कार में भाभी और बहन की चुदाई | Xxx Bhabhi Car Hindi Sex Stories

Xxx Bhabhi Car Hindi Sex Stories में पढ़ें। हमारे चार बच्चे छोटे होने के कारण भाभी को मेरी गोद में बैठना पड़ा । भाभी की गांड मेरे लंड से चुभने लगी। तब क्या हुआ?

नमस्कार, मैं दीप राइटर हूँ, आपका दोस्त।
आज मैं आपके सामने अपनी Xxx Bhabhi Car Hindi Sex Stories बताने जा रहा हूँ।

हमारे परिवार में छह सदस्य हैं। मेरे माता-पिता, भाई गौरव, भाभी रेणु और बहन आकांक्षा हैं।

Indian Bhabhi Ki Hindi Sex Story

मेरी भाभी रेणु है, और वे बहुत सेक्सी हैं।
उनका शरीर भरा हुआ है..। उनका वजन 34-30-36 है।

यदि आप भी अपनी कहानी इस वेबसाइट पर पब्लिक करवाना चाहते हैं तो नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके अपने कहानी हम तक भेज सकते हैं, हम आपकी कहानी आपके जानकारी को गोपनीय रखते हुए अपनी वेबसाइट पर प्रकाशित करेंगे

कहानी भेजने के लिए यहां क्लिक करें ✅ कहानी भेजें

वे बहुत सुंदर हैं, लेकिन उनका रंग सांवला है। पूरी तरह से विपाशा लगती है।

Xxx कार सेक्स कहानी कुछ दिन पहले हुई है।
हम सब एक व्यक्ति की शादी में गए थे।

हमारे परिवार में छह लोग हैं, लेकिन एक कार में सिर्फ पांच लोग बैठ सकते हैं।
हम सभी कुछ पैसे की कमी के कारण बदल जाते हैं।

हम सभी को शादी करने के लिए दूसरे शहर जाना पड़ा।
हम सभी कार में फंस गए।

पिताजी और भाई आगे बैठे हुए थे।
पीछे की सीट पर मैं, भाभी, मम्मी और बहन फंस कर बैठे थे।

हम थोड़ी दूर चले थे कि मुसीबत आई।
हमारे शरीर एक दूसरे से टकरा रहे थे। मेरे हाथ कभी उनके बदन से लगता था, तो कभी उनके बूब्स पर।

उन्हें इस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली और मैं भी उनके बारे में कुछ नहीं सोचा।

थोड़ा और चलने के बाद मुझसे कहा, “या तो तू मेरी गोद में बैठ जा, या मुझे अपनी गोद में बैठने दे।”

मैंने उन्हें मेरी गोद में रखा।

जैसे ही वह मेरे लौड़े पर बैठ गई, मेरे शरीर में एक झटका सा लगने लगा।
पर मैंने खुद को संभाला।

वह गाड़ी खड्डों में गिरने से मेरे लौड़े के ऊपर उछल रही थीं, जिससे मेरा लंड खड़ा हो गया।

अब मैं उनसे दूर हो गया था, लेकिन मुझे भी डर था कि मेरा हथियार खड़ा हो गया है।

भाभी एक बार सीधे मेरे लंड पर आ बैठी।
यह भी पता चला कि मेरा 7 इंच का लंड खड़ा था।

मैंने सोचा कि ये क्या है, वह मेरे ऊपर गुस्सा होगा।
लेकिन उन्होंने मुझे देखकर मुँह घुमा लिया।

अब मैं भी साहसी हूँ।
मैंने उन्हें कसके पकड़ा। मैंने भाभी को ऐसे पकड़ा था कि कोई शक नहीं करता था।

जब मेरी हिम्मत बढ़ी, मैं उनकी जांघों पर हाथ रखकर सहलाने लगा।
उनके पास कोई प्रतिक्रिया नहीं थी।

मैं कुछ देर ऐसा करने के बाद उनकी चूत पर हाथ लगाया।
लेकिन उन्होंने मेरा हाथ पकड़ा और अपनी आंखें दिखाईं।

डर से भाभी ने मेरा हाथ पीछे रखा।

लेकिन शायद उनके मन में भी यही सब चल रहा था।

Xxx Desi Bhabhi Ki Hindi Chudai Ki Kahani

कुछ देर बाद, उन्होंने मेरा हाथ अपनी जांघों पर रखकर हम दोनों पर एक शॉल ओढ़ ली।
मैं भी उनका संकेत समझ गया और सलवार के ऊपर से ही चूत पर हाथ रख दिया।

उनके शरीर में 440 बोल्ट का एक करंट लगा हुआ था।

हम दोनों पर शॉल ओढ़ा हुआ था, इसलिए कोई नहीं देख सकता था कि मेरा हाथ क्या कर रहा है।

वे भी बहुत मजे ले रही थीं जब मैंने सलवार के ऊपर से उनकी चूत सहलानी शुरू कर दी।

इसे भी पढ़ें   विधवा बुआ की फाड़ी चुत | Indian Sex Ki Hindi Kahani

मैंने दूसरा हाथ उनके बूब्स पर रखकर एक दूध मसलने लगा।

भाभी की मादक सिसकारियां निकलने लगी, लेकिन वह होंठों को भींचकर अपनी आवाज को दबा रही थी।
वे इतना हिल रही थीं कि लौड़ा उनकी चूत में रगड़ रहा था।

ये सब दस मिनट तक चलते रहे।
उसने अपनी सलवार का नाड़ा खोलकर मेरा हाथ डाल दिया।

मैं अभी भी उनकी कुर्ती में मम्मों तक हाथ पहुंचा रहा था और एक को मसल रहा था।

भाभी ने मेरे लंड को पैंट के ऊपर से पकड़कर मसलना शुरू किया।

मैंने उनकी चूत को कुछ समय सहलाने के बाद अपनी दो उंगलियां डाल दीं।
उसके मुँह से एक चीख निकल गयी और उन्होंने उंगलियों को अंदर पाते ही उछल पड़ा।
मैंने वहीं अपना हाथ रोक लिया।

क्या हुआ, भाई?
मुझे वाशरूम जाना है, भाभी ने सोते हुए कहा।
आगे किसी ढाबे पर रोकते हैं, भैया ने कहा।

वे अपनी कार चलाने लगे।

अब मैं दोनों उंगलियों को भाभी की चूत में डालने लगा।

भाभी भी सातवें आसमान पर चढ़ गईं।
मैं उनकी चूत की गर्मी को अपनी उंगलियों पर महसूस कर रहा था।

जब उंगलियां अंदर जाती, वे ऊपर की ओर उठती।
मैं भी इससे बहुत खुश था।

इसी समय भाभी ने मेरी पैंट खोलना शुरू कर दिया।

मैं एक हाथ से उनकी चूत मसल रहा था और दूसरे हाथ से उनके बड़े बड़े दूध मसल रहा था।
हम दोनों को हमारे स्थान का कोई ज्ञान नहीं था। बस वासना की आग में खो गए।

भाभी की गर्म गर्म चूत में जाती उंगलियां और दूध को मसलता हाथ बहुत खुश कर रहे थे।
तब भाई ने अचानक गाड़ी ढाबे पर रोक दी।

हम दोनों ने खुद को संभाला और ठीक कपड़े पहने।
सब लोग कार से उतरे।

Desi Bhabhi Ki Antarvasna Sexy Kahani

एक ओर, उतरने से आराम हुआ, लेकिन दूसरी ओर, हम दोनों बहुत गर्म हो चुके थे, इसलिए रोका गया था।

नीचे उतरते ही भाभी टॉयलेट की ओर चली गईं, और मैं भी उनके पीछे चला गया।

मैंने भाभी को पीछे से पकड़ा और गर्दन पर किस करने लगा क्योंकि वहाँ कोई नहीं था।
मेरी भाभी भी बहुत सहयोगी थीं।

मैंने उनके कुर्ता उतारा।
भाभी अब ब्रा में थीं।
मैंने उन्हें चारों ओर घुमाया और उनके होंठों पर किस करने लगा।

मैं पांच मिनट तक किस करने के बाद नीचे की ओर बढ़ा।
मैं भाभी के बूब्स को ब्रा के ऊपर से ही चूसने लगा।

मैं भी भाभी का हाथ मेरे बालों में था।
तुरंत एक आवाज आई: भाई, आप क्या कर रहे हैं?

मेरी बहन की आकांक्षा की आवाज थी।
उसने हम दोनों को ऐसा करते देखा।

वह भी भाग गई, हम दोनों डर गए।

हम भी उसके पीछे भागे।
मैंने उससे कहा कि इस बारे में किसी को नहीं बताना चाहिए..। उसके पास सब कुछ है। पर इसे किसी को नहीं बताना चाहिए।

कुछ देर समझाने के बाद वह सहमत हो गई।
लेकिन उसने कहा कि मेरे और भाभी से दूर रहो।
मैंने भी कहा कि मैं दूर रहूँगा।

हम दोनों में जाग चुकी आग कहां इतनी शांत होने वाली थी?

हम सबने वहाँ नाश्ता किया और फिर से कार में बैठकर आगे चल दिए।
सब लोग एक ही तरह बैठे थे। भाभी मेरे ऊपर शॉल ओढ़े बैठी थीं।

इसे भी पढ़ें   विडियो कॉल पर चूत में ऊँगली करके दिखाया दीदी ने

इस बार, मेरी बहन हमें बार-बार देख रही थी, इसलिए हम कुछ समय तक चुप रहे।

भाभी ने मेरा हाथ पकड़कर अपनी सलवार में डाल दिया जब वह कुछ देर तक रह नहीं पाई।

मैं अपना हाथ चलाने ही वाला था कि आकांक्षा ने भी अपने हाथ शॉल में डाल दिए, जिससे उसे भाभी की चूत पर मेरा हाथ दिख गया।

हम दोनों को घूरते हुए भाभी ने शॉल उसके ऊपर भी ओढ़ा दी, साथ ही आकांक्षा का एक बूब भी दबाया।

भाभी आकांक्षा की चूत को सहलाने लगी।
उन्हें हटाने के लिए आकांक्षा ने बहुत कोशिश की, लेकिन वे लगातार आकांक्षा की चूत को दबा रहे थे।

मेरा हाथ भाभी की चूत पर था।
मुझे पता चला कि भाभी ने अपनी ब्रा उतार दी थी जब उनकी गर्म गर्म चूचियां मेरे सीने से लगीं।
उनके गर्म मम्मों के बीच मेरा मुँह था और मेरा हाथ पूरी तेजी से उनकी गर्म चूत में चल रहा था।

Porn Bhabhi Chudai Ki Desi Kahani

भाभी एक हाथ से मेरी बहन की चूत को मसल रही थीं और दूसरे हाथ से मेरा लंड हिला रही थीं।

ऐसा कुछ देर चलने पर भाभी ने झड़ गया।
मेरे हाथों से उनका गर्म गर्म लावा निकलता पानी गुजर रहा था।
मेरा हाथ गीला था।

मैंने अपना हाथ निकालकर चाटने लगा।

ये सभी आकांक्षा को देख रहे थे।
वह भी गर्म हो चुकी थी।

भाभी का हाथ आकांक्षा की चूत और मेरे लंड पर कसकर चल रहा था।
मैं भी गिरने वाला था, साथ ही आकांक्षा भी।

हम दोनों भाई बहन एक साथ झड़ गए जैसे ही दो मिनट में हमारी आआहहह निकली।

अब हम तीनों थोड़ा शांत और ढीले हो गए थे।

पर वास्तविक आग लगनी शुरू हो गई थी।
अब बहन, जो अभी तक हमारे खिलाफ थी, भी लंड को अपनी चूत में लेना चाहती थी।

हम तीनों थके हुए सो गए।

अब तक हम शादी के स्थान पर पहुंच चुके थे।
सारी महिलाएं कपड़े बदलने के लिए तेजी से भाग रही थीं।

भाभी ने लाल लहंगा पहना था, जिससे उनकी नाभि दिखाई देती थी।
वे बेहद सेक्सी लगीं।
मैं अभी उसे पकड़कर चोदना चाहता था।

लेकिन सबको अभी शादी का आनंद लेना था।

जब सब खा-पीकर थक गए, तो मैंने भाभी को इशारा किया।

मैंने उनसे कहा कि मैं थक गया हूँ और सोने जा रहा हूँ।
मैं भी थक गया हूँ और कपड़े बदलने की जरूरत है, भाभी ने सबके सामने कहा।

यह कहकर हम दोनों चले गए।
लेकिन मेरी बहन ने सब सुना था।

हम दोनों कमरे में घुसकर एक दूसरे को किस करने लगे।
मैं उनके कपड़े उतारने लगा।

भाभी जल्दी ही ब्रा और पैंटी में थीं।
मैंने उन्हें बेड पर डालकर चूमने लगा।

वह आंखें बंद करके, “आआह उहह” कहते हुए उन्हें गर्दन से चूमा।

अब मैं उनके बूब्स पर आया, एक को चूसने लगा और दूसरे को दबाने लगा।

“चूस ले बहनचोद…” उनके मुँह से गालियां निकलने लगीं। उन्हें पूरी तरह से खाली कर दें..। वाह माँ..।’

दस मिनट चूसने के बाद मैं नीचे आ गया और नाभि पर अपनी जीभ रखकर चाटने लगा।

भाभी की आवाज तेज हो गई, कहते हुए, “साले मादरचोद आहहह मार डालेगा ऊऊहह।”

इसे भी पढ़ें   पिता और पति दोनों की रखैल बन गयी | Baap Beti Ki Chudai Ki Kahani

तब मैं और नीचे की तरफ गया और उनके दांतों से उनकी पैंटी नीचे कर दी।

उसकी चूत पर मुँह रखकर चाटने लगा।
अब वे उछल रही थीं और सिसकारियों में बदल गईं।

“अब ना तड़पा बेटा, चोद दे मुझे,” भाभी ने कहा।

जब मैं गेट की ओर देखा, मेरी बहन वहीं खड़ी थी और सब देख रही थी।
उसका एक हाथ चूत पर था और दूसरा दूध पर।

ये सब देखकर मैं खुश हो गया।
मैंने भाभी की चूत पर एक झटका दिया।
पर लंड गिर गया।

Desi Bhabhi Or Behan Ki Chudai

फिर मैंने उनकी चूत पर एक बार फिर थूक लगाया।
अब मेरा आधा लंड भाभी की चूत में घुस गया और उन्होंने कहा, “अहह कुत्ते..।” बाहर निकाल दिया..। बहुत दर्द है।

मैंने लौड़ा निकालकर उनके होंठों पर होंठ रख दिए।
भैया शायद भाभी को नहीं चोदते थे।

जब दर्द कुछ कम हुआ, तो उन्होंने कमर उठा कर इशारा दिया।

मैं धक्का देने लगा।
अब उनकी आँखों से प्यार भरी सिसकारियां निकल रही थीं—अहह ऊऊहह उईईई मांआ मर गयी..। आज अपनी भाभी को मार डालो..। और जन्मों की प्यास को बुझा दें..। आह.

मैं ये सब सुनकर उत्साहित हो गया और जोर से पीने लगा।

उधर मेरी बहन अपनी चूत में हाथ डाल रही थी।

मैं भी कुछ देर पेलने के बाद झड़ने वाला था।

मैंने उनके मुँह में लंड डालकर उनकी चूत में अपना सारा रस निकाल दिया।

मेरा लंड उनके चाट से पूरी तरह साफ हो गया।

भाभी ने लौड़े को फिर से कड़क दिया।

मैंने भाभी को बताया कि अब मैं उनकी गांड मारना चाहता था।
उनका विरोध हुआ।

पर मेरी सख्ती से वह मान गईं।
मैंने उनके पेट के नीचे तकिया रखा और उनकी गांड और लंड पर तेल लगाकर धक्का मारा।

मेरा आधा से अधिक लंड उनकी गांड में घुस गया।
भाभी ने रोने लगा। उनकी आंखें नम हो गईं।

मैंने उन्हें समझाने की कोशिश की, लेकिन वे नहीं मानते थे।
जब मैंने लंड को फिर से धक्का दिया, तो पूरा लंड अंदर चला गया।

मैंने लंड निकाला और भाभी को पानी पिलाया जब वे बेहोश होने लगीं।

थोड़ी देर बाद मैंने उनसे एक बार फिर गांड मारने की मांग की, लेकिन वे नहीं माने।

ऐसे में मैंने फिर से जिद नहीं की।

भाभी की चुदाई की कहानी थी।
आप इस Xxx Bhabhi Car Hindi Sex Stories को कैसा लगा? मुझे मेल करें!

Read More Hindi Sex Stories…

भाभी की ख़ातिर भैया से चुदवा लिया | Bhai Behan Ki Free Xxx Kahani

शर्मीली बीवी को अपने डॉक्टर दोस्त से चुदवा दिया | Wife Hindi Xxx Kahani

Related Posts

Report this post

मैं रिया आपके कमेंट का इंतजार कर रही हूँ, कमेंट में स्टोरी कैसी लगी जरूर बताये।

1 thought on “कार में भाभी और बहन की चुदाई | Xxx Bhabhi Car Hindi Sex Stories”

Leave a Comment