मेरी बीवी खुले सेक्स रिलेशन में पड़ गयी।

Relationship Xxx Sex Story कहानी पढ़े। मेरी बीवी खुले सेक्स रिलेशन में पड़ गयी और मेरे सामने अपनी पसंद के लड़कों से चुदवाने लगी। वह भी मुझे किसी दूसरी लड़की से संबंध बनाने से नहीं रोकती थी। मैं भी उसके साथ था।

मेरा नाम शुभम है और मैं जबलपुर से हूँ।

मैं इंदौर में एक आईटी कंपनी में काम करता हूँ।

मैं आज से दो साल पहले मानसी से शादी कर चुका था, जो एक पढ़ी लिखी युवा लड़की थी।

यदि आप भी अपनी कहानी इस वेबसाइट पर पब्लिक करवाना चाहते हैं तो नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके अपने कहानी हम तक भेज सकते हैं, हम आपकी कहानी आपके जानकारी को गोपनीय रखते हुए अपनी वेबसाइट पर प्रकाशित करेंगे

कहानी भेजने के लिए यहां क्लिक करें ✅ कहानी भेजें

मानसी जबलपुर में साड़ी पहनती थी, लेकिन इंदौर में शॉर्ट।

जबलपुर में वह उन छोटे कपड़ों में घर से नहीं निकलती थी।

मेरी पिछली कहानी

टू कपल सेक्स कहानी।

फिर वह बहुत छोटे और कामुक कपड़े पहनने लगी जब मैं बैंगलोर चला गया।

शुरुआती तौर पर मुझे इस आदत से कोई परहेज नहीं था, लेकिन बाद में मुझे लगा कि मानसी का इतना खुला होना सही नहीं है।

मैंने उससे एक दो बार कहा भी, लेकिन वह मेरी बात नहीं सुनती थी।

मैंने भी उसे अधिक जोर नहीं दिया और उसे अपने मन की बात करने दी।

मैं स्पष्ट रूप से उसके पक्ष में था कि वह अपनी हद में रहकर फ़ैशन करे।

लेकिन अब वह और अधिक बिंदास हो गई और ऐसी ड्रेस पहनने लगी, जिससे उसके बूब्स दिखते हैं।

उसकी अधिकांश ड्रेसेज ऐसी थीं कि उसके आधे से ज्यादा मम्मे बाहर को मुँह झाँकते रहते थे, जिसे वह अपनी शान समझती थी और दूसरों को दिखाने में अपनी खुशी समझती थी।

उसके मम्मे हर कोई देखता था।

वह एक रेड कलर की शॉर्ट ड्रेस में मेरे कार्यालय में एक पार्टी में गई।

बस उसके निप्पल ढके हुए थे, जिससे उसके बूब्स साफ दिख रहे थे।

वह उस कपड़े को पहनकर सभी को खुश करने लगी।

इससे भी उसका मन नहीं भरा। वह मेरे मालिक और कर्मचारियों से भी गले मिली।

उधर, सब लोग आपस में बात करने लगे।

फिर एक शर्त लगी कि सबसे अच्छा डांस करने वाले को उसकी पसंद की महिला से किस मिलेगा।

रोहन, मेरा एक दोस्त, डांस में विजेता था और उसने मेरी बीवी मानसी को किस करने के लिए चुना।

मैं भी हामी भर दी जब मैंने मानसी की ओर देखा।

वह एक चुम्मी की जगह लिप लॉक कर बैठे थे।

दोनों इस लंबे किस से गर्म हो गए, और पार्टी में भी माहौल बन गया।

रोहन की बीवी ने भी सबके कहने पर मुझे किस किया, लेकिन मैं उस समय रोहन की बीवी को चूमना नहीं चाहता था।

उस दिन की घटना ने मेरे मन पर गहरा असर छोड़ा था।

उस रात मैं मानसी से चुदाई कर रहा था, तो उसने मुझसे कहा, “यार, अब हमें कुछ फन करना चाहिए।”

इसे भी पढ़ें   प्रियंका दी की चुदाई - Pura Nanga Pariwar

मैंने प्रश्न उठाया: कैसे?

वह बोली- हम दोनों कब तक एक ही पार्टनर से सेक्स करते रहेंगे. कल्पना कीजिए कि मेरे अलावा और भी लड़कियों को चोदने के लिए कोई होता और मुझे भी कोई चोदता! मतलब खुले यौन संबंध!

जब मैंने उसे इस बात पर डांटा, तो वह दुबारा नहीं बोली।

लेकिन वह बहुत दिनों तक इस बात पर परेशान रही।

मैं आखिर में मान गया और उसे खुश करने के लिए शादी का दिन तय किया।

मैंने उसके लिए एक जिगोलो और मैंने अपने लिए एक कॉलगर्ल बुक किया।

यह जानकर वह बहुत खुश हुई।

जबकि मैं जल्दी खत्म हो गया था, जिगोलो मानसी को लगातार चोद रहा था।

मुझे मानसी की चीखें सुनाई दीं: आह आह आह कम ऑन बेबी फक मी… चोदो और तेज आह उम्म उम्म आह!

मैंने यह सुनकर गेट खोला और बाहर देखा।

वह पूरी तरह से नंगी, मानसी उस लड़के के लंड पर घोड़ी की तरह उछल रही थी।

मानसी ने मुझे देखा और मेरे सामने उस लौंडे के लंड पर अपनी गांड हिलाने लगी, उसे अपनी चूचियाँ पिलाने लगी।

उस जिगोलो ने मुझे भी देखा।

वह नहीं जानता था कि मानसी मेरी बीवी है।

उसने सोचा कि ये दोनों सिर्फ दोस्त थे।

उसने मानसी को उठा लिया और उसे घोड़ी की तरह पेलने लगा, उसी समय उसने उसके गांड में लंड डाल दिया।

मानसी चीख पड़ी।

मानसी को काफी देर तक ताकने के बाद, उसने अपना लंड गांड से निकालकर उसके मुँह की ओर कर दिया।

मानसी उसका लंड चूसने लगी।

मानसी को उसने पूरा माल दिया।

जब मानसी ने लंड चूसा, कुछ वीर्य जमीन पर गिर गया।

वह लड़का वहां से चला गया और कहा कि इसकी चूत साफ कर देना।

मानसी मुझे देखकर स्माइल करने लगी।

उसने मुझे इशारा करके अपनी दोनों टांगें मेरी तरफ करके एक दूसरे से दूर रख दीं।

उसकी इस हरकत से मुझे उसकी चूत और गांड स्पष्ट दिखाई दी।

उस जिगोलो के लंड का माल उसके गांड और चूत में था।

मुझे उस रस को चाटकर साफ करने का आदेश दिया।

मैं उस वक्त अपनी बीवी के स्लेव बनने का मन बनाया और उसके करीब आ गया।

मैंने मानसी की चूत और गांड चाटकर साफ किया।

जब मैं उसकी चूत और गांड चाटता रहा, मानसी ने मेरे सर पर हाथ फेरते हुए मुझे उसकी जिगोलो से चुदाई की बात बताई।

वह जिगोलो से चुदाई करती थी। वह पूछने लगी, “शुभम बेबी, क्या हम खुले संबंध बनाएँ?”

यह सुनकर मैं चौंक गया, लेकिन बाद में मैंने हां कहा।

मैं अपनी बीवी से प्यार करता था, इसलिए मैं उसे मजा देना चाहता था।

अगले दिन,मैं ऑफिस में काम करने वाली एक लड़की को अपने साथ लेकर आया।

इसे भी पढ़ें   मेरी तड़पती चूत की सामूहिक चुदाई

मानसी ने कहा यह कौन था?

तो मैंने कहा कि ये मेरे साथ काम करती है। इसके साथ आज चुदाई का मौसम है।

ठीक है, मजे करो, उसने कहा, स्माइल देकर।

मानसी अपने आप में खुश थी।

वह लड़की मेरे साथ कमरे में रही, लेकिन उसने मुझसे चुदने की कोई इच्छा नहीं की।

मैं सिर्फ अपनी बीवी को जलाने के लिए उसे घर लाया था।

मैं ही इस प्रयोग का शिकार हुआ।

अब मानसी मुझसे कुछ नहीं कहती थी, लेकिन मुझे लगता था कि वह दो बार विभिन्न लड़कों के साथ एक अलग कमरे में जाती है।

कुछ दिनों बाद मानसी ने बताया कि वह गोवा जा रही है।

मैंने पूछा- किसके साथ?

“राहुल मेरा दोस्त है,” उसने बेहिचक कहा। मैं उसके साथ जा रही हूँ।

मैंने पूछा: अकेला?

उन्होंने कहा। हां,,

वह झगड़ने लगी जब मैंने मना कर दिया कि हम दोनों एक खुले रिलेशनशिप में हैं। मैं नहीं रुक सकती।

मैं हार मान गया, लेकिन मैं भी तुम्हारे साथ चलूंगा।

उसने ओके कहा, लेकिन शर्त लगाई कि मैं गोवा में उसे हाथ भी नहीं लगाऊंगा।

मैंने शर्त स्वीकार की।

हम रात को फ्लाइट से गोवा पहुंचे।

होटल में राहुल और मानसी एक कमरे में चले गए, और मैंने कॉमन रूम चुना क्योंकि कमरा छोटा था।

राहुल ने मुझे कमरे में रहने नहीं दिया।

लेकिन वह डर गया जब मैंने बताया कि मैं मानसी का पति हूँ।

बेबी, तुम डरो मत, यह मेरा हसबैंड है, मानसी ने कहा। लेकिन पर घर है। अब तुम सब कुछ हो।

इसके बाद मानसी राहुल के होंठ चूमने लगी।

उसने भी मानसी के होंठ चूम लिए।

मेरी बीवी के सारे कपड़े राहुल ने मेरे सामने ही उतार दिए और मानसी को बेड पर लेटा दिया।

मानसी एक अन्य आदमी के सामने पूरी तरह से नग्न थी।

मैंने दरवाजा बंद कर दिया और सोफे पर बैठ गया, अपना लंड पकड़कर।

राहुल ने मानसी की चूत चूमने की कोशिश की।

मानसी कामुक रूप से सिसकारियां भर रही थीं।

राहुल मानसी के मम्मों को पीने लगा.

मानसी भी प्यार से अपने हाथ से उसके लंड को सहला रही थी।

मानसी ने राहुल को उल्टा करके उसके लंड को चूसने लगी।

वह भी मानसी की गांड को चूम रहा था।

अब राहुल ने मानसी की चूत में अपना लंड घुमाया।

मुझे भी मानसी की कामुक सिसकारियां सुनाई देती थीं।

धीरे-धीरे वे चुदाई करने लगे।

दस मिनट की धकापेल चुदाई के बाद, राहुल ने मानसी को चूत से खींचकर उसके मुँह में अपना लंड ठूंसकर पूरा वीर्य उसके मुँह में डाल दिया।

वे नंगे ही सो गए।

अगली सुबह भी मानसी ने मुझसे कुछ नहीं कहा।

इसे भी पढ़ें   बिना कटे लंड से चुदने की चाहत। Xxx Goa Group Sex Kahani

राहुल ने मुझसे पूछा कि मुझे अपनी पत्नी को चुदते देखने में मज़ा आया क्यों? मैं आज इसके साथ ग्रुप सेक्स करूँगा।

यह सुनकर मुझे आश्चर्य हुआ।

मानसी ने मुझसे कहा, “तुम क्या कर रहे हो?” मैं क्या करूँ?

वह अपने पूरे दूध खोलकर को समुद्र किनारे लेटी थी।

एक नीग्रो उसके पास आकर उसके मम्मों से खेलने लगा।

मानसी ने उसे रोका ही नहीं।

मानसी उससे चुदने के लिए कमरे में चली गई।

रात को सबने खाना खाया।

चार लोग रात के 11 बजे कमरे में आए।

वे चारों ही छह फुट की हाइट वाले थे.

उसने हाथ मिलाकर उनका स्वागत किया।

वहीं, सबने मानसी को किस किया और उसके बूब्स दबाए।

सब लोग घुस गए।

मैंने पहले ही मानसी और राहुल को बताया था कि मेरा काम लंड चूत का माल साफ करना है।

दारू खुलकर चलने लगी।

दारू पीते समय वह सब नंगे हो गए।

मानसी भी नंगी हो गई।

वह मानसी को अपनी बांहों में लेकर उसे किस करने लगा।

उस समय एक व्यक्ति ने पीछे से आकर मानसी की गांड में एक लंड डाल दिया।

लंड अचानक घुसने से मानसी चीख उठी।

मानसी को फिर बेड पर कुतिया की तरह लेटा दिया गया।

मानसी ने दो लंड अपने मुँह में डाल लिए।

एक ने नीचे से घुसकर उसकी चूत में अपना लंड डालकर सेक्स किया; वह उसके ऊपर चढ़ गया और उसके गांड में लंड ठोक दिया।

मानसी भी बोल नहीं पायी।

नशे में धुत्त होकर चुदाई देखने में मज़ा आ रहा था।

लेकिन मानसी सड़क छाप रांड की तरह लग रही थी।

उसे हर कोई चूमता था और उसके बूब्स दबाता था।

यह सब देखकर मुझे भी गुस्सा आ गया।

चुदाई के बाद, मानसी एक-एक करके सभी के लंड चूसती थी। बाद में, वह एक-एक करके सभी लंड को चूत में ले रही थी।

उसकी चूत लाल हो गई।

वह बहुत थक चुकी थी, लेकिन सभी ने उसके साथ एक साथ सैंडविच सेक्स किया और उसके मुँह और चूत में वीर्य डाला।

राहुल और सभी लोगों ने मानसी को पैसे दिए और कहा कि वह पैसे लेकर अपने पति के साथ आ जाएगी।

मैं मानसी के सामान को साफ किया।

उसकी चूत और गांड लाल हो गई थी।

वह बोलने लगी, “शुभम, मुझे बहुत दर्द हो रहा है।”

इस तरह वह सो गई।

वह अगली सुबह नहीं उठी और कहने लगी, “मुझे बहुत दर्द हो रहा है, भगवान।” लेकिन कभी ऐसा मज़ा नहीं आया।

इसके बाद, वह मेरे साथ चुदवाने के लिए भी अपनी प्रेमिका को लाने लगी।

दोस्तो, मैंने आपको अपनी Relationship Xxx Sex Story बताई। आपका विचार क्या है? कृपया टिप्पणी करें।

Report this post

मैं रिया आपके कमेंट का इंतजार कर रही हूँ, कमेंट में स्टोरी कैसी लगी जरूर बताये।

Leave a Comment