पापा के जाने के बाद माँ को बनाया पत्नी। Step Mom Son Xxx Kahani

Step Mom Son Xxx Kahani में मैंने अपने पापा की बीवी चोदी। वे मेरे पिता से दो साल छोटी हैं। पापा की बीमारी ने उन्हें यौन सुख नहीं दिया।

मैं सूरज हूँ। मैं 23 वर्ष का हूँ।

यह मेरी सौतेली माँ और मैं की Step Mom Son Xxx Kahani है।
मेरी माँ का नाम मालती है और वह 38 वर्ष की हैं।
वे मेरी सौतेली मां हैं और वे बहुत सुंदर गोरी चिट्टी माल लगती हैं।

आपने मेरी पिछली कहानी

यदि आप भी अपनी कहानी इस वेबसाइट पर पब्लिक करवाना चाहते हैं तो नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके अपने कहानी हम तक भेज सकते हैं, हम आपकी कहानी आपके जानकारी को गोपनीय रखते हुए अपनी वेबसाइट पर प्रकाशित करेंगे

कहानी भेजने के लिए यहां क्लिक करें ✅ कहानी भेजें

मौका मिलते ही चचेरी बहन को चोद दिया। First Sex With Cousin Sister

मेरी सगी मां के मरने के बाद मेरे पिता ने दूसरी शादी कर ली थी. उन्होंने अपनी उम्र से बीस साल छोटी एक महिला से शादी की।

Hot Mom Sexy Kahani

मैं कम उम्र से ही लौंडियाबाज हो गया था और औरतों के चक्कर में पड़ गया था।
मैंने कई लड़कियों को चोदा है।
रंडी खाने भी मैं बहुत बार गया हूँ।

मैं चुपचाप हर महिला को मेरे घर में आते देखता था।
खास तौर पर जब वह हमारे घर में स्नान करने गई थी।
मैं चुपके से उसे देखता था।

मैंने बाथरूम के अंदर की सारी गतिविधियों को देखने के लिए एक छेद बनाया था।

मैंने कई बार देखा है कि महिलाएं अपनी चूत में उंगली डालकर हस्तमैथुन करती हैं।
उस समय अधिकांश महिलाएं दीवार से टिक कर खड़ी हो जाती थीं और अपनी चूत के ऊपर से कपड़े हटा कर उंगली करने लगती थीं।

अपनी इसी आदत के कारण मैंने अपनी दीदी को नंगी नहाते समय टॉयलेट जाते समय उनकी चूत गांड को देखा और मुठ मार लिया।
मुझसे बड़ी मेरी दीदी हैं। वे शादी कर चुके हैं।

मेरी मॉम डैड और मैं अब घर में रहते हैं।

मेरे पिता एक रिटायर्ड पर्सन हैं और अभी भी बीमार हैं।
इसलिए उन्हें अक्सर बड़े शहर में एक डॉक्टर से मिलना पड़ता है।

एक बार मैंने सोचा कि एक लंड की तरह दिखने वाली चीज बाथरूम में रखकर मुठ मारने वाली महिलाओं की कारगुजारी देखूँ।

मैं खुद अपनी सौतेली मॉम को खेलते हुए देखा, दूसरी महिलाओं को छोड़कर।

यह हुआ कि मैं एक चिकनी और मोटी भारतीय लंड की गोल शीशी लेकर आया।

जिस दिन मैंने शैंपू लाकर रखा, मॉम ने उसे अपनी चूत में डालकर खुद को ठंडा कर लिया और झड़ गईं।

जब मैंने उन्हें चहकते देखा, मुझे पहले कुछ समझ में नहीं आया।
फिर मॉम ने खुद पूछा कि क्या आप ये शैंपू की बोतल लाए थे?
मुझे तुरंत मालूम हुआ कि मॉम ने उसे एक लंड समझा और उसे अपनी इच्छा पूरी करने के लिए धक्के मार दिए।

यह बात मुझ जैसे हरामी लड़के से छिपी नहीं थी कि मेरे पिता अब मॉम की चुदाई नहीं करेंगे, इसलिए मॉम को लौड़े की तलाश है।

एक दिन सुबह मैं बाथरूम जा रहा था और दरवाजा खुला था।
भित्र मेरी माँ पूरी तरह से नंगी होकर नहा रही थीं।
मैं सिर्फ मॉम को देखता रह गया।

इसे भी पढ़ें   पूजा दीदी की सील

मॉम ने नहाने के बाद सिर्फ एक गमछा लपेटकर निकला।
मॉम का नग्न शरीर साफ दिखाई दे रहा था क्योंकि वह एक हल्का सा गमछा पहन रहा था।

जब उन्होंने मुझे देखा तो उन्होंने मुझे उसी हालत में पूछा: क्या हुआ? क्या तुम्हें बाथरूम जाना था? उन्होंने कहा कि मैं जल्दी से निकल जाती हूँ।
इतना कहकर वे कमरे में घुस गईं।

मैं जल्दी से शौचालय चला गया और फिर कमरे में आ गया।

मेरी माँ अभी भी गमछे में अपने सर के बाल सुखा रही थीं।
मॉम के दूध उस गमछे से पूरी तरह खुल गए थे, और गमछा सिर्फ उनकी कमर पर बंधा हुआ था।
वह भी बहुत फटा हुआ था, जिससे मॉम की चूत और गांड साफ दिखाई देती थीं।

मैं माँ की खुले शरीर को देख रहा था।

माँ ने पूछा: क्या हुआ?
मैंने कहा, माँ आज आप बेहद सुंदर लग रही हैं।
Mom ने धन्यवाद व्यक्त किया।

मैंने कहा, “मॉम, सफेद बूब्स बहुत सुंदर हैं।”
उसकी बगल और चूत पर बाल नहीं थे; शायद मॉम उसे पूरी तरह से साफ कर चुकी होगी।

मॉम ने मेरी बात सुनकर कहा, “तुम अपनी माँ का दूध पीकर बड़ा हुआ है, तो मुझे दूध पीना चाहिए क्या?”
मैंने हां कहा जब मैम ने पूछा।

ठीक है, चल आ जा और दूध पी ले, मॉम ने कहा।

मैं तुरंत आगे बढ़ा और मॉम का एक दूध उसके मुँह में ले लिया।
और मैं अपने दूसरे हाथ से मॉम का दूध चूसने लगा।

फिर मैं अपनी मॉम को जीभ से कुरेदने लगा और एक निप्पल उसके मुँह में भरकर चाटने लगा।

जैसे ही यह हुआ, मेरी मॉम एकदम से गनगना उठी और उनके मुँह से कामुक सीत्कार निकलने लगे।

मैंने मॉम को बताया कि अब वह बिस्तर पर लेट जाए। मैं बिस्तर पर लेटकर आपका दूध पीऊंगा।
“ठीक है बेटा, मैंने तुम्हें अपना दूध नहीं पिलाया, लेकिन आज मैं तुम्हें सगी मां की तरह अपना दूध पिलाऊंगी।”

यह कहकर, मॉम बिस्तर पर लेट गईं और अभी भी अपनी कमर से बंधा हुआ गमछा नहीं उतारा था।

Antarvasna Mom Desi Chudai Kahani

जब मॉम लेट गईं, उनकी चूत से गमछा जरा हट गया, जिससे चूत का छेद स्पष्ट होने लगा।
मैंने मॉम के बिस्तर पर लेटते ही उनके दूध को मुँह में लेकर चूसने लगा।

मैं उनकी दोनों चूचियों को एक साथ पीने की कोशिश करता, कभी जीभ से उनकी चूची के निप्पल को सहलाता।
मैं भी बाथरूम से बाहर आकर बस कच्छे में था।

मैं सिर्फ मॉम के ऊपर चढ़कर उनका दूध पी रहा था।
मेरा लंड उसी समय खड़ा हो गया था।

मैं मॉम की चूत पर अपने लौड़े को रगड़ने लगा।
पहले, मॉम ने कुछ नहीं कहा. शायद वे भी अपनी चूत को रगड़ने में मज़ा ले रही थी या वे इसे अनदेखा कर रही थी।

इसे भी पढ़ें   मेरी गांड मरवाने की इक्षा। New Gay Bottom Sex Stories

मैं बहुत देर तक उनकी चूचियों से खेलता रहा। उस खेल में मेरा लंड कब उनकी चूत में घुस गया पता नहीं चला।
वह जानती थी कि मेरा लौड़ा मेरी सौतेली माँ की भोसड़ी में गोता लगाने लगा जब उसे चूत की गर्मी महसूस हुई।

ठीक उसी समय, मॉम के मुँह से आह की आवाज आई, जिससे मुझे उनकी चूत में अपना लंड रगड़ने में मजा आने लगा।

लौड़ा लेकर मॉम ने कहा, “अब बस करो, कितना दूध पिएगा?”
यह कहते ही मैं लंड निकालकर मॉम से उठ गया।

मैंने महसूस किया कि मॉम की चूत से मेरा लंड बाहर निकल रहा है जब मैंने उसे बाहर निकाला।
मॉम की चूत के पानी से मेरा लौड़ा भीग गया।

उठते ही मैंने मॉम को माफ कर दिया।
तो मॉम ने कहा कि अब तुम जवान हो गए हो, तुम्हें भी एक औरत की जरूरत है. लेकिन बेटा, तुम्हारे पिता अभी जीवित हैं और मैं उनके रहते दूसरे औरत से शादी नहीं करने दूंगी।

इस घटना के बाद मैं और मेरी सौतेली माँ दोनों की दृष्टि बदल गई।

मैं अब अपनी माँ को माँ की दृष्टि से नहीं, बल्कि एक प्यासी औरत की दृष्टि से देखने लगा था।
शायद मॉम भी मुझे एक युवा आदमी की दृष्टि से देखने लगीं।

मॉम और बेटे का रिश्ता हम दोनों के बीच नहीं था।

मैं मॉम के सामने नंगा होकर कपड़े बदलता जब पापा घर नहीं होते।

नहाते समय नंगा होकर मॉम को साबुन लगाने के लिए बुला लेता था।

मॉम भी टॉयलेट और नहाते समय दरवाजा बंद नहीं करती थीं।

मॉम मेरे सामने पूरी तरह से नंगी होकर कपड़े बदलतीं अगर पापा घर पर नहीं होते।

जब भी पापा घर से बाहर रहते, मैं मॉम के कमरे में आकर सो जाता और उनके साथ लेटकर उनकी नाइटी उठाकर उनकी चूत चाटने लगता।

वे भी सोते हुए अपनी चूत चटवाती रहतीं, लेकिन लंड नहीं डालने देतीं।

फिर एक दिन मेरे पिता को दिल का दौरा पड़ गया।
मैंने अपने पिता को अस्पताल में भर्ती कराया।

कुछ दिनों बाद वे चले गए।
मॉम से मिलने से मुझे बहुत दुःख हुआ और मैं बहुत दुखी था।

अब मैं और मॉम के बीच कोई बाधा नहीं थी।
मॉम शारीरिक रूप से मेरी बीवी थीं।

पापा के मरने के बाद सभी मित्र घर छोड़ गए।

उस दिन घर पर मैं और मॉम अकेले थे।
मैं आज की रात ही मॉम को अपना बनाऊँगा।

मैं बिस्तर पर आ गया जब हम दोनों ने खाना खाया।
थोड़ी देर बाद मॉम भी आईं।

जब मॉम पिता की बात करने लगी, तो उनकी आंखों में आंसू आ गए।
फिर मैंने उनके आँख से आंसू पौंछे।

Step Mom And Son Sex Kahani

मैंने मॉम का चेहरा पकड़कर उनको किस करना चाहा।
मॉम ने इनकार कर दिया।

मॉम ने कहा कि तुम्हारे पिता अभी चल बसे हैं। क्या तुम्हें अपनी माँ की चूत अभी भी चाहिए?
यह कहते हुए उन्होंने मुझे एक झापड़ मार दी।

इसे भी पढ़ें   जिया के अकेलेपन का फायदा उठा लिया

मैं भी क्रोधित हो गया और कहा-अब क्या समस्या है? Dad चले गए। आज मुझे सिर्फ आपकी चूत में अपना वीर्य डालना है।

यह कहकर मैंने उनको नंगी कर दिया।
मैं भी अपने कपड़े उतारकर उनकी चूत चाटने लगा।

मैं अपनी चूत से मेरा मुँह हटाना चाहती थी, लेकिन वे नहीं कर सके।
मैं लगातार उनकी चूत चाटता रहा।

कुछ देर बाद वे भी सहयोग करने लगी।

अब मैं मॉम की चूत चाटते चाटते उन्हें भी पीने लगा।
फिर मैं 69 में आया और उनकी चूत को चाटने लगा।

वे पूरी तरह से गर्म हो गईं और अपनी चूत से पानी बाहर निकाल दीं।
मैं उनकी चूत के रस को पी गया।

अब मैंने मॉम की चूत में अपना लंड डाल दिया और उनके साथ सेक्स करने लगा।. Step Mam Son Xxx शुरू हुआ।
मैंने मॉम को चोदते हुए कहा, “रंडी, मैंने तुझे आज अपना बना लिया।”

मॉम ने कहा, “मैं जानती हूँ कि तुमने पापा के जाने का कितनी बेसब्री से इंतजार किया है ताकि तुम अपनी माँ का शरीर पा सको।”
मैंने कहा, “हां, मेरी रांड साली, तुम्हें भी मेरा लंड जल्दी लेना था।”अपनी इच्छा भी बताओ।

“मैं तो उसी दिन से तेरी होना चाहती थी, जिस दिन तूने मेरा दूध चूसा था,” मोम ने कहा।
मैंने पूछा: “मॉम, क्या आज से तुम मेरी रखैल बन जाओगे या बीवी?

“अब मैं तुम्हारी हूँ, चाहे जो चाहो… मुझे बनाकर रख,” मोम ने कहा।
मैंने कहा कि मैं चाहता हूँ कि तुम मेरी बीवी बन जाओ। हम इन छोटे शहरों को छोड़कर किसी बड़े शहर में रहेंगे।
ठीक है, मोम ने कहा।

मैंने कहा: “चल, मैं अभी तुम्हारी मांग भरूँगा।”
फिर मैंने मॉम की मांग में सिंदूर लगाया और मेरी वे फिर से सुहागन हो गईं।
मॉम ने मुझे आशीर्वाद दिया और मेरे पैर छुए।

दुनिया के सामने हम दोनों मां-बेटे हैं, लेकिन हम दोनों के लिए वे मेरी पत्नी और मैं मॉम का दूसरा पति हूँ।

हम हर दिन चुदाई करते रहते हैं।
मैं इस घर को जल्दी बेच देना चाहता हूँ ताकि मैं मॉम को अपनी बीवी बना सकूँ।

कृपया मेरी इस Step Mom Son Xxx Kahani पर अपने विचार दें।

Related Posts

Report this post

मैं रिया आपके कमेंट का इंतजार कर रही हूँ, कमेंट में स्टोरी कैसी लगी जरूर बताये।

Leave a Comment