गली के रंडीबाज लड़के से चुद गई।

dirty sex stories in hindi ने उसे गली के एक बदनाम लड़की बाज आदमी के लंड से चूत चुदाई के लिए मजबूर कर दिया. लड़की ने गली में उसका लंड मूतते हुए देख लिया था.

मित्रों, मैं नीलिमा इक्कन हूँ।

मैं 26 साल की हूँ और रांची में रहती हूँ।

मेरी पिछली कहानी

यदि आप भी अपनी कहानी इस वेबसाइट पर पब्लिक करवाना चाहते हैं तो नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके अपने कहानी हम तक भेज सकते हैं, हम आपकी कहानी आपके जानकारी को गोपनीय रखते हुए अपनी वेबसाइट पर प्रकाशित करेंगे

कहानी भेजने के लिए यहां क्लिक करें ✅ कहानी भेजें

बुआ की पुत्रवधू से सेक्स किया।

देखने में मैं सुडौल, आकर्षित करने वाली और हल्की सांवली सलोनी हूँ।

मेरा कद पांच फुट छह इंच है और मेरा वजन ३६-३२-३८ है।

मैं कोलकाता से स्नातक करके घर आई हुई थी, और पिछले एक वर्ष से इस dirty sex stories in hindi शुरू हुई।

एक और कारण था कि मैं अपने शहर में थीं और मेरी सहेलियां दूसरे शहरों में थीं।

जिन लड़कों के साथ मैं घूमती थीं, वे सब बाहर चले गए।

मुझसे कोई नहीं खेलना चाहता था।

बस एक था, लेकिन मैं पहले से ही उससे बहुत घृणा करती थी।

उस आदमी ने मेरे साथ बहुत बुरा व्यवहार किया था।

आज मैं आपको उसी व्यक्ति की यौन कहानी सुनाती हूँ।

नाम प्रभाकर था।

प्रभाकर 35 साल का आदमी था और मेरे मुहल्ले का रंडीबाज था.

वह एक बेवकूफ आदमी भी था।

यह मेरे बारहवीं वर्ष की बात है।

प्रभाकर को पता था कि मैं शाम को उसी की गली से दूध लेने जाती हूँ।

मैं प्रभाकर से एक शाम दूध लेकर आ रही थी।

मैंने भी उसके लिए माफी मांगी।

लेकिन मेरी चूचियों को सीधे पकड़ा और पूरी ताकत से दबाकर मसलने लगा, जिससे वह प्रभावित हो गया।

मैं दूध की केन पकड़ी हुई थी, तो मैं एक हाथ से उसे रोकने में असमर्थ थी. लेकिन वह मुझे छोड़ गया।

मैं उन दिनों दो लड़कों से अपनी चूचियां दबाने में भी बहुत मज़ा लेता था।

इस उम्र में पोर्न सेक्सी गर्ल की अन्तर्वासना कुछ भी कर सकती है।

हालाँकि, मेरी चूचियों का हलवा ही इस कमीने ने बनाया था।

प्रभाकर की घटना घर में बताना मुझे ठीक नहीं लगा।

मेरे घर के पीछे वाले घर में प्रभाकर रहता था।

उसके घर के सामने वाली गली में पूरे में अश्लीलता का वातावरण फैला हुआ था.

स्थान-स्थान पर इस्तेमाल किया हुआ कंडोम पड़ा होगा।

मैं ये सब जानता था क्योंकि मैं पहले भी उस गली से गुज़र चुका था।

उस गली को लोगों ने कंडोम गली भी कहा था।

मैं भी एक बार उधर से निकलने के बाद उस गली से जाना ही छोड़ दिया था।

बहुत दिनों बाद मेरी गली के नाले का काम अचानक शुरू हुआ।

कोई नहीं जानता था कि नाला कब बंद हो जाएगा।

नाले की मरम्मत बहुत गंदी बदबू देती थी। इतनी गंदी कि बाहर निकलना मुश्किल था।

मैं कंडोम गली से बाहर निकल जाती थी जब आवश्यक होता था।

दिसंबर का महीना था और क्रिसमस था।

मैं शाम में केक बनाने का सामान लेने और कुछ खरीदारी करने के लिए निकली थी.

मैं अपनी गली से ही चला गया।

शायद मैं इसे देखने की इच्छा थी कि नाले का काम चल रहा है या नहीं।

काम धीरे-धीरे चल रहा था, जैसे तैसा पड़ा था।

मैं आते समय उसी कंडोम गली से आ रही थी क्योंकि उधर से निकलने में बहुत मुश्किल हुआ था।

उसी समय प्रभाकर अपने घर के बाहर नाले में पेशाब कर रहा था.

मैं अपने हालात से बाहर निकल ही नहीं सकता था।

वह कमीना नहीं शर्माया जब उसने मुझे देखा।

बल्कि उसने मुझे लंड हिलाते हुए मूतना जारी रखा और लौड़ा मेरी ओर करने लगा।

वह मुझे करीब आते देखते हुए कहा, “तुम एकदम गदरा गया हो, कभी अकेले में आओ, पेलने में मज़ा आ जाएगा।”

यह पहली बार था कि मैं किसी आदमी का इतना बड़ा और मोटा लंड देख रहा था।

तो मैं वहां से डरकर भाग गया।

जब मैं घर पहुंचा, मैंने कोई जानकारी नहीं दी, लेकिन प्रभाकर का लंड भुलाने लायक था।

इसे भी पढ़ें   दीदी को बियर पिलाकर चोदा | Hot Bahan Ko Choda

अर्थात् प्रभाकर का लंड इतना आकर्षक था कि मैं उसे भुला नहीं पाया।

प्रभाकर का लंड लटका हुआ लगभग छह इंच का था।

प्रभाकर का चमकदार गुलाबी लंड ऊपर से मुझे अपनी चूत सहलाने पर मज़बूर कर रहा था।

मेरे मन में बहुत सारे गलत विचार आ रहे थे।

मैं रात को फोन पर बात करने के लिए छत पर गया था।

प्रभाकर को छत से ही बाइक पर कहीं जाते हुए देखा।

उसे ऊंची सीट वाली बाइक पर जाते देखा।

जब मैं ऐसी बाइक पर बहुत समय बैठे हुए था, तो मेरे मन में लड्डू फूटने लगे।

मैं दो दिन बाद दोपहर को शॉपिंग के लिए निकल गया और उसी कंडोम गली की ओर जाने लगा।

मैंने न जाने क्या सोचा और ठीक प्रभाकर के दरवाजे पर दस्तक दे दी.

उसने दरवाज़ा खोला और मुझे देखकर कहा, “अरे, तुम आ ही गए, तो खड़ी क्यों हो?”

मैं प्रभाकर से पूछा कि अगर मैं शॉपिंग मॉल जा रहा हूँ तो वह मुझे अपनी बाइक से उधर तक लिफ्ट देंगे क्या?

मैंने प्रभाकर से कहा कि अगर लिफ्ट चाहिए तो अंदर आ जाओ। मैं तैयार होकर चलता हूँ।

नहीं, मैं आगे गली में आपका इंतज़ार करती हूँ, आप उधर आ जाओ, मैंने प्रभाकर से कहा।

ठीक है, प्रवक्ता ने भी कहा।

मैं गली के बाहर इंतज़ार करने लगा।

फिर प्रभाकर आया और मुझे एक बाजार में ले गया।

खरीददारी करते समय प्रभाकर ने मुझसे पूछा कि खरीददारी पूरी करने के बाद कहां जाने का विचार है?

मैं प्रभाकर से पूछा कि मैं चिकन परांठा खाने का विचार कर रहा हूँ, क्या आप खाओगे?

हां, अगर आप खिलाओगे तो क्यों नहीं, प्रभाकर ने कहा।

शॉपिंग के बाद मैं और प्रभाकर चिकन परांठा खाने गए और पैसे भी मैंने ही दिए.

फिर हम घर चले गए।

प्रभाकर ने घर जाते समय एक मेडिकल स्टोर पर अपनी बाइक को रोका।

जब मैंने प्रभाकर को कंडोम लेते देखा, तो मैं समझ गया कि वह इतनी जल्दी क्यों है।

प्रभाकर ने बाइक पर बैठकर मुझसे पूछा कि क्या मुझे अभी सीधे घर जाना है? और कहीं भी नहीं?

हां, मैं प्रभाकर को बताया। मैं सिर्फ घर जाना है, और कहां जाऊँगा?

प्रिय ने मुझसे कहा कि तुम मेरे घर जाओगे. उसने कहा कि तुमने अपनी बाइक से लिफ्ट ले ली है, तो मेरे घर भी आ जाओ।

प्रभाकर अब इतना जोर दे ही रहा था, तो मैं कैसे चुप रह जाती!

साथ ही, प्रभाकर के व्यक्तित्व को जानते हुए मैंने हामी भरी।

अब आप खुद ही समझ सकते हैं कि उसका लौड़ा मेरे मन में कहां तक बस गया था।

मैं प्रभाकर से कहा, ठीक है, लेकिन मैं पहले अपने घर जाकर आऊंगा। मैं फिर आपके घर आऊंगा।

हां, कोई बात नहीं आराम से आ जाना, मैं कहीं नहीं जा रहा हूँ।

बाद में प्रभाकर ने मुझे अपने घर के पास उतारा, जहां से मैं पैदल घर गया।

मेरे मन में अनगिनत प्रश्न उठ रहे थे।

भी मन घबरा गया कि प्रभाकर क्या करेगा या क्या करवाएगा?

मैंने जोश में लिफ्ट मांगी और सही जगह पहुंच गया।

घर आने के बाद मैं सबसे पहले तरोताज़ा होने गया।

मैंने मां से कहा कि मैं अभी जाना है।

मेरी मां ने पूछा, “अब कहां जा रहे हो?”

मैं अब क्या कहूँगा?

मैं इस पर विचार करने लगा।

तब मैंने कहा कि मेरी एक सहेली आई हुई है और मैं उसके घर जा रहा हूँ।

तब मेरी मां ने पूछा, “तो केक कब बनाएँगे?” मैंने सोचा कि बस शुरू कर देना चाहिए!

मैंने अपनी मां को बताया कि कल दिन से बनाना शुरू कर देंगे, क्योंकि आज मन नहीं है।

ठीक है, मेरी मां ने भी कहा।

तरो-ताज़ा होने के बाद मैंने कपड़े बदले और लैगिंग्स और शर्ट पहनकर प्रभाकर के घर चली गई।

इसे भी पढ़ें   माँ बेटे का प्यार और संस्कार भाग 3

आज मैंने प्रभाकर के दरवाज़े पर सीधा दस्तक दी और अधिक कुछ नहीं सोचा।

जैसे वह मेरे आने का इंतजार कर रहा था, प्रभाकर ने दरवाजा फट से खोल दिया।

उस समय वह बनियान और तौलिया में था।

आगे से उसकी तौलिया कुछ फूली हुई थी।

मैं तुम्हारा ही इंतज़ार कर रहा था, वह मुझे देखकर कहा।

मैं प्रभाकर के घर में घुसते ही उसने तुरंत दरवाज़ा बंद कर दिया।

द्वार बंद होते ही प्रभाकर ने मुझे पीछे से दबोच लिया।

उसने सीधे मेरी चूचियों को छुआ भी।

मैं सिहर उठी और कहा, “अच्छा, आराम से कमरे में जाओ”।

वह उठकर बोलने लगा, “अरे, मैं इतने दिनों बाद आज आप से मिलने आया हूँ… चलो फिर कमरे में।”

वह मेरा हाथ पकड़कर मुझे अपने कमरे में ले गया और तुरंत मुझे अपनी बांहों में भरकर मुँह से लगा दिया।

सब कुछ इतना तेजी से हुआ कि मुझे विचार करने का समय भी नहीं मिला।

वह मेरी गांड को मसल रहा था और मुझे चूम रहा था।

प्रभाकर ने चुमते हुए ही पीछे से मेरी लैगिंग्स में हाथ डालकर मेरे चूतड़ों को सहलाने लगा।

प्रभाकर की उस हरकत ने मुझे बेहोश कर दिया। बहुत गुस्सा आया।

इतने दिनों बाद आज किसी ने ऐसा किया था।

फिर प्रभाकर सामने से मेरी जांघों के बीच हाथ लगाकर मेरी चूत को सहलाने लगा और मेरी लैगिंग्स को थोड़ा सरका दिया।

तब मैं संभल नहीं पा रहा था और आह आह करती जा रही थी, “ईई… उउउहह..।”

मेरी लैगिंग्स को सरकाकर खींचते हुए, प्रभाकर ने एकदम से नीचे चूत को सहलाना छोड़ा।

अब उसने अपनी एक उंगली को मेरी चूत में डालकर बाहर निकालने लगा।

प्रभाकर के उंगली करने से मेरा बदन सनसनी से भर गया।

मैं रोने लगा और कहा, “नहीं प्लीज इस्स”।

वह उठकर बोली, “तुम्हारी नीलिमा की चूत बहुत सुंदर है, पूरी तरह से झांटों वाली है, मैं इसे चाटना चाहता हूँ।”

यह कहते हुए प्रभाकर ने मेरी एक टांग अपने कंधे पर लादकर मेरी चूत को चूसने लगा।

हाय, ऐसा लगता था मानो मेरी चूत के रास्ते से आ रहा था।

प्रभाकर मेरी चूत चूस रहा था, लेकिन वह भी अपनी जीभ मेरी चूत में डालकर लपेट रहा था. मैं सिसक कर उसके सर के बाल पकड़ लेती।

उसने अपने थूक से मेरी चूत को पूरा चाट लिया।

फिर प्रभाकर मेरे सामने खड़ा हुआ और अपना तौलिया खोला।

प्रभाकर का बड़ा, मोटा और काला लंड मेरे सामने आ गया जैसे ही तौलिया नीचे गिरा।

प्रभाकर का अद्भुत लिंग था। लंड बहुत भारी था।

मैं घुटनों पर आने से पहले ही प्रभाकर मुझसे कुछ बोल गया।

घुटनों पर आते ही प्रभाकर मेरे होंठों के पास अपना लंड लाया।

मैं भी मुँह खोलकर प्रभाकर का लंड चूसने लगी।

अब प्रभाकर भी पूरी तरह बिंदास हो गया और रोते हुए बोलने लगा, “आह नीलिमा, चूस ले लवड़ा, तू मुझे बहुत तड़पाया है।”

मैं प्रभाकर के लंड को चोकोबार की तरह चूस रही थी और वह मेरे बालों को पकड़कर मेरे मुँह में लौड़ा डाल रहा था।

मैं प्रभाकर के लंड को बहुत देर चूसती रही, और इतनी देर चूसने से मेरा मुँह भी दर्द करने लगा।

इसलिए मैं रुक गई.

प्रभाकर ने मेरी शर्ट निकाल दी।

जैसे ही मैं खड़ी हुई, प्रभाकर ने अपनी बनियान भी उतार दी।

अब उसने मुझे बांहों में भरकर बिस्तर पर लेटा दिया और मेरी चूचियों को ब्रा से बाहर निकालकर चूसने लगा।

प्रभाकर का बालदार शरीर मेरे शरीर से रगड़ रहा था, मैं पूरी तरह मदमस्त हो गया था।

वह मेरी चूचियों को चाट रहा था।

माहौल पूरी तरह से गर्म हो गया और मैं खुश होने लगा।

प्रभाकर ने कहा, “मैं तुम्हारी नंगी देह को चाटता रहूँगा, लेकिन तुझे भी चोदना है।”

इसे भी पढ़ें   बुआ की पुत्रवधू से सेक्स किया।

इसके बाद प्रभाकर उठकर पास के ड्रॉवर से कंडोम निकाला।

अपने लंड में वह कंडोम पहनाने लगा.

तब तक मैंने ब्रा उतार दी।

फिर प्रभाकर मेरी दोनों टांगों को बिस्तर पर रखा, कंडोम पहनकर।

उसने मेरी चूत में अपने लंड को रगड़ते हुए सैट किया।

मुझे बहुत अच्छा लगा!

पति ने मेरी चूत में अपना लंड डाला।

उफ्फ्फ… उसका लौड़ा अंदर घुस गया।

मैं कसमसा कर रह गई थी.

थोड़ी देर बाद प्रभाकर ने मेरी चूत को आराम से चोदना शुरू कर दिया।

“इस्स… अआह…” मैं सिसकने लगा।

प्रभाकर तुरंत अपना लंड पूरी तरह मेरी चूत में डाल देता, कुछ निकालता और फिर से डालता।

यह मुझे परेशान करता था, कहते हुए, “अहईई..।

अब प्रभाकर धीरे-धीरे मेरी चूत में हल्के झटके देने लगा।

मैं प्रभाकर को बताने लगी, “अह, कुछ राहत मिली है, “अह, दर्द हो रहा है,”

अध्यक्ष ने कहा, “थोड़ा बर्दाश्त करो, तुम्हें भी बहुत अच्छा लगेगा।”

यह कहते हुए प्रभाकर मुझे देर तक उसी स्थान पर पेलता रहा, और मैं “अआह… अआह… उउउहह…” करती रही।

सर्दी में भी प्रभाकर ने मुझे चोद-चोद किया।

तभी उसने ज़ोर से मेरी चूत में अपना लंड डाला।

मैं सिसकते हुए कहा, “अअईईई… इस्स..।”

यह वही क्षण था जब मैं सबसे खुश हुआ।

प्रभाकर को तो अभी भी चोदना था, तो मेरे झड़ने से क्या होना था?

प्रभाकर ने तकिया मेरे पेट के नीचे डालकर मुझे उल्टा लेटा दिया।

उसने पहले मेरी गांड पर थप्पड़ मारते हुए जी भर के चाटा।

उसने चाटने के बाद मेरी चूत में अपना लंड डाल दिया।

अगले ही क्षण, उसने मेरी चूत में अपना लंड फिर से डाल दिया।

मैं कहता हूँ, “अअआह… इस्स..।”

वह मेरे ऊपर लेट गया और पेलने लगा।

प्रभाकर मेरी चूचियों को थामे हुए था।

मुझे बुरी तरह चोद रहा था और उन्हें पूरी ताकत से दबा रहा था।

मैं “अअआह… अअआह…” करती जा रही थी।

तब प्रभाकर भी बौखला गया और मुझे चोदते हुए कहा, “इस्स… अअआह… भैनचोदी आज तो तुझे चोद चोद कर मुतवा दूंगा… अअआह… लवड़ी।”

मेरी हालत खराब हो गई जब कर्मचारी ने मुझे पेल डाला।

तब मैंने चादर को दांतों से चबा लिया ताकि दर्द सह सकूँ।

प्रभाकर ने लगभग दो घंटे की कठोर चुदाई के बाद एक भयंकर धक्का दिया।

वह इतना तीव्र धक्का था कि मैं प्रभाकर को अपने ऊपर से दूसरे तरफ गिरा दिया और सीधे शौचालय में पेशाब करने के लिए भाग गया।

जब मैं वापस आया तो प्रभाकर ने कहा कि मैं वास्तव में मूतने वाला था।

मैं प्रभाकर को बताया कि वह बहुत गंदी गालियां देता है। मैं दुबारा नहीं आऊंगी.

प्रिय ने कहा, “अरे यार, मुझे बहुत मज़ा आने लगा था, इसलिए मैं मुँह से निकल गया।” आप भी आदत हो जाएगी।

फिर प्रभाकर ने मुझे अपने पास खींचा और मुझे प्रेरित करना शुरू कर दिया।

मैं प्रभाकर की बातों में आ गया।

लेकिन यह सिर्फ शुरूआत थी, बहुत कुछ होने वाला था।

बड़े दिन को… मेरा मतलब है कि क्रिसमस की रात में कुछ ऐसा हुआ, जो बहुत उत्साहित करने वाला था। उसे मैं अगली बार बताऊंगी.

मुझे ईमेल करके बताएं कि आपको मेरी dirty sex stories in hindi की कहानी कैसी लगी।

Related Posts

Report this post

मैं रिया आपके कमेंट का इंतजार कर रही हूँ, कमेंट में स्टोरी कैसी लगी जरूर बताये।

1 thought on “गली के रंडीबाज लड़के से चुद गई।”

Leave a Comment