चाची की चूत चुदाई करने को उत्सुक था | Chachi Ki Chudai Ki Kahani

मेरे पड़ोस में मेरी चाची रहती हैं। उन्हें बहुत पसंद करता था और मैं उनके पास काफी जाता था। मैं Chachi Ki Chudai Ki Kahani करने के लिए उत्सुक था। मेरा सपना कैसे पूरा हुआ?

सब पाठकों को मेरा अभिवादन।
यह मेरा पहला Chachi Ki Chudai Ki Kahani है। गलती होने पर मुझे क्षमा कीजिए और मुझे अपनी गलतियों से अवगत कराइए।

मेरा नाम रॉकी है और मैं रोहतक में पढ़ाई करता हूँ।
मेरी उम्र 24 साल है, मेरा शरीर सामान्य है, मेरा लंड 6 इंच का है और मैं कोई बॉडीबिल्डर नहीं हूँ।

Chachi Ki Xxx Chudai Kahani

अब देर नहीं करते, मेरे और मेरे चाची के बीच हुए यौन संबंधों पर आता हूँ।

यदि आप भी अपनी कहानी इस वेबसाइट पर पब्लिक करवाना चाहते हैं तो नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके अपने कहानी हम तक भेज सकते हैं, हम आपकी कहानी आपके जानकारी को गोपनीय रखते हुए अपनी वेबसाइट पर प्रकाशित करेंगे

कहानी भेजने के लिए यहां क्लिक करें ✅ कहानी भेजें

मेरे पड़ोस में मेरी चाची की दुकान है। मेरी चाची घरेलू गृहस्थी करती हैं और उनके दो बच्चे हैं। उनका हाइट पांच फ़ीट है और वे थोड़ा मोटे हैं, लेकिन उनके चुच्चे काफी बड़े हैं, जो मुझे बहुत पसंद हैं।

शुरू से ही मैं उनकी तरफ आकर्षित था और हमेशा उनके पास रहने की कोशिश करता था। भतीजे की तरह चाची भी मुझसे प्यार करती थी।

यह पिछले नवंबर महीने की बात है, जब एक रिश्तेदार की मौत हो गई, तो चाचा और पापा को वहीं रहना पड़ा।

यह पहली बार था कि चाचा घर नहीं थे। वह कभी नहीं रुकते थे। तो चाची ने मुझे रात में अपने घर पर सोने के लिए कहा, और मेरी दादी ने भी हाँ में हाँ मिला दी।
यही कारण था कि मुझे चाची के घर जाना पड़ा।

रात करीब 10 बजे हम सब कमरे में जाकर सोने लगे; चाची और उनके दोनों बच्चे एक बेड पर सो गए, जबकि मैं एक पलंग पर सो गया था।
मैं सिर्फ सोता रहा और सोचता रहा क्योंकि ऐसा अवसर शायद ही फिर कभी मिलेगा, इसलिए थोड़ी देर में सब सो गए।

ऐसे ही बारह बज गए। मैं उठकर चाची के बेड के पास गया क्योंकि मुझे अब नियंत्रण नहीं हो रहा था।
पहले मैं उन्हें सोते हुए देखता रहा, फिर हिम्मत करके मैंने आराम से उनके चूचों को छूने की सोची।

मुझे बहुत अच्छा लगा! उस पहली भावना को शब्दों में व्यक्त नहीं कर सकता।

मैंने अपने हाथ को कुछ देर ऐसे ही रहने दिया, क्योंकि मैं उत्तेजित था और मेरी गांड भी फट रही थी कि अगर चाची उठ गई तो क्या होगा।
थोड़ी देर बाद मुझे नियंत्रण खो गया, तो मैंने धीरे-धीरे चाची की चूची को सहलाना शुरू कर दिया. मैंने ऐसा ही किया जब मैं डर गया था।
जब तक मैं कुछ समझ पाता था, चाची मुझे एक थप्पड़ मारकर मुझे खा जाने वाली नजरों से देख रही थी।

मुझे चाची ने बताया कि वह सुबह मेरे पापा को बताएगी।
और फिर सोने के लिए कहा।

Antarvasna Chachi Ki Chudai Kahani

जब मेरी सारी हिम्मत खत्म हो चुकी थी और मैं कुछ समझ नहीं पा रहा था, तो मैं चुपचाप लेट गया और सुबह होने वाली घटना पर विचार करता रहा।
और मुझे पता नहीं था कि कब मेरी आँख लग गई।

इसे भी पढ़ें   पूजा दीदी की सील

7 बजे सुबह मुझे चाची ने उठाया और घर जाने को कहा।

मैं घर गया, नहाया, तैयार हुआ और पढ़ने निकल गया।

रात को घर पहुंचा तो मेरे पिता और चाचा आ चुके थे, लेकिन मैंने उन्हें देखकर नहीं लगा कि वे कुछ जानते थे।

उस दिन सब कुछ पहले की तरह था और मैं अपने काम करता रहा।

लेकिन फिर भी मुझे डर लग रहा था, इसलिए मैं चाची के घर जाना बंद कर दिया।
दस से पंद्रह दिन बीत गए, लेकिन मैं उधर नहीं जा रहा था।

फिर एक दिन, मेरी चाची ने मुझे घर पर फोन किया और पूछा: क्या हुआ? क्या तुम आज यहाँ नहीं आ रहे हो?
मैंने कहा, “बस ऐसे ही चाची”, और फिर मेरा आना जाना फिर से शुरू हुआ।

लेकिन इस बार चाची कुछ बदली हुई लगी।

मैं सुबह छुट्टी लेकर चाची के घर चला गया। तब मैं उनके चूचे घूरे जा रहा था जब चाची फर्श पर पौंछा लगा रही थी।

चाची ने मुझे देखा और फिर कुछ नहीं कहा।
नौकरी पूरी करने के बाद चाची नहाने चली गई, और जब वह नहाकर आयी तो अलग लग रही थी।

फिर चाची इधर-उधर बोलने लगी।
चाची ने अचानक मुझसे पूछा: क्या मेरी कोई प्रेमिका है?
मैंने कहा कि नहीं!
तब चाची ने पूछा कि तभी तुम्हारे ऐसे व्यवहार हैं?
मैं बिल्कुल सकपका गया।

फिर चाची ने पूछा कि मुझे कैसी गर्लफ्रेंड चाहिए?
मैं इसलिए बात को टालने लगा।

मैंने कहा, “तुम जैसा” जब चाची बार-बार पूछने लगी।
तब चाची ने मुझे ऐसा क्या बताया?
मैं चाची की तारीफ करने लगा जब मुझे भी थोड़ा राहत मिली।

Hot Chachi Ki Sexy Kahani

फिर मैंने सोचा कि जब बात इतनी बढ़ ही रही है तो कुछ और करने का क्या फायदा है?
मैंने कहा, “चाची, मैं आपको अपनी गर्लफ्रेंड बना लेता अगर आप मेरी चाची नहीं होती।”
तो चाची मुस्कुराने लगी।

जब मैंने सोचा कि कुछ हो सकता है, तो मैंने घुटनों के बल उन्हें अपनी गर्लफ्रेंड बनने के लिए कहा।
और मैं नहीं जानता कि चाची ने कैसे हाँ कहा।
मैं पंख लग गया था।

फिर चाची ने कहा कि मैं सिर्फ नाम की गर्लफ्रेंड हूँ, कोई अतिरिक्त विचार मत करो।

थोड़ी देर बाद चाचा भी खाना खाने आ गए और कुछ बोलकर घर आ गए।
मैं चाची के घर फिर से थोड़ी देर बाद गया और उनसे बात करने लगा, क्योंकि अब मैं शांत था।
वह भी काम करते हुए काम करती थी।

फिर मैंने उनसे कहा, “चाची, मैं सिर्फ एक किस चाहता हूँ क्योंकि मैं सिर्फ मेरी गर्लफ्रेंड बन गया हूँ।”
लेकिन चाची ने कहा कि अगर ये सब करना है तो अपनी कोई और प्रेमिका ढूंढो, जैसा मैंने सोचा था।
मुझे लगा कि चाची कुछ नहीं कहेगी, इसलिए मैंने कहा, “अब तो आप ही हो!” और मैं आप के साथ हर काम करूँगा।

इसे भी पढ़ें   Aunty ke batein sunke man me laddu futa | Padosi Aunty Ki sex Story

चाची ने कुछ नहीं कहा और बात को फिर से चलाने लगी।
मैंने फिर कहा, चाची, एक किस देना होगा।
तो चाची मना करने लगी, लेकिन वह क्रोधित नहीं हुई।

मैंने उन्हें गाल पर एक किस दिया क्योंकि मैंने सोचा कि यह ठीक समय था।
जिस पर उन्होंने कहा, वह क्या सोचा? क्या आप अब खुश हैं?
मैंने पूछा: “अभी कहाँ?” असली किस अभी भी बाकी है।

तो चाची मना करने लगी, लेकिन मैं ऐसे मानने वाला नहीं था. मैंने जबरदस्ती चाची को एक किस करने की कोशिश की और वह मुझे पीछे धकेल दी, लेकिन वह कुछ नहीं कहा।

मैं चुपचाप उनके कमरे में लेट गया!
थोड़ी देर बाद चाची ने आकर कहा, “नहीं, ये सब गलत है, हम ये सब नहीं कर सकते।”

Indian Chachi Ki Chudai Xxx Story

मैं इतना कहते ही चाची को किस करने लगा क्योंकि मैं इससे अच्छा अवसर नहीं पा सकता था। चाची कुछ विरोध प्रकट कर रही थी, लेकिन यह सिर्फ प्रदर्शन था।
तब चाची ने कहा कि कोई आएगा।

मैं जानता था कि चाचा खाना खाकर दुकान पर गया है और बच्चे मामा के घर पर हैं। लेकिन मैं आ गया और दरवाजा बंद करके उन्हें किस करने लगा।
यह मेरा पहला किस था।

चाची अभी भी कुछ विरोध प्रकट कर रही थी। लेकिन मैं भी नहीं हटा रही थी। मैंने किस करते हुए उनकी दायीं चूची पर एक हाथ रखा और हल्का सहलाने लगा।
और मैं अपने दूसरे हाथ से उनके पिछवाड़े सहलाने लगा।

चाची भी गर्म होती जा रही थी, लेकिन वह थोड़ा विरोध करती रही।

मैं चाची की चूची को जोर से दबाने लगा क्योंकि मुझे अब नियंत्रण नहीं था। रुक जा, चाची ने धीरे से कहा। सब कुछ गलत है।

मैंने चाची के होंठों पर फिर से होंठ रखकर उन्हें किस करने लगा। साथ ही, मैं एक हाथ से चूची और दूसरे हाथ से पिछवाड़ा दबाने लगा।

10 मिनट तक ऐसा करने के बाद, मैंने चाची की एक चूची को कपड़ों के ऊपर से चूसने लगा और दूसरी को दबाता रहा।

अब चाची सिसकारियां लेकर मदहोश हो गई।

मैंने इसका फायदा उठाकर उनके कपड़े निकाल दिए। अब चाची सफ़ेद ब्रा में थी।

मैं बार-बार उनको किस करने लगा, उनकी ब्रा का हुक खोलने की कोशिश करने लगा, लेकिन वह नहीं खुल रहा था।
तब चाची ने ब्रा का हुक खोलकर एक तरफ रखा।

मैं सिर्फ चाची की चूचियों पर टूट पड़ा और कभी एक को तो कभी दूसरी को चूसने लगा. मैं बीच में कुछ काट भी लेता था, जिससे एक सिसकारी निकल गई।

ऐसा करते हुए, चाची ने मेरा हाथ धीरे-धीरे चूत पर रख लिया। मैंने अपने हाथ को वहीं रखा और चाची की चूचियों को काटने और चूसने लगा।

मैंने चाची को सलवार के ऊपर से ही सहलाना शुरू किया जब उसकी पकड़ थोड़ी देर में ढीली हो गई।
अब चाची रो रही थी।

इसे भी पढ़ें   भैया से कैसे चुदवाये सहेली ने सिखाया | indian sister sex stories 

मैं एक तरफ चाची की चूत सहला रहा था और दूसरी ओर उनके चूचे चूस रहा था।

मुझे अब बर्दाश्त नहीं हो रहा था, इसलिए मैं चाची की सलवार का नाड़ा खोलकर उसे पेंटी के साथ निकालने लगा।
मैं भी चाची के साथ था।

साथ ही मैंने अपने सारे कपड़े निकालकर पूरी तरह से नंगा हो गया। चाची ने कुछ नहीं कहा।

अब मैंने चाची को बेड पर धीरे से लिटाया और उनके बीच में बैठकर अपना खड़ा लंड उनकी चूत पर रखा और धक्का दिया। लेकिन मेरा वीर्य अंदर नहीं गया और फिसल गया। मैं फिर से कोशिश करने पर भी यही हुआ।
तब मैंने चाची का हाथ पकड़कर मेरे लंड को चूत पर रखा और धक्का दिया।

Desi Indian Chachi Ki Xxx Kahani

चाची की चूत में मेरे लंड का आगे का मोटा सुपारा चला गया।
आह, वह भावना है – अद्भुत और अनंत लाजवाब!

फिर मैं दबाव को धीरे-धीरे बढ़ाता गया और पूरा लंड डाल दिया। चाची एक हल्का सा सिसकारी ले रही थी।

मैं धीरे-धीरे धक्के लगाने लगा। मैं चुदाई करना नहीं जानता था क्योंकि यह मेरी पहली बार थी। शुरू में चाची की चूत में मेरा लंड दो बार बाहर आया था, लेकिन मैं जल्दी सीख गया और धक्के लगाने लगा।
चाची बस खुशी से आवाजें निकाल रही थी और मजा ले रही थी।

मैं जल्दी-जल्दी धक्के मारने लगा और पांच मिनट में चाची की चूत में झड़ गया। मैं थक गया और नंगी चाची के ऊपर लेट गया, जो मुझे प्यार करने लगी।

फिर उस दिन चाचा के आने का समय हो गया था, तो चाची ने मुझे हटा दिया और कपड़े पहनने लगी. मैं भी समय की नजाकत को समझते हुए कपड़े पहनकर वहाँ से निकल गया। लेकिन आने से पहले मैंने चाची को प्यार किया और उनके होंठों को खूब चूसा. मैंने वादा किया कि चाची मुझे भाद में भी चुदाई करने का मौका देती रहेगी और मुझे अच्छी तरह से चुदाई करना सिखाएगी।

मित्रों, मेरी पहली Chachi Ki Chudai Ki Kahani थी।

Read More Hindi Sex Stories…

मम्मी पापा को चुदाई करते देखा | Mom-Father Hot Sexy Kahani

शादीशुदा कजिन दीदी की गोरे बदन का दीवाना | Hot Cousin Didi Ki Xxx Chudai

Related Posts

Report this post

मैं रिया आपके कमेंट का इंतजार कर रही हूँ, कमेंट में स्टोरी कैसी लगी जरूर बताये।

Leave a Comment