मम्मी की सहेली मेरे लंड के निचे आ गई-3। Antarvasna Mom Friend Sex Kahani

Antarvasna Mom Friend Sex Kahani में मेरी मम्मी की सहेली ने मुझसे बार-बार चुदवाया। आंटी को मेरे लंड से उनकी पहली चुदाई बहुत अच्छी लगी।

मम्मी की सहेली मेरे लंड के निचे आ गई-3। Antarvasna Mom Friend Sex Kahani

प्रिय पाठक, मैं अर्जुन हूँ। मैंने आपको अपनी मॉम की सहेली जेनिफर आंटी की चुदाई की कहानी सुनाई।

कहानी का दूसरा हिस्सा

मम्मी की सहेली मेरे लंड के निचे आ गई-2। Mature Aunty Ki Fuck Story

अब तक आप जेनिफर आंटी से चुदाई की कहानी पढ़ रहे थे।

अब Antarvasna Mom Friend Sex Kahani :

आंटी ने शादी के बाद भी ब्रा पैंटी नहीं उतारी।

यह उनकी परिपक्वता का एक उदाहरण था।

मैंने पास में पड़े टिश्यू पेपर बॉक्स से एक टिश्यू पेपर निकालकर अपने लंड को पूरी तरह से साफ किया।

फिर देखा कि आंटी थक गई थीं और बड़बड़ा रही थीं— वाउ, बहुत समय बाद इतनी खुशी मिली। आज मेरी बहुत अच्छी चुदाई हुई है..। प्रिय अर्जुन, आपका धन्यवाद!

Hot Antarvasna Aunty Ki Sexy Story

लेकिन मुझे कुछ ही नहीं मिला; मेरा लंड अभी शैतानी कर रहा था।

उसे बहुत कुछ करना बाकी था।

मैंने अपने लंड को बताया कि बेटा इंतजार करने में बहुत मज़ा आता है, लेकिन मैं फिर भी शांत रहा। अब आंटी को चोदना शुरू हो गया है। यह पहला चरण है। आज मैं आंटी की चूत और गांड को फाड़ दूंगा और बहुत सारे राउंड लगाऊंगा। जब मैं इनके तरबूज से फूले हुए मम्मों को दबाकर, चूसकर, लाल करके घर जाऊंगा, तो मैं यही करूँगा।

आंटी कुछ समय बाद सोफे पर बैठ गईं।

मुझे प्यार से देखा।

फिर मैंने अपने साढ़े छह इंच के लौड़े को नीचे देखा।

खेत में खड़े मोटे, रसभरे गन्ने की तरह मेरा लंड सीधा खड़ा था।

ओह अर्जुन, तेरा लंड अभी भी खड़ा है, आंटी ने आश्चर्यचकित होकर कहा। तुम अभी तक रिहा नहीं हो गया! ओह..। भगवान ने तुम्हारे अंदर घोड़े के लंड की शक्ति दी है। मेरे पति मिनटों में झड़ जाते हैं। ओह माफ करना, बेटा।

मैंने शरारती तरीके से कहा, “आंटी, मैं नहीं जानता क्या हो रहा है।” मैं अभी भी उत्तेजित हूँ। मेरा लंड बहुत कठोर हो गया है और दर्द कर रहा है। आंटी, कृपया इसे शांत करो।

आंटी: हां, बेटा, मैं कार्रवाई करती हूँ। अभी मेरी चूत ठंडी, शांत और ढीली हो गई है। वापस गर्म होने में कुछ समय लगेगा। थोड़ी देर और नियंत्रित रहो और थोड़ा दर्द सहो, फिर वापस मेरी चूत चोदो। आज मैं तेरे लंड से चुदना चाहती हूँ।

मैंने सोचा कि नाटक अभी समाप्त हो गया था, अब मैं अपने असली हवशी सेक्सी रूप में आ जाऊँगा और आंटी को दबाऊँगा।

मैंने दुखी स्वर में कहा, “ठीक है आंटी, मैं नियंत्रण करता हूँ।” आप अभी तक अपनी ब्रा पैंटी नहीं उतारी, आंटी। मैं पूरी तरह से नग्न देखना चाहता हूँ।

बेटा मुझे तुम्हारे सामने नंगी होने में शर्म आ रही थी, आंटी ने कहा।

मैंने कहा, आंटी, मेरे लंड ने आपके मुँह और चूत को चोद लिया है, तो अब मुझसे क्या शर्माना? तुम तुरंत मेरे सामने नंगी खड़ी हो जाओ।

मैं उठकर आंटी के सामने खड़ा हो गया।

मैं खड़ा हो गया और कहा जेनिफर डार्लिंग, मेरी प्यारी, मेरी जान।

आंटी यह शब्द सुनकर खुश हो गईं और थोड़ी उत्साहित हो गईं।

मैं डार्लिं आपको संतुष्ट किया। मैंने आपको मेरे साथ और मेरे लौड़े के साथ जो कुछ करना चाहा करने दिया। आपको रोका नहीं। आप भी मुझे अभी करने से नहीं रोकेंगे। मैं आपको बहुत सारी खुशी दूंगा।

आंटी ने सर को हिलाकर ग्रीन संकेत दिया।

पहले मैंने आंटी के सेक्सी होंठों पर जोरदार चुम्बन किया, फिर उनके पूरे बाल खोले।

मैं आपसे पूछना चाहता हूँ कि आपका फिगर साइज क्या है?

आंटी, मैं 36C ब्रा पहनती हूँ। मेरे बूब्स 36 इंच लंबे हैं। मैं ३४ इंच की कमर और ३८ इंच की पैंटी पहनती हूँ।

क्या आप का फिगर 36-34-38 साइज है?”

“हां।” आंटी ने कहा।

मैं-..। डार्लिंग आपका शरीर बहुत सुंदर है।

मैं अब आंटी के पीछे खड़ा हो गया।

मैं छह फीट और आंटी पांच फीट तीन इंच की थी।

आंटी की गांड के बीच में पैंटी मेरे खड़े लंड से टकरा रही थी।

मैंने आंटी के दोनों खरबूजों को ब्रा के ऊपर से ही पकड़ लिया।

मैं ब्रा के ऊपर से उनके मम्मों को दबाने लगा।

आंटी ने कहा, “ईईए आह।”

मैं आंटी की दोनों गालों को जीभ और होंठों से लगातार चाटने लगा।

मैंने उनके साथ खेलना शुरू किया।

मैं आंटी के दोनों कानों और गर्दन को चूमने लगा।

मेरा लंड नीचे आंटी की पैंटी को रगड़ रहा था।

दूसरी ओर, मेरे दोनों हाथों ने आंटी के बड़े स्तनों को ब्रा के ऊपर से दबाया।

मैं चाहता था कि आंटी को जल्दी से जल्दी फिर से यौन संबंध बनाने के लिए गर्म और उत्तेजित करूँ, ताकि मैं खुशी से उनकी चूत को चोद सकूँ।

मैंने आंटी की ब्रा का हुक खोलकर उसे साइड में फेंक दिया।

फिर पीछे से आंटी की पैंटी भी उतार दी।

अब आंटी बिल्कुल नंगी थीं।

उनके नंगे होने पर मैं आगे आया।

शर्म से आंटी ने अपनी आंखें बंद कर ली।

वासना से मैंने आंटी के नंगे शरीर को देखा।

Aunty Chudai Ki Nonveg Story

आंटी की 36 साइज की चूचियां खुले आसमान में फुदकती थीं।

उनके बूब्स पर काजू के आकार के भूरे निप्पल थे जो उनके बाकी शरीर से अधिक गोरे और मोटे थे।

बाहर से उनकी चूत थोड़ी काली थी। हल्के ट्रिम किए हुए सेक्सी बाल उस पर थे।

मैंने आंटी से कहा अपनी आंखें खोलो..।

आंटी ने अपनी आंखें खोली।

मैं, डार्लिंग, आपके सुडौल और बड़े बूब्स हैं। बहुत सुंदर हैं। इस उम्र में भी आपने इन्हें अच्छे से संभाला है।

यस डार्लिंग, आंटी ने खुशी से कहा कि उनकी शादी के पहले से ही बड़े बूब्स थे। तुम्हारे अंकल को बहुत अच्छा लगता है। अब वह मेरी चूत नहीं चोद सकते, लेकिन वह हर रात मेरे बूब्स दबाते हैं।

वाह, मैंने कहा।

आंटी, उन्हें छोड़ो..। लेकिन मेरी बेटी की शादी हो चुकी है, वह हर बार यहां आती है और मेरे बूब्स के साथ खेलती है।

मैं: ओह गॉड, इस उम्र में भी आपकी बेटी आपके स्तनपान करती है! उसे बहुत अच्छा लगता होगा !

आंटी: बेटा, मैं उसे मना नहीं करती क्योंकि उसको मेरे बूब्स बहुत पसंद हैं।

मैंने सोचा कि अब आंटी से कोई और सवाल नहीं करूँगा। अपने काम पर सीधा निर्भर हूँ। बाद में बेटी के बारे में पूछ लूंगा।

अब मैंने आंटी की चिकनी काली चूत पर हाथ रखा।

आंटी गहरी सांस लेती रही।

पुरानी और सुंदर चूत चुदाई के लिए बेहतरीन थी।

अब आंटी भी गर्म और उत्तेजित हो चुकी थीं, अर्जुन, बेडरूम में चलो। वहाँ बेड पर मज़ा आएगा।

मुझे आंटी ने अपने बड़े और आलीशान बेडरूम में ले गई।

मैंने आंटी को बेड पर सीधा रखा।

मैं पहले आंटी के मम्मों को चूसना चाहता था।

मैं आंटी के ऊपर चढ़ गया और उनके खरबूज की तरह गोल गोल चूसने लगा।

आंटी सिसक रही थी।

प्रिय, मैं पहले से ही मम्मों का बहुत प्यार करता हूँ। मैं देखता हूँ कि हर आदमी एक स्त्री के चूचों को लालसा से देखता है।

मैं अपनी माँ के बूब्स को कपड़ों से बाहर दबा देता था।

फिर आज आंटी को कैसे छोड़ना था?

आंटी ने दोनों हाथ मेरे सिर पर रखे।

मैं आंटी के एक स्तन को किसी छोटे बच्चे की तरह चूस रहा था।

कुछ देर बाद, मैंने उनके दोनों स्तनों को तेज गति से दबाना, चूसना और बेरहमी से खींचना शुरू कर दिया।

आंटी सिसकारियां ले रही थीं लेकिन कुछ नहीं कर पाई।

उन्हें मज़ा आ रहा था और वे उत्तेजित थीं।

मैंने भी उनके स्तनों को कुछ काट लिया।

तो आंटी रोते हुए चिल्लाई, “अर्जुन, मुझे दर्द हो रहा है।”

मैं माफी चाहता हूँ, डार्लिंग।

Aunty Sex Ki Desi Kahani

मैं आंटी को परेशान नहीं करना चाहता था, इसलिए मैंने बूब्स चुसाई बंद कर दी।

तब आंटी ने कहा, “बहुत धन्यवाद बेटा, मुझे बहुत मजा आ रहा था।” तुम बूब्स को अच्छे से चूसते और दबाते हो। लेकिन ज्यादा दबाने से ये लाल हो जाएंगे. तेरे अंकल हर रात इन्हें चूसे और दबाए बिना सोते नहीं हैं, इसलिए उन्हें शक होगा कि आपके स्तनों में लाल रंग की परत है। आज सब ठीक है, मैं डॉक्टर से क्रीम ले आऊंगी। ये उसे लगाने पर लाल नहीं होंगे। फिर जितनी मर्जी हो, उतना चूस और दबा।

मैंने कहा: ओके, आंटी।

मॉम का फोन अचानक मेरे फोन पर आया।

मैं भयभीत होकर शांत हो गया।

मैंने भी आंटी को शांत रहने को कहा।

मैंने कॉल को साइड में जवाब दिया।

मॉम: बेटा, तुमने घर पर क्या किया? जेनिफर आंटी का लैपटॉप सही काम कर रहा है क्या? तुमने क्या खाया?

ओह..। बहुत समय बीत गया था। आंटी की चुदाई के दौरान मैं खाना खाना भी भूल गया। सुबह से दोपहर हो गई।

मैं—यस मॉम, मैंने आंटी का लैपटॉप ठीक कर दिया। मैं फिलहाल आंटी के घर पर हूँ। खाना भी खाया।

मैंने मोम को झूठ बताया।

फिर मॉम ने फोन बंद कर दिया।

अब मुझे आंटी की चुदाई करके घर जाना होगा, वरना मॉम को शक होगा।

आंटी: बेटा, मैं अभी बहुत उत्साहित हूँ। मैं कहीं वापस गिर नहीं जाऊँ। तू भी झड़ जाओ और मुझे भी झड़ जाने दो।

ओके आंटी, मैं भी यही चाहता था।

ऐसे मैं अभी तक आंटी की मोटी गोल गांड नहीं देखा था।

लेकिन आंटी ने मुझे चुदाई के लिए आगे भी इनविटेशन दिया।

कभी और दिनों में, मैं आंटी की गांड मारूंगा।

लेकिन मुझे अभी झड़ना था और आंटी को भी बाहर निकालना था।

मैंने आंटी के दोनों पैरों को हाथों से आंटी के मुँह की तरफ मोड़ दिया, जिससे आंटी की चूत पूरी तरह खुली हुई दिखाई दे।

मैं तुरंत शॉट मारने लगा।

आंटी ने कहा, “आ ह ह अ आह उह।”

कब से मैं इसके इंतजार में थी।

आंटी झड़ गईं और कुछ देर में उनका पानी निकल गया।

लेकिन मैं चोदना नहीं बंद किया।

फिर कुछ देर बाद मैं भी झड़ गया और आंटी की चूत में सारा वीर्य डाल दिया।

थककर मैं आंटी के पास बेड पर लेट गया।

लंबी चुदाई से थककर आंटी भी लेट गईं।

Nonveg Sex Story With Mom Friend

मॉम के सहेली से यौन संबंध बनाने के कुछ समय बाद मैं बेड से उठा, जबकि आंटी अभी भी लेट गई थीं।

मैंने ड्रॉइंग रूम में जाकर अपने सारे कपड़े पहनकर वापस बेडरूम में आ गया।

आंटी ने कहा, “सॉरी बेटा, मैं थक गई हूँ।” मैं थक गया जब तुमने मेरे बूब्स की चुसाई और चूत की इतनी जोरदार चुदाई की कि मैं सो गई। तैयार होकर घर जा रहे हो?

मैं-हां, आंटी, मॉम घर कभी भी आ सकती है।

आंटी मेरी तरफ देखने लगी।

आंटी, आज आपके साथ बहुत मज़ा आया।”

आंटी, तुमने मेरी जिंदगी में खुशी वापस ला दी है।कभी-कभी आते रहो और आंटी को चोदते रहो।

मैं: धन्यवाद, आंटी, मैं आता रहूँगा। मैं खुद आपको याद करता रहूँगा।

फिर आंटी नंगी ही ड्राइंग रूम में मेरे साथ आ गईं।

मैं प्यार करता हूँ आंटी, मैंने उसके होंठ पर जोरदार किस किया।

“मैं भी तुम्हें प्यार करती हूँ, मेरी जान,” आंटी ने कहा और मुझे गाल पर चुम्मा दिया। मैं तुम्हें कुछ देती हूँ। जिससे तुम मुझे याद करते रहो और मुझे भूल नहीं पाओ।

आंटी ड्रॉइंग रूम से अपनी ब्रा और पैंटी ले आई।

मैंने कहा: ओके, आंटी।

आंटी के घर से निकलते ही मैंने उनकी ब्रा पैंटी को बैग में डाल दिया।

मेरे और जेनिफर आंटी की चुदाई की यह शुरुआत थी।

आगे कुछ दिनों में एक यौन कहानी के रूप में आपको इसके बाद क्या हुआ बताऊंगा।

Antarvasna Mom Friend Sex Kahani आपको कैसी लगी?

Related Posts

Leave a Comment