मौसी की पैंटी का स्पर्श मिल गया.

मैं सहलाने लगा और पैंटी को छूने लगा।

फिर लता मौसी को पैंटी के ऊपर से सहलाने लगी।

लता मौसी सो रही थीं और कुछ नहीं बोली।

इससे मेरा साहस बढ़ा।

लता मौसी की पैंटी मैं नीचे खींचने लगा।

अब मौसी जाग गईं और बोलीं- कामु, ये क्या कर रहे हो?

मैं बहुत डर गया था और चुप रह गया।

क्या हुआ बेटा?

मौसी ने पूछा।

तुम बहुत अच्छी हो, मौसी, मैंने कहा।

लता ने कहा कि और क्या?

इसे भी पढ़ें   Hot Punjabi Teen Girl – चाचा मेरी चूत में ऊँगली घुसा कर पेलने लगे

तुम भी बहुत सेक्सी हो, मैंने कहा।.

वाह बेटा, तुम बड़े हो गए हो, लता मौसी ने कहा।

हां, मौसी, मैंने कहा. बहुत मन करता है।.

यह सुनते ही लता मौसी ने मुझे अपने ऊपर खींचकर चूमने लगी।.

– अगर मन करता है, तो आ जा मेरी जान, वे मुझे चूमते हुए बोलीं।.

मैं भी उनके होंठ और गाल चूमने लगा।

मौसी ने अपनी जीभ मेरे मुँह में डाल दी और मेरे होंठों को अपने होंठों से दबा लिया।.

लता मौसी की जीभ चूसते हुए, मां की चूत कैडबरी चॉकलेट की तरह रसदार थी. क्या अद्भुत स्वाद था।.

दस मिनट तक हम सिर्फ एक दूसरे की जीभ चूसते रहे।.

लता मौसी को नंगी करने के बाद मैंने उनकी नाईटी उतारी।.

आज उन्होंने पैंटी ही पहनी थी।

ब्रा पहनती नहीं थीं। आज पैंटी भी एकदम छोटी सी पहनी थी।

मैंने उसे जल्द ही उतारकर मौसी को पूरी तरह से नंगी कर दिया।

आज उन्होंने पैंटी ही पहनी थी।
ब्रा पहनती नहीं थीं।. आज भी पैंटी छोटी सी पहनी थी।
मैंने उसे जल्द ही उतारकर मौसी को पूरी तरह से नंगा कर दिया।

मैंने मौसी के मम्मों को पकड़ लिया और उन्हें दबाने लगा।
फिर एक दूध को पकड़कर चूसने लगा और दूसरे को मसलने लगा।

मेरा कड़क लंड लता मौसी ने सहलाया।
वे अंडरवियर खोलने का प्रयास कर रही थीं।

नाड़े वाला मेरा अंडरवियर था।
मैंने अंडरवियर को खुद खोलकर एक हाथ से नाड़ा ढीला किया।

लता मौसी ने मेरा लिंग पकड़ लिया और उसे हिलाने लगा।
मैं उनकी चूत में उंगली डालकर सहलाने लगा।

उंगली से पानी बाहर निकलने लगा, क्योंकि अंदर का शीरा बहुत चप चप कर रहा था।

बेटा, आज क्या हुआ? मौसी ने पूछा।
मैंने कहा, “मौसी, आज मैं तुम्हें चोदूंगा।”

तुम जानते हो बेटा, चुदाई कैसे करते हैं? मौसी ने पूछा।
मैंने कहा, हां, मौसी, मैं सब जानता हूँ।

ठीक है, राजा बेटा, उन्होंने कहा, तो चढ़ जा मेरे ऊपर!
मैं लता मौसी के ऊपर चढ़ गया, उनकी टांगें फैलाकर उनकी चूत में अपना लंड डालने लगा।

मुश्किल से मेरा लंड मौसी की चूत में घुस गया।
द्वार पर पहुंचते ही मौसी ने हल्की सी आवाज़ में चिल्लाकर कहा, “आह कामु, दर्द हो रहा है, अंदर मत जाओ!”

सचमुच, उनकी फ़ुद्दी का छेद बहुत छोटा था।
मैं लंड को बाहर निकालने लगा।

मौसी आह-आह करती थीं।
मैं अपनी युवा मौसी को चोद रहा था।

अब से पहले तक मैं अपने दोस्त नन्दु की गांड में गे सेक्स करता था।
आज एक लड़की को चोदने का पहला मौका था।

साथ ही, वह लड़की अपना मोटा लंड मेरी कामुक मौसी की चूत में डालकर उन्हें चोद रही थी।
यह बहुत मनोरंजक था।

मैं लता मौसी के गोल गोल आमों को पकड़कर चूस रहा था।
मेरा बीज कुछ देर में मौसी की फ़ुद्दी में निकल गया, “सर्र र्रर..।”
मेरे लिंग का काम पूरा हो गया।

Antarvasna Mousi Ki Chudai Kahani

अब मेरी लता मौसी मेरी हो चुकी थीं और मैं उन्हें हर दिन टांगें फैलाने का काम देता था।

दूसरे दिन मैंने पास के शहर में एक दवा दुकान से कंडोम खरीदकर रख लिए।

अब लता मौसी मेरी प्रेमिका बन गई।
हम दोनों हर अवसर पर चुदाई करने लगे।

दोपहर में हम गन्ना बाड़ी गए।
वहाँ कोई नहीं है।
मैं अंदर झाड़ों के बीच मौसी को जमीन पर लिटा देता और चुदाई करता।

हम गन्ना बाड़ी के बीच में सिंचाई के लिए एक छोटा सा तालाब में नहाते थे।

मेरी लता मौसी मुझे साबुन लगाकर नहलातीं, उसे मेरे लंड में लगाकर उसे पकड़कर हिलातीं और ऊपर नीचे करतीं।.
बहुत दिलचस्प होगा।

मैं लता मौसी की चूत के काले, मुलायम बालों में देर तक हाथ मलता, साबुन लगाता और सहलाता।
साबुन को मौसी की चूचियों में लगाकर देर तक मसलता है।
मौसी की चूत और चूचियां मुझे बहुत मजेदार लगीं।

नहाने के बाद मैं मौसी को उधर ही किनारे पर लिटाकर उनकी चुदाई करता।
हम दोनों फिर से नहाते और घर आते।

दोनों रातों में हम एक ही कमरे में सोते थे।
दरवाजा अंदर से बंद कर दिया गया था।

फिर मैं लता मौसी के बिस्तर पर ही सो जाता।
मेरे बेड में कुछ नहीं होता।

मैं भी नंगा होकर मौसी के साथ चिपक जाता और उसकी नाईटी खोल देता।
उनकी चूचियों को चूमता, सहलाता और मसलता है।. गाल और होंठ चूमता।

लता मौसी ने मुझे कसकर चिपका लिया और मुझे चुम्मा दिया।
मैं कंडोम लगाकर मौसी को खूब बकवास करता।

गर्मी की छुट्टियों में मैं अपने चाचा के घर जाता था।
कुछ दिन रुकने के बाद वह लता आंटी के साथ सेक्स करेगा।
हम रात को पढ़ाई करेंगे और सेक्स भी करेंगे, जैसा कि पहले करते थे।

मैं अपने घर लौटने से पहले कुछ दिन रुकूंगा।
जब वह आ रही थी, माँ ने कहा, बेटा कामू, फिर कब आओगे? जल्दी आओ.

इसे भी पढ़ें   घर में दीदी ने अपनी ब्लू फिल्म बनवाई

लता मौसी की शादी के बाद भी यह प्रवृत्ति कायम रही।

मेरी शरारती मौसी लता की शादी हो गई और शादी के बाद भी वो मेरी गर्लफ्रेंड बनी रही.

चाचा किसान हैं, खेती करते हैं.. धान, सब्जियाँ, गन्ना और अन्य फसलें उगाएँ।
वह एक गांव में रहते हैं।

लता आंटी की शादी के बाद मैंने छुट्टियाँ उनके ससुराल में बिताईं।
मुझे आता देख मेरे चाचा-चाची प्रसन्न हुए।

मेरे पैर छूने के बाद उन दोनों को सलाम हुआ।
लता आंटी साड़ी में बहुत आकर्षक लग रही थीं और उनका खुला पेट बहुत सेक्सी लग रहा था।

शादी के बाद वह हॉट एंजेल जैसी दिखती थीं।

मैं बस से थक गया था..
नहा कर खाना खाने के बाद मैंने आंटी से कहा- आंटी, मैं बहुत थक गया हूँ. मैं थोड़ी देर के लिए सोने जा रहा हूं.

आंटी ने मुझे बिस्तर पर लिटा दिया और कहा, “आओ कामू, तो जाओ।” मैं अपने पैर को दबाता हूँ.
मैं गिर गया.

मेरी लता मेरे बगल वाले बिस्तर पर बैठी थी…
उसने मेरे हाथों की तेल से मालिश की.. मेरे दोनों हाथ अपनी गोद में रख कर वो ऐसा कर रही थी.

मुझे बहुत अच्छा लग रहा है.
उसकी जाँघ पर मेरी हथेली थी.
मुझे उसकी चूत को सहलाने का मन हो रहा था.
मुझे इंतजार था कि वह कुछ करेगा।

थोड़ी देर बाद मेरी माँ ने मेरी लुंगी ऊपर खींची और मेरे पैरों पर तेल मलने लगी।
अहा, मुझे बहुत अच्छा लगा.

मुझे ऐसा लग रहा था जैसे लता आंटी मेरे लंड पर तेल लगा कर मालिश करेंगी और हिलाएंगी.

लता मौसी ने तेल लगाकर मालिश की।.
उन्हें पांव, पिंडली और फिर जांघ पर हाथ फेरते हुए मज़ा आने लगा।.

नब्बे डिग्री पर तना हुआ मेरा लंड खड़ा था।. टन कर रहा था।.

उस समय घर में कोई नहीं था क्योंकि मौसा जी बाहर चले गए थे।.
Moosa के माता-पिता अपने भाई के साथ रहते थे।.

मेरे खड़े लंड पर मौसी ने कपड़ों के ऊपर से देखा।
बेटा, क्या हुआ इसको, वे मुस्कराकर पूछीं।
मैंने कहा, डार्लिंग, यह आपकी फ़ुद्दी को बहुत भूल रहा है।

“सचमुच, मैं तुम्हें बहुत याद करती हूँ,” मौसी ने कहा।
मेरे लंड पर पैंट के ऊपर से उनका हाथ था।

उन्हें लंड सहलाना बहुत अच्छा लगा।
मैं मौसी की साड़ी खिसकाने लगा और उनकी जांघ सहलाने लगा।

तुम बहुत चोदू हो, मोसी ने कहा।
वे मेरे लिंग को सहलाते रहे।

मैंने कहा, “लता मेरी डार्लिग, तुम बहुत सुंदर चोदरी हो।”. मेरी चुदक्कड़ चुदक्कड़ मौसी, अभी एक दौर हो जाए।

पोर्न मौसी ने कहा: नहीं, कामु, अभी नहीं।. रात।. भोजन करने के बाद आपका मौसा रामायण गाता है।. ये कार्यक्रम गांव में पांच दिन चलेंगे।. बेफिक्र होकर मेरी स्वीकार करो।

मेरे हाथ में लता मौसी का दूध था, और मैं उसे मसलने लगा।
मैंने उन्हें अपने सीने से चिपका कर उनकी जीभ और होंठों को चूमा।

रात को खाने के बाद मौसा जी ने कहा, लता, मैं जा रहा हूँ।. बारह बजे पहुंच जाऊंगा।. मुख्य गेट बंद करो।

मौसी सिटकिनी पहनकर रूम में आ गई।

मैं लता मौसी के होंठों और गाल को चूमने लगा।

“ओह मेरे कामु, रुको,” लता मौसी ने कहा।. मैं सब गहने कपड़े पहले उतार दूंगा।

वे बेड पर बैठकर अपने गहने और साड़ी ब्लाउज उतारने लगीं।

पीछे से मैंने उन्हें पकड़ लिया।
उन्होंने उनकी चूचियों को पकड़कर मसलने लगा।

Kaumu, बस जरा और रुक, मौसी ने कहा।. नाईटी पहनने दो।

मैंने कहा कि तुम अभी कुछ मत पहनना, बाद में करो।. ये पैंटी और ब्रा भी उतार दो।

मैं उनकी चूचियां दोनों हाथों से पकड़कर ब्रा का हुक खोलने लगा।

फिर मैंने उनकी पैंटी को निकालकर उन्हें बेड पर सीधा रखा।

मैंने लुंगी, अंडरवियर निकालकर नंगा होकर मौसी के ऊपर चढ़कर कहा, “मौसी, तुम्हारी शादी के बाद आज एक अच्छा मौका मिला है।”. मैं बहुत खुश हूँ!
हाँ, कामु, चोद दे… आज मुझे खूब चोद दो, वे कहती हैं।

मैंने मौसी की टांगों को फैला दिया और उनकी गांड के नीचे तकिया रखा।

मैं उनके दोनों दूध को मसलता और चोदता रहा, फच पच की आवाजें सुनाई देती रही।
मैं बहुत अच्छा चोदा।

Kamuk Mousi Ki Desi Kahani

लता मौसी के घर मैं एक सप्ताह रहा।
जब मौसा जी नहीं थे, तो मैं रोज लता मौसी से चुदाई करता था।

मैं मौसी की शादी के बाद कई वर्षों तक छुट्टी पर उनके घर जाता था।

इसे भी पढ़ें   नानी के घर जा के मामी को चोदा | Xxx Mami Sex Story

उधर सात या दस दिन रहता।
बिना कंडोम लगाए मौसी को चोदता।

उनके तीन पुत्र हैं।
उनमें से कोई मेरा हो सकता है।

मैं अपने एक दोस्त के साथ एक छुट्टी पर मौसी गया।

मेरा बचपन का दोस्त वह है।. मेरा बहुत प्यार करने वाला दोस्त, मेरा शत्रु

मैं उसे हर बात बताता था।
वह भी मुझे अपनी गांड मरवाता है।

हम चार दिन मौसी के घर रहे।

दूसरे दिन, मौसा कुछ कर्मचारियों को लेकर गन्ना बाड़ी जाना था।

मैंने अपने दोस्त को मौसा जी के साथ गन्ना बाड़ी जाने के लिए कहा: “तुमने खेत नहीं देखा होगा, मौसा जी के साथ जाओ, देखो।”. कुछ गन्ना भी लाओ।. साथ में खा जाएगा।
मित्र ने भी मांग की कि मैं भी साथ चलूँ।

मैंने अपने दोस्त को बताया कि मैं अपनी मौसी के साथ कुछ काम करूँगा और मैं नहीं जाऊँगा।

मेरे दोस्त ने समझ में सिर हिलाया और धीरे से कहा, “ठीक है।” तुम एक चोदू चाची हो.
प्रत्येक व्यक्ति ने बारी की यात्रा की।

चाचा ने अपने बच्चों को बाहर खेलने भेज दिया.

जैसे ही मुझे लगा कि रास्ता साफ़ है, मैंने आंटी को अन्दर खींच लिया और उनकी साड़ी खोलने लगा।
रुको बेटा, मैं खोलती हूँ, मौसी ने कहा।

लता ने अपने ब्लाउज के बटन खोलकर बता दिया कि उन्होंने ब्रा नहीं पहनी है।
मैंने उसे पकड़ लिया और उसके स्तनों को दबाने लगा।

बिस्तर के ऊपर आंटी साड़ी और पेटीकोट पहनकर बैठी थीं।

मैंने लता मौसी की चूत में अपना लंड डाल कर उसकी जोरदार चुदाई की.
फिर मैंने अपना बीज उसके गुप्तांग में डाल दिया।

आपने क्या किया? मेरे मित्र ने बाद में पूछताछ की।

Desi Mousi Ki Hindi Sex Story

मैंने कबूल किया कि मैं अब भी अक्सर Xxx आंटी को बिना कंडोम पहने चोदता हूँ।
उसने कहा, साले, तू तो मजे कर रहा है।
मैंने कहा- मेरी चाची बहुत शरारती हैं. चाहो तो प्रयास करो. वह सहमति दे देगी. मैं कल अपने चाचा के साथ गन्ने के बगीचे में जा रहा हूँ।

अगले दिन, मैंने बारी की यात्रा की।
उनके साथ बच्चे और मौसा भी थे.

उसने तर्क दिया कि मेरे मौसा बीमार थे जबकि मेरी मौसी और मेरा दोस्त घर पर थे।

मैं सोच रहा था कि मेरा दोस्त आज मेरी मौसी को चोदने और पटाने वाला है।
हालाँकि, कुछ समय बाद मेरा दोस्त अंततः गन्ने के बगीचे में पहुँच गया।

मैंने धीरे से पूछा, “क्या हुआ?”
यार, मैं डर गया था, उसने कबूल किया। किचन में मैं सबसे पहले लता आंटी के पास गया.

“क्या हुआ,” “तुम बाड़ी क्यों नहीं गए,” और “चले जाओ,” लता चाची ने पूछा।
जैसे ही मैं आँगन में दाखिल हुआ, मैं डर के मारे भाग गया।

ये कहानी भी पढ़े – विधवा मौसी बनी मेरे बच्चे की माँ। Hot Mousi Hindi Sex Kahani

औरत के नाम पर मेरा दोस्त झिझकता है और डर जाता है, इसलिए प्रपोज नहीं कर पाता.
हाँ, वह निःसंदेह किसी लड़की को चोदेगा यदि वह उससे सार्वजनिक रूप से ऐसा करने के लिए कहे।
हालाँकि, लड़की यह नहीं कहेगी।

पिछली कहानी में मैंने बताया था कि कैसे मैंने एक दोस्त की गांड में अपना लंड डाल कर उसे चोदा, लेकिन उसने मुझे वापस नहीं चोदा।
हालाँकि, उसका लिंग मेरे लिंग से थोड़ा बड़ा है।

वह कभी भी समलैंगिक यौन संबंध की पहल नहीं करता; मैं ही वह हूं जो ऐसा करता हूं।

तो, लता, मेरी पोर्न मौसी, मेरी प्रेमिका बन गई।

मैं अब सालाना उनके घर नहीं जाता।
कई सालों तक लता मौसी अक्सर मेरे लंड से चुदती रहीं.

वह दो लंडों का आनंद लेती रही- एक अपने पति से और एक मेरे से।

Related Posts

Report this post

मैं रिया आपके कमेंट का इंतजार कर रही हूँ, कमेंट में स्टोरी कैसी लगी जरूर बताये।

Leave a Comment