चाचा और उनके दोस्तों ने मुझे मिलकर चोदा। Xxx Chacha Bhatiji Sex Kahani

मेरे चाचा और उनके चार दोस्तों ने मुझे मिलकर चोदा और मुझे बहुत मजा दिया Xxx Chacha Bhatiji Sex Kahani

मैं शिखा हूँ। राजस्थान में रहने वाली हूँ।

मेरे परिवार में मेरे मम्मी, पापा, बड़ा भाई और चाचा शामिल हैं।

आपने मेरी पिछली कहानी मेरे पड़ोस की सेक्सी चाची। Chachi Ki Chudai Ki Kahani

यदि आप भी अपनी कहानी इस वेबसाइट पर पब्लिक करवाना चाहते हैं तो नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके अपने कहानी हम तक भेज सकते हैं, हम आपकी कहानी आपके जानकारी को गोपनीय रखते हुए अपनी वेबसाइट पर प्रकाशित करेंगे

कहानी भेजने के लिए यहां क्लिक करें ✅ कहानी भेजें

पढ़ी थी।

इस Xxx Chacha Bhatiji Sex Kahani में मेरे चाचा और मैं दोनों हैं।

शुरू से ही मेरे चाचा और मैं बहुत फ्रेंड्ली थे। मेरे चाचा से मैं शुरू से ही चुदाई करवाना चाहती थी। और हम दोनों सेक्स की बातें करते थे।

मैं भी चाचा के जुगाड़ों को जानती थीं।

Chacha Bhatiji Sex Kahani

मैं और मेरा पूरा परिवार एक बार शादी में गया था।

मैं शादी के लिए तैयार होने वाले दिन मुझे सबने कहा कि जल्दी चलो वरना देर हो जाएगी।

मेरे चाचा अंदर आ गए जब मैं अपने लहंगे चुनरी को पहन ही रहा था और पल्लू के रूप में चुनरी नहीं पहन रही थी।

उन्हें देखकर मैंने कहा, “चाचा, बस दस मिनट और दे दो।”

नशे में, उन्होंने कहा कि सब चले गए..। हम दोनों रह गए हैं। अब हम दोनों दूसरी कार में जाएँगे, तो आराम करो।

इसके बाद चाचा ने मेरे पल्लू को बूब्स तक लेकर पिन लगाया।

चाचा ने मेरे दूध को भी दबाया।

मैं चाचा को देखने लगी।

मैंने कहा, “आज बहुत उत्साहित हो, चाचा, क्या बात है?” क्या आपकी भतीजी आपके दिल में है?

उन्हें हंसी आ गई।

मैंने मजाक में कहा, “दारू भी है।” मेरे ऊपर कहीं न चढ़ो!

चाचा ने कहा कि शिखा को लंड से कोई मतलब नहीं है। उनका रिश्ता सिर्फ चुदाई का है।

मैं जानती थीं कि चाचा आज किसी न किसी को जरूर चोद देंगे।

नीचे हमें ले जाने वाली गाड़ी इंतजार कर रही थीं..। किसी ने चिल्लाया जल्दी आओ।”

इसके बाद चाचा नीचे चले गए।

मैं भी तुरंत नीचे गयी जब मैंने देखा कि चाचा के चार दोस्त भी थे।

वह गाड़ी चलाते हुए आगे की सीट पर बैठे थे।

हम दोनों कार में बैठे।

उन लोगों ने कुछ देर बाद काम करना शुरू कर दिया।

रोहित अंकल ने कहा, “बेटा, तुम्हारी माल निकली!”

सुरेश अंकल ने कहा कि नहीं बे, इसकी वाली तो साली छिनाल है। मैं भी आज सुबह उससे मिल गया।

तो रोहित अंकल ने कहा, “अरे… रंडी सारी रात मेरे साथ थी।”

“शिखा, क्या तुमने कभी किसी से चुदवाया है?” चाचा के दोस्त ने तुरंत पूछा।

मेरे चाचा ने मेरा कंधा पकड़ लिया।

मैंने इसलिए कुछ नहीं कहा।

फिर चाचा ने मेरी जांघों पर एक हाथ रखा और अपना हाथ मेरे चूचियों तक सरका दिया।

फिर बाजू में बैठे रोहित अंकल ने कहा कि शिखा को शर्माना नहीं चाहिए। यहाँ हर कोई अपना है। अब तुम भी कॉलेज में आ गई हो, ये सब दोस्तों में होता रहता है।

इसे भी पढ़ें   प्रियंका दी की चुदाई - Pura Nanga Pariwar

तब तक, चाचा ने मेरी चूत पर हाथ रखकर पूछा, “अभी यह चूत है या भोसड़ा बन गया है?”

मैं बहुत शर्म कर रही थीं।

सब लोग हंसने लगे।

सुरेश अंकल ने कहा, “अबे पूछता क्या है भोसड़ी का?”

तब अंकल ने सड़क पर गाड़ी रोक दी और सामने की ठेके से दो बोतल दारू खरीद ली।

अब वे सब एक साथ दारू पीने लगे।

मुझे भी चाचा ने एक गिलास दिया।

मैंने भी हलक के नीचे एक ही सांस में उतार दिया।

फिर मैंने अंकल को बताना चाहा कि मैं कितनी परेशान हूँ।

तब उन्होंने कहा, “आज हमारा प्लान है तुम्हें चोदने का।” मूड बनाओ और खुशी से चुदवा लो। अभी तक बहुत दिन बीत गए, साली।

बस इतना कहकर चाचा ने मेरा गाल कसकर खींच लिया।

Hindi Group Sex Kahani

उसने मेरा फोन भी रख लिया।

मैं आपको बता दूँ कि मेरा प्रेमी मेरे ही बैच का है…। और हम दोनों ने कई बार संभोग किया था। मैंने चाचा को भी इसके बारे में बताया था।

फिर चाचा ने कहा, “एक बार सड़क पर चलो।”

रोहित अंकल भी आ गए। मैं समझ गया कि अब मेरे साथ बहुत कुछ होने वाला था।

चाचा मेरे दुपट्टे को फिर से खोलने लगा।

मैंने डीप नेक ब्लाउज पहना था।

मेरी पीठ पर किस करते हुए उन्होंने मेरा ब्लाउस भी खोल दिया।

“साली रांड, इतने दिन से मैं तेरी चड्डियां सूंघकर मुठ मार रहा था, अब मैं तेरी चड्डियां सूंघूँगा,” चाचा ने कहा। रंडी छिनाल बहुत नखरे है..। इसकी मां के भी बहुत नखरे थीं। वह बहन की लौड़ी सही से देने लगी थी जब से वह लौड़े के नीचे से निकल गई थी।

यह जानकर मुझे हैरत हुई और मैंने उनसे पूछा कि क्या आप मम्मी के साथ भी ऐसा करते हैं?

तो उन्होंने कहा कि तुम्हारी मां को सुहागरात के दिन ही चोद दिया था। उस समय, साली बहुत सीलपैक थी। उसे देखकर बुड्डों का भी लंड सलामी ठोकने लगा। लेकिन हम सब तुम्हें चोद देंगे, और आज वह भी इसी गाड़ी में होगा!

मैं बिल्कुल गर्म हो गई..। एक तो दारू असर करने लगी थी, दूसरा मेरा मन चाचा से चुदने का था।

चाचा अब मेरी टांगें अपनी ओर करके मेरे लहंगे में घुस गए और पैंटी के ऊपर से मेरी चूत में उंगली फेरने लगे।

इधर रोहित अंकल मेरी ब्रा के अंदर हाथ डालकर मेरी चूचियों से खेल रहे थे।

सुरेश अंकल ने आगे कम और पीछे अधिक ध्यान दिया।

उसने कहा, “रंडी को नंगी कर दो बे..।” साली बहुत सुंदर है। इसके 34 इंच के चूचों को तो देखो।

तब चाचा ने नीचे से मेरी चूत में उंगली डालने लगे।

इसे भी पढ़ें   मम्मी और मौसी 

मैं पूरी तरह से गीली हो गई।

अपने आप ही उनके बालों में मेरा हाथ चला गया।

यह देखते ही चाचा उठकर बोला, “देखो आज अच्छे से कर लेना।”

मैंने भोसड़ी के चाटने के लिए उनका सिर अपनी चूत में धंसा दिया। तुम सिर्फ चुत को चोदना जानते हो क्या?

तीनों ने मेरी बात सुनकर खुशी से हॅसने लगे।

चाचा फिर से मेरी चूत में अपनी जीभ डालने और चाटने लगा।

मैंने रोहित अंकल के लंड पर हाथ लगाया।

तब तक, उन्होंने मेरे होंठों को दबाकर अपना 7 इंच का खड़ा लौड़ा मेरे हाथ में रखा।

मैं बहुत तेजी से उनका लंड हिलाने लगी।

मैं अब “आहह उहह उफ्फ़ मांआ” की गंदी आवाज निकालने लगी।

रोहित अंकल ने तभी मेरी ब्रा निकाली। अब मैं दोनों के बीच एक घाघरे में नंगी पड़ी हुई थी।

सुरेश चाचा के मुँह से कुछ निकल रहा था। उन्होंने कहा…

“अब मैं गाड़ी नहीं चलाऊँगा,” उन्होंने, गाड़ी रोक दी। और कहा मुझे भी चोदने दो।

चाचा ने कहा कि अगर दो घंटे में नहीं पहुंचे तो बदनाम होंगे।

Hot Xxx Chacha Group Sex Story

मैं गाड़ी चलाता हूँ, जब तक सुरेश ही तुम्हें चोदेगा।

बीच में चाचा ने सीट बदल ली और गाड़ी चलाने लगे।

सुरेश अंकल ने आते ही मेरी चूत पर अपना छह इंच का लौड़ा सैट किया और धक्का देकर उसे मेरी चूत में डाल दिया।

मैंने उनके लौड़े से चुदाई करने का आनंद लेने शुरू किया, हालांकि कुछ ज्यादा दर्द नहीं हुआ।

उधर, मेरी दोनों चूचियाँ मसली जा रही थीं।

6 इंच लंबा और 3 इंच मोटा लौड़ा मेरी चूत में अपना कमाल दिखा रहा था।

मैं एक रंडी से कम नहीं लग रही थी। सुरेश चाचा ने मुझे गाली देकर चोद दिया।

मुझे चोदते हुए वे कहा, “कुतिया रंडी साली छिनाल… भैन की लौड़ी एक नंबर है।” मैं इसकी चूत को चोदकर भोसड़ा बना दूँगा।

गालियां सुनकर मैं और भी खुश हो गई..। और अधिक चुदासी होने लगी।

कुछ ही देर में उन्हें झटका लगा।

रोहित अंकल की बारी आ गई।

मैं और अधिक चुदासी हो गई थीं।

मैंने रोहित अंकल का लंड तुरंत अपने मुँह में भर लिया।

मेरी इस कार्रवाई से वे चौंक गए और खुशी से अपने लौड़े को चुसाईं।

मैं चाचा का लंड अंदर तक चूसने लगी।

सुरेश अंकल मेरी गांड पर चमाट मारने लगे। साथ ही उन्होंने मेरी चूत में उंगली डालकर अपना वीर्य बाहर निकालने लगे।

फिर मुझे घोड़ी बनाते देखकर चाचा ने कहा कि घोड़े का लंड भी घोड़ी के भोसड़े में होना चाहिए था।

सुरेश अंकल ने कहा, “इस बहन की लौड़ी की चूत भोसड़ी की जगह है।” लेकिन चोदने में एकदम नरम और सुंदर टाइट चूत है। इसका बहुत कम इस्तेमाल होता है।

तो रोहित अंकल ने मेरे दोनों दूधों को पकड़कर मुझे घूमने का संकेत दिया।

इसे भी पढ़ें   अपनी भांजी को चोदकर उसकी सील तोड़ी। Hot Bhanji Free Hindi Sex Stories

मैंने भी इसी तरह किया।

मुझे सीट पर ही घोड़ी बनाकर लंड घुसाने लगे।

Chacha Bhatiji Sex Story In Hindi

सुरेश अंकल अपना लंड मेरे मुँह में फिर से घुसेड़ने लगे।

सात इंच मोटा लंड पीछे से जोरदार धक्के से मेरी चूत में घुस गया जैसे ही मैंने उनका लंड मुँह में लिया।

यहाँ एक झटका हुआ और सुरेश अंकल का लंड मेरे गले तक घुसने लगा।

उन्हें भी मज़ा आने लगा। मेरे सर को उसने और अधिक कसकर पकड़ लिया और डीप थ्रोट करने लगा।

मेरी चुदाई सातवें आसमान पर थी।

मैं चाचा भतीजी सेक्स से तुरंत झड़ गई।

मेरी आँखें नम हो गईं।

चाचा ने कहा, “बस करो..।” बेचारी यह मर जाएगी। रांड, रंडी अभी पूरी तरह से नहीं बन गई है; अब हम इसे धीरे-धीरे बना देंगे।

रोहित अंकल मेरी कमर पकड़कर कसके धक्के देने लगे, जबकि सुरेश अंकल ने फिर से अपना रस छोड़ दिया।

मैं सीत्कार करने लगी और आह करने लगी जब उनका लंड बाहर निकल गया। मेरी चूत फाड़ दी, बेवकूफ बहन! आह, भोसड़ी, अब रुक जाओ..। मेरी चूत मार भोसड़ी के कारण..। मैं आज से तुम्हारी रंडी हूँ।

इसके बाद मैं खुशी से चुदने लगी।

रोहित अंकल भी मुझे गाली देने लगे: “हां, बेवकूफ साली रांड..।” अब भी कहना तुम अपनी चुत खोलकर हमारे सामने नंगी हो जाएगी..। बोलेगी ना?

मैंने भी कहा: “हां, अंकल..।” आज से यह चूत आपकी है।

तब वह अपना लिंग निकालकर बोला: माल, बताओ कहां लेगी?

मेरे बूब्स पर!

मुझे घुमाकर मेरी चूचियों पर सब डाल दिया।

मैं अभी भी टूट गई था।

मैंने कहा कि मुझे अधिक चुदना हैं।

चाचा ने कहा कि वे अब वेन्यू पर आ गए हैं। आप कपड़े पहनकर तैयार हो जाएंगे।

“मैं पहना देता हूँ,” रोहित अंकल ने कहा।

ये कहानी पढ़े – बीवी की बड़ी बहन को चोदा। XXXX Sali Ki Hindi Chudai Kahani

मेरे एक दूध को चूसने लगे और मेरे मम्मों से अपना माल धोने लगे।

फिर उसने मुझे ब्रा पहनाना शुरू किया।

अब मैं अगली सेक्स कहानी लिखूँगी।

अब फ्री सेक्स कहानी.इन पर जारी रहें और मुझे बताएं कि आपको मेरी Xxx Chacha Bhatiji Sex Kahani कैसी लगी?

Related Posts

Report this post

मैं रिया आपके कमेंट का इंतजार कर रही हूँ, कमेंट में स्टोरी कैसी लगी जरूर बताये।

Leave a Comment