आंटी की काली चुत देखकर मन मचला। Xxx Hot Aunty Ki Kali Chut

Xxx Hot Aunty Ki Kali Chut की कहानी पढ़ें, जो बताती है कि मैं एक आंटी से बिल्डिंग की लिफ्ट में कैसे मिले। मैंने आंटी के मोटे चूचों को चूसकर उसकी बड़ी चूत को चोदा?

मैं राहुल हूँ और पुणे में रहता हूँ। मैं 20 साल का हूँ और इंजीनियरिंग में पढ़ाई कर रहा हूँ। मेरी हाइट 5 फीट 9 इंच है। मेरा शरीर वी-शेप है, हालांकि सिक्स पैक एब्स नहीं है।

मैं वैसे भी शर्मीला हूँ, इसलिए मैंने कभी किसी लड़की को प्रपोज नहीं किया है। लेकिन मैं पॉर्न देखने का बहुत शौक रखता हूँ, और मैं अब भी इसे बढ़ा रहा हूँ।

आपने मेरी पिछली कहानी विधवा बुआ की बेटी से हुआ प्यार-2। Hot Xxx Bahan Ki Sex Prem Kahani

यदि आप भी अपनी कहानी इस वेबसाइट पर पब्लिक करवाना चाहते हैं तो नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके अपने कहानी हम तक भेज सकते हैं, हम आपकी कहानी आपके जानकारी को गोपनीय रखते हुए अपनी वेबसाइट पर प्रकाशित करेंगे

कहानी भेजने के लिए यहां क्लिक करें ✅ कहानी भेजें

पढ़ी थी।

पॉर्न देखते हुए मैं अपने से बड़ी उम्र की महिलाओं की तरफ आकर्षित होने लगा। इसलिए मुझे मेरी उम्र की या मुझसे कम उम्र की लड़कियां पसंद नहीं आती थीं। साड़ी वाली औरतों को देखना मुझे अच्छा लगता था। जैसे ही उनकी पेट के ऊपर उनकी नाभि दिखाई देती थी, मैं ऐसी सुंदर आंटी पर लट्टू हो गया।

अब मुझे महिलाओं के रंग या साइज से कोई मतलब नहीं था। तुम समझ ही सकते हो कि मेरा यह आकर्षण कितना बढ़ा था।

Xxx Aunty Ki Chudai Kahani

दसवें माले पर एक अपार्टमेंट में मैं रहता था। मेरे कमरे में मेरे दोस्त भी रहते थे। मैं अपनी सोसाइटी के कई नुकसानों पर फिदा था। श्रेया नामक एक सुंदर आंटी छठे फ्लोर पर रहती थीं। उन्हें लिफ्ट में आते जाते देखा है।

उसने अपनी सहेलियों के साथ एक बार छठे माले से लिफ्ट में चढ़ा। जब लिफ्ट बंद होने लगा, आंटी ने पूछा कि क्या ऊपर या नीचे जा रहे हैं।

उनके सवाल पर मैं एकदम से कुछ जवाब नहीं दे सका, इसलिए मैंने कहा, “अम्म… मैं… ऊपर जा रहा हूँ।”

आंटी मुझे घबराहट में देखकर हंसने लगी। उसने अपनी सहेलियों से मेरा मजाक उड़ाना शुरू किया।

उस समय मुझे बहुत बुरा लगा।

लेकिन जब मैं अपने कमरे में पहुंचा, तो मैंने सोचा कि आंटी कितनी विनम्र थी। ऐसी बेबाक औरतें मुझे बहुत अच्छी लगती हैं। श्रेय आंटी भी कुछ सांवली थी। उनकी कमर पर बहुत कम चर्बी थी। चेहरा हमेशा आत्मविश्वास से भरता था। बाल बंधे हुए थे।

उस दिन की घटना के बाद मैं उन आंटी की ओर अधिक ध्यान देने लगा। वह कभी आकर मिलती थी तो कभी जाकर। वह अपनी बेटी के साथ रहती थी और कभी-कभी अकेली रहती थी। लेकिन अब तक मैंने उस आंटी को अपने पति के साथ कभी नहीं देखा है। अक्सर मैंने सोचा कि शायद उनके पति काम पर जाते होंगे, इसलिए मुलाकात नहीं हो पाती।

अब मैं सिर्फ उस हॉट आंटी से यौन संबंध बनाने के सपने देखने लगा था। वैसे तो वह अक्सर सूट और सलवार पहनती थी, लेकिन साड़ी में वह अविश्वसनीय रूप से सुंदर लगती थी। पतली साड़ी के नीचे छुपी हुई उनकी बड़ी सी गांड और ब्लाउज के नीचे दबे हुए उनके बड़े बड़े बूब्स हमेशा मुझे उनके बारे में सोचने पर मजबूर करते थे। मैंने सोचा था कि इनको चोदने के लिए मैं अकेला नहीं होगा।

एक दिन मैं लिफ्ट से नीचे जा रहा था। श्रेया आंटी ने मुझे छठे फ्लोर की लिफ्ट को रोकने के लिए कहा। मैं दरवाजे के पास खड़ा हो गया और आंटी की मदद की। उन्हें एक-एक करके चार बड़े कचरे के बैग लिफ्ट में रखना शुरू कर दिया। उसकी गांड मेरी जांघों से घिस रही थी जब वह बैग अंदर रख रही थी।

वहीं पर मेरा लिंग उछलने लगा। हम दोनों लिफ्ट में थे जब आंटी आ गई।

फिर आंटी को अक्सर आते-जाते देखकर आंटी धीरे-धीरे मेरे बारे में जानने लगी, जैसे मैं कौन से फ्लोर पर रहता हूँ। क्या मैं करता हूँ? मेरे साथ कौन रहता है और इतना कुछ। इस तरह मेरी आंटी से थोड़ी पहचान हो गई।

फिर, शायद उनको मुझ पर भरोसा होने लगा, आंटी अक्सर मेरे पास आकर खड़ी हो जाती थीं जब लिफ्ट में ज्यादा लोग होते थे। आंटी की गांड और बदन के हिस्से मेरे शरीर से कई बार सट गए।

इसे भी पढ़ें   मम्मी की सहेली मेरे लंड के निचे आ गई-2। Mature Aunty Ki Fuck Story

मेरा आकर्षण हॉट श्रेया आंटी की तरफ दिन-प्रतिदिन बढ़ता जा रहा था।

एक दिन, आंटी फिर नीचे आई और लिफ्ट पर खड़ी हो गई। रिक्शे वाले ने पीछे से तीन बड़े बैग उठा कर लिफ्ट में रख दिए। आंटी शायद बाजार से कुछ खरीदकर आई थी।

जब मैं छठी मंजिल पर पहुंचा, आंटी ने मुझसे मदद करने के लिए कहा, तो मैंने हां कहा और दो बैग उठाए। आंटी ने एक बैग उठाया।

फिर वह लिफ्ट से उतर गई और अपनी कुर्सी को खोलने लगी। मैं वापस चला गया जब हमने अंदर सामान रखा।

आंटी ने कहा कि बैठो और पानी पीकर जाओ।

मैंने इसे अस्वीकार कर दिया।

तुम इतना शरमाते क्यूं हो, आंटी फिर पूछा।

मैंने कहा कि बस ऐसा ही है, मैं बचपन से ऐसा हूँ।

बातें करते हुए हम वहीं सोफे पर बैठ गए। वह भी मेरे साथ बैठी थी, लेकिन कुछ दूर।

आंटी ने पूछा कि क्या आप समाज के WhatsApp ग्रुप में हैं?

मैंने कहा कि नहीं।

Desi Aunty Ki Xxx Chudai Kahani

उसने कहा, “अपना नंबर दो।” मैं आपको एड करवा देता हूँ।

फिर वह बोलने लगी कि मैं बिना बताए तुमको पानी पिलाना भूल गया था।

इसके बाद वह उठकर चली गई। वह उठी और मैं उस गर्म आंटी की सुंदर गांड को देखकर वहीं पर बहकने लगा। वह किचन से पानी लेकर आ रही थी, तो मेरा ध्यान उनके ब्लाउज में दबे हुए चूचों पर था।

मैं पानी पीकर आंटी को धन्यवाद देकर चला गया।

उस दिन शाम को ही आंटी ने मुझे WhatsApp ग्रुप में जोड़ा।

अगले दिन, आंटी ने मुझे शुभ सुबह का संदेश भेजा। मैं आंटी का मैसेज देखते ही खुश हो गया। फिर हम दोनों में संदेश आने लगे। वो कुछ देती थी और मैं कुछ देता था।

मैंने एक बार यूट्यूब पर पांच वीडियो के लिंक भेजे, जिनमें से एक में एक सेक्सी बंगाली लड़की का साड़ी वाला फोटोशूट था। जब आंटी ने लिंक देखा, तो उनका मैसेज तुरंत आया।

उसने पूछा कि क्या आप ऐसे वीडियो भी देखते हैं?

मैंने कहा, “आंटी, यह गलती से भेजा गया।”

आंटी ने कहा कि मैं आपको बहुत शरीफ समझता था क्योंकि आप ऐसे वीडियो देखते थे।

मैंने फिर से उनसे माफी मांगी।

फिर उसने हंसने लगा। तुम इतना डरते क्यों हो, पूछा वह? वैसे भी, आपकी उम्र में पॉर्न वीडियो देखना आम है।

यह सब होने के बाद भी हमें मैसेज मिलते रहे।

कुछ दिन बाद कॉलेज की छुट्टी हो गई। मेरे कमरे के साथी अपने गांव जाने वाले थे। मैं नीचे तक छोड़कर ऊपर आ रहा था, तो आंटी मिल गई। उसने पूछा कि क्या कॉलेज की छुट्टी हो गई है?

मैंने हां कहा।

आंटी, क्या तुम नहीं गए?

मैंने कहा, “नहीं आंटी, मैं कॉलेज प्रोजेक्ट में कुछ काम करने के कारण नहीं गया।”

तुम अकेले नहीं डरते, उसने कहा।

मैंने कहा कि नहीं।

मुझे तो लगता है, उसने कहा।

तब मैं ऊपर आने लगा। फिर मैं ऊपर पहुंचा तो व्हाट्सएप पर उनका संदेश आया था—तुम मुझे बहुत गंदी तरह से देख रहे हो।

बाद में आंटी ने मुझे WhatsApp पर भी ब्लॉक कर दिया।

मैं बेहोश हो गया। मैं बहुत घबरा गया। आंटी को अचानक क्या हुआ? फिर मैंने सोचा कि शायद उसने मुझे घूरते हुए उसके बदन को देखा होगा।

मैं अपने काम में व्यस्त हूँ।

Antarvasna Aunty Ki Chudai Kahani

फिर लगभग दोपहर के एक बजे मेरे कमरे की घंटी बजी। आंटी मेरे सामने खड़ी हुई थी जब मैंने दरवाजा खोला। पीली साड़ी उसने पहनी हुई थी। मैंने भीतर आने से पहले ही आंटी से माफी मांगी। लेकिन वह अंदर घुस गई। मैंने दरवाजा बंद कर दिया और उसने कुछ नहीं कहा।

मैं बहुत दिनों से देख रहा हूँ कि तुम मुझे गंदी दृष्टि से देख रहे हो, वह अंदर आकर कहने लगी। लंबे समय से मैं तुम्हें इग्नोर कर रहा हूँ। पहले तो मैंने सोचा कि शायद मैं ही तुम्हारे बारे में गलत सोच रहा हूँ, लेकिन जब मैं तुम्हारे बारे में सोचना शुरू किया, तो मुझे पता चला कि तुम मेरी तरफ ही घूरते रहते हो।

नहीं आंटी, मैंने कहा। मैं आपको माफी चाहता हूँ अगर आप ऐसा महसूस करते हैं।

इसे भी पढ़ें   मम्मी की सहेली मेरे लंड के निचे आ गई-3। Antarvasna Mom Friend Sex Kahani

आंटी ने कहा कि तुम अभी भी अपनी गलती मान नहीं रहे हो। अगर तुम अपनी गलती मान लोगे तो मैं तुम्हें माफ कर दूंगा। लेकिन सच बताओ।

हाँ, मैंने आपको दो बार घूरा था। लेकिन अगली बार मैं ऐसा नहीं करूँगा।

हां, मैं जानता था, उन्होंने कहा।

फिर वह नॉर्मल हो गई और पूछने लगी, “तुम मुझे इतना प्यार करते हो क्या?”

मैंने कहा कि नहीं, सिर्फ यही है!

मैं डर गया। फिर उसने मेरे बालों को पकड़ लिया और अपनी साड़ी के पल्लू को नीचे गिरा दिया, मेरे मुंह को ऊपर उठा कर अपने चूचों को दिखाने लगी।

देखो इनको, बोली। आप इसे अब नहीं देख रहे हैं क्या?

उसने इतना कहकर मेरे बालों को छोड़कर सामने की कुर्सी पर बैठ गई।

देखो, उन्होंने कहा। आपको सजा मिलेगी। आप मेरे माता-पिता से बात करेंगे। मैं यहां आपकी शिक्षण प्रणाली की शिकायत उनसे करूंगी।

मैंने कहा, नहीं आंटी, अगर आप उनसे संपर्क करते तो मुझे बहुत नुकसान होगा।

ठीक है, फिर तुम्हें मेरा एक काम करना होगा, उसने कहा।

मैंने कहा कि मैं कुछ भी करने को तैयार हूँ।

उसने कहा कि सुबह से मेरे झांट में खुजली हो रही है। आप मेरा झांट खुजला रहे हैं।

मैं उसकी तरफ हैरान होकर देखा। मेरे साथ बेबाकी बातें करती थी। उसने फिर मुझे अपने पास आने को कहा। उसने अपनी साड़ी ऊपर कर दी और मेरे सिर के बालों को पकड़ लिया।

अपनी जांघों के पास मेरा मुंह ले जाकर दिखाने लगी। उसकी सफेद पैंटी के पीछे उसकी जांघों के बीच में एक काली चूत बाहर आने के लिए जैसे तड़प रही थी।

उस काली घाटी को देखकर मेरा मन इतना तरंगित हो गया कि मैं उसकी प्राकृतिक सुंदरता को देखते हुए उसकी चूत के झरने से गिरने वाले पानी में डूब जाऊँगा।

उसने मुझे अपनी पैंटी पर रगड़ना शुरू कर दिया। उसकी पैंटी से उसकी चूत की गंध आती थी। उसकी जांघों पर बहुत रसीला पसीना था।

Xxxx Aunty Porn Sex Stories

मैंने उसकी पैंटी चाटना शुरू किया। उसकी सिसकारियां गर्म थीं। मैंने उसकी चूत को चाटते हुए ऐसा महसूस किया कि मैं उबलते दूध को छू रहा हूँ।

फिर उसने धीरे-धीरे अपनी पैंटी को अपनी चूत से हटाना शुरू किया। मैं वहीं देख रहा था। मैं आंटी की बड़ी सी काली चूत को बेपर्दा देखा। उसने पैंटी उतार दी। उसकी बड़ी काली चूत मेरी आंखों के सामने नंगी थी। उसकी चूत से खून बह रहा था।

मैं थक गया और गर्म श्रेया आंटी की चूत को अपने होंठों से पकड़कर उसके रस को चाटने लगा।

उसने मुंह से एक आह्ह निकाली और मेरे होंठों को आंटी की चूत पर दबा दिया। मैंने उसकी चूत को चबाना शुरू कर दिया। उसकी जांघों के बीच मेरा मुंह धंस गया। मजा भी बहुत आ रहा था, सांस भी नहीं ली जा रही थी।

आज मैं चूत के सपने देख रहा था। मेरे हाथ अपने आप ही उसके चूचों पर पहुंच गए और मैं दोनों को दबाने लगा। फिर मैं उसके पेट को चाटने लगा, मुंह हटाकर। उसकी नाभि को चाटकर पूरा पसीना पी गया। उसके ब्लाउज के ऊपर पीछे हाथ फिराने लगा।

तब मैं उठकर उसके होंठों को चूसने लगा। अपना रस उसके मुंह में डालने लगा और अपनी जीभ से उसका रस उसके मुंह में खींचने लगा। वह भी पूरी तरह से गर्म हो गई थी और मेरे साथ पूरी तरह से खुश हो गई थी।

मैं भी नीचे से उसकी चूत को चूस रहा था। उसने कामुक सिसकारियां लेकर तेज-तेज आवाजें निकालीं। उम्म्ह… अहह… हय… ओह… चप-चप की आवाज आई।

उसको कुछ देर तक ऐसे ही चूसने और चाटने के बाद मैं खुद को नीचे बैठ गया। उसने मेरी गोदी में बैठ गया।

फिर से मैं उसके मुंह में था। मेरी शर्ट खोलने लगी। वह नंगी होकर मेरी छाती को चाटने लगी। मैं बर्फ को चाट रहा था। मैं उसकी गर्दन को चुंबन दे रहा था।

मैंने हॉट आंटी का ब्लाउज बाहर निकाला। मेरी आंखें फैल सी गईं जब उसका ब्लाउज नीचे आया।

मैं अपनी जीभ से उसके चूचों को चाटना शुरू कर दिया और उसके चूचों को धोने लगा। मेरी जीभ उसके बड़े-बड़े पहाड़ों के बीच से नाग की तरह सरक रही थी। फिर मैं आंटी के दूध पीने लगा और उनके निप्पलों पर कुछ देर चाटने लगा।

इसे भी पढ़ें   कॉलेज छात्र और उसकी माँ से मिला | Desi Aunty Antarvasna Sexy Kahani

आंटी ने मेरा लंड सहलाना शुरू किया। फिर वह मेरी पैंट निकालने लगी और मेरी जांघों से उठी। उसने बाद में मेरी अंडरपैंट भी निकाल दी। उसने मेरे 5.7 इंच के लंड पर किस किया। उसने पहली बार इतना बड़ा लंड देखा तो मेरे लंड से प्यार करने लगी। उसने मेरा लंड चाटकर मेरे मुंह में थूक दिया। फिर उसने नीचे जाकर अपने मुंह को मेरे लंड पर चलाने लगा।

वह अपनी जीभ से मुंह में लंड हिला रही थी। मैं स्वर्ग में था। कभी मुझे इतना मजा नहीं आया था। फिर मेरी गोटियों को भी अपने मुंह में भर लिया।

“चलो, अब मैंने तुम्हें माफ कर दिया,” वह कुछ देर तक मेरे लंड से खेलते हुए कहा। अब मुझे अपने घोड़े पर बैठाकर घूमने दो।

मैंने आंटी को पूरी तरह से नंगी कर दिया और उससे मेरे लंड पर बैठने को कहा। वह बिना देर किए मेरी गोदी में आ गई और अपनी चूत को हाथों से मसलते हुए मेरे लंड पर रखते हुए उस पर बैठ गई। उसकी प्यास मेरे लंड की तरह थी जैसे किसी ने दस दिन भूखे शेर के सामने बकरी को रख दिया हो। वह मेरे लंड पर उछलने लगी और मेरे कंधों पर हाथ रखी।

वह मेरे लंड पर उछलकर मुझे गाली देने लगी, कहते हुए कि साले इतने दिनों से मेरा बदन घूर रहा था। इतने बड़े लंड का मालिक होकर भी इतना शरीफ बनने की कोशिश करता था।

Aunty Ki Free Hindi Sex Stories

वह मेरे बालों को पकड़कर मेरे मुंह में थूकती रही और मेरे लंड पर थूकती रही। मैं उसके थूक को पूरी तरह से गटक जाता था।

आह..। बेवकूफ आदमी..। तुम्हारे जैसे शर्मीले लंड को इस चूत लेने में बहुत मजा आता है। सफेद नौटंकी तुमने सोचा था कि तुम मुझे घूरेंगे और मैं तुम्हें ऐसे ही छोड़ दूंगा। तुम्हारा लंड खाऊंगा। मैं इसे पी जाऊँगा। उम्म्ह..। मैं सही..। ओह..। मजाक करो..। अपने वीर्य से मुझे चोद।

आंटी का ये रूप देखकर मैं खुश हो गया। वो मेरे लंड पर उछलती रही, और मैं उसकी गर्म चूत में अपना लंड डालकर उसकी चूत का आनंद लेता रहा। बीस मिनट तक, वह मेरे लिंग पर नाचती रही। फिर पूछने लगी कि साले बैठा रहेगा? क्या तुम भी मुझे चोद रहे हो?

ये कहानी भी पढ़े – पड़ोस की एक युवा लड़की को ठोका | Free Sex Kahani Hot Xxx Girl

मैं उठकर उसे बेड पर ले गया और उसे घोड़ी बनाया। वह पीछे से उसकी बड़ी काली चूत में अपना लंड डालकर उसकी चुदाई करने लगी। उसकी चूत में मेरा लंड अंदर-बाहर होने लगा। मैं उसकी चूत को दस मिनट तक चोदता रहा, फिर अपने लंड का सारा दूध उसकी चूत के दरिया में डाल दिया।

फिर हम दोनों वहीं गिर पड़े। हम दोनों वहां पर नंगे ही सोये रहे। उसने मुझे जगाया और करीब तीन बजे के आसपास अपने कपड़े पहनकर चली गई। मेरा और आंटी का रिश्ता तब से अब तक वैसा ही रहा है।

जब पति और बेटी घर पर नहीं होते, तो वह मुझे अपने पास बुला लेती है, और मैं और आंटी इसी तरह मजे लेते हैं।

Xxx Hot Aunty Ki Kali Chut आपको कैसी लगी?

Related Posts

Report this post

मैं रिया आपके कमेंट का इंतजार कर रही हूँ, कमेंट में स्टोरी कैसी लगी जरूर बताये।

Leave a Comment