पेट में दर्द का नाटक करके छोटे भाई से चुदवाया

मेरा नाम आनंदी है मैं 22 साल की हूं आज मैं आपको अपनी सच्ची सेक्स कहानी सुनाने जा रही हूं यह मेरी कहानी बस 3 महीने पुरानी है और आज तक चली आ रही है. इस कहानी में मैं बताऊंगी कैसे मैंने अपने छोटे भाई को अपने जाल में फंसाया और उसे बेवकूफ बनाकर उससे सेक्स करवाया। आज तक उससे मैं चुदवा रही हूं। अब मैं पूरी कहानी आपको विस्तार से बताती हूं। Horny Sis Kahani

मेरे घर में हम दोनों के अलावा मम्मी और पापा रहते हैं वह दोनों बहुत बिजी रहते हैं उनका अपना काम है शोरूम है वह दोनों शोरूम में रहते हैं या कई बार दो-तीन दिन के लिए बाहर भी चले जाते हैं माल लाने के लिए। तब हम दोनों भाई बहन ही घर में अकेले रहते हैं.

मैं थोड़ी चुड़क्कड़ स्वभाव की हूं। मुझे ब्लू फिल्म देखना बहुत पसंद है इंटरनेट पर मैं रंगीन कहानियां, सेक्सी कहानियां पढ़ती हूं। जब तक कहानियां पढ़ती हूँ तब तक मैं अपने बूब्स को सहलाती हूँ। और अपने चूत में ऊँगली करते रहती हूँ, यह करते हुए मुझे बहुत अच्छा लगता है और जब से मुझे, लंड का चस्का लगा तब से मुझे असली में अब रोज चाहिए होता है।

मस्त हिंदी सेक्स स्टोरी :

मेरा भाई जो मेरे से छोटा है। हम लोग उसको बहुत प्यार करते हैं बट मेरा और उसका प्यार थोड़ा और अधिक बढ़ गया है। बचपन से ही उसे गले लगाना अपने पेट पर चढ़ाना, साथ खेलना घोड़ा घोड़ी खेलना वह आज तक चलते आ रहा है अक्सर घरों में ये खेल बंद हो जाता है। पर मेरे यहां अभी तक यह चल ही रहा है।

यदि आप भी अपनी कहानी इस वेबसाइट पर पब्लिक करवाना चाहते हैं तो नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके अपने कहानी हम तक भेज सकते हैं, हम आपकी कहानी आपके जानकारी को गोपनीय रखते हुए अपनी वेबसाइट पर प्रकाशित करेंगे

कहानी भेजने के लिए यहां क्लिक करें ✅ कहानी भेजें

1 दिन की बात है रात को मैं काफी कामुक हो गई थी मम्मी पापा दोनों दिल्ली गए थे घर में हम दोनों अकेले थे. मैंने ब्लू फिल्म देखी थी इस वजह से मुझे सेक्स करने का मन करने लगा था और करती क्या मैंने अपने भाई सुधीर को बोली.

इसे भी पढ़ें   चाचा की बेटी की चुत फाड़ी | Cousin Sister Sex Stories

सुधीर मेरे पेट में बहुत दर्द कर रहा है मेरे छाती में भी बहुत दर्द कर रहा है ऐसा लगता है मैं नहीं रहूंगी मैं दर्द से तड़प रही हूं मैं क्या करूं समझ नहीं आ रहा है रात के 12:00 बज गए हैं कहां जाये क्या करूं अगर मेरी जान निकल गई तो.

चुदाई की गरम देसी कहानी : 

इतना सुनकर मेरा भाई काफी घबरा गया वह परेशान होने लगा मैं भी नाटक करने लगी की पेट में बहुत दर्द है। तभी मैंने अपने टीशर्ट खोल दी नाटक करने लगी. मैं सिर्फ शार्ट और ब्रा में थी। धीरे-धीरे मैंने अपने ब्रा को भी खोल दे उसको बोली, तुम मेरा पेट हौले हौले से दबाओ ऐसा करने से दर्द में आराम मिल रहा है.

और वह वैसा ही करने लगा उसके बाद मैंने उसको बोला तुम छाती दबाओ, छाती दबाने लगा 5 मिनट तक दबाने के बाद मुझे ऐसा लगा उसका प्राइवेट पार्ट खड़ा हो रहा है उसका हथियार खड़ा हो गया और मैं भी यही चाह रही थी उसका हथियार खड़ा हो जाए.

उसके बाद मैं बोली सुधीर क्या हुआ परेशान क्यों है. तुमने मेरी मदद की अब थोड़ा दर्द खत्म हो गया है ऐसा लगता है मैं ठीक हो गई आज अगर तुम नहीं होते तो मेरा क्या हाल होता। उसके बाद मैं उसे अपने गले से लगा लिया, गले से लगा मैं उसके होठ को चूमने लगी।

मस्तराम की गन्दी चुदाई की कहानी : 

धीरे धीरे वो मेरी चूचियों को सहलाने लगा और किस करने लगा उसके बाद उसने मेरे पेंट में हाथ घुसा दिया हाथ घुसाते ही उसे एहसास हुआ। मेरी चूत काफी गीली हो गई थी। और काफी गर्म हो गया था चूत से गरम गरम पानी निकल रहा था.

इसे भी पढ़ें   बगल वाली भाभी की जोरदार चुदाई करी 1 | Nangi Bhabhi Bangali Sex Kahani

उसने उंगली डाला और उंगली सटाक से अंदर चला गया। मेरे शरीर में भी गर्मी आ गई मेरा रोम रोम शहर दिया उसके बाद उसने हाथ निकाला और फिर मेरे चूचियों को जोर जोर से मसलने लगा। मेरे मुंह से आह आह की आवाज निकलने लगी उसकी भी सिसकारियां आ रही थी हम दोनों एक दूसरे को मजे दे रहे थे।

मैंने अपनी पेंटी खोल दी उसके बाल को पकड़कर मैं अपने प्राइवेट पार्ट के पास ले गई और बोली कि चुसो इसको चाटो जितना चाट सकता है चाटो, वह पागलों की तरह मेरे प्राइवेट पार्ट को चाटने लगा। उंगलियां घुसाने लगा जोर जोर से लगा गरम गरम पानी तो वह अपने जीभ से तुरंत चाट जाता।

अन्तर्वासना हिंदी सेक्स स्टोरीज : 

उसका यह सब करना मुझे बहुत अच्छा लग रहा था मैं बोली सुधीर अब मेरे से बर्दाश्त नहीं हो रहा है मुझे तुम्हारा लंड चाहिए। आज तुम मुझे खुश कर दे आज रात भर तू इतना सेक्स कर इतना सेक्स कर कि मैं तेरी दीवानी हो जाऊं और घर का माल घर में रह जाए इससे और बढ़िया क्या हो सकता है फिर जैसे मर्जी तू मुझे चोदना रोज चोदना, मैं मना नहीं करूंगी।

इतना सुनकर सुधीर अपना लंड निकाल कर, मेरे चूत पर सेट कर उसे जोर से धक्का दिया उसका पूरा का पूरा नाम इंच का लंड मेरी चूत के अंदर चला गया। जोर जोर से धक्के देने लगा मैं आह आह करने लगी जोर जोर से धक्के जी नीचे से मैं धक्के देते दोनों तरफ से जब धक्के लग रहे थे तो दोनों के जिस्म में गर्मी दौड़ रही थी। “Horny Sis Kahani”

हम दोनों एक दूसरे को जितना खुश कर सकते थे कर रहे थे। उसके बाद में सुधीर को नीचे की और मैं खुद ऊपर चली गई उसके बाद उसके ऊपर ऐसे रेंगने लगी, मानो बिन पानी मछली। मेरी चूत की गर्मी शांत ही नहीं हो रही थी मैं काफी ज्यादा वाइल्ड हो गई थी पर वह भी कम नहीं था वह भी बहुत मेहनत कर रहा था मैं कह रही थी जोर से जोर से और जोर से।

इसे भी पढ़ें   बारिश के दिन दो लड़को से मरवाई गांड | Hindi Hot Xxx Gay Sex Kahani

कामुकता हिंदी सेक्स स्टोरी : 

अचानक वो शिथिल पड़ गया। पर मेरी गर्मी अभी नहीं उतरी, उसका लंड शांत हो गया था पर मैं अभी शांत नहीं हुई थी। मैं बोली अरे तुमने यह क्या कर दिया तुमने मुझे खुश नहीं किया मैं भी शांत नहीं हुई हूं मैं क्या करूं। उसने मुझे गले लगाया और बोला दीदी यह मेरा पहला दिन था आपको निराश नहीं करूंगा ईश्वर आपको खुश कर दूंगा मुझे पता चल गया है कैसे करना है। उसने सही बोला था दोस्तों दूसरे दिन उसने मेरी ऐसी चुदाई की जो मेरे लिए यादगार है। हम दोनों भाई बहन एक दूसरे को अभी तक एक दूसरे को खुश करते आ रहे हैं।

दोस्तों आपको ये Horny Sis Kahani मस्त लगी तो इसे अपने दोस्तों के साथ फेसबुक और Whatsapp पर शेयर करे…………….

Related Posts

Report this post

मैं रिया आपके कमेंट का इंतजार कर रही हूँ, कमेंट में स्टोरी कैसी लगी जरूर बताये।

Leave a Comment