बहन और मैंने बारिश में चुदाई किया | Bhai Bahan Xxx Chudai Desi Kahani

मेरी बहन और मैं बारिश में चुदाई करते हुए Bhai Bahan Xxx Chudai Desi Kahani कहते हैं। या दूसरे शब्दों में, बारिश के दौरान स्वर्गीय आनन्द का अनुभव कर रहे थे।

नमस्कार, मैं मन पांडे हूँ।
मैं एक बार फिर अपनी यौन कहानी के साथ आया हूँ।

इस Bhai Bahan Xxx Chudai Desi Kahani में मैं और मेरी बहन आर्या (जिसे मैं प्यार से आर्या कहता हूँ) एक दूसरे से प्यार करते हैं। हमने बचपन से ही साथ खेले, खेले और बड़े हुए।

Desi Bahan Ki Jordaar Chudai Kahani

हम दोनों बहुत खुले दिमाग वाले हैं और हर तरह की बात करते हैं। इसलिए शायद हमें कभी प्रेमी या प्रेमिका की जरूरत नहीं लगी।
और इसकी आवश्यकता क्यों थी..। जिसकी बहन इतनी खूबसूरत, सुंदर और सुंदर हो..। उसने बाहर मुँह मारा क्यों?

यदि आप भी अपनी कहानी इस वेबसाइट पर पब्लिक करवाना चाहते हैं तो नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके अपने कहानी हम तक भेज सकते हैं, हम आपकी कहानी आपके जानकारी को गोपनीय रखते हुए अपनी वेबसाइट पर प्रकाशित करेंगे

कहानी भेजने के लिए यहां क्लिक करें ✅ कहानी भेजें

मैं पहले अपनी बहन के बारे में कुछ बताऊँगा।

मेरी बहन सुंदर है। उसकी नशीली आंखों को देखकर मैं भी नशे में आ जाता हूँ।
सुर्ख लाल गुलाब के फूलों की तरह उसके रसभरे होंठों को देखकर मुझे अभी चूसने की इच्छा होती है।
36 इंच उठे मेरी बहन के बूब्स सुंदर लगते हैं। देखते हुए मुझे लगता है कि मुझे तुरंत पकड़ लेना चाहिए।
उसकी कमर 29 इंच की हैं, और गांड 36 इंच की है। उठे हुए सुंदर गोल चूतड़ों को देखकर मुझे लगता है कि मैं अभी दांत से काट दूँगा। पर किसी तरह नियंत्रण रखता हूँ।

कुल मिलाकर, मेरी बहन पूरी तरह से मूर्ख है, जिसे देखकर बुड्ढे के लंड खड़े हो जाते हैं और उनमें युवापन का उत्साह आ जाता है।

अपनी बहन आरू, जिसे मैं बहुत प्यार करता था, मुझे भी पसंद करती थी।
पर हमारे समाजिक मूल्यों और नियमों ने हमें कहीं नहीं जाना था।

लेकिन ये भी सच है कि अगर आप किसी को बहुत चाहते हैं, तो हर कोई उसे आप से मिलाने की कोशिश करेगा। ऐसा ही हमारे साथ हुआ।

हम एक दिन छत पर खड़े होकर बातें कर रहे थे।
मनु भाई, तुमने प्रेमिका क्यों नहीं बनाई? उसने अचानक पूछा।
मैं तपाक से कहा, “तुम्हारी जैसी बहन के होते हुए किसी और के पीछे जाऊँगा..।” ये मेरे साथ नहीं हो सकता।

वह मेरी इस बात से थोड़ा हैरान थी, लेकिन खुश थी कि उसका भाई उसी पर मर गया।

ठीक है, यदि तुम मुझे इतना ही चाहते हो, उसने कहा, मौके पर..। तो कृपया मुझे बताओ कि आप अभी मेरे साथ क्या कर सकते हैं!
मैंने कहा, “मैं सिर्फ बता नहीं सकता”..। मैं भी करके दिखा सकता हूँ।

उसने कहा: करो और दिखाओ। लेकिन करते वक्त समर्थन भी देना होगा।
मैंने उत्तर दिया: ठीक है।

Aru ने ऊपर से नीचे तक लैगी पहनी हुई थी। मैं उसके पास गया। मैंने पहले उसकी आंखों की तारीफ की जब मैंने उसके दोनों हाथों को अपने कंधे पर रखा और अपने हाथों को उसके कमर पर रखा।

इसे भी पढ़ें   भाभी समझकर भैया ने मुझे चोदा। Xxx Hot Brother Sister Chudai Kahani

मैंने कहा कि ये तुम्हारी नशीले आंखें हैं, मैं इन्हें देखते ही डूब जाता हूँ।
मैंने ऐसा कहकर उसकी दोनों आंखों को बार-बार किस किया।

उसके सांस थोड़ा तेज हो गए।

Kamuk Bahan Ki Sexy Story

फिर मैं उसके एक गाल पर अपने होंठ घुमाते हुए जीभ से उसके गाल को चाटने लगा।
आरू मेरी हरकतों से पूरा मज़ा ले रही थी, अपनी आंखें बंद करके।

उसकी पकड़ मेरे लिए और तेज हो गई, जब मैं उसके गाल चाटते हुए उसके गालों को अपने मुँह में भरकर चूसने लगा।

फिर मैं उसके लाल सुर्ख गुलाबी होंठों की ओर बढ़ा, जो ऐसे लग रहे थे जैसे दुनिया का सारा रस इसी के होंठों में है।
मैं उसके दोनों होंठों को अपने होंठों के बीच में रखकर प्यार से चूसने लगा।
हम दोनों और अधिक उत्साहित होने लगे।

उसके हाथ मेरे बालों और गर्दन में चल रहे थे और मैं उसकी गांड को दोनों हाथों से मसल रहा था।
मैं उसके होंठों को रसगुल्ले से चूस रहा था।

मैं कभी-कभी अपनी जीभ उसके मुँह में डालकर उसके होंठों को चूस रहा था। वह कभी ऐसा करती थी।

हम एक दूसरे में पूरी दुनिया को भूल गए।

नीचे से आवाज आई: “आरू, मनु, क्या कर रहे हो?” नीचे चलो।

हम एक दूसरे से न चाहते हुए भी अलग हुए और अपने को ठीक करते हुए नीचे आ गए, जैसे हमारा सपना टूट गया हो। हमारे माता-पिता वहां हमारा इंतज़ार कर रहे थे।

रात को हम सभी ने खाना खाया और सो गए।

रात भर न मैं और न आर्रू सोए।
हम दोनों डरकर चुपचाप सो गए।

मैं सुबह उठने पर आरू ने बताया कि आज घर में कोई नहीं है। मम्मी पापा नौकरी छोड़ रहे हैं। शाम तक लौटेंगे। तुम जल्दी से स्वस्थ हो जाओ..। फिर आप दोनों दिन भर मज़ा लेंगे। देखो न आज बादल भी हैं..। हम दोनों बारिश का आनंद लेंगे।

अपनी बहन की बातें सुनकर मैं भी उत्तेजित हो गया और हम जल्दी ही खाने बैठ गए।

आज का नाश्ता कुछ अलग था। मेरी बहन आरू ने आज मुझे खाना बनाया। वह अपने हाथ से ब्रेड उठाने के बजाय उसे मेरे मुँह में डाल रही थी। जिससे हम एक दूसरे के होंठों को ब्रेड के साथ चूस रहे थे और उसके होंठ मेरे होंठों में लग रहे थे।

तब तक बारिश भी हो गई थी।
आरू और मैं इसे देखकर खुश हो गए..। क्योंकि हम दोनों बारिश को बहुत पसंद करते हैं और हम साथ में थे

Aru ने कहा, “भाई, बारिश में रोमांस करते हैं।” बहुत अच्छा होगा।
मैं भी कहा कि चलो।

हम छत पर चले गए।

मैं सिर्फ निक्कर और बनियान पहने हुए था, और आरू टॉप और हाफ लैगी पहने हुए थे।

इसे भी पढ़ें   पार्क में रोमांस

बारिश में भीगते हुए छत पर आरू सुंदर लग रही थी। उस समय उसे देखने से किसी का भी मन बिगड़ सकता था।

Randi Bahan Ki Vasna Chudai Ki Kahani

बारिश में भीगते ही उसका शरीर पूरी तरह से उभरने लगा। उसकी तनी हुई चुचियां मानो एक खुला निमन्त्रण दे रही थीं कि मुझे मसलकर चूस लो। उसकी उठी हुई गांड बहुत सुंदर लग रही थी।

Aro जैसे ब्रा और पैंटी नहीं पहनी थी।

तुमने अंदर कुछ पहना नहीं है, मैंने उसे अपनी ओर खींचकर उसके होंठों को चूसते हुए कहा।
नहीं, उसने इठलाकर कहा। कोई आवश्यकता नहीं थी।

बाद में बारिश में भीगते हुए मैं अपनी बहन आरू को गोद में उठा लिया और उसने मुझे कसकर पकड़ लिया।

मैं अपनी बहन को गोद में उठाकर उसके भीगे हुए चेहरे को चाटने लगा। मैं उसके होंठ या गाल काटता रहता था।

तब मैं धीरे-धीरे उसकी गर्दन को चाटने लगा, साथ में उसके टॉप में हाथ डालकर उसके एक चूचे को मसल रहा था।
मेरी बहन आरू भी पूरी तरह से भावुक हो गई।

तब मैंने उसे छत पर लिटा दिया और एक हाथ से उसके कपड़े के ऊपर से उसके एक चुचे को मसलने लगा और दूसरे हाथ से उसके मुँह से उसके दूसरे मम्मे को काटने लगा।

वह अपने दूसरे हाथ से लैगी के ऊपर से ही उसकी बुर को मसलना शुरू कर दिया।

मेरी बहन आरू मेरी इन तीनों क्रियाओं से आग में घी बना रही थी।
वह एक जलहीन मछली की तरह तड़पती रही।

अब मैं अपनी बनियान और निक्कर निकालकर पूरी तरह से नंगा हो गया, और मैंने अपनी बहन की लैगी और टॉप भी निकाल दिया।

अब हम दोनों के बीच कोई संपत्ति नहीं है।

मैं तुरंत आरू के मदमस्त गोरे बदन पर चढ़ गया और पागल हो गया। उसका मुंह बुरी तरह चूसने और मसलने लगा।

मैं उसके मम्मों को अपने हाथों में पकड़े हुए नीचे मुँह लाकर उसके नाभि पर अपनी जीभ फिराने लगा।
इससे वह और अधिक उत्साहित हो गई और जोर से सिसकारियां भरने लगी।

फिर मैं उसकी कमर को हाथ में पकड़कर उसकी बुर तक पहुँचा।
उसकी बारिश में भीग रही बुर को देखकर मेरे मुँह में पानी आ गया. मैंने तुरंत दोनों फांकों को अपने मुँह में भरकर चूसने लगा।

मेरे इस अचानक हमला ने आरू को हिला डाला। उसने मेरे सर को अपनी बुर पर दबाने लगा और सिसकारियां भरने लगी।

आह… उम्मह… कम ऑन फ़क मी मनु भाई और जोर से.. आई।उसकी ये आवाजें मुझे और अधिक उत्साहित करती थीं।

तब आरू ने कहा, “भाई, मेरे मुँह में अपना लिंग डाल दो।” मैं तुम्हारा लिंग चूसता हूँ..। और तुम मेरी गांड चूस लो।

हम दोनों 69 की स्थिति में गिर पड़े।

Indian Brother Sister Sex Xxx Story

अब मेरी बहन मेरे लिंग में था। मैं उसकी बुर को रसगुल्ले की तरह चूस रहा था और वह उसे लॉलीपॉप की तरह चूस रही थी।

इसे भी पढ़ें   पूनम का चाँद- हिंदी चुदाई कहानी

थोड़ी देर बाद आरू ने कहा: “भाई, अब रहा नहीं जा रहा है।” पेल अपना लिंग..। अपनी बहन के गुप्तांग में।

मैं सीधा बैठ गया और अपनी आरू की टांगों के बीच में बैठ गया, उसके कमर पर टांगें रख दीं।
फिर एक झटके में उसकी बुर पर अपना लंड पिलाया। मैंने एक बार में अपना पूरा लंड उसकी बुर में डाल दिया।

उसने जोर से चिल्लाकर कहा, “मेरी माँ मर गई।” बहनचोद, तुम्हें बुरा लगेगा क्या?
उसने कहा कि वह किसी की बुर में ऐसे ही लंड डाल देगा, इसलिए मैं उसके मुँह से गाली सुनकर थोड़ा हैरान था।

लेकिन मैं धीरे-धीरे अपना लंड उसकी बुर में डालकर उसे चोदने लगा।
उसने भी अपनी गांड उठा उठा कर बुर चुदवाया।

मैंने उससे कहा, “आरू, अब तुम कुतिया बन जाओ”, कुछ देर ऐसे ही चोदने के बाद। मैं पीछे से चोदूँगा।

वह तुरंत कुतिया बन गई, मानो वह इसके लिए तैयार हो गई होती।
और मैं पीछे से उसकी बुर को पूरी स्पीड में चोदने लगा।
वह भी सेक्सी सिसकारियों से चुदने लगी।

थोड़ी देर चुदाई के बाद मैंने कहा, “आरू, मेरा निकलने वाला है।”
“मेरा भी भाई है,” उसने कहा। थोड़ा तेज करो।

मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी।
जोर से ठप ठप की आवाज आई।

थोड़ी देर में हम एक दूसरे का पूरा हिस्सा बन गए।
मैं आरू की चूचियां पकड़कर उसके ऊपर लेट गया, मेरी स्पीड भी धीमी हो गई।

थोड़ी देर बाद वह उठी और मुझे अपनी बांहों में कस लिया।
उसने मुझे किस करते हुए कहा, “भाई, धन्यवाद।” बहुत अच्छा लगा।

हम बारिश में एक साथ लेटे रहे।

फिर कुछ समय बाद हम नीचे गए..। कपड़े बदले, खाना खाया और एक ही कमरे में एक दूसरे को किस करते हुए सो गए।

हमारी चुदाई, कैसे और कब हुई, इसके बाद भी जारी रही..। अगली Xxx कहानी में लिखूँगा।

तब तक, आपको Bhai Bahan Xxx Chudai Desi Kahani कैसा लगा, हमें एक पत्र लिखकर अवश्य बताएं।

Read More Sex Story…

मेरी माँ की चूत चुदाई कहानी – 1 | Maa Ki Chut Xxx Kahani

मामा की बेटी बनी मेरे लंड की दीवानी | Mama Ki Beti Ki Xxx Chudai Kahani

Related Posts

Report this post

मैं रिया आपके कमेंट का इंतजार कर रही हूँ, कमेंट में स्टोरी कैसी लगी जरूर बताये।

Leave a Comment