सगी मौसी को ही चोद दिया | Indian Family Ki Vasna Kahani

Indian Family Ki Vasna Kahani पढ़ें, जिसमें मैं मौसी को चोदना चाहता था और उसे छेड़ता था। मौसी ने मुझसे एक बार चुदाई की। कैसे?

लंबे समय से मैं अन्तर्वासना पर सेक्स कहानियां पढ़ रहा हूँ। मैंने भी कुछ कहानी लिखी हैं। मैं आज भी आपके लिए एक कहानी लेकर आया हूँ।

मैं आपको अपनी Indian Family Ki Vasna Kahani बताने से पहले अपने बारे में कुछ बताता हूँ। मैं विहान (बदला हुआ) हूँ। मेरी हाइट 5 फीट है और मेरी उम्र 22 साल है। मेरा लंड 6 इंच का है और 1.5 इंच मोटा है।

आज मैं आपको अपनी मौसी की चुदाई की कहानी बताने जा रहा हूँ. मैं अपनी वासना के कारण अपनी मौसी को चोदा था।
मैं नहीं चाहता कि कल को कोई मेरी मौसी के बारे में कुछ कहे, इसलिए मैं यहां जगह का नाम और लोगों का नाम नहीं लिखूंगा।

यदि आप भी अपनी कहानी इस वेबसाइट पर पब्लिक करवाना चाहते हैं तो नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके अपने कहानी हम तक भेज सकते हैं, हम आपकी कहानी आपके जानकारी को गोपनीय रखते हुए अपनी वेबसाइट पर प्रकाशित करेंगे

कहानी भेजने के लिए यहां क्लिक करें ✅ कहानी भेजें

Indian Family Ki Vasna Xxx Kahani

अब मैं मौसी के बारे में बताऊंगा। मेरी मौसी 36 वर्ष की हो गई है। उनके पास भी एक बेटा है। Mosaic का फिगर 34-28-32 था। उसके सुंदर रूप और सुंदर शरीर ने भी मुझे मोहित कर दिया।

उसका सीना उसे सबसे अधिक उत्तेजित करता था। हाँ, मौसी के बूब्स इतने खूबसूरत थे कि सिर्फ देखकर मज़ा आ गया।

सगी मौसी को ही चोद दिया | Indian Family Ki Vasna Kahani

मैं भी मौसी के बारे में सोचकर कई बार मुठ मार चुका था। बहाने से मैं भी मौसी की गांड को कई बार टच कर चुका था।
मैं हर बार मौसी के घर जाता था और उसकी गांड बहाने से टच करता था। उसने कुछ नहीं कहा।
अब तक मुझे इससे आगे बढ़ने की हिम्मत नहीं हुई।

मैं पहले अपनी मौसी के यहां अक्सर जाता था, लेकिन जैसे-जैसे मैं कॉलेज में पढ़ने लगा, मेरा वहां जाना कम होने लगा।

दिसंबर 2019 में मैं मौसी के यहां गया था। मेरे एग्जाम उस समय खत्म हो गए थे और मुझे एक काम करने के लिए एक फैक्ट्री में जाना पड़ा।

उस फैक्ट्री से मौसी का घर बहुत पास था।

मैंने पहले ही मौसी को बताया था कि मैं उनके घर रुकने आऊंगा।
मौसी ने भी हां कहा था।

उसी समय मैं मौसी की चुदाई करने का विचार कर रहा था।

उस दिन सुबह १० बजे मैं फिर मौसी के यहां पहुंचा। उस वक्त तक मौसा ने अपना काम पूरा कर लिया था।
मेरी मौसी का लड़का स्कूल से नेशनल पार्क गया था।

मेरे जाने पर मौसी खुश हुई और मुझे अच्छे से स्वागत किया। फिर वह मरने के लिए कुछ खाने लाने गई और मैं टीवी देखने लगा।

फिर वह मेरे लिए नाश्ता लाया। खाना पीने के बाद मैं और मौसी ने घर की बात की।
मैंने मौसी के घर के बारे में पूछा और अपने घर के बारे में बताया।

बैठे हुए दो घंटे बीत गए। इस बीच बहुत कुछ हुआ, और मैं और मौसी उसी संबंध को महसूस करने लगे जो कुछ समय पहले हमारे बीच था जब हम एक दूसरे से हंसते थे।

तब मौसी खाना बनाने के लिए गई। मैं भी किचन में चला गया और कुछ देर टीवी देखता रहा।

यहां वहां घूमते हुए मैं मौसी की गांड छेड़ने लगा।
जब मैंने हाथ मारा, तो मौसी एक बार फिर मुस्कराने लगी।

मैं मौसी के पीछे जाकर खड़ा हो गया जब मेरी हिम्मत बढ़ी।
मैंने मौसी की गांड में लंड डाल दिया।

तुम बहुत बुद्धिमान मत हो। मैं हर बात जानता हूँ।
मैं सिर्फ मजाक कर रहा हूँ, मौसी!
उसने कहा कि बीवी और मौसी ऐसे मजाक नहीं करते।

फिर मैंने बहुत कुछ नहीं किया क्योंकि मुझे डर था कि मौसी गुस्सा हो जाएगा।

लेकिन मेरा लंड पूरी तरह से तन गया था। मेरी पैंट में तना हुआ मेरा लंड स्पष्ट था।

मैं भी मेरे लंड को देखा था, लेकिन उसने इस बारे में कुछ नहीं कहा।
वह चुपचाप सब्जी बनाने लगी।

इसे भी पढ़ें   ममेरा जीजा और मेरी सगी बहन। Hot Didi Xxx Kahani

फिर मैं हॉल चला गया।

मौसी कुछ देर बाद रोटियां बनाने लगी। फिर खाना परोसने की तैयारी करने लगी। उसने सब्जी टेबल पर लाकर रख दी।
फिर उसका पैर किचन के दरवाजे की चौखट में ठोकर से टकरा गया, जिससे वह धड़ाम से नीचे गिर गई।

मैं गिलास की पूरी लस्सी को उठाने के लिए दौड़ा।
मैंने उसे उठाया और धीरे-धीरे उसके कमरे में ले गया। मैंने वहां जाकर उससे चोट के बारे में पूछा।

गिरने से मौसी की कमर फट गई।
उसने कहा कि विहान मेरी कमर बहुत दर्द कर रही थी. आज मेरे ऊपर से एक झटका भी लगा।

Desi Indian Mousi Ki Chudai Kahani

मैंने पूछा कि क्या मैं तुम्हें एक डॉक्टर के पास ले चलूँ?
नहीं, डॉक्टर तुम्हारी अनुमति लेंगे। अब बाम अलमारी से निकाल ले। वह बहुत प्रभावी है। फिलहाल, मेरा दर्द कम हो जाएगा।

मौसी ने कहा कि मैं बाम अलमारी से निकालकर ले आऊँगा। मौसी ने अपनी साड़ी उतार दी।
उसकी गांड के बिल्कुल पास रीढ़ की हड्डी में दर्द था, इसलिए जब मैं बाम लगाने लगा तो उसके पेटीकोट के पास से साड़ी बीच में आने लगी।

उसने हाथ लगाकर बताने लगा।
तो मैंने कहा कि मैं वहां तक नहीं पहुंच सकता।
रुक, मैं पेटीकोट को थोड़ा ढीला कर लेती हूँ, उसने कहा।

सगी मौसी को ही चोद दिया | Indian Family Ki Vasna Kahani

वह उठी और अपनी साड़ी को पेटीकोट से पूरी तरह अलग कर दी।
फिर उसने अपने पेटीकोट के नाड़े को खोला और उसको थोड़ा नीचे सरका दिया।

पेटीकोट इतना नीचे तो नहीं था कि मौसी के चूतड़ ही दिख सकते थे, लेकिन मौसी की गांड से शुरू होने वाली जगह तक का हिस्सा अवश्य दिख रहा था।

मैं उसके पीछे बैठा हुआ उसकी कमर पर बाम लगाने लगा, जब वह बाईं करवट लेकर लेटी हुई थी। मेरे हाथों ने मौसी के चूतड़ों के ऊपर वाले हिस्से को भी छू लिया।

जैसे-जैसे मौसी कुछ देर पहले गिर गई थी, मेरे मन में फिर से मौसी की वासना जागने लगी।
अब मैं मालिश करने की बजाय मौसी की गांड सहलाने पर फोकस करने लगा।

ऐसा करते हुए मैं मौसी के चूतड़ों को हल्के से दबाने लगा।
उसे शायद अभी दर्द हो रहा था, इसलिए उसने इस पर ध्यान नहीं दिया।
अब मेरा हाथ मौसी के चूतड़ पर अंदर तक पहुँचने लगा।

मैंने देखा कि मौसी ने पैंटी भी नहीं पहनी थी।
अब मैं मौसी के पूरे चूतड़ पर हाथ फेरने लगा।

अब मेरा लंड खड़ा हो गया था और मैं भी मौसी की गांड को हाथ से सहलाना चाहता था।

मैं उसकी गांड को सहलाने का मन कर रहा था, लेकिन मैं पूरी तरह से आश्वस्त नहीं था कि मौसी मुझे कुछ नहीं कहेगी।

यही कारण था कि मैंने मौसी के चूतड़ों को दबाकर देखा।
अब मौसी नहीं कराहती थी। शायद बाम ने प्रभावी होना शुरू किया था। अब मैं मौसी की कमर से चूतड़ों तक मालिश कर रहा था।

मौसी की चूत लगभग उजागर होने की कगार पर थी जब पेटीकोट का नाड़ा खुला ही था और आगे की तरफ से भी नीचे सरक गया।

मौसी ने अपने ब्लाउज के हुक खोलने से पहले ही मेरा हाथ चूत की ओर बढ़ाना चाहा।
उसने कहा, “मेरे हुक खोलकर कंधे पर भी मालिश करो।” मेरे कंधे पर भी कुछ लग गया।

मौसी शायद गर्म हो रही थी।

मैंने भी इसी तरह किया। जब उन्होंने ब्लाउज खोला, तो उन्होंने देखा कि मौसी ने अपनी चूचियों के ऊपर ब्रा भी नहीं पहनी थी।

अब मैं अपनी उंगलियों को मौसी की पीठ से लेकर उसकी गांड की दरार तक चलाने लगा। बीच-बीच में मैं मौसी की चूत को छूने की कोशिश भी करता था, लेकिन चूत बहुत गहरी थी।

अब मौसी धीरे-धीरे रोने लगी। उसकी सांसें बहुत गहरी हो गईं।

मैंने उसकी पीठ की मालिश करते हुए उसकी चूचियों तक हाथ पहुंचाने की कोशिश की।

इसे भी पढ़ें   बहन को दिया बच्चे का सुख।Pregnent Sister Sex Story

अब मौसी कुछ भी नहीं बोली, सिर्फ अपने गर्म गर्म आँखों को भरने लगी।
वह मेरी तरफ पलटकर सीधा हो गया जब उससे रुका नहीं गया। मौसी की मोटी चूचियां अब नंगी हो गईं, जब उसका ब्लाउज उसके सीने से सरक गया।

मैं पूरी तरह से हैरान था। मुझे उम्मीद नहीं थी कि मौसी मुझे ऐसे नंगी चूचियां दिखाएगी।

मैंने मुस्कुराते हुए कहा, “सॉरी, मौसी।”
उसने कहा, “सॉरी, इतनी देर से तुम परेशान हो रहा था।” अब जहां चाहे मालिश करें।
मैंने कहा: नहीं, सॉरी मौसी, तुम गुस्सा हो जाओगे।

जब उसने देखा कि मैं डर रहा हूँ, उसने खुद ही मेरे हाथ पकड़कर अपनी चूचियों पर रखवाकर कहा, “अब आराम से मालिश कर ले।” मैं खुश हूँ।

मौसी मुस्कुरा रही थी जब मैंने उसके चेहरे को देखा। फिर मैंने मौसी की चूचियों को धीरे-धीरे सहलाना शुरू किया। मेरे हाथों भी उनके बड़े-बड़े पहाड़ी चूचे नहीं समा रहे थे।

जैसे रोटियों के लिए आटा गूंथा जाता है, मैं दोनों हाथों से मौसी की चूचियों को मलीलने लगा।
मौसी रोने लगी।
उनकी सिसकारें सुनकर मैं भी उत्साहित हो गया।

अब मैं चूचियों से होते हुए हाथ को मौसी की चूत के ऊपर तक सहलाने लगा।
फिर धीरे-धीरे मैं भी मौसी की चूत को छूने लगा।

Mousi Ki Porn Kahani

मौसी ने अब अपनी जांघें चौड़ी कर दीं। मेरे लिए संकेत स्पष्ट था। मैंने अपने हाथ को पूरा मौसी की चूत पर रगड़ दिया और हथेली से चूत को सहलाया।

जैसे ही मौसी सिसकारी, उसका हाथ मेरे लिंग पर पड़ा। वह मेरी पैंट के ऊपर से ही मेरे लंड को पकड़कर सहलाने लगी।
मैं भी मौसी की चूत में उंगली डालने के लिए उत्सुक हो गया।

जब उंगली उसकी चूत में डाली गई, उसे अंदर से गर्म और गीली लगी। सिसकारते हुए उठी मौसी, मेरे सिर को झुकाकर मेरे होंठों को चूसने लगी, जब मैं चूत में उंगली डालने लगा।

सगी मौसी को ही चोद दिया | Indian Family Ki Vasna Kahani

मैं भी मौसी के होंठों को चूसने लग गया।
हम पांच मिनट तक होंठों से रस निकालते रहे और मैं मौसी की चूत पर हाथ खेलता रहा।

मौसी अब पूरी तरह चुदासी हो गई। वह मेरी उंगली को उसकी चूत में और अधिक मज़ा देने के लिए मेरे हाथ को उसकी चूत पर जोर से दबा रही थी।
अब मैंने होंठों को छोड़कर मौसी की चूचियों को मुंह लगाकर पीना शुरू किया।

मेरे चूतड़ों पर हाथ फिराने लगी और मेरे सिर को सहलाने लगी। फिर मैं अपनी चूचियों से पेट तक चूमकर चूत तक पहुँचा।
मौसी पूरी तरह से नंगी हो गई जब मैंने उसका पेटीकोट उतारा।

अब मौसी पूरी तरह से नंगी मेरे सामने पड़ी थी।
थोड़ी देर तक मैंने उसकी चूत पर जीभ रखी और चाटने लगा।

आह्ह करते हुए वह रोने लगी। विहान..। आह..। वाह..। ओह..। चूस इसे..। आह..। अंदर चोदें।

मैं मौसी की चूत को खाने लगा और फिर मुझे नियंत्रण नहीं रह गया। मैं अपने लिंग को अब और नहीं तड़पा सकता था। मैं पूरी तरह से नंगा हो गया।

मेरा लिंग इतनी देर से थक गया था। पूरी तरह से गीला हो गया था।

मैंने अंडरवियर से अपना लंड निकालकर मौसी के मुंह के सामने रखा।

उसने अपना मुंह खोलकर मेरे लंड को अंदर ले लिया, हालांकि मैं नहीं जानता था कि उसकी प्रतिक्रिया क्या होगी।
मौसी के मुंह को मैं चोदने लगा।

मेरे लंड को मौसी गले तक लेने लगी। मैं भी मौसी के गले में पूरा लंड डालना चाहता था।

फिर वह मेरा लंड निकालकर खांसने लगी।

उठकर फिर से मेरे होंठ चूसने लगी। फिर उसने धीरे-धीरे मुझे नीचे ले जाकर मेरी गर्दन को चूमने लगी और मेरी पूरी शरीर को चूमने लगी।

मैं पूरे शरीर में घबरा गया। मौसी ने पहले मेरी चूचियों के निप्पलों को चूसा, फिर मेरी छाती और पेट पर चूमा। उसने फिर घूमकर अपनी गांड मेरे मुंह की ओर कर दी और नीचे लंड की ओर चली गई।

इसे भी पढ़ें   पापा से छोटी बहन को चुदवाया | Father Sister Xxx Hot Kahani

मुझे मालूम हुआ कि मौसी क्या चाहती है। वह मेरे लंड को चूसने लगी जब मैंने उसकी चूत में मुंह डाला। मैं नहीं जानता था कि मौसी इतनी अच्छी खिलाड़ी होगी।

प्रिय, मैं अब स्वर्ग में था। तीन चार मिनट तक मैंने मौसी की चूत को चूसा और उसका लंड चुसवाया। अब मैं चूत चोदने के लिए बहुत उत्साहित हूँ। मैंने मौसी की टांगों को फैलाकर उसके चूत पर अपना लंड रख दिया।

मैंने एक धक्का दिया और मौसी की चूत में लंड डाला। मौसी ने इतनी देर तक मेरे लंड पर ऊपर से नीचे तक अपनी लार चिपका दी।

मैं मौसी के ऊपर लेट गया और उसकी चूत में लंड डालने लगा। अब मैं भी आह, आह, मौसी, ओह्ह, हम्म, ओह्ह, मौसी करते हुए आवाजें निकाल रहा था।

मेरी गर्दन को चूमते हुए मौसी चुदने लगी, अपनी टांगों को मेरी कमर पर लपेटते हुए। मैं भी उसकी चूत चुदाई करता था, मैं खो गया था। मैंने अपनी आंखें बंद कर लीं और पूरी खुशी से चूत चोदने लगा।

हमारे शरीर एक दूसरे को धक्के मार रहे थे। मौसी मुझे अपनी चूत से चोदने की कोशिश करते हुए मुझे धक्के मारती थी।

हमारी चुदाई २० मिनट तक चली।
जब मेरा सामान निकलने वाला था, मैंने मौसी से पूछा-किस जगह निकालना है?
तो मौसी ने कहा कि बाहर निकाल दें।

Indian Mousi Ki Hindi Sex Story

मैं मौसी की चूत में झड़ गया और उसके ऊपर ही लेट गया, कुछ धक्कों के बाद।
मौसी की चूत में मेरा लंड था।

मेरे बालों को उसने सहलाया।

सगी मौसी को ही चोद दिया | Indian Family Ki Vasna Kahani

फिर वह सहलाते हुए कहा, “मैं सेक्स में पहली बार इतनी संतुष्ट हूँ।”
मैंने मौसी से पूछा: तुम कब झड़ी?
तुम मेरे होंठों को चूसते हुए मेरी चूत को तेजी से चोदते हुए बोली।

इसके बाद, मैंने मौसी के होंठों को चूम लिया और वह मेरे शरीर को अपनी बांहों में कसकर मुझे चूमने लगी।

हमने एक लंबी बातचीत की और फिर अलग हो गए।

तुम्हारी स्टेमिना बेहतरीन है, उसने कहा।
मैंने कहा, “मौसी, मुझे भी पहली बार सेक्स में इतना मजा आया है।” एक और बात कहना चाहता हूँ अगर आप इसे बुरा नहीं मानते हैं तो?

मौसी ने कहा, “बात करो।”
मैंने कहा कि मुझे भी आपकी गांड चोदनी है। मैंने कभी किसी महिला की गांड नहीं चुदाई।
क्या पागल हो गया है? उसने पूछा। तुम्हारे मौसा को मैंने कभी गांड नहीं दी, तो मैं तुम्हें कैसे दे दूं?

उसने उठकर जाने लगी तो मैंने उसे पकड़ लिया और पीने लगा।
उसने मेरा लंड भी पकड़ लिया और हिलाने लगा।

फिर उसने एक बार फिर मेरे लंड का पानी मुंह में डालकर चूसा।
इस बार मौसी ने मेरा वीर्य पीया।

फिर मैंने सोचा कि मैं भी मौसी की गांड चुदाई करके रहूँगा। बाद में मैं इस काम में अपनी सफलता के बारे में आपको बताऊंगा।

आपको Indian Family Ki Vasna Kahani कैसा लगा, इसके बारे में जरूर लिखें। मैं आपका विचार जानना चाहता हूँ। थैंक्यू दोस्तों।

Free Read More Sexy Stories…

विधवा बुआ की फाड़ी चुत | Indian Sex Ki Hindi Kahani

रसीली मामी की चुत मारी | Hot Indian Mami Sexy Kahani

Related Posts

Report this post

मैं रिया आपके कमेंट का इंतजार कर रही हूँ, कमेंट में स्टोरी कैसी लगी जरूर बताये।

Leave a Comment