अंकल से उत्सुक होकर गांड मरवाया | Gay Hindi Sex Stories

Gay Hindi Sex Stories में पढ़ें कि मैंने एक अंकल से गे सेक्स चैट में बात की। जब मैं उत्सुक होकर उनके पास गया, तो उन्होंने सिर्फ मेरी गांड चोद दी!

प्रिय, यह मेरी पहली कहानी है।
अन्तर्वासना पर मैंने कई गे कहानियां पढ़ी हैं। कुछ दिनों से मैंने सोचा कि अपनी हिंदी गांड मारी कहानी भी आपको बता दूँगा।

ये मेरे साथ हुई एक वास्तविक घटना है।

Gay Hindi Sex Stories शुरू करने से पहले मैं अपने बारे में कुछ बताना चाहता हूँ। मैं 5.5 फीट लम्बा हूँ और मेरा नाम कुश है। मेरा वजन 58 kg है। देखने में सुंदर दिखता हूँ।

यदि आप भी अपनी कहानी इस वेबसाइट पर पब्लिक करवाना चाहते हैं तो नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके अपने कहानी हम तक भेज सकते हैं, हम आपकी कहानी आपके जानकारी को गोपनीय रखते हुए अपनी वेबसाइट पर प्रकाशित करेंगे

कहानी भेजने के लिए यहां क्लिक करें ✅ कहानी भेजें

अब मैं अपनी गे सेक्स कहानी आपको बताऊंगा। १९ वर्ष की उम्र में मुझे मुठ मारने का पूरा शौक लग गया था।
दिन में दो या तीन बार पोर्न देखकर मुझे बुरा लगा। अर्थात मैं लगभग पूरा दिन लंड पर ही था।

Gay Sex Stories

तुम भी जानते हो कि जब हम नियमित रूप से पोर्न देखने लगते हैं, तो हम साइट के हर कोने को खोजने लगते हैं। जैसा कि आप सभी जानते हैं, पोर्न वेबसाइटों पर कई प्रकार के वीडियो उपलब्ध हैं।

तो मैं हर दिन कैटेगरी में कुछ नया पाता था।

गे वीडियो की एक श्रेणी भी ऐसी थी। एक दिन मुझे गे सेक्स देखने की उत्सुकता हुई, तो मैंने उसे खोला।

दोस्तों, मैं गे सेक्स वीडियो देखने में बहुत मज़ा आया। धीरे-धीरे मैं अधिक वीडियो देखने लगा।

ऐसे ही मैंने गे पोर्न देखते हुए नीचे गे चैट का विकल्प भी देखा।
मैंने उस पर क्लिक करके दूसरी साइट पर भेजा।
मैं वहां अपना अकाउंट बनाया।

मैं वास्तव में जानना चाहता था कि ये सब कैसे होता है। मेरे इनबॉक्स में अचानक एक मैसेज मिला।
मैं साइट पर अपनी लोकेशन भी जानता था, इसलिए मैंने पाया कि वह व्यक्ति मेरे से सिर्फ 1.5 किलोमीटर की दूरी पर था।

मैं उससे चैटिंग करने लगा। फिर उसने कहा कि वह सर्वश्रेष्ठ है।

मैं पहले से जानता था कि दो आदमी एक दूसरे को चोदते हैं। मैं मानता हूँ कि पहले एक व्यक्ति की गांड में लंड जाता है, फिर दूसरा व्यक्ति पहले व्यक्ति की गांड चोदता है।

मैंने उसे बताया कि वह सबसे अच्छा है और केवल गांड मारता है।

फिर उसने अपने बारे में मुझे बताया। उसकी उम्र 58 वर्ष थी। उसका लंड 7 इंच का था।
5.9 फीट की हाइट थी। उसका वजन 65 किलोग्राम था। रंग गोरा था जब मैं चित्र देखा।

उस दिन मैंने उससे बहुत कुछ कहा।

फिर हर दिन बातचीत होने लगी।

ऐसे ही हमने फिर मिलने का कार्यक्रम बनाया। मैंने पहले ही उसे बताया था कि मैं इन सब चीजों के बारे में बहुत कम जानकारी रखता हूँ।

Hindi Gay Sex Stories

उसने कहा, “तुम आ जाओ, मैं बाकी सब खुद देख लूंगा।”

फिर एक दिन हमने मिलने की योजना बनाई और मैं उसके घर गया।
जब मैं वहां गया, तो वह मुझे आराम से अंदर बैठाया।

हम बहुत देर तक बोलते रहे। उसने बताया कि उसकी बीवी आठ साल पहले मर गई थी।

उसने चाय और पानी की मांग की। तब भी मैं शर्मीला हूँ और उसके सामने कुछ नहीं बोल पाया।

उसने फिर टीवी चालू किया।
उसने मुझे हर संभव अवसर दिया। धीरे-धीरे मैं भी सहन करने लगा।

फिर मैंने पूछा कि इतनी उम्र हो गयी है। अब रिटायर होने के बाद उनका जीवन कैसा होगा?

इस पर उसने कहा कि वह सिर्फ एडवाइजर हैं और बाकी सब लोग उनके नीचे काम करते हैं।

यह सब चल रहा था कि उसने मुझे पीछे से हग लिया।

तुम तो बहुत क्यूट हो, बोले, मेरे कंधे को सहलाते हुए। तुम्हारा शरीर भी अच्छा है।
थोड़ा दूर खिसक कर मैंने धन्यवाद कहा।
डर मत, भाई, उन्होंने कहा।

इसके बाद उसने मुझे फिर से अपनी ओर खींच लिया।

इसे भी पढ़ें   मेरी सच्चे प्यार की कहानी 1 | Chudai Ki Hot Sexy Kahani

मैंने भी सोचा कि देखते हैं ये बैठक कहां जाती है।
शांति से बैठकर मैं टीवी देखने लगा।

जब उन्होंने सोचा कि मैं खुलकर सहयोग नहीं दे रहा हूँ, उन्होंने कहा कि अगर इंजॉय करना चाहते हैं तो आपको सहयोग करना होगा।

मैंने कहा कि मैंने ऐसा कोई अनुभव नहीं किया है।
उसने कहा, “ठीक है, मैं कर रहा हूँ, तुम भी वैसे ही करते जाओ।”
मैंने कहा, “ओके”।

मुझे बेडरूम में घुसने के लिए कहा गया।

जब हम गए, उसने मुझे अपने पास बैठा लिया।
मेरे चेहरे से उनका चेहरा बहुत करीब आ गया।

मैं उनकी आंखों में देखा। मैं उनकी सांसें अपने होंठों पर महसूस कर रहा था।

फिर उन्होंने मेरे होंठों पर अपनी उंगली फिराई।
मैं खुश होने लगा।

धीरे-धीरे उन्होंने अपनी उंगली मेरे मुंह में डालने की कोशिश की। उन्होंने उंगली को मेरे मुंह में डाल दी जब मुझे आभास हुआ।

मैं उनकी उंगली चूसने लगा।
मैं खुश होने लगा।

वो मेरे मुंह में अपनी उंगली ऐसे चला रहे थे जैसे गांड में लंड डालकर चोदते हैं।
मैं तैयार हो गया था।

उसने फिर मेरे गाल पर किस करना शुरू कर दिया।
मैं भी उन्हें किस करने लगा और उनका साथ देने लगा।

धीरे-धीरे वो भी आगे बढ़ रहे थे, और मैं उनकी गर्मजोशी में मज़ा लेने लगा।
मैं अपनी आंखें बंद करने लगा।

मैं अब लिप किस करने की पूरी उत्सुकता ले रहा था।

अब मैं अपने शरीर को देखना चाहता हूँ, उन्होंने कहा।
मैंने पूछा: फिर भी दिखाओ?

फिर उसने अंडरवियर में खड़े होकर अपने कपड़े खोल डाले।
उनके कच्छे में उनका लंड अलग से देखा जा सकता था।

फिर मैं भी कपड़े उतारने लगा, लेकिन मुझे पैंट उतारने में शर्म आती थी।
शर्म नहीं करना, उसने कहा। निकाल दीजिए।

मैं अभी भी नहीं खोला।

Indian Gay Sex Stories

फिर मेरे पास आए।
तुम्हारी चेस्ट तो लड़कियों की तरह है, वह मेरी चेस्ट की निप्पल को छेड़ते हुए कहा। तुम्हारी चूची, हालांकि, उनकी तरह विकसित नहीं हुई।

उसने तुरंत मेरी पैंट नीचे गिरा दी।
अब मैं अंडरवियर में था।

अब उन्होंने अपनी अंडरवियर निकाल दी और मेरे सामने अपना लंड तनकर खड़ा था।

मैं हैरान था कि इतनी बड़ी उम्र का आदमी इतनी जल्दी किसी के सामने नंगा हो गया।

फिर उसने मेरे निप्पल को किस किया।

मेरा हाथ उनके लंड पर कब पहुँचा पता नहीं।

मैं उनके लंड को सहलाते हुए उनके निप्पल चूसने लगा।

हम दोनों के शरीर गर्म हो रहे थे। मैं भी खुश था। मैं भी रोने लगा।

फिर मुझे लंड चूसने के लिए कहने लगे, लेकिन मैंने नहीं किया।
उसने कहा, “चूस ले यार, एक बार करके देखो।” यदि आपको मजा नहीं आता तो फिर से नहीं करना।

फिर मैंने उनके लंड को मुंह में लेकर चूसने लगा। दोस्तो, मैंने मुंह में लंड पहली बार लिया था।

शुरू में मुझे लगता था कि वह कुछ मिनट तक बहुत ज्यादा अजीब था, लेकिन बाद में उसका टेस्ट अच्छा लगा।

फिर मैं नहीं जानता कि कब उन्होंने मेरी गान्ड को सहलाने लगे।

मैंने पूछा: आप क्या कर रहे हैं?
अब कुछ मत बोलो और जो हो रहा है उसे होने दो, उन्होंने कहा।

अब हम पूरी तरह से नंगे थे।

फिर वह नीचे लेट गया और मुझे कहा कि मेरे ऊपर आकर मेरा लंड चूस लो।
मैंने भी इसी तरह किया।

मैं उनके मुंह की ओर मुड़ गया।
मेरी गांड उन्हें चाटने लगी।

मैंने उनका लंड मुंह में लिया। वह पीछे से मेरी गांड पर जीभ चलाने लगे, जबकि मैं आगे से उनका लंड चूसने लगा।
दोस्तो, मैं क्या कहूँ?..। गांड चटवाने में मुझे बहुत मजा आया।

अब मैं अधिक उत्तेजित होकर उनका लंड चूसने लगा। ये स्वर्ग की तरह लग रहे थे। मैंने उनके मुंह पर अपनी गांड दबाना शुरू किया। ये सब दस मिनट तक चले।

इसे भी पढ़ें   स्कूल फ्रेंड के साथ पहली बार सेक्स किया

उसने फिर उठने को कहा।
उठकर मैं उनकी बगल में बैठ गया।

फिर कहा, अब ध्यान से सुनो। अब जो मैं करूंगा, वह आपको थोड़ा दर्द देगा। अब दर्द सहना होगा। एक बार बर्दाश्त करना ही मनोरंजन है।

मैंने पूछा, “अब तुम मेरी गांड में लंड डालोगे?”
नहीं, मैं उंगली डालूंगा, उसने कहा।
ये सुनकर मैं खुश हो गया। मैंने उंगली लगा दी तो आसानी से चली जाएगी।

फिर उन्होंने मुझे फिर से लंड पर झुका दिया, और मैं लॉलीपोप की तरह लंड को चूसने लगा।

उसने एक बार फिर मेरी गांड में जीभ डालकर गीली किया, फिर अचानक उंगली मेरी गांड में डाल दी।

मैं कुछ दर्द हुआ। मिर्ची की तरह लग गया। लेकिन तब तक उंगली अंदर थी।

Gay Sex Stories In Hindi

अब वो मेरी गांड में उंगली डालने लगे। फिर मैं खुश हो गया और फिर से लंड पर लिपट गया।

अब उनकी उंगली मेरी गांड में आराम से घुस रही थी। मुझे बहुत मजा आने लगा।
अब मैं अपनी गांड को आगे पीछे चला रहा था और उंगली का आनंद ले रहा था।

क्या आपको लगता है?
मैंने मुंह से लंड निकालकर कहा, “बहुत अच्छा।”
और अधिक मनोरंजन चाहिए? उसने पूछा।
हां, मैंने तुरंत कहा।

फिर उन्होंने कहा, “मगर अबकी बार कुछ और ज्यादा दर्द होगा।” बरदाश्त करेंगे?
मैं भी जोश में हां कर दिया।
तब तुम पेट के बल लेट जाओ, उसने कहा।

मुझे लिटाकर मेरी गांड के नीचे दो तकिये डाल दिए।
मैंने सोचा कि कुछ नया होने वाला था।

फिर वो नारियल का तेल लाकर उंगली से मेरी गांड के छेद में डालने लगे।
मेरी गांड में बहुत सारा तेल डाला गया।

जब वे उंगली पर तेल लगा रहे थे, मेरी चिकनी उंगली आराम से बाहर निकल रही थी और मुझे बहुत अच्छा लग रहा था।

बाद में उन्होंने अपने लंड पर बहुत तेल लगाया।
फिर उन्होंने कहा, “अब सीधे हो जाओ।”

जब मैं सीधा हुआ, उन्होंने मेरी टांगें अपने कंधों पर रखीं।
फिर मेरी गांड पर अपने लंड का टोपा लगाया।
वह छेद पर टोपे को रगड़ने लगे।

मैं बहुत खुश था। मैं ऐसे ही रगड़ते रहना चाहता था।

मैं उसके बाद होने वाले दर्द से अनजान था। फिर मुझे किस करना शुरू कर दिया। मुझे बहुत मजा आने लगा।

फिर अचानक, उन्होंने अपने होंठों को मेरे होंठों पर कस दिया।
मेरी चीख उनके मुंह में गिर पड़ी। मैं बेहोश होने लगा और मरने लगा।

लेकिन मैं उनके नीचे दबा हुआ था और कुछ नहीं कर सकता था।

उनकी पकड़ अत्यन्त मजबूत थी। जब तक मैं तड़पता रहा, वो मुझे किस करते रहे।
मुझे पांच मिनट तक उठने नहीं दिया।

फिर उन्होंने मुझे शांत कर दिया।

मेरी गांड से खून बह रहा था और मैं बहुत जल रहा था।

फिर एक और स्ट्रोक से पूरा लंड मेरी गांड में गया।
जब मैं फिर से चीखा, तो उनका हाथ मेरे मुंह पर आ गया और मेरे निप्पल चूसने लगा।

वो मुझे सहलाते रहे और मुझे कुछ अच्छा लगा। मैं उनके हाथ को हटाकर छोड़ने के लिए कहने लगा क्योंकि मेरा दर्द बहुत बढ़ गया था।

लेकिन वह नहीं मानते। वह मेरी बात नहीं सुनते हुए अपने निप्पल चूसते रहे।

फिर मैं शांत होने लगा।
जब मेरे आंसू थम गए, उसने कहा, “बस इतना ही दर्द होना था।” अब मनोरंजन ही मनोरंजन है।

मैंने पूछा, “बस इतना ही?” क्या यह सब था? मेरी जान निकल गई।
उसने कहा कि लड़की भी पहली बार ऐसा ही करती है। तुम अभी भी कुंवारी हो। गांड दर्द करती है।

फिर मुझे पीटने लगे।
थोड़ी देर के बाद मुझे लंड लेना अच्छा लगा। मैं उनके साथ चलने लगा और फिर कुछ देर बाद अपनी गांड उछालने लगा।

मुझे भी मज़ा आ गया। मैं भी गाण्ड उछाल रहा था और स्ट्रोक पर स्ट्रोक मार रहे थे।
बीच-बीच में वो मुझे किस करते, मेरे निप्पल्स चूसते और कभी-कभी काट भी लेते।

इसे भी पढ़ें   एक अनजान आदमी ने गांडू की गांड मारी। New Hindi Gay Sex Stories

मैं भी आह-आह करते हुए उनकी पीठ पर हाथ रख रहा था।

उन्हें दोनों ओर से मेरे हाथ ऊपर करते हुए उनकी स्पीड बढ़ी। लेकिन मुझे दर्द हो रहा था।

मेरी आवाज़ अब तेज हो गई: आह, आह, कृपा करो। और तेज करो।
मैं अब गांड चुदवाने का पूरा आनंद लेने लगा।

Antarvasna Hindi Gay Xxx Kahani

उन्हें भी जोश आ रहा था और मेरी कामुक सिसकारियों से उनकी स्पीड बढ़ गई।
मैं चाँदी बन गया था। मैं अब चुदता रहना चाहता था।

मुझे बताया गया कि मेरा निकालने वाला है, तुम इसे पी जाओ।
मैंने कहा कि ऐसा नहीं होगा।
“एक आखिरी बात मान लो,” उसने कहा। मुझे खुशी होगी।
फिर मैं भी हां कर दिया।

फिर उन्होंने मेरे मुंह में लंड डाला और मेरी गांड से बाहर निकाला।
अब उसमें गांड का स्वाद भी था, जिससे मुझे उल्टी आने लगी।

लेकिन तभी उन्होंने लंड मेरे मुंह में डाल दिया।
लंड से खट्टा-नमकीन तरल मेरे मुंह में जाने लगा।
उन्होंने लंड को मुंह में दबाए रखा जब तक मैं उसको अंदर नहीं पी लिया।

फिर उसने मुंह से लंड निकाला और एक तरफ लेट गया। फिर उन्होंने मुझे भी लेटा लिया और मेरी गांड को सहलाने लगे।
फिर पूछा: आपको क्या लगा?

मैंने कहा कि मुझे बहुत दुःख हुआ। लेकिन मज़ा भी आया। गांड अभी भी जल रही है।
कोई बात नहीं, उसने कहा। पहली बार था आपका। यह सब पहली बार होता है, और फिर मजे के लिए दर्द सहना होगा।

फिर मुझे बाथरूम ले गए। मैं साफ करने में उनकी मदद ली।
वहाँ भी वो मुझे किस करने लगे, और मैं उनकी बांहों में लिपट गया।

प्रिय, उस आदमी की किस का कोई उत्तर नहीं था। वह मुझे बहुत अच्छा लगा।

अब मेरी गांड का उद्घाटन हो चुका था।

फिर बाहर आकर गर्म पानी पीया। फिर वो मुझे फिर से किस करने लगे, और मैं भी।

जब हम अलग हुए, मैंने देखा कि हमें लगभग दो घंटे से अधिक का समय हो गया था।
उसने कहा कि आज तक उन्हें इतना मज़ा नहीं आया था।
उन्हें मेरी कुंवारी गांड चोदने में बहुत मज़ा आया।

फिर कहा, “जब मन करे, मिलने आ जाओ।”
मैं वहां से निकल गया और उनको धन्यवाद कहा।

यही कारण है कि एक गेम साइट से मिले अंकल ने मेरी गांड खोली।

ये मेरी पहली गेलिंग कहानी है। मैं आशा करता हूँ कि आपको अच्छा लगा। अगर कोई कमी रह गई हो तो क्षमा करें।

मैं अब पूरी तरह से पक्का गांडू बन चुका हूँ। अब मुझे लंड लेना आदत सी हो गया है।
यदि आप मेरी Gay Hindi Sex Stories के बारे में कुछ कहना चाहते हैं तो कृपया मुझे बताएं।

maniraj89767@gmail.com

Read More Hindi Sex Stories…

मामा की बेटी की चुदाई कर खुश किया | Hot Sex Bhai Bahan Ki Kahani

चाचा की बेटी की चुदाई करी | Desi Hot Xxx Cousin Sister Sex Kahani

Related Posts

Report this post

मैं रिया आपके कमेंट का इंतजार कर रही हूँ, कमेंट में स्टोरी कैसी लगी जरूर बताये।

Leave a Comment