पड़ोस की सेक्सी लड़की से चुदाई का मज़्ज़ा लिया। Hot Xxx Desi Girl Ki Chudai

मैंने अपने नए घर के पड़ोस की Hot Xxx Desi Girl Ki Chudai, सेक्सी लड़की से चुदाई की मजा ली। वह मुझे आते जाते इशारे करती थी। उसने एक दिन मुझे अपने घर बुलाया।

दोस्तो, सभी को शुक्रिया!
मेरा नाम आर्थव है, मैं 23 साल का हूँ और 54 किलो वजन का हूँ।

आपने मेरी पिछली कहानी मौसेरी बहन की सील तोड़ी। Bhai Bahan Ki Xxx Sexy Kahani

पढ़ी थी।

यदि आप भी अपनी कहानी इस वेबसाइट पर पब्लिक करवाना चाहते हैं तो नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके अपने कहानी हम तक भेज सकते हैं, हम आपकी कहानी आपके जानकारी को गोपनीय रखते हुए अपनी वेबसाइट पर प्रकाशित करेंगे

कहानी भेजने के लिए यहां क्लिक करें ✅ कहानी भेजें

यह मेरी पहली असली Hot Xxx Desi Girl Ki Chudai है जिसमें मैं अपने पड़ोस की एक लड़की को चोदा।

मैं बारहवीं में पढ़ता था और आज से चार साल पहले एक देसी सेक्सी लड़की से चुदाई की थी।

Antarvasna Girl Desi Chudai

मेरे घर वालों ने किराये पर एक घर लिया था। हम पहले किराये पर रहते थे, इसलिए घर बदल लिया।

बदले हुए घर में मुझे कोई खास दिलचस्पी नहीं थी।
मैं अपने काम पर निर्भर था।
वह घर में भी कम बोलता था और गली में भी किसी से बात नहीं करता था।

पड़ोस की एक लड़की एक दिन मुझे कुछ इशारे करती थी।

वह उम्र में मुझसे थोड़ी बड़ी लग रही थी, इसलिए मैंने एक बार देखा और फिर नहीं देखा।

मैं अन्य बातों पर ध्यान नहीं दिया क्योंकि मैं सोच रहा था कि शायद उसकी मानसिक स्थिति कमजोर होगी।

अगले दिन, वह अपने घर के मुख्य गेट पर बैठ गई।
मैं फिर से इशारे करने लगा।

मैंने प्रश्न उठाया: क्या हुआ?
कुछ नहीं, उसने कहा।

मैंने सोचा कि ये लड़की बहुत अजीब है; वह सिर्फ इशारे करती है और फिर पूछने पर कुछ नहीं बताती।
अब वह मुझे पागल लग रही थी।

फिर मैं कुछ देर बाद वापस आया तो मुझसे पूछने लगी कि क्या मैंने खाना खाया था?
मैंने हां कहा।
फिर कुछ भी नहीं पूछा।
मैं भी गया।

फिर दो दिन तक उसने मुझे नहीं देखा।

तीसरे दिन मैं अपने घर के बाहर फोन पर कुछ देख रहा था।
मैं भी उस लड़की से मिल गया।

वह कुछ समय वहीं खड़ी रही, फिर मैंने पूछा कि क्या हुआ, ऐसे क्यों खड़ी हुई, कुछ काम था?
नहीं, काम कुछ नहीं है, बोली वह. क्या कर रहे हो?
मैंने कहा कि कुछ भी नहीं है।

मैं भी पास बैठ जाऊँ? उसने पूछा।
वह खुद मेरे पास आकर बैठ गई, इससे पहले कि मैं कोई प्रतिक्रिया देता।
फिर भी मैं हैरान था, लेकिन कुछ नहीं कहा।

कुछ देर बाद, वह पूछा, “मुझसे दोस्ती करोगे?”
मैं विचार करने लगा।

वह सांवली थी और उम्र में बड़ी थी।

फिर मैंने विचार किया कि दोस्ती का हाथ बढ़ाने से क्या मिलता है।
मैंने हाँ कहा।

तब से हम बोलने लगे।

प्रिय, मैं आपको बता दूं कि हमारे उस घर में एक बहुत बड़ा आंगन था जो खुला था।
आंगन के पीछे रहने के कमरे बने हुए थे।

उस दिन दोपहर दो बजे हो गए थे और मैं नहाने जा रहा था।
मैं जाते समय तौलिया साथ में नहीं रखता था।

मैं अंदर गया और अपने कपड़े उतारकर नंगा होकर नहाने लगा।
तब तक माँ बाजार में जा चुकी थी।

इसे भी पढ़ें   सगे भाई ने की जम कर चुदाई

मैंने आवाज दी, लेकिन कोई नहीं सुनता था, तो जवाब कैसे मिलता?

इसलिए मैं नहाने लगा, सोचकर कि तौलिया बाहर निकाल कर ले लूंगा जब घर में कोई नहीं होगा।

मैं नहाकर बाहर आया।
मेरी पैंट गीली थी।
मैंने तुरंत उसकी जगह सूखी चड्डी पहनी।

फिर मैं अपने गीले कपड़े सुखाने जा रहा था कि ऊपर से आवाज आई, “तुमने नहाया?
हां, मैंने कहा।

वह शायद पहले से जानती थी कि घर पर कोई नहीं है, इसलिए मैं अपने गीले कपड़े सुखाते समय मेरे पास आ खड़ी हुई।

पास आते ही उसने कहा कि तुम बहुत मोटा और लंबा हो।
मैं इसे सुनकर बेहोश हो गया।

मैं हैरान होकर उसकी ओर देखा।
उसने खिलखिलाकर हंसते हुए कहा, “मैंने ऊपर से सब देखा है।”

Xxx Hot Girl Sexy Kahani

मैं हैरान होकर उसकी ओर देख ही रहा था कि उसने कहा, “जब भी आपको गर्मी चाहिए तो मुझे बता देना।”

अब तक, मेरी आत्मा में कहीं नीचे ही नीचे वासना जाग उठी थी।
उस लड़की ने मजाक में ही मेरे लंड पर हाथ मारकर हंसते हुए वहां से चली गई, जिससे मेरी तंद्रा टूट गई।

मेरे हाथ से चूत निकलने वाली थी अगर मैं एक पल की भी देरी करता।
मैं तुरंत होश में आकर उसे रोककर पूछा-सुनो तो?
जब उसने मेरी आवाज सुनी तो रुक गई, फिर पीछे मुड़कर मुस्कुराकर पूछा, “क्या हुआ?”

मैंने कहा, “अब मुझे गर्मी चाहिए!”
नहीं, अभी नहीं, उसने कहा। कल आना, कल मम्मी सुबह बैंक से बाहर जाएगी, फिर आना।
मैं भी कहा: चलो, ठीक है।

मैं पिछले दिन भी स्कूल नहीं गया था।
सुबह से ही मैं गेट के आसपास घूमने लगा और उसकी मां का घर छोड़ने का इंतजार करने लगा।

10 बजे उसकी माँ घर से चली गई।

मैं उसके घर में कुछ देर बाद घुस गया।

वह भी लगभग तैयार बैठी थी।
मैं उसे दो कमरों में ले गया।

मैंने उससे लिपटना शुरू किया।
वह भी मेरी सहायता करने लगी।

मैं जोर से उसके बदन को भींचने लगा।
उसने हंसते हुए कहा, “रुक जाओ, आराम करो,” मम्मी वापस आने में अभी कुछ समय लगेगा।

मैंने कहा, “आराम करो मां चुदाने, जल्दी से कपड़े उतार!”
उसने पहले अपनी पैंटी उतार दी, फिर अपनी पजामी नीचे की।

मैंने भी अपनी पैंट जल्दी उतारी।

आराम करो, वह बोली। बहुत बड़ा है।
मैंने कहा कि जो आपको मेरा बड़ा लगता है, उसे पहले ले लो।

“जीजा का लिया था, लेकिन वे बहुत छोटे हैं और काफी पतले हैं,” उसने कहा। आप लम्बा और मोटा हैं।
मैंने कहा कि मैं आराम करूंगा।

फिर मैं उसके स्तनों को दबाने लगा।
उसकी चूत पर मेरा एक हाथ चल रहा था और उसके चूचे पर दूसरा हाथ।

मैंने उसकी चूत में उंगली डालने की कोशिश की तो उसने आह्ह करके सिसकार निकाली।
थोड़ी सी उंगली मेरी चूत में घुसते ही मेरा लंड इतना टाइट हो गया कि लगता था कि अब फट जाएगा।

इसे भी पढ़ें   भाई ने बूर और बच्चेदानी का कचूमर बना दिया चोदते चोदते

फिर वह मुझसे नहीं रहा।
मैंने उसे बेड पर रखा और उसकी चूत में अपना लंड डालने लगा।

वह भी चुदने के लिए बहुत प्यासी थी; वह चूत को नीचे से उठाकर लंड पर रगड़वा रही थी।

फिर मैंने लंड को चूत में धक्का दिया।
मुझे अपने ऊपर से हटाने के लिए वह तुरंत मेरी छाती में धक्का मारने लगी।

उसकी चूत और आंखों से खून बहने लगा।
मैं भी खून को देखकर थोड़ा डर गया कि कहीं कुछ हो जाएगा।

मैं वहीं रुकी; मैं आगे नहीं बढ़ा।

मैंने उसे शांत कर दिया।
फिर उसे बताया और उसे धीरे-धीरे चोदना शुरू किया।

धीरे-धीरे वह खुश होने लगा।
फिर वह स्वयं बोलने लगी—और तेज करो।
मैं भी अब पूरी स्पीड में था, इसलिए मैं उसकी चूत में तेजी से धक्के लगाने लगा।

अब पूरा बेड हिलने लगा।
अब उसकी चीखें आँखों में बदल गईं।
हर आह के साथ मेरा उत्साह बढ़ा।

फिर मैंने उसे बेड के किनारे डॉगी स्थिति में रखा।
उसकी कमर पकड़कर मैंने पीछे से उसकी चूत में लंड डालने लगा।
एक बार फिर से देसी लड़की की चुदाई हुई।

मैंने उसे लगभग दो घंटे तक पेला, फिर उसकी चूत में झड़ गया।

मैं उसके ऊपर दो मिनट झुका रहा, फिर लंड सिकुड़ने लगा तो बाहर खींच लिया।

उसकी चूत के खून और रस ने लंड को भर दिया।
हम जल्दी से अपने गुप्तांगों को साफ किया..। मैं उसके घर से बाहर निकल गया।

वह भी कुछ देर बाद बाहर निकली।
उस समय मैं गेट पर बैठा था।

Desi Girl Hindi Sex Stories

मैंने उसे इशारे में गांड चुदाने को कहा।
लेकिन गांड चुदाई करने से वह मना कर दिया।
मैंने प्रश्न उठाया: क्यों?
वह धीरे-धीरे पास आकर कहा, “इस लम्बे-मोटे लंड ने मेरी चूत को भोसड़ा बना दिया है, अब क्या गांड भी फाड़ोगे?”

मैंने कहा, अरे नहीं, मैं बहुत धीरे करूँगा।
नहीं, मम्मी के आने का समय हो गया है, उसने कहा।
तब वह अंदर चली गई।

मैं बहुत देर वहीं बैठा रहा।

अब तक मेरे अंदर एक बार फिर वासना जागने लगी।

मैं फिर से वासनावश में गया जब उसकी माँ बहुत देर तक वापस नहीं आई।

वह मुझे देखकर थोड़ा हैरान हो गई और कहा, जाओ, कोई आ जाएगा।
मैंने लंड की ओर इशारा करते हुए कहा, “लेकिन ये फिर से खड़ा हो गया है, इसका क्या करूँ?”
उसने कहा कि बाथरूम में जाकर हिला लो।

मैंने कहा, “बस एक बार गांड दे दो, फिर चला जाऊंगा।”
वह रोने लगी।

लेकिन मैं जिद पर भी था।
मैंने उससे कहा कि मैं शायद एक बार करके ही जाऊँगा।
फिर वह पीछे मुड़ गई और कहा, “ठीक है, जल्दी करो जो करना है।”

मैंने तुरंत लंड निकाला और उसे पैंटी और पजामी नीचे करने को कहा।

वह मेरे सामने बेड पर हाथ टिकाकर पजामी और पैंटी निकाल दी।
मैंने पहले उसकी गांड में उंगली डालने का प्रयास किया, लेकिन वह पूरी तरह से नहीं गई।
वह अक्सर उचक रही थी।

इसे भी पढ़ें   पापा की लाड़ली बेटी बनी पापा की रंडी

फिर वह तेल लाया।
उसकी गांड के छेद में एक उंगली डालने के बाद मैंने उंगली पर तेल लगाया।
इस बार वह उचक गई, लेकिन उंगली अंदर चली गई।

मैंने दो बार ऐसा किया और उंगली को अंदर बाहर कर दिया।
वह धीरे-धीरे उंगली लेने लगी।

अब तक उसकी गांड के छेद में काफी तेल जा चुका था।

फिर मैंने तेल लगाकर लंड को गांड के छेद पर रखकर धक्का दिया।
वह जोर से रोने लगी और छटपटाते हुए रोने लगी।

वह खड़ी होकर लंड लेने से मना करने लगी और कहा, “मैं चूसकर तुम्हारा माल निकाल दूंगी, लेकिन गांड में नहीं लूंगी क्योंकि दर्द हो रहा है।”

फिर वह नीचे बैठ गई और मेरी गेंद को चूसने लगी।
उसके मुंह को भी चोदने लगा।

मैं पूरी उत्तेजना में उसके मुंह में लंड डाल रहा था, लेकिन लंड बाहर नहीं निकलता था।

मैंने उसको फिर से खड़ी करके चूत में लंड डालकर चोदने लगा।

उसकी पीड़ा बढ़ी और वह मुझे दूर करते हुए कहा, “फिर कभी कर लेना,” अब मेरी माँ आने वाली है, वह मुझे भी नहीं ले जाएगी। फुरसत में कभी आना।

मैंने कहा कि यह सिर्फ दो मिनट में होने वाला है।
फिर से मैंने उसकी चूत में अपना लंड डालकर उसे तेजी से चोदने लगा।

मैं उसकी कराहती चूत में चोदता रहा।

पांच मिनट की चुदाई के दौरान मेरा लंड फूट पड़ा और मैं उसकी चूत में अपना सारा माल डालने लगा।
माल छूटने पर मैंने लंड को बाहर निकाला।

वह कहती है, “ठीक है, अब तुम जल्दी से जाओ, मैं सब खुद साफ कर लूंगी।”
मैंने कहा, मेरा भी जल्दी साफ कर दो।
वह कपड़े से लंड धोने लगी।

Hot Girl Porn Kahani

मैंने कहा कि कुछ चूसकर साफ कर दो।
फिर उसने मेरे लिंग को भी चूसकर साफ किया।

ये कहानी भी पढ़े – मामी की बहन ने मुझे और मामी को सेक्स करते हुए देखा | Girl fuck story

तब मैं वहां से निकल गया और अपनी पैंट ऊपर की।

मैं पड़ोस की लड़की से चुदाई करता था।

प्रिय, कृपया अपने संदेश में मुझे बताएं कि आपको ये Hot Xxx Desi Girl Ki Chudai कैसी लगी।
नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स में देसी सेक्सी लड़की की चुदाई कहानी पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त कर सकते हैं।
मैं आपकी प्रत्येक प्रतिक्रिया का इंतजार करेंगे।

Related Posts

Report this post

मैं रिया आपके कमेंट का इंतजार कर रही हूँ, कमेंट में स्टोरी कैसी लगी जरूर बताये।

Leave a Comment