मामा की बेटी को पहली बार चोदा

नमस्कार दोस्तो, मेरा नाम रोहित है और मैं झारखंड का रहने वाला हूँ।

आज मैं आपको आपने पहले सेक्स की वर्जिन इंडियन कजिन सेक्स कहानी सुनने जा रहा हूँ।
कुछ साल पहले मैं 12वीं पास करके इंजीनियरिंग की प्रवेश परीक्षा के परिणाम का इंतज़ार कर रहा था।

तभी हमें पता चला कि मेरे माँ के पेट में कुछ कारण से ओपरेशन करना पड़ेगा।
मेरे पिताजी सरकारी फैक्टरी के कर्मचारी हैं.
उन्हें सुबह, दोपहर या रात की शिफ्ट में काम करना पड़ता है।

इसलिए मेरी माँ ने मेरे मामा की बेटी को गांव से घर संभालने के लिए बुलवाया।

यदि आप भी अपनी कहानी इस वेबसाइट पर पब्लिक करवाना चाहते हैं तो नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके अपने कहानी हम तक भेज सकते हैं, हम आपकी कहानी आपके जानकारी को गोपनीय रखते हुए अपनी वेबसाइट पर प्रकाशित करेंगे

कहानी भेजने के लिए यहां क्लिक करें ✅ कहानी भेजें

मेरी ममेरी बहन का नाम स्नेहा है.
हम बचपन से हर गर्मी की छुट्टी में मामा के घर में खेलते थे।

हम आठ दस बच्चे कॉलोनी में आम, अमरूद, बेर चोरी करके पार्क में खाते और लूडो, कैरम, वीडियो गेम खेलते।

स्नेहा हाईट में काफी छोटी थी लगभग 5 फुट 2 इंच की.
उसका गेहुएं रंग का बदन भी पतला था इसलिए वह 18 की होने के बाद भी छोटी लगती थी।

मेरे माँ के ओपरेशन के दौरान मेरे पिताजी की दोपहर की शिफ्ट थी तो मैं दोपहर से रात तक माँ के पास अस्पताल में रहता था और रात को घर आ जाता।

एक रात मैं हॉल में सो रहा था.
तभी मुझे स्नेहा ने उठाया और बोली कि उसे डर लग रहा है क्योंकि बेडरूम की खिड़की के पास कुछ आवाज़ आ रही है।

मैं नींद से उठा और घर और आंगन की लाईट चालू कर अपना बैट हाथ में ले कर आंगन में गया जहाँ बेडरूम की खिड़की खुलती थी।
स्नेहा भी मेरे पीछे मेरी शर्ट पकड़ कर आई.

वहां एक बिल्ला बिल्ली को चोद रहा था।

मैंने स्नेहा को देखा तो वह शर्माती हुई हँसी और घर के अंदर चली गई.
मैंने भी उसे स्माईल दी और बैट से बिल्ली को भगा दिया।

मैं जब घर के अंदर आया तो स्नेहा ने अपने रूम की लाइट बंद कर चादर ओढ़ कर लेट गई थी.

मैंने उसे गुड नाईट कहा और सारी लाइट बंद कर सोने चला गया।

अभी मेरी आँख लगी भी नहीं थी कि स्नेहा फिर से मेरे पास आई और बोली- मुझे डर लग रहा है, क्या मैं यहाँ सो जाऊँ?
मैंने पहले तो उसे मना किया फिर बोला- इस बिस्तर में जगह कम है, हम अंदर डबल बेड में सो जाते हैं।
स्नेहा- ठीक है।

हम दोनों बैड के अलग अलग कोने में सो गए।

मैं आंखें बंद कर सोच रहा था कि आज स्नेहा का क्या हो गया है.
क्योंकि हम दोनों के बीच आज तक कभी कोई फीलिंग्स नहीं थी.
कहीं स्नेहा के मन में मेरे लिए तो कुछ तो नहीं है?
शायद नहीं … वह बस डरी हुई होगी.
इसलिए उसने मेरे साथ सोने को कहा।

तभी मुझे लगा कि स्नेहा मेरे पास बगल में आ गई है, उसकी पीठ मेरी पीठ से चिपक गई है।

मैं भी पलट गया.
अब स्नेहा ने मेरे हाथ को तकिया बना लिया और मुझसे चिपक गई।
उसकी गांड मेरे पेट के पास लग रही थी।

मैंने भी उसे अपनी बांहों में ले लिया तो उसने इन्कार नहीं किया।

मैं अपनी चादर हटा कर अब उसकी चादर में आ गया.
उसने छोटे स्लिवस् की कमीज और पजामा पहन रखा था।

मैंने उसके हाथों को सहलाया तो उसके रोंगटे खड़े हो गए.
फिर मैं उसकी कमर पे हाथ ले गया और फिर गांड को सहलाया।

इसे भी पढ़ें   लाडो रानी का उदघाटन समारोह

वह शर्मा के मेरे तरफ मुड़कर मुझसे लिपट गई.

मैंने उसके गालों पर हाथ रखा और होंठों को अंगूठे से सहलाया.
स्नेहा ने मेरी तरफ देखी तो मैंने उसके होंठों को चूम लिया.

उसने अपनी आँखें बंद कर ली।
मैंने उसके होंठों को चूसना शुरू किया.
वह भी मेरे होंठों को चूस रही थी.

मैं अपना हाथ उसकी कुर्ती के अंदर डाल कर उसकी चुच्चियों को दबाने लगा।
उसकी छोटी चुच्चियाँ थी और छोटे निप्पल!
पर हम दोनों मौके का मज़ा ले रहे थे।

फिर मैंने उसकी गांड को सहलाया और फिर चूत को, जब मैंने उसके पजामे में हाथ डालने की कोशिश की तो पजामे का नाड़ा कसा हुआ था.
तब भी मेरे हाथ उसकी झांट तक पहुँच पा रहे थे, उसकी झाँट के बाल घने पर नर्म लग रहे थे।

मेरे हाथ के अहसास से स्नेहा घबरा गई और मेरे हाथ को अपने पजामे से बाहर निकल दिया और बोली- ये नहीं प्लीज़, मैं नहीं करना चाहती हूँ, मैं रो दूँगी।
फिर भी मैंने एक बार ट्राई किया तो वह दूर हट गई और बोली- ये मत करो प्लीज।

मैंने उसकी बात मान ली और फिर हम दोनों एक साथ सो गए।

परन्तु अब मैंने उसे चोदने की ठान ली थी.

दूसरे दिन मैंने अपनी झांट शेव की.

और जब माँ से मिल कर हस्पताल से आ रहा था तब एक स्ट्रॉबेरी फ्लेवर वाला कंडोम भी खरीद लिया।

आज स्नेहा कुछ ज्यादा ही खूबसूरत लग रही थी.
उसने नीले रंग की चुस्त कुर्ती और सफेद रंग के लैगिंग पहन रखा था।

मैं अपने पिताजी के हस्पताल जाने का बेसब्री से इंतजार कर रहा था।

सामने हॉल में सोफे पे बैठ कर मैं क्रिकेट का मैच देख रहा था.

थोड़ी देर में पिताजी अस्पताल चले गए और मैं दरवाजा बंद कर फिर से मैच देखने बैठ गया।

स्नेहा भी किचन का काम खत्म कर सोफे के एक ओर बैठ गई।

कुछ देर बाद स्नेहा बोली- कल के लिए नाराज हो क्या?

मैंने स्नेहा को ध्यान से देखा तो वो फ्रेश लगी, उसकी आँखों में काजल लगा था और होंठों पर गुलाबी लिपस्टिक थी.
उसने अपने बाल भी खुले रखे थे.

लग रहा था कि वह तैयार हो कर आई है।

मैं- नहीं … मेरे पास आओ।
स्नेहा मेरे कंधे पर सर रख के मेरे बगल में बैठ गई- मैं डर गई थी।
मैं- तुम डरो मत, मैं तुम्हें तकलीफ नहीं पहुंचाऊँगा।
स्नेहा- सच?
मैं- हाँ!

मैंने स्नेहा के बालों को अपनी उंगलियों से संवारा और उसे किस किया.
वह भी मेरे होंठों को चूसने लगी.

मैंने स्नेहा को अपनी ओर खींचा और अपने ऊपर बैठा लिया और उसकी गर्दन को चूमने लगा।

स्नेहा की कुर्ती में पीछे ज़िप थी.
मैंने उसकी ज़िप खोली और कुर्ती निकाल दी.

उसने गुलाबी रंग की ब्रा पहनी थी.
मैं उसकी ब्रा के नीचे से हाथ डाल कर उसके बूब्स को दबाने लगा और उसके बदन को चाटता रहा।

जब मैंने उसकी ब्रा का हुक खोला तो उसने अपने हाथों से ब्रा पकड़ ली और बोली- यहाँ नही, अंदर चलो बेडरूम में!

मैंने उसे गोद में उठाया और अंदर ले गया.
उसे बेडरूम के दरवाजे के पास खड़ा कर दिया और दरवाजे के कुंडी लगा दी।

स्नेहा वहीं खड़ी थी.
मैंने अपनी टी शर्ट निकाल दी और स्नेहा से चिपक कर उसे किस किया.

इसे भी पढ़ें   भूखी बहु प्यासा ससुर

उसकी ब्रा को निकालकर मैं उसके निप्पल चूसने लगा।

मैं अपने घुटनों पर आ गया और उसकी नाभि और कमर को चुम्बन लगा।
मैंने अब उसकी लेगिंग्स को नीचे किया तो स्नेहा ने अपने हाथों से मेरे बाल पकड़ कर अपनी चूत की तरफ दबा दिया.

तब मैंने उसकी लेगिंग्स उतार दी।

मैं एक बार पीछे हटा और उसे देखा, स्नेहा केवल गुलाबी रंग की पेंटी में थी.
उसका बदन बाहर से सांवला था पर अंदर से वह काफी गोरी थी, उसके बूब्स छोटे और निप्पल भी छोटे थे।

स्नेहा- क्या हुआ?
मैं- तुम्हारा नंगा बदन कुल्फी जैसे दिख रहा है.
स्नेहा- तो चाट लो!

अब मुझे मालूम था कि यह वर्जिन इंडियन कजिन सेक्स के लिये तैयार है.

मैं बिस्तर पर जाकर लेट गया और उसे अपने पास बुलाया।
वह मेरे बगल में आकर लेट गई.

मैंने अपना बरमुडा अपनी अंडरवीयर के साथ निकाल दिया.
तब स्नेहा के हाथ को अपने हाथ से पकड़ कर अपने लंड को पकड़वाया।

स्नेहा भी लंड को पकड़ कर उपर नीचे करने लगी।
मैं- लंड चूसो!
स्नेहा- मुझे नहीं आता!
मैं- तुम आंखें बंद करो और जैसे आइसक्रीम चूसती हो, वैसे चूसो!

स्नेहा ने लंड मुंह में लिया और धीरे धीरे चूसने लगी.

मैंने उसके सर को पकड़ कर अपना लंड चुसवाया।
अब मैं उसके ऊपर आ गया और उसकी पेंटी को उतार दिया.

उसने भी अपनी चूत को शेव किया था, उसकी चूत बिल्कुल चिकनी थी।

मैंने उसकी टांगों को फैला दिया और एक उंगली को चाट कर गीली कर उसकी चूत में डाल कर अंदर बाहर करने लगा.
उसकी चूत टाईट थी, अंदर से गर्म और गीली थी।

अब मैं उसकी चूत को चाटने लगा और फिर धीरे से दो उंगली डालने लगा।

स्नेहा को भी मजा आ रहा था।

फिर मैं उसके ऊपर आ गया और उसे चोदने के लिए उसके पैर फैलाये.
तो उसने अपने पैरों की कैंची बांध ली और बोली- कुछ हो जाएगा ना, मत करो।

मैं उसके उपर झुका और गद्दे के नीचे हाथ डाल कर कंडोम निकला।

स्नेहा- ये क्या है?
मैं उसकी चूत के उपर घुटनों पे खड़ा था, मैंने कंडोम का पैकेट खोल और कंडम पहन लिया।
तब मैं बोला- अब कुछ नहीं होगा।

स्नेहा ने अपने हाथ से मेरे कंडोम लगे हुए लंड को सहलाया और बोली- यह कंडोम है क्या?
मैं- हाँ!
स्नेहा- कुछ गड़बड़ तो नहीं होगी ना?
मैं- नहीं, इससे गड़बड़ नहीं होगी.

तब स्नेहा ने मुस्कुराते हुए कहा- करो!

मैंने अपना लंड उसकी चूत में धीरे से डालना शुरू किया.
उसकी चूत इतनी टाईट थी, फिर भी मैं धीरे धीरे अपने लंड को अंदर धक्का दे रहा था.

थोड़ी देर करने के बाद मैंने 4-5 धक्के जोर से लगाए तो स्नेहा की सील टूट गई और मेरा लंड पूरा अंदर घुस गया।

स्नेहा को थोड़ा दर्द हो रहा था पर वह मना भी नहीं कर रही थी।
मैंने उसे करीब 5 मिनट भी नहीं चोदा और मेरा झड़ गया।

हमने एक दूसरे को चूमा और गले लगाया और बिस्तर पर थक कर लेट गये।

थोड़ी देर बाद हमने देखा कि चादर खून के दाग लगे हैं.

स्नेहा बोली- ये मैंने जानबूझ कर नहीं किया।
मैंने कहा- तुम टेंशन मत लो, मैं चादर बदल देता हूँ, तुम बाथरूम होकर आओ।

तभी मैंने चादर बदल दी और फिर हम दोनों ने कपड़े पहन कर सोने चले गये।

इसे भी पढ़ें   सपनों की बारात

स्नेहा मुझसे चिपक कर मेरी चादर में सो रही थी, उसकी पीठ मेरी तरफ थी।

करीब 10 मिनट में मेरा लंड फ़िर से खड़ा हो गया.

मैंने स्नेहा की लेगिंग्स में हाथ डाला तो उसने भी अपनी टांगें फैला दी।

मैंने उसकी लेगिंग्स उसकी पेंटी के साथ उतार दी और एक नया कंडोम पहन लिया।

मैंने स्नेहा का पैर उठा कर पीछे से ही अपना लंड उसकी चूत में डाल दिया और उसे चोदा।
चोदते हुए उसे मैंने फिर से पूरी नंगी कर दिया।

मेरा लंड अब और तन गया था.
तो मैंने उसे अब कुतिया बना दिया और बहुत जोर से चोदा।

मैं अपना लंड पूरा बाहर निकाल कर पूरा अंदर घुसा रहा था और अब स्नेहा को बहुत मजा आ रहा था.

उसने आपने नाखून तकिये में गड़ा रखे थे.

और जब मैं अपना लंड अंदर डालता, वह और जोर से ‘आह’ की आवाज़ निकलती।

मैंने उसे काफी देर चोदा और फिर मेरा झड़ गया.
पर मेरा मन नहीं भरा.
और मेरा लंड अभी भी खड़ा था।

मैंने अपना कन्डोम निकल दिया और स्नेहा को सीधा लेटा दिया.
उसकी कमर के नीचे मैंने एक तकिया रखा और अपने लंड को उसकी चूत पर रगड़ कर अंदर डाल दिया.

अब मुझे उसकी चूत का असली मजा आ रहा था।
मैं उसकी चूत की गर्मी अपने लंड पर महसूस कर रहा था.

उसकी चूत जैसे मेरे लंड को चूस रही थी. उसकी गीली चूत में लंड डालने का मजा कुछ और ही था जो कंडोम में नहीं आ रहा था।

मैंने उसे कुछ देर चोदा और मैं फिर झड़ने वाला था.
तो मैंने अपना लंड बाहर निकाला और मुठ मार कर स्नेहा की चूत के ऊपर अपना माल गिरा दिया।

स्नेहा ने अपनी उंगली से माल को छुआ और उसे चिपचपे गोंद की तरह रेशे बनाने लगी।

मैंने उसे माल को चाटने कहा.
तो उसने मना कर दिया लेकिन उसने थोड़ा सा माल चाट लिया।

फिर उसने अपनी उंगली पर पूरा माल लपेटा और चाट गई और बोली- ये तो मज़ेदार है।

में अब पूरी तरह से थक के स्नेहा के बगल में लेट गया था.
स्नेहा ने मेरे मुरझाए हुए लंड को अपने हाथ में लिया और उसे चाटने लगी।

मुझे यह देख कर विश्वास नहीं हो रहा था कि स्नेहा भी इतनी कामुक लड़की है।

मेरे लंड को चाटने के बाद वह मेरे बगल में आकर लेट गई.
हम कुछ देर बात करके नंगे ही सो गए।

मेरी माँ 5 दिन हस्पताल में रही.
तब तक हमने अलग अलग तरह से चुदाई की।
अब उसकी शादी हो चुकी है और दो बच्चे भी है.

मैंने उसे शादी के बाद भी चोदा।

तो दोस्तो, आशा करता हूँ कि जितना मुझे चोदने में मजा आया, आपको यह वर्जिन इंडियन कजिन सेक्स कहानी पढ़ने में भी आया होगा।

Related Posts

Report this post

मैं रिया आपके कमेंट का इंतजार कर रही हूँ, कमेंट में स्टोरी कैसी लगी जरूर बताये।

Leave a Comment