Suhagrat Girl Sex Kahani – ससुर और देवर की रंडी बना दिया सास ने

Suhagrat Girl Sex Kahani – मेरा नाम किस्मत है. मैं अपने माता-पिता की इकलौती संतान हूं। मेरे माता-पिता एक बच्चा चाहते थे लेकिन शादी के बारह साल बीत गए लेकिन उनके कोई बच्चा नहीं हुआ। एक दिन खाना बनाते समय माँ को चक्कर आ गया और वे गिर पड़ीं। उन्हें तुरंत अस्पताल ले जाया गया. सुहागरात गर्ल सेक्स स्टोरी – Antarvasna हिंदी सेक्स स्टोरीज

जांच के बाद डॉक्टर ने जो बताया उसे सुनकर हर कोई हैरान रह गया। पापा ख़ुशी से पागल हो गये. जो पिता बनने वाला था. समय आने पर मेरी माँ ने मुझे जन्म दिया। माँ और पापा उस खूबसूरत गोरी लड़की को देखकर बहुत खुश हुए।

सौभाग्य से उन्हें एक बच्चा हुआ और उन्होंने मेरा नाम किस्मत रखा। जब मैं केवल सोलह साल की थी, तभी मेरे लिए रिश्ते आने शुरू हो गए। कम उम्र होने के कारण उनके पिता उन्हें मना करते रहे। ऐसे ही दो साल बीत गये. जब मैं अठारह साल की हुई तो मैं शादी के बारे में सोचने लगी.

लेकिन लगातार मना करने के कारण तब तक रिश्ते आने बंद हो गए थे. इसलिए जब मेरे ससुराल वालों के पास प्रस्ताव आया तो उन्होंने बिना सोचे-समझे हां कह दिया। मेरे ससुराल वालों ने शादी में एक पैसा भी खर्च नहीं किया. मेरे पिता ने खुशी-खुशी सारा खर्च उठाया।

यदि आप भी अपनी कहानी इस वेबसाइट पर पब्लिक करवाना चाहते हैं तो नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके अपने कहानी हम तक भेज सकते हैं, हम आपकी कहानी आपके जानकारी को गोपनीय रखते हुए अपनी वेबसाइट पर प्रकाशित करेंगे

कहानी भेजने के लिए यहां क्लिक करें ✅ कहानी भेजें

उसने दहेज मांगा और दिया भी. ससुराल वालों की हर फरमाइश पूरी की. मैं विदा होकर ससुराल आ गयी. लेकिन मेरे पति का प्यार मेरी किस्मत में नहीं था. वह किसी और को चाहता था लेकिन उसके परिवार ने उसे मुझसे शादी करने के लिए मजबूर किया।

शादी की पहली रात को मुझे बिना छुए घर से निकल कर अपनी प्रेमिका के साथ सुहागरात मनाने चले गए। मैं रात भर रोती रही। मेरे ससुरालवालों ने मेरे मायके की दी हुई हर एक चीज एक कमरे में सहेज कर रखी । वो सब चीजे मेरी ननद के शादी में उसे देनेवाले थे।

शादी के लिए दहेज के लिए पैसे जमा करने थे। मुझे मेरे पापा से पैसे वसूल करने के लिए परेशान करने लगे। मेरे मना करने पर मेरी सास ने मुझे एक कमरे में बंद कर दिया। और दिनभर ना खाना दिया ना पानी। रात को मेरी सास ससुर कमरे में आए। दोनो ने मिलकर मेरे पूरे कपड़े उतार दिए।

मैने अपने आप को बचाने की पूरी कोशिश की, लेकिन उन दोनो के सामने मैं हार गई। मेरे ससुर ने मुझे बिस्तर पर पटका। और दोनो हाथो से मेरी टांगें फैला कर उनका मोटा चौडा लन्ड मेरी कुंवारी चूत में पेल दिया। दर्द के मारे मेरी चीख निकल गई। मैं रोने लगी।

Read it also: सुहागरात के दिन सास ने दूसरे मर्द से चुदवाया

हाथ जोड़कर विनती करती रही की मुझे बहुत दर्द हो रहा है। लेकिन उन्हे दया नही आई। मेरे ससुर ने उनका वीर्य मेरी चूत में गिरा दिया। मेरे खून से सना लन्ड जब मेरी चूत से निकाला तब वो बड़े खुश हुए।

“बहू ,अब मैंने तुम्हारी चूत की सील तोड़ दी है तो आज से तुम मेरी रण्डी बन गई हो।”

उस रात मेरे ससुर ने रात भर मुझे जम कर चोदा।

सुबह मेरी ननद ने पूछा, “भाभी आप ऐसी अजीब सी क्यों चल रहीं हो?”

“रात भर तेरे बापू से चुदवाती रही है उसका नतीजा है। कल रात मैने इसे रंगे हाथ पकड़ा है। जब तक इस के चूत की आग ठंडी नहीं हुई, ये तुम्हारे बापू से चुदवाती रही। रात देर तक जब ये सोने नही आए तो मैं इन्हें ढूंढने लगी। ऊपरवाले कमरे का दरवाजा थोड़ा खुला दिखा। कमरे की बत्ती भी जल रही थी।“

“बत्ती बुझाने मैं ऊपर गई तो मैने देखा कि ये रण्डी बेशर्मी से अपने ससुर से चुदवा रही थी। मुझ से देखा न गया। तो मैं अपने कमरे में आ कर सो गई। ये जब सुबह आए तब इतने थके हुए थे कि सो गए और अबतक सो ही रहे है। और ये महारानी टांगे फैलाकर चल रही है।”

मेरी सास की बातें सुन मेरे देवर ने कहा, “भाभी अगर आप के चूत में इतनी खुजली हो रही थी, तो मुझ से चुदवाती। क्यों पापा को इस उमर में थकाती हो। और अगर मुझ से भी आप के चूत की आग ठंडी ना हुई तो मेरे दोस्तों से चुदवा लेना। उनके पैसे जो रंडीखाने में खर्चा होते है वो भी बच जायेंगे और आप को भी जी भर के चुदाई का मजा मिलेगा।”

“अरे पागल हो गया क्या। दोस्तो को क्यो मुफ्त में चोदने देंगे। जो पैसे रण्डी को देते है उससे कम लेकर इसे चोदने देंगे। कम से कम घर का खर्चा तो आराम से चलेगा।” मेरी सास ने देवर से कहा।

देवर को सासू मां की बात पसंद आ गई। वो बोला,” मां पहले मैं तो चोद कर देख लूं कि भाभी के चूत में कितना दम है। फिर दोस्तों से चुदवाऊंगा।”

नाश्ता करके जब सब चले गए तब सास ने पूछा, “क्यों बहू, कल रात से कुछ सबक सीखा या नहीं। अगर सीखा है तो अपने बाबूजी से दस हजार लेकर आ जाओ।”

मैं पापा के घर गई तब उन्होंने कहा कि फिलहाल उनके पास सिर्फ तीन हजार है। बाकी के सात कल ले जाना। मैने तीन हजार सासू मां के हाथ में रखे और पापा ने जो कहा वो बता दिया। ये सुनते ही वो भड़क गई और ससुर जी को सारा किस्सा बढ़ा चढ़ा कर बोली। और कहा आज इस रण्डी को अच्छा सबक सिखाओ।

उस रात मेरी सास, मेरे ससुर और देवर मेरे कमरे में आए। मेरे सास ने दरवाजा बंद कर दिया। ससुर ने मेरे कपड़े उतारकर नंगा किया। और बिस्तर पर लिटा कर मेरे चूत में अपना लन्ड डाल दिया। अचानक चूत में लन्ड डालने के कारण मुझे बहुत दर्द हुआ।

लेकिन ससूर जी पर मानो जवानी छा गई थी। वो आधा घंटा चोदने के बाद वो मेरी चूत में झड़ गए। जैसे ही उन्होंने मेरी चूत से लन्ड बाहर निकाला, मेरे देवर ने उसका खड़ा लन्ड मेरी चूत में पेल दिया और जम कर चोदने लगा।

ससुर जी ने मेरी चूत में जो पानी छोड़ा था उस कारण देवर के चोदने से ज्यादा तकलीफ नहीं हुई। बीस मिनिट बाद वो भी मेरी चूत में झड़ गया। तब तक ससुर का लन्ड तन कर खड़ा हो गया। वो मेरे ऊपर चढ़कर फिर से चोदने लगे।

मेरी सास ने कहा, “मैं सोने जा रही हूं। इस रण्डी को रातभर इतना चोदो की कल ये खड़ी न होने पाएं।”

दोनो बारी बारी मुझे चोदते रहे। थकान के कारण और आठ इंच लंबे और चार इंच चौड़े ससुर और देवर के लन्ड ने मेरी चूत की जो तबाही मचाई उस कारण मैं बेहोश हो गई, लेकिन उन्हे दया न आई। हैवानी हवस में आकर उन दोनो ने ने चोद चोद कर मेरी चूत का भोसड़ा बना डाला। दूसरे दिन मै बड़ी मुश्किल से चल पा रही थी। “Suhagrat Girl Sex Kahani”

“देख लिया ना बहू हमसे गद्दारी करने का नतीजा?”

तभी मेरे पापा आए और उन्होंने बचे हुए सात हजार मेरे सास के हाथ में दिए।

जब उन्होंने मुझे लंगड़ा कर चलते देखा तो परेशान होकर पूछा, “बिटिया क्या हुआ? कल जब घर से गई तो ठीक थी ।आज क्यों लंगड़ा रही हो? “

“आज सुबह बाथरूम में उस का पैर फिसल गया।” मेरी सास ने कहा।

“ज्यादा चोट तो नही आई न बिटिया?”

“नही, नही, सिर्फ जांघ लचक गई है। तेल से मालिश कर दूंगी तो ठीक हो जाएगी।” सासू मां ने कहा।

“आप इतना ख्याल रखते हो मेरी बिटिया का ये जानकर मुझे बहुत खुशी हुई।”

“अरे मुझ से ज्यादा बहू का खयाल तो ये रखते है, है ना जी?” मेरी सास ने ससुर जी से पूछा।

“मैं तो बहू को खुश रखने का हरदम प्रयास करता हूं। मुझ से खुश तो हो ना बहू?” ससूर जी ने पूछा।

मैने हां में गर्दन हिला दी।

इतने में देवर ने आकर पकड़ लिया और कहा, मैने भी तो खयाल रखा है आप का। सही कहा न भाभी।”

मैने फिर से हां में गर्दन हिला दी। और करती भी तो क्या। मेरे पापा की आंखे खुशी से भर आई । उन्होंने कहा, मेरी चिंता मिट गई है। आप लोग ऐसे ही मेरी बिटिया का खयाल रखिए। उन्होंने आंसू पोछते हुए कहा।

जैसे ही पापा चले गए मेरे ससूर जी ने कहा, “बहू तेरे पिताजी ने तो स्वयं हमे तुम को चोदने का लाइसेंस दे दिया है। सुना नही तुमने उन्होंने कहा है, “मेरी बेटी का ऐसा ही खयाल रखो। और तुम्हे तो मालूम है हमने कैसा खयाल रखा।”

मैं क्या बताती पापा को कि सात हजार देरी से देने के कारण उन के बेटी ने कितनी बड़ी कीमत चुकाई है। उस दिन के बाद ससुर जी मेरे ही कमरे में सोने लगे। और रात भर मेरे चूत का मजा लेने लगे। अब तो मुझे भी ससूर जी से चुदवाना बहुत अच्छा लगने लगा है।

वो मेरे कपड़े उतारते। फिर मेरे मम्मो को सहलाते। मेरे चूचियों को चूसते। जब वो चूची चूसते तब दो उंगलियां मेरे चूत में डालकर पहले धीरे धीरे अंदर बाहर करते फिर उन्हे गोल गोल घुमाते। बाद में जल्दी जल्दी हाथ चलाते।

जब उंगलियां पूरी चूत के अंदर जाती तो हाथ का पंजा मेरी चूत से टकराता है, तो फट फट की आवाज आती है। मानो उन का हाथ और मेरी चूत मिलकर ताली बजा रहे हो। जब जोर जोर से उंगलियां चलाते तो फट फट की आवाज कमरे में गूंजने लगती।

जब चूत गीली हो जाती है तो वो फच फच आवाज करने लगती है। जिसे सुनकर ससूर जी लन्ड और तन जाता। उंगलियां चूत में पूरी अंदर घुसाने के बाद वो उन्हें ऊपर की ओर दबाते है ,तब मेरा पानी चूत से फव्वारे जैसा छूटता है। ये देख कर वो खुश हो जाते है। बार बार इसे दोहराते और चूत से छूटने वाले फव्वारों को देखकर वो मुस्कुराते है।

वो कहते है, ” ये क्या बात हुई बहू? अभी तक मेने मेरा लन्ड तुम्हारी चूत में डाला भी नही और तुम बार बार झड़ रही हो।”

मैं शर्मा के कहती,”क्या करूं बाबूजी आप इतनी मस्त उंगलियां चलाते है कि चूत मस्त हो जाती है और मेरे बस में नहीं रहती।”

वो उंगलियां मेरे चूत में बंदूक की गोली समान तेजी से अन्दर डालते और झटके से बाहर निकालते । तब मुझे जो मजा आता वो मैं बता नहीं सकती। मेरी चूत जब अच्छी तरह से गीली हो जाती तब वो अपना लन्ड मेरी चूत में डाल कर जमकर चुदाई करते है। “Suhagrat Girl Sex Kahani”

दंड बैठक और व्यायाम के कारण उनका शरीर कसा हुआ है। आधा घंटा तो वो आराम से मुझे चोदते है। उस आधे घंटे में मुझे इतना मजा देते है कि मै बार बार झड़ जाती हूं। औसतन आदमी दस से बारह मिनिट में झड़ जाते हैं। लेकिन ससुर जी कभी कभी 45 मिनिट तक मेरी चूत की ठुकाई करते है तब कही जाकर मेरी चूत को अपने पानी से लबालब भर देते है।

जब से मैंने मेरे ससूर जी के तीन बेटों को जन्म दिया है तब से मेरी साख बढ़ गई है। मेरे तीनों बेटों के जन्म पत्री और आधार कार्ड मे मैने उनके पिता का अर्थात मेरे ससूर का नाम दर्ज किया है। मेरी दिली ख्वाहिश है वो मुझे यूं ही चोदते रहे और मैं अपनी चूत से उनके कम से कम ग्यारह बच्चे पैदा करूं।

दोस्तों आपको ये Suhagrat Girl Sex Kahani मस्त लगी तो इसे अपने दोस्तों के साथ फेसबुक और Whatsapp पर शेयर करे……………..

Related Posts

मैं रिया आपके कमेंट का इंतजार कर रही हूँ, कमेंट में स्टोरी कैसी लगी जरूर बताये।

Leave a Comment