पड़ोस की दीदी के साथ पहला सेक्स- 2

मेरे पड़ोस की एक लड़की ने दिया. उससे मेरी दोस्ती थी, मैं उसे पसंद करता था. एक दिन उसने पहल करके मेरा लंड पकड़ लिया.

कहानी के पहले भाग
सेक्सी जवान पड़ोसन दीदी की चुदाई-1
में आपने पढ़ा कि मैं अपने पड़ोस की सेक्सी माल दीदी को पसंद करता था उनसे मेरी दोस्ती भी थी. एक बार मैंने उन्हें गुंडों से बचाया तो मुझे चोट लगी थी. वे मुझे अपने घर ले गयी और मेरी चोट का इलाज किया.
उसके बाद हम दोनों धीरे धीरे वासना के सागर में गोते खाने लगे. हम आपस में चुम्बन करते करते नंगे हो गये. दीदी की नंगी चूत पर मेरे लंड की रगड़ से उनका पानी निकल गया.
तब दीदी ने मुझे 69 सेक्स की वीडियो दिखाकर कहा कि हम भी ऐसे ही करते हैं.

अब आगे हॉट न्यूड सेक्सी लड़की की पहली चुदाई:

पोर्न देखने के बाद मेरी समझ में आ गया था कि मुझे क्या करना है।

यदि आप भी अपनी कहानी इस वेबसाइट पर पब्लिक करवाना चाहते हैं तो नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके अपने कहानी हम तक भेज सकते हैं, हम आपकी कहानी आपके जानकारी को गोपनीय रखते हुए अपनी वेबसाइट पर प्रकाशित करेंगे

कहानी भेजने के लिए यहां क्लिक करें ✅ कहानी भेजें

मैं और दीदी 69 पोजिशन में लेट गए और उन्होंने मेरे लंड को अपने मुंह में भर लिया.
मुझे मजा आ रहा था इसलिए मैंने भी दीदी की चूत को चाटना शुरू किया, उसे चूमना शुरू किया।

पहली बार मुझे किसी लड़की की चूत को चाटने का अनुभव मिला जो मुझे गुड्डी दीदी ने दिया।

मेरे दीदी की चूत को चाटना शुरू करते ही दीदी अपने नितम्बों को हिलाने लगी; वे जोर जोर से सिसकारने लगी और तेजी से मेरे लंड को चूसना शुरू कर दिया।

दीदी की जीभ मेरे लंड के सुपारे पर लगते ही मेरे रोम रोम में करंट दौड़ जाता और मैं भी तेजी से अपनी जीभ गुड्डी की चूत में दौड़ाने लगता जिससे हम दोनों अपने ऊपर कन्ट्रोल खोते जा रहे थे.

मेरे लंड को दीदी ने चूस चूस कर लाल कर दिया था और मैंने दीदी की चूत को पानी पानी कर दिया.
जिससे दीदी ने दोबारा से अपना पानी छोड़ दिया जो कि सीधा मेरे मुंह में गया.

जिसका स्वाद मुझे बहुत ही अच्छा लगा और मैं हॉट न्यूड सेक्सी लड़की की चूत का सारा पानी पी गया।

तब तक मेरा लंड भी मस्ती में हो चुका था क्योंकि दीदी की गर्म जीभ ने उसे पहले से भी टाइट कर दिया.

दीदी ने झड़ने के बाद मेरे लंड को और तेजी से चूसना शुरू कर दिया और मैं सिसकारियां लेने लगा था।
मैं दीदी को कहने लगा- गुड्डी आई लव यू … मेरे लंड को ऐसे ही चूसो. मेरी जान, चूसती रहो … इसको खा जाओ जान! मेरी ड्रीम गर्ल हो तुम!

मैंने दीदी को अपना दिल का हाल सुना दिया कि कैसे मुझे उनके साथ रहना अच्छा लगता है. जब से वे आई थी. मैंने कैसे उनके साथ रहने के लिए क्या क्या नहीं किया।

मैं इतनी मस्ती में था कि मैंने कॉलेज में एडमिशन लेने की बात भी उन्हें बता दी कि मैंने उनके साथ रहने के लिए उनके कॉलेज में एडमिशन लिया।

ये सब सुनते ही दीदी ने मेरे लौड़े को अपने दोनों स्तनों के बीच दबा लिया और उसे दबा कर वो और तेज तेज से मेरे लौड़े को अपने स्तनों से ऊपर नीचे करने लगी.
और 5 मिनट के बाद एक दर्द के साथ मेरे लंड ने भी वीर्य छोड़ दिया जो सीधा गुड्डी के मुंह पर जाकर गिरा।

इसे भी पढ़ें   लण्डकन्या से गाण्ड मराई

अब हम दोनों निढाल हो गए थे क्योंकि हम पिछले डेढ़ घंटे से अपनी मस्ती में लीन थे।
शाम के 3:30 बज गए थे।

हम दोनों की मम्मी शाम को आने वाली थी तो हमारे पास अभी भी 2 घंटे बाकी थे।

5 मिनट के बाद दीदी ने फिरसे मेरे लंड को पकड़ा और मेरी आंखों में देखा और मेरे होंठों को चूम लिया।

हम दोनों बेड पर लेटे हुए थे दीदी मेरी साइड में थी.
वे मुझे चूमती जा रही थी और बार बार मुझे ‘आई लव यू रॉकी’ बोल रही थी.
साथ ही में दीदी अपने हाथ से मेरे लंड को भी हिला रही थी।

मैं भी दीदी को चूमने में साथ देने लगा और उनकी चूत पर उंगली घुमाने लगा.
साथ ही साथ मैं उनकी चूत में उंगली करने लगा.

जब भी मैं ऐसा करता, दीदी मेरे लंड को जोर से दबाती और जोर से हिलाती।

हम दोनों एक दूसरे को तैयार कर रहे थे क्योंकि इस आगाज का अंजाम एक ही था … चुदाई … जो हम दोनों को चाहिए था.

इसलिए 10 मिनट चूमने, हिलाने और उंगली करवाने के बाद गुड्डी दीदी उठी और मुझे अपने ऊपर ले लिया.

अब दीदी मेरे नीचे थी मैं उनके ऊपर आ गया.

दीदी ने मेरे लंड को पकड़ा और अपनी चूत पर लगा लिया।
लगाने के बाद मैंने अपने लंड को दीदी की चूत में घुसाना शुरू किया.
लेकिन लंड घुसा नहीं दीदी की चूत में … वह बहुत ही टाइट थी.

दीदी की चूत गीली तो बहुत थी पर लंड 1 इंच से ज्यादा अंदर ही नहीं जा रहा था.
तब दीदी ने मुझे धक्का मारने को बोला.

मेरे धक्का मारते ही दीदी की चीख निकली और मेरा आधे से ज्यादा लंड दीदी की चूत में रास्ता बनाते हुए चला गया।

दीदी की चीख निकलने के बाद मैं रुक गया क्योंकि मेरे लंड में भी दर्द हुआ था और मैं घबरा गया क्योंकि दीदी की चीख इतनी जोरदार थी कि मुझे डर हो गया कहीं घर पर कोई आ ना जाए.

तब दीदी की आंखों में आंसू आ गए थे … पर दीदी मुझे छोड़ने को तैयार नहीं थी।

शांत होने के बाद दीदी ने मुझे पूरा लंड अंदर करने को कहा और मैंने एक झटके के साथ पूरा लंड दीदी की चूत में घुसा दिया।

मेरा लंबा और मोटा लंड दीदी की चूत में पूरी तरह समा चुका था.

दीदी को आराम देने के लिए मैंने उनके स्तनों को चूमना और चूसना शुरू कर दिया।

5 मिनट ऐसे ही चूमने और चूसने के बाद दीदी ने धक्के मारने के लिए बोला।
मैंने धक्के मारने शुरू किए और दीदी भी मेरा साथ देने लगी.
वे कहने लगी- हां ऐसे ही रॉकी, चोदो अपनी गुड्डी को चोदो!

पूरे कमरे में केवल हम दोनों की सीत्कार और चुदाई की आवाज गूंज रही थी।
मुझे और गुड्डी को मजा आ रहा था.
हम दोनों आपस में एक दूसरे के होठों को चूस रहे थे और हमारी चुदाई चल रही थी.

इसे भी पढ़ें   बहन की चूत सहला कर चुदवाने के लिए गरम किया

10 मिनट के बाद दीदी ने पोजिशन चेंज करने को कहा और वे मेरे ऊपर आ गई.

मेरे ऊपर आने के बाद दीदी ने मेरा लंड अपनी चूत पर सेट किया.
मैंने देखा कि गुड्डी की गुलाबी चूत खून से भीगी हुई थी और मेरा लंड भी खून से सना हुआ था.

जब तक मैं कुछ पूछता, तब तक दीदी मेरे लंड के ऊपर बैठ चुकी थी.
मेरा लंड धीरे धीरे दीदी की चूत में जा रहा था और मुझे दुनिया का सबसे बड़ा आनंद मिल रहा था।

दीदी की चूत में घुसते घुसते मेरा लंड दीदी सिसकियां ले रही थी और अपने होठों को काट रही थी।

पूरा लंड अंदर जाने के बाद मुझे ऐसा लग रहा था कि मेरा लंड किसी ऐसी गर्म जगह में है जहां कुछ भी पिघल जाए और मैं अपने लंड को निकालना भी नहीं चाहता था.
लंड पूरा लेने के बाद दीदी के चेहरे पर ऐसे भाव आ गए कि उनकी कोई पुरानी इच्छा पूरी हुई हो.

वे पूर्ण संतुष्ट थी.
लेकिन मजा तो तब आना शुरू हुआ जब दीदी ने ऊपर नीचे होना शुरू किया.

दीदी मेरे लंड पर कूदने लगी, वे जोर जोर से मेरे लंड पर कूद रही थी और मैं भी नीचे से उन्हें उछाल उछाल कर उनका साथ दे रहा था।

मेरी गुड्डी दीदी तो मानो पागल हो गई थी, वे अपनी पूरी ताकत के साथ उछल रही थी. वे मेरे लंड को पूरा बाहर निकलती और फिर उसे पूरा अंदर ले लेती.
और साथ ही में हर बार जब भी ऐसा करती तो उनकी चूत में से फच्च की आवाज आती.

यह आवाज हर बार आ रही थी और मुझे यह आवाज सुनकर ही मदहोशी हो रही थी.
मैंने दीदी को अपनी बांहों में पकड़ लिया और नीचे से ही चोदना शुरू कर दिया.

दीदी ने भी अपनी बांहों से मुझे पकड़ लिया और अपने नितम्बों को उछालने लगी और मेरा भरपूर साथ देने लगी.

तब दीदी और मैं तो बस एक अलग ही दुनिया में पहुंच गए थे.
दीदी ने मेरे निप्पल को मुंह में भर लिया और चूसने लगी.

मेरा भी जोश चरम सीमा पर था, मैंने भी गुड्डी को और तेजी से चोदना शुरू कर दिया था.

तेजी बढ़ते ही गुड्डी की सिसकारियां चीखों में बदल गई थी.
वे चीख चीख कर मुझे ना रुकने को कह रही थी.
दीदी मुझे और तेज करने को कह रही थी.

वे उछल रही थी तेजी से … और मैं भी अपनी पूरी ताकत से उन्हें नीचे से चोद रहा था.
मेरा जोश पूरा उत्कर्ष पर पहुंच गया, मैंने एक झटके से दीदी को बांहों में पकड़ कर अपने नीचे ले लिया, उनके होठों को कस कर पकड़ लिया और चोदने की स्पीड बढ़ा दी।

पूरे घर में बस हम दोनों की चुदाई की आवाजें गूंज रही थी.
हम दोनों एक दूसरे को ना रुकने को बोल रहे थे.

इसे भी पढ़ें   नए साल की पार्टी में खूब चोदा भैया ने

गुड्डी दीदी तो दीवानी सी हो गई थी, बार बार ‘आई लव यू रॉकी … आई लव यू रॉकी’ बोल रही थी.
वे मुझे बिना रुके चोदने को बोल रही थी और रफ्तार बढ़ाने को बोल रही थी.

अब क्योंकि मैं जिम जाने वाला लड़का था तो मेरे अंदर ना रुकने की भावना आ चुकी थी और मैं लगातार दीदी को चोदता रहा.

इस बीच में हॉट न्यूड सेक्सी लड़की 2 – 3 बार झड़ चुकी थी.
उन्होंने 3 बार मेरे लंड को अपने पानी से नहला दिया था।

लगातार डेढ़ घंटे की जोशीली और यादगार चुदाई के बाद मैंने अपना वीर्य दीदी की चूत में ही छोड़ दिया और दीदी के ऊपर ही लेट गया.

शाम के 5 बजकर 10 मिनट हो चुके थे और हम दोनों ने चुदाई खत्म कर ली थी.

अब हम दोनों एक दूसरे के होंठों को चूसने लगे और प्यार से लिपट कर लेटे रहे।

हम दोनों का मन और चुदाई करने का था.
लेकिन क्योंकि हम दोनों की मम्मी आने वाली थी इसलिए हमने बाद में और चुदाई करने की सोची.
और तभी हम दोनों बाथरूम में नहाने चले गए.

लेकिन हम दोनों से रुका णा गया तो नहाते नहाते ही जल्दी से एक राउंड और चुदाई का कर लिया।

हम बाहर आए मेरी पैंट भी सुख चुकी थी इसलिए मैंने अपने कपड़े पहने और ड्राइंग रूम में बैठ गया.

6 बजने में 15 मिनट बाकी थे और हमें भूख भी लग रही थी।

करीब 6 बजे गुड्डी दीदी की मम्मी आ गई और उन्होंने खाना बना दिया।

गुड्डी दीदी ने कॉलेज की बात भी बताई की कैसे मैंने उन लड़कों की पिटाई की और मेरे पैर पर चोट लग गई।

आंटी ने मेरी तारीफ की और उन्होंने दीदी को मुझे पार्टी देने को बोला.
लेकिन उन्हें कहां पता था कि हमने तो ऐसी पार्टी करी है जिसके बारे में आंटी सोच भी नहीं सकती थी।

अगले 3 दिन मैं और दीदी कॉलेज नहीं गए क्योंकि मैंने अपने पैर का बहाने रेस्ट लिया और दीदी ने मेरी देखभाल करने का जिम्मा।

इन अगले 3 दिनों तक हमने खूब चुदाई की और अपनी अधूरी बची चुदाई को पूरा किया।

तो दोस्तो, आप सभी को यह हॉट न्यूड सेक्सी लड़की की पहली चुदाई कहानी कैसी लगी?
मुझे जरूर बताना.

और आगे की कहानी जानने के लिए मेरी इस कहानी को प्यार देना।
धन्यवाद।
रॉकी

Related Posts

Report this post

मैं रिया आपके कमेंट का इंतजार कर रही हूँ, कमेंट में स्टोरी कैसी लगी जरूर बताये।

1 thought on “पड़ोस की दीदी के साथ पहला सेक्स- 2”

Leave a Comment