मेरी बेटी की पहली चुदाई

मैं 42 साल का हूँ, मैं अपनी एक सच्ची कहानी लिख रहा हूँ. मेरी शादी करीब 20 साल की उमर में हुई. मेरी पत्नी डिलिवरी के समय हमारी बेटी को जन्म देते ही मर गई. उसके बाद मेरे घर वालों ने मुझे दूसरी शादी के लिए बहुत कहा लेकिन सौतेली मां के डर से मैं नहीं माना.

मैं अपनी बेटी से बहुत प्यार करता था और मेरी बेटी मोनिका भी मेरी कुर्बानी को जानती थी इसलिए वो मेरा बहुत ख्याल रखती.

मगर हमारी जिन्दगी में बदलाव तब आया जब एक दिन मेरी बेटी अपनी दोस्तों के साथ बाहर गई और मैंने सोचा कि उसकी अलमारी की सफाई कर दूँ.

मैंने देखा कि उसकी अलमारी में अडल्ट बुक्स और सी डी रखी थी.

यदि आप भी अपनी कहानी इस वेबसाइट पर पब्लिक करवाना चाहते हैं तो नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके अपने कहानी हम तक भेज सकते हैं, हम आपकी कहानी आपके जानकारी को गोपनीय रखते हुए अपनी वेबसाइट पर प्रकाशित करेंगे

कहानी भेजने के लिए यहां क्लिक करें ✅ कहानी भेजें

उस दिन सालों से सोई मेरी वासना जाग उठी और मैं अपनी बेटी को दूसरी नज़रों से देखने लगा. मेरी बेटी 18 साल की सेक्सी लड़की थी, उसका साइज़ 32-28-32 था. मैं हर समय उस पर नज़र रखने लगा.

वो अक्सर घर में शोर्ट्स पहनती है. मैं अक्सर उनमे उसके सेक्सी लेग्स और पेंटी को देखता रहता. उसके ब्रा को लेकर मुठ मारता. आप यह बाप बेटी की चुदाई कहानी फ्री सेक्स कहानी डॉट इन पर पढ़ रहे हे।

मेरा और उसका कमरा साथ साथ है, मैंने उसके कमरे में देखने के लिए बीच में एक मोरी भी कर ली.

एक दिन मैंने देखा कि रात को करीब 12 बजे उसके कमरे से आवाज़ आ रही है. मैंने देखा तो मोनिका अडल्ट फ़िल्म देख रही थी. उसका फेस दूसरी तरफ़ था और वो सिसकियाँ ले रही थी. मैं अपने आप को रोक न सका और मैंने उसके कमरे का दरवाजा खोल दिया.

इसे भी पढ़ें   बस मैं अनजान लड़की की चुदाई कहानी । Anjaan Ladki Ki Hindi Sex Story

वो मुझे देख कर डर गई और रोने लगी. मैंने उसके पास जाकर उसे पकड़ लिया.

वो मुझे कहने लगी – पापा, यह क्या कर रहे हैं?

मैंने कहा – वही जो एक मरद और औरत करते हैं.

‘पर मैं आपकी बेटी हूँ’ उसने कहा.

पर मैंने उसकी बात नहीं सुनी और उसकी नाईटी फाड़ दी. उसने अंदर से कुछ नहीं पहना था. उसके गोरे गोरे मुम्मे देख कर मैं होश खो बैठा और उन्हें चूसने लगा. उसकी चूत पर एक भी बाल नहीं था, मैं अपनी बेटी की चूत को चूसने लगा.

अब तक मोनिका भी गर्म हो गई थी, वो भी मेरा साथ देने लगी.

मैंने अपने कपड़े उतार दिए और अपना लंड उसके मुंह में डाल दिया फिर मैंने उसकी टांगें खोल कर अपना लंड उसकी चूत पे रखा. पहले ही स्ट्रोक में मैंने अपना 6 इंच लंड अपनी बेटी की चूत के अंदर घुसा दिया.

मोनिका चीखने लगी थी, मैंने उसके लिप्स को अपने लिप्स से दबा दिये, दूसरे स्ट्रोक में मैंने अपना पूरा लंड अन्दर घुसा दिया. उसकी आँखों से आंसू आने लगे मगर मैं लगातार स्ट्रोक लगाता रहा.

अगली सुबह मैं अपनी रात वाली बात से बहुत दुखी था. मैं मोनिका से नज़रें नहीं मिला पा रहा था. मगर रात को मोनिका मेरे रूम में आई और बोली – आपने मेरी खातिर अपनी सारी जिन्दगी ख़राब कर दी, तो मैं क्या आपकी खातिर कुछ नहीं कर सकती!

उसने अपने कपड़े उतार दिये और मेरे भी उतारने लगी.

उसके बाद हम डेली सेक्स करने लगे, जब भी हम घर पर होते नंगे ही रहते.

इसे भी पढ़ें   सहेली के जीजू का लंड

करीब 2 महीने के बाद मोनिका प्रेग्नेंट हो गई. तब हम लुधियाना से दिल्ली आ गए और यहाँ आकर शादी कर ली और पति पत्नी के तरह रहने लगे. यहाँ किसी को नहीं पता कि हम बाप बेटी हैं. आप यह बाप बेटी की चुदाई कहानी फ्री सेक्स कहानी डॉट इन पर पढ़ रहे हे।

जब मोनिका के डिलिवरी हुई तो मैं बहुत डरा क्यूँकि मैं अपना दूसरा जीवनसाथी नहीं खोना चाहता था.

अब मोनिका मेरे दो बेटों की माँ है. मगर कभी कभी मैं सोचता कि मोनिका हमारे बेटों की माँ है या बहन?

मेरी बेटी की चूत की चुदाई की हिंदी सेक्स कहानी आपको कैसी लगी? मुझे मेल करके जरूर बताये।

 

Related Posts

Report this post

मैं रिया आपके कमेंट का इंतजार कर रही हूँ, कमेंट में स्टोरी कैसी लगी जरूर बताये।

Leave a Comment