मेरी गांड चुदाई की पहली कहानी। Desi Gand Chudai Ki Kahani

Desi Gand Chudai Ki Kahani पढ़े। मैं बहुत गर्म हूँ। मेरी चूचियों और मटकती गांड पर मर्दों का ध्यान है। मैं खुश हूँ। मैं किसी भी लंड को अपने अंदर लेने को तैयार रहती हूँ।

नमस्कार दोस्तो, मैं खुश हूँ कि आपके सामने अपनी पहली सेक्स कहानी लायी हूँ. मैं आशा करती हूँ कि आप इसे पसंद करेंगे।

मेरी उम्र २२ वर्ष है। यह घटना तीन साल पहले हुई, जब मैं 19 साल की थी।

मेरी पिछली सेक्स कहानी

सगी मां के साथ मेरा पहला यौन संबंध। Apni Maa Ki Chudai Kahani

मैं 5 फुट 2 इंच लंबी हूँ और मेरा फिगर 34-30-36 है। मैं बहुत गर्म हूँ। भूखे कुत्तों की तरह लोगो की दृष्टिकोण मेरी चूचियों और मटकती गांड पर हैं।

वासना से भरी उनकी निगाह भी मुझे बहुत अच्छी लगती हैं। मैं भी ज्यादा से ज्यादा खुली हुई ड्रेस पहनकर मर्दों को रिझाने की कोशिश करती रहती हूँ। अब मुझे चुदवाना बहुत अच्छा लगता है।

मगर ये Desi Gand Chudai Ki Kahani तब की है जब मैं कुंवारी थी और मैंने किसी का लंड या उंगली भी नहीं देखा था।

मैं मेरे पापा के एक दोस्त की शादी में जा रही थी। हम सभी पापा के दोस्तों के घर गए। जिनकी शादी थी वे हमारे पापा के अच्छे दोस्त थे इसलिए हमारे पूरे परिवार को जाना पड़ा।

Gand Ki Chudai Kahani

मेरे परिवार में मेरी मम्मी और पापा हैं; मेरा भाई अधिकांश समय बाहर रहता है क्योंकि वह काम करता है। शादी में मैं और मेरे माता-पिता गए थे।

हम तीनों शाम को वहां पहुंचे। जब हम वहाँ पहुंचे तो माँ ने कहा कि बेटा हमे आने में देर हो गई है अब आराम करने का समय नहीं है, जल्दी से तैयार हो जाओ।

मैं जल्दी से शादी की तैयारी करने लगी। मैं शादी में जाने के लिए लैगी और स्लीव लैस टॉप पहनी हुई थी। इस कपड़े में मेरे दूध बड़े मस्त उठे हुए दिखाई देते थे। हमेशा की तरह, मर्दों की कामुक निगाहें मेरी गांड और चूचियों को देख रही थीं।

शादी का कार्यक्रम शुरू हुआ। बारात में लड़कों का डांस मैंने देखा। यह बहुत मनोरंजनपूर्ण था। मैं भी कुछ लड़कियों के साथ डांस की।

शादी में कुछ समय बिताने के बाद मैं छत पर चली गई। वहां घर के पीछे की तरफ अंधेरा था। जब मैं दीवार के पास गई तो एक लड़का सुसु कर रहा था। उसने फोन की लाईट जला दी, जिससे मुझे उसका लंड दिखाई दिया। उसने सुसु करने के बाद अपना लंड आगे पीछे करने लगा।

न जाने कैसे एक छोटा लकड़ी का टुकड़ा ऊपर से नीचे गिर गया।वह दीवार से पीछे हो गया जब उसने ऊपर की तरफ देखा।

जब मैं सीढ़ियों पर चढ़ने लगी, तो एक लड़का सीढ़ियों के नीचे खड़ा था। मैं उसे देख रहा था। मैंने सोचा कि यह वही लंड था जिसे मैंने अभी देखा था। मैंने उसकी तरफ नहीं देखा। मैं माँ के पास गई।

शादी का कार्यक्रम लगभग समाप्त होने लगा था। थकान से मैं सोने लगी। मुझे कुछ देर इधर-उधर घूमने के बाद नींद आने लगी, इसलिए मैंने अपनी माँ को बताया कि मुझे सोना है।

तो मेरी माँ मुझे एक कमरे में ले गई, जहां बहुत से बिस्तर थे। मम्मी ने दीवार के पास बिस्तर पर सोने को कहा। मैं दीवार से कुछ दूर सो गई।

सभी लोग फरवरी महीने में रजाई ओढ़कर सो रहे थे। कुछ बिस्तर खाली भी थे। मैं सो गई तो मेरी माँ लाइट बंद करके चली गई।

Indian Gand Ki Chudai Ki Kahani

जब मैंने रात को उठकर देखा कि कोई मेरे पीछे सो रहा था और मेरी जांघ पर हाथ लगा रहा था। डर से मैं हिली ही नहीं बस सोती रही।

वह कुछ देर बाद मेरे चूतड़ों को दबाने लगा लेकिन मैं सिर्फ दम साधे सोती रही।

थोड़ी देर बाद वह मेरे पैरों के बीच में अपना हाथ घुमाने लगा। उसका ये स्पर्श मुझे भयभीत और बहुत अच्छा भी लगा।

मेरी चूत पर अचानक उसका हाथ आने लगा। उसका हाथ मेरी चूत तक नहीं पहुंच पाया क्योंकि मेरे पैर एक दूसरे से चिपके हुए थे। मैंने अपना एक पैर आगे बढ़ाया जब उसने कुछ ज्यादा कोशिश की। उसने इससे पता लगाया कि मैं जाग रहा हूँ। बस वह लैगी के ऊपर से मेरी चूत मसलने लगा। फिर उसने पीछे से मेरी लैगी में हाथ डाला।उसने उठकर मेरी गांड दबाई और फिर मेरी चूत मसलने लगा।

अब तक उसके किए गए कामों से मेरी चूत गीली हो गई। वह कभी-कभी मेरी गांड के छेद पर उंगली घुमाता, कभी-कभी मेरे दाने को रगड़ता।

फिर उसने मेरी लैगी अचानक घुटनों तक उतार दी। मैं भी सीधा सो गयी। वह मेरी चूत को ऊपर से मसलने लगा। फिर उसने मेरा हाथ अपने लंड पर रखा। 6 इंच लंबा और 2 इंच मोटा लंड था। उसने मेरा हाथ पकड़ लिया और लंड पर आगे पीछे करवाने लगा।

उसका लंड मसलने में मुझे बहुत मजा आया। उसकी लंड की चमड़ी बहुत आराम से आगे पीछे हो रही थी, क्योंकि थोड़ा पानी उसके लंड से बहने लगा था। मैं उसके लंड को देखना चाहती थी लेकिन अँधेरा और झिझक के कारण मैं नहीं कर सकी।

कुछ देर बाद उसने हाथ हटा दिया और वह अपने लंड को मसलता रहा। थोड़ी देर बाद, वह नीचे को खिसक गया और मुझे अपनी तरफ कर लिया। उसने पैंटी को खींचकर मुझे पूरी तरह से नंगा कर दिया और मेरी टांगों को खींच लिया। नंगी होने के बाद उसने सामने से मेरी चूत चाटने लगा।

उससे चुत चटवाने में मुझे बहुत मजा आया। वह कभी-कभी जीभ डालकर मेरी चूत को चाटता और कभी-कभी दांतों से। अब तक मैं बहुत गर्म हो गई थी। मेरे पैर स्वचालित रूप से खुल गए और हवा में उठ गए। वह मेरी चूत को बुरी तरह चाट रहा था। मैं अचानक अकड़ गई। उसने मेरी चुत से पानी पी लिया।

वह अब मेरा सिर अपने लंड की ओर दबाने लगा। मैं उसकी इच्छा को समझ गई। मैं भी उसके लंड की ओर मुड़ गई। मैंने उसके लंड की चमड़ी अपने हाथ से पीछे की और उसके आगे का हिस्सा अपने मुँह में लेकर उसे चूसने लगी। लंड थोड़ा नमकीन था।

जब मैं जोर से उसके लंड को चूस रही थीं, उसने मुझे रोका और ऊपर की तरफ खींच लिया। अब उसने मुझे सामने से घेर लिया। मेरी चूत में उसका लंड था। फिर उसने मेरे मम्मों को चूसा और मेरा टॉप उतारा। मैं उसका लंड अपनी चूत में रगड़ रही थीं। तभी मेरी चुत के छेद में उसका लंड आ गया। उसने दबाव दिया जैसे ही मैंने लंड को छेद से लगाया। मेरी चुत की फांकों को उसके लंड की टोपी ने चीर डाला। मुझे इतना दर्द हुआ कि मैं अचानक उठ गई और उसका लंड बाहर निकल गया।

तुमने पहले कभी ऐसा किया है? उसने फुसफुसाकर पूछा।

मैंने धीरे-धीरे कहा कि मैंने ऐसा नहीं किया।

ठीक है, उसने कहा।

वह फिर से मेरी चूत पर लंड रगड़ने लगा। लंड से चुत का दाना रगड़ने में मुझे बहुत मजा आया। तभी उसने मेरी चूत पर थूक लगाकर अपना लंड पकड़ा।

वह चुत में लंड डालने की कोशिश करने लगा। पहले से ही मुझे डर था कि दर्द होगा। मैं ऊपर चढ़ गई और उसका लंड फिर से फिसल गया।

मैंने उससे कहा, “अंदर मत डालो, ऊपर से मजा करो।”

ठीक है, उसने कहा।

फिर उसने मुझे पीछे से घेर लिया और अब वह मेरी गांड में लंड रगड़ने लगा। उसके लंड मुझे बहुत मजा आ रहा था।

मुझे गांड हाथ से खोलने को कहा। वह मेरे छेद पर लंड का सुपारा रगड़ने लगा जैसे ही मैं अपनी गांड खोली। मैं बहुत खुश थी।

उसने फिर से मेरी गांड के छेद पर थूक लगाकर रगड़ने लगा। मैंने सोचा कि ये सिर्फ लंड रगड़ेगा। मैं उसके खुले लंड का मजा लेते हुए आराम से गांड को ढीली कर रही थी। तब उसने अपनी उंगली से मेरी गांड में क्रीम लगाया।

मैंने पूछा कि आप इन पर क्या लगा रहे हैं?

कुछ नहीं, बस इससे मजा ज्यादा आएगा, उसने कहा।

Antarvasna Xxx Gand Chudai Kahani

लंड घिसने के बाद उसने मुझे एक टांग आगे करने को कहा। जैसे ही मैंने अपनी टांग आगे बढ़ाया, उसका लंड मेरी गांड के छेद पर खेलने लगा। उसकी लगाई हुई क्रीम मुझे बहुत अच्छा लगा।

मुझे पता नहीं था कि क्या होने वाला था, इसलिए मैंने अपनी गांड को पूरी तरह ढीला छोड़ दिया। मैं सिर्फ गांड में दर्द महसूस करने लगी थी।

अपनी गांड को खोले हुए उसके लंड के सुपारे से मैं खुशी से मजा ले रही थी। वह अचानक मेरी गांड में अपने लंड का टोपा डालने लगा। उसने एक हाथ से मुझे पकड़ लिया और दूसरा हाथ मेरे मुँह पर रख दिया, इससे पहले कि मैं चीख या चिल्लाऊँ। मैं असहनीय दर्द महसूस कर रही थी। किंतु उसका लंड मेरी गांड में काफी अंदर था।

वह मुझे चूमते हुए धीरे-धीरे अपनी कमर हिलाता रहा।

जब मेरा दर्द कुछ कम हुआ तो उसने मुझे छोड़ दिया और मेरे एक दूध को मसलने लगा। मुझे इससे मज़ा आने लगा और मैंने गांड ढीली छोड़ दिया।

उसी समय उसने एक तीव्र धक्का मारा। उसका लंड अंदर घुस गया। उसके हाथ मेरी चूची को मजा दे रहे थे, हालांकि मुझे बहुत दर्द हो रहा था। मैं दुःख और खुशी दोनों के मिश्रण में मग्न थी।

थोड़ी देर बाद उसकी गति कम होने लगी। मुझे लगता था कि उसका लंड मेरी गांड में एक डंडे की तरह जा रहा था।

अब भी मुझे मजा आ रहा था। मैं भी उसका साथ देकर गांड हिला रही थी। थोड़ी देर बाद उसने धक्कों को तेज कर दिया। इस समय मुझे बहुत अच्छा लगा। पहली बार मैंने अपनी गांड में एक लंड डाला था। अचानक उसने मेरी गांड को बहुत जोर से पीटा। तभी उसने एक और कठोर झटका मारा और पूरा लंड मेरी गांड में डाल दिया।

मैं अपने अंदर रस की पिचकारी महसूस कर रहा था। फिर वह रुक गया और उसका लंड ढीला हो गया।

अब उसने मुझे सीधा करके मेरी चूत चाटने शुरू किया। मैं फिर से झड़ गई। उसने फिर से मेरी गांड मारी और मेरी चूत पर लंड रगड़ा।

मैंने सुबह उठकर देखा कि वह पहले ही चला गया था। सुसु करते हुए उसने कुछ देर बाद मुझे देखकर मुस्कुराया। रात को मुझे पता चला कि इसने ही मेरी गांड मारी थी।

उसने संकेत दिया कि चुत चुदाई का समय आ गया है। मैंने हंसते हुए नजरें नीचे कीं।

प्रिय लोगों, आप सभी को मेरी पहली Desi Gand Chudai Ki Kahani पसंद आई होगी।

मुझे मेल करके जरूर बताएं; मैं जल्द ही आपके लिए अपनी चुत चुदाई की कहानी लाऊंगी।

chudaikahani@gmail.com

Related Posts

Leave a Comment