मामाजी, अब तो बस चोद ही दो

मेरी उम्र 24 साल है, कुंवारी हूँ और मेरे घरवाले सब कल्याण में रहते हैं. कुछ दिनों पहले मेरे एक मामा की पोस्टिंग कल्याण में हो गयी. वो एक बहुत सीनियर प्रशासनिक पद पर हैं. हालाँकि वो मेरे सगे मामा नहीं तो हैं, मेरी माँ के घर के पास के रहनेवाले हैं, लेकिन हैं हम लोगो के बहुत ही करीब.
उनकी उम्र 40+ है. थोड़ा सा पेट निकला हुआ है, लेकिन मोटे तौर पर प्रभावशाली पर्सनालिटी है. चेहरे पर एक शालीन और सेक्सी मुस्कान निराहती है.
मेरी एक फ्रेंड जोया, जिसकी अब शादी हो गयी है मुझसे अक्सर कहती थी और अब भी कहती है कि लाइफ में शादी के पहले किसी उमरदराज आदमी के साथ सेक्स जरूर करना चाहिए.

वो रिश्तेदार टाइप हो तो और अच्छा रहता है. क्योंकि ये सेफ रहता है. इससे बहुत अच्छा एक्सपेरिएंस प्राप्त होता है और हाँ मजा भी बहुत आता है.
लेकिन में आप लोगों को बता दूँ कि जब तक मैंने खुद एक्सपेरिएंस नहीं किया था, मुझे उसकी बात हमेशा गलत लगती थी. मैं 21 साल की हो चुकी थी और सेक्सुअली बिलकुल अछूती थी.
हाँ कभी-कभी बाथरूम में अकेली दर्पण के सामने खड़ी होकर अपने सुन्दर सुडौल शारीर को निहारती जरूर थी और अपने हाथ अपने ही जिस्म पर फेरा करती थी. कभी-कभी अपनी निप्पलस को छेड़ती और कभी अपनी चूत को भी सहलाती थी.
मेरी हिम्मत कभी किसीसे चुदाई करने की नहीं हुई. हाँ, कई साथ के ऑफिस के लोगों के प्रति आकर्षण जरूर हुआ. कुछ से बात और भी आगे बढ़ी लेकिन सेक्स नहीं किया. कभी न हिम्मत थी, न ही कर पाई.
हाँ, तो मेरे मामाजी अक्सर हम लोगों के घर आते थे. उनकी पत्नी यानि मेरी मामी बहुत ही सुन्दर हैं. उनकी जोड़ी बहुत ही अछि है. मेरे मामा और मेरी दोस्ती भी बहुत गहरी है.
वो बहुत फ्री किस्म के इन्सान हैं. लेकिन हर किसी से नहीं. आम टूर पर अन्य लोगों के लिए सिरिअस ही रहते हैं. मेरा-उनका तो अब खूब मजाक भी होने लगा था. एक दिन मामाजी ने मुझे एक मेसेज किया की तुमको मालूम है रानी मुखेर्जी का किससे अफेयर चल रहा है. मैंने कहा मुझे क्या मालूम. तब उन्होंने एक और मेसेज भेज कर बताया कि उसका आदित्य चोपड़ा से चक्कर चल रहा है और उसको आदित्य चोपड़ा से चुदाई करवाते अमिताभ के किसी दोस्त ने देख लिया था. इसीलिए अभिषेक से उसकी बात आगे नहीं चली.
इस टाइप का मेसेज पढ़ कर मेरे सारे शरीर में एक सिहरन सी फ़ैल गयी. मुझे लगा कि कोई मुझे कसकर भींच ले. मेरी पैंटी में भी कुछ गीला सा लगने लगा.
मैंने उनके मेसेज का कोई जवाब नहीं दिया. कुछ दिन बाद मामाजी का एक और मेसेज आया कि तुमको मालूम है अजय देवगन और काजोल में बहुत झगड़ा हो गया था. मुझसे रहा न गया और में पूछ बैठी क्यों? उनका जवाब आया कि अजय देवगन ने शादी के बाद भी एक दिन शूटिंग पर काजोल को शाहरुख़ खान से चिपकते अकेले में मजे करते देख लिया था. वो उससे खूब लड़ा और कहा कि काजोल अब तो तुम्हें शाहरुख़ से कोई ताल्लुक की जरूरत नहीं होनी चाहिए. तुम दोनों ने शादी के पहले कितनी बार सेक्स किया मुझे मतलब नहीं. लेकिन अब तो मत मरने जाओ.
मैंने पूछा-मामाजी आपको कैसे ये सब मालूम हो जाता है.
वो बोले -मेरी जन, मेरे साथ के टैक्स ओफ्फिसर्स बॉम्बे की साड़ी खबरें सही-सही बता देते हैं.
अब में और मामाजी काफी फ्री हो गए थे.
रात को में जब कभी अपनी चूत पर हाथ फेरती तो शाहरुख़ खान की बात यद् आती. उसके बारे में सोचते हुए हाथ फिराती तो अचानक मामाजी का चेहरा सामने आ जाता. जैसे वो कह रहे हों कि “में क्यों नहीं?
एक दिन एक शादी में मामाजी और मै जा रहे थे. मम्मी ने कहा- सुनीता, घर से और कोई तो जा नहीं पा रहा. दो दिन की ही तो बात है, तुम मामा-मामी के साथ चली जाओ. और मुझे जाना पड़ा.
हमलोग पुणे गए और वहां राजधानी होटल में रुके. हमने दो कमरे बुक किये. एक में मामा-मामी साथ थे और दूसरे में मैं अकेली.
शाम को शादी के समारोह के बाद में अपने एक चचेरे भाई के साथ पुणे घुमने चली गयी. मामा-मामी शादी में ही थे.
कोई 9 बजे तक में होटल रूम वापस आ गयी और थकी होने के कारण जल्दी में सो गयी. अभी थोड़ी देर ही सो पाई थी कि रूम कि बेल बजी. मैंने घडी देखी तो रात के ११ थे. मैंने दरवाजा खोला तो सामने मामाजी थे.
मैंने पूछा- मामाजी आप अकेले कैसे? मामी कहा हैं?
वो मुस्कराते हुए बोले-तुम्हारी मामी अपनी किसी बहन के साथ रुक गयी हैं. 1 बजे तक आएँगी. फेरों के बाद. मैं चला आया. वो दरवजे पर खड़े थे. मैंने कहा- ओके मामाजी, अन्दर आ जाओ.
कमरे में सोफे भी थे लेकिन मामाजी सीधे मेरे बेद पर बैठते हुए बोले- तुम थकी न हो तो चलो कुछ देर बातें कर लेते हैं. मैं राजी हो गयी.
रात के एकांत में मामाजी जैसे आदमी को कमरे में अकेले पा के अब मेरा मन चल चूका था. में कोई भोरी नहीं थी. मुझे साफ दीख रहा था कि मामाजी कि नीयत में क्या था. और जो उनकी नीयत में था वही तो मेरी भी नीयत में था. मैंने सोचा आज इनसे कुछ सेक्स की बातें सीख ही लूं. लेकिन मेरे अन्दर पहल करने की हिम्मत नहीं थी.
मामाजी जाने क्या बातें कर रहे थे. मुझे तो अपनी चूत में उठ रही सनसनी के मारे कुछ सुनाई ही नहीं दे रहा था.
मेरी पैंटी के अन्दर कुछ गीलपन सा महसूस होने लगा था. मैं अभी से पानी छोड़ने लगी थी. मुझे लग तो रहा था की मामाजी के मन मैं भी कुछ वैसा ही हो रहा है. लेकिन उन्होंने कुछ किया नहीं. तभी मुझे अपनी फ्रेंड की सीख याद आई की अपने से उम्र के बड़े लोग सेक्स की पहल खुलेआम नहीं करते. उनका इतनी रात को अकेले आना इशारे मैं सब कुछ बयां कर रहा था.
अब मेरा तो मन हो रहा था अपनी जवानी का मजा लेने का. सो मैंने भी इशारे में बात शुरू कर दी. “मामाजी, मामी के अलावा तो किसी पर आपका मन जाता नहीं होगा? वो तो खुद बहुत सुन्दर हैं.
मामाजी बोले- हाँ, वो तो है.
मुझे लगा की मेरा हिंट बेकार गया.
लेकिन तभी मामाजी बोले- मन तो किसी पर गया है लेकिन उसका नहीं पता.
में बोली- उससे पूछ लीजिये. डरना क्या?
मामाजी जल्दी से बोले नहीं. कुछ सोचते रहे. इस बीच मेरे दिल की धड़कन राजधानी एक्सप्रेस की स्पीड की हो रही थी.
मामाजी फिर बोल उठे- अच्छा तो पूछता हूँ. तुम बताओ. मुझे तो तुम अच्छी लगती हो.
मैं शर्मा गयी और दूसरी तरफ देख कर मुस्कुराने लगी. तभी मामाजी ने मुझे बहुत धीरे से अपने सीने से लिप्त लिया. फिर मेरी आँखों पर किस कर दिया.
मैं सिहर गयी और बोली- नो मामाजी, यह ठीक नहीं है. हालाँकि मेरी पैंटी और चूत पूरी तरह से गीली हो चुकी थीं. मेरी चूत में पुक-पुक हो रहा था. तभी मामाजी ने मुझको और जोर से चिपटा लिया और मेरे गाल सहलाते हुए मुझे जहाँ-तहां किस करने लगे.
थोड़ी ही देर में वो मेरे लिप्स चूस रहे थे और में अपना होश खो रही थी.
उनके लिप्स अब मेरी गर्दन पर आ गए थे और हाथ मेरे बूब्स को सहला रहे थे. में मदहोश हुई जा रही थी. मुझे पता ही नहीं चला कब उन्होंने मुझे बेड पर बड़े प्यार से लिटा दिया और जब तक मैं समझूँ मेरी पैंटी और ब्रा को बदन से बहुत दूर थे.
उनके लिप्स मेरी चूचियों को चूस रहे थे. मेरी चूत को पसीना आ रहा था.
मामाजी कह रहे थे- नौट्टी डार्लिंग, अगर तुमको शाहरुख़ खान न भुला दूँ तो कहना. अब तक वो मेरी जांघों को सहलाते हुए मेरी चूत के नजदीक पहुँच चुके थे और अगले ही पल मेरी चूत को, जिसे मैंने कल ही हेयर-रिमूवर से साफ किया था, उसको किस कर रहे थे.
बड़े ही प्यार से. लेकिन भारी रोमांच से भी.
जब उनकी जीभ मेरी चूत के उपरी दरवाजे पर सांप की तरह सरसराते महसूस हुयी तो मैं मस्ती की तरंग में डूब कर चीख पड़ी. मैंने अपनी दोनों हथेलियों से उनके सर के बालों को पकड़ लिया और कमर को ऊँचा करके अपनी चूत को पूरी ताकत से उनके मुंह से अड़ा दिया. मन हो रहा था की चूत को उनके मुंह में भीतर तक डाल दूं.
मामाजी भी न जाने किस बदहवासी में मेरी चूत में मानों घुसे जा रहे थे.
मैं बुदबुदा रही थी- मामाजी अब नहीं रहा जा रहा. अब तो मुझे बस चोद ही दो. फक मी, प्लीज. डाल दो अन्दर.
लेकिन मामाजी तो बस मेरी चूत को अपनी जीभ से चाटे जा रहे थे. खूब जोर-जोर से. वे कह रहे थे- तुमको आज इतने अच्छे से चोदूंगा मेरी जान, कि फिर कभी मुझे भुला नहीं पाओगी. मैं मदहोश, बेहोश हुई जा रही थी. तभी अचानक मामाजी उठे. उनहोंने दो तकिये लिए और मेरे नितंबों के नीचे रख दिए. इस तरह मेरी चूत ऊँची होकर के पूरी तरह खुल गयी.
मामाजी sइस्कारी लेकर बोले- आह, क्या चूत का सीन दिखा है. ऐसी तो eन्जेलिना जोली की भी नहीं होगी. उन्होंने ढेर सारी क्रीम मेरी चूत में भर दी और अपने कपडे उतर दिए. मैंने अब देखा कि उनका लंड तो 8 इंच से कम नहीं था.
अब मैं थोड़ी सी घबराई कि ये कैसे मेरी चूत में घुसेगा. मेरी चूत मुझे नन्ही सी लग रही थी. मैं उनसे निहोरा करने लगी कि मामाजी धीरे से ही डालना. उन्होंने कहा कि तुम्हें बस यह यूँ ही छोटा लग रहा है. इसमें तो दुनिया समां जाती है और तब भोई जगह बची रहती है.
वे अब अपने लंड का पिंक टिप मेरी चूत में पुश करने की कोशिश कर रहे थे.
वो बार-बार स्लिप कर जाता था. फिर उन्होंने निशाना लगा कर अपना लंड मेरी चूत में अन्दर करीब 3 इंच घुसा दिया. मुझे लगा मनो किसी ने गरम लोहे की मेरे मोटी राड मेरे अन्दर डाल दी हो.
मैं चिल्लाई- मामाजी प्लीज! इतनी जोर से नहीं. अब निकाल लो अपना लंड.
मामाजी ने लंड को एक बार बाहर को खींच लिया. लेकिन मुझे जब तक रहत महसूस होती, उन्होंने दुगनी ताकत से अपना लंड फिर मेरे अन्दर पुश कर दिया.
मेरी आँखों से आंसू और चूत से खून निकलने लगा. मैं चीख रही थी- और मामा धक्के पे धक्के दिए जा रहे थे.
वो पूरी ताकत से अपने लंड को बार-बार अन्दर बाहर कर रहे थे.
मुझे बहुत दर्द हो रहा था. लेकिन कोई
10 मिनट तक उन्होंने ऐसे ही जोरों से मेरी चुदाई की.
अब मुझे मज़ा आने लगा था. मई कहने लगी-यू आर डार्लिंग मामाजी! मजा आ रहा है. चोदे जाओ. निकलना मतमामाजी धक्के पर धक्के लगा रहे थे.
वो कह रहे थे-मेरी जान, तुम्हारी चूत कमाल की है. मैंने रानी मुखेर्जी का जब केस था तब उसे और ऐसे ही प्रीती जिंटा को चोदा था. अभी परसों ही बिपाशा को भी चोदा था. लेकिन इतनी मजेदार तो कोई नहीं है.
मैं कहे जा रही थी- मामाजी और डालो मेरे अन्दर. पूरे घुस जाओ. फाड़ दो मेरी भूखी चूत को!
वो खूब चोद रहे थे और मैं भी अब नीचे से उछल-उछल कर चुदवा रही थी.
वो कह रहे थे- मजा आ गया मेरी जान. तुमने तो गजब कर दिया.
मेरी भी सिस्कारियां निकल रहीं थीं. मामाजी अपनी दोनों टांगों से मुझे जकड़-जकड़ कर चोद रहे थे.
थोड़ी ही देर के बाद उन्होंने अपना गरम-गरम मॉल मेरी चूत में भर दिया. अब दो धक्के और दिए तो मुझे कुछ अजीब सा लगा की ये मेरी चूत को क्या हो रहा है. मैं जैसे घोड़े पर स्वर हो गयी हूँ.
आह.. आः … ये तो ज्वालामुखी फट रहा था. और तभी मेरा भी पानी निकल गया. मैं भी उनके साथ ही झड गयी. फिर हम दोनों एक दूसरे से चिपके हुए पड़े रहे बहुत देर तक. उसके बाद मामाजी ने फिर से एक बार मुझे चोदा. इस बार उन्होंने मुझे अपने ऊपर चढ़ा लिया. मुझे बहुत दर्द हो रहा था. फिर भी मैंने पूरा लंड मेरी चूत के अन्दर घुसा लिया. इस बार मैं मामाजी के झड़ने से पहले 3 बार झड़ी. फिर मामाजी ने मुझे निचे पटक लिया और मेरी कोमल चूत को बुरी तरह से रौंदा. बाद में हमलोग नंगे ही सो गए. सुबह मामाजी ने मेरे पीछे से चूत में लंड को डाला.
मेरी फ्रेंड्स, खास तौर पर गिर्ल्स, मैं आपको बता रही हूँ मामाजी के अनुभव से मुझे इतना मजा मिला की बता नहीं सकती. मुझे अपनी फ्रेंड की सलाह बिलकुल ठीक लगी. आज मेरी चूत और आत्मा दोनों तृप्त हो गयीं. न किसी को मालूम होने का डर था न ही किसी से ब्लैकमेलिंग का खतरा.

Related Posts

इसे भी पढ़ें   मम्मी और मौसी 
Report this post

मैं रिया आपके कमेंट का इंतजार कर रही हूँ, कमेंट में स्टोरी कैसी लगी जरूर बताये।

Leave a Comment