मौसा के घर आई लड़की को चोद दिया। Hot Baby Xxx Desi Kahani

मेरे Hot Baby Xxx Desi Kahani है। हम दोनों एक ही दिन मेरे मौसाजी के घर पहुंचे। हमारी दोस्ती और शादी कैसे हुई?

दोस्तो, मैं रिकी हूँ, 23 साल का हूँ और मैं मध्य प्रदेश का रहने वाला हूँ।

मैंने किशोरअवस्था से ही सेक्स कहानियां पढ़ी हैं और बहुत सी लड़कियों और औरतों से ऑनलाइन बातचीत की है।

यह सब सेक्स मुझे बहुत अच्छा लगता है, इसलिए मैं अक्सर सेक्स की कहानियों पर चर्चा करता रहता हूँ।

यदि आप भी अपनी कहानी इस वेबसाइट पर पब्लिक करवाना चाहते हैं तो नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके अपने कहानी हम तक भेज सकते हैं, हम आपकी कहानी आपके जानकारी को गोपनीय रखते हुए अपनी वेबसाइट पर प्रकाशित करेंगे

कहानी भेजने के लिए यहां क्लिक करें ✅ कहानी भेजें

तुम सब मेरी कहानी सुनने से पहले

शादी में लड़की ने पहले चूत चुसवाया। Xxx Pussy Sucking Hindi Sex Story

Hot Desi Girl Xxx Chudai

को जरूर पढ़ा होगा, जिसमें मैंने बताया था कि मैंने बस में एक गोरी माल भाभी को गर्म करके उसका पानी निकाला था और उसने भी अपने मुलायम हाथों से मेरे लंड को सहलाकर मेरा पानी अपने चिकने शरीर पर निकाला था।

पर दुःख की बात है कि हम दोनों की वासना चुदाई तक नहीं पहुंच पाई और हम एक दूसरे से अलग हो गए।

अब Hot Baby Xxx Desi Kahani आगे:

बस मेरे स्टॉप तक पहुंची और मैं भी उतर गया।

लेकिन मेरे मन में और मेरे मन में शिखा भाभी की चुदाई अभी भी चल रही थी।

मेरा मन अभी भी शिखा भाभी की मोटी गांड पर था, जबकि मेरा लंड ये सब सोचकर लोहे की रॉड जैसा तना हुआ था।

मेने पैंट में कुछ भी नहीं देखा।

कुछ लोगों को मेरे तम्बू पर नजर पड़ी, शायद इसलिए वे मुझ पर हंस रहे थे।

इसलिए मैंने उन्हें नहीं देखा और साइड में खड़ा होकर उनके आने का इंतजार करने लगा।

पास में खड़ी एक लड़की बार-बार मुझे देख रही थी, इसलिए मैंने सोचा कि शायद वह लाइन दे रही हैं।

फिर उसने मुँह फेर दिया जब मैंने उसे देखा।

मैंने ऐसा करने का कारण नहीं समझा।

वास्तव में, मैं सिर्फ शिखा भाभी के सपने देख रहा था। वह लड़की इयरफोन से गाना सुन रही थे।

उसने फिर से छुप छुप कर मुझे देखा।

उसने मेरा लंड देखा।

मैं काफी फिट था, इसलिए मुझे लगा कि शायद इसी कारण उसकी नजर मुझ पर हीं थी।

मैंने तुरंत उससे पूछा: क्या हुआ?

उसने कहा कुछ भी नहीं है!

मैं पूछा हूँ कि ये सब क्या है?

उसने कहा, क्या सब?

आप मुझे बार-बार ऐसा क्यों देख रही हो ?

वह, शायद आपने अपना मुख नहीं देखा होगा।

मैं: क्या हुआ, क्या हुआ?

आपको शर्म नहीं आती कि आप खुले स्थान पर घूम रहे हैं?

मैं: यहां गांव में सार्वजनिक स्थानों पर घूमने का एक अलग तरीका क्या है? मुझे लगता है कि सब ठीक है।

उसकी ओर देखो।

Desi Ladki Ki Chudai Kahani

नीचे देखने के बाद मुझे कहा कि कुछ भी नहीं है।

वह: आप पूरी तरह से सुरक्षित हैं जब आप इन तम्बू में घूम रहे हैं और बोल रहे हैं?

मुझे थोड़ा अजीब महसूस होने लगा और मैं अपना लंड छिपाने लगा, लेकिन वह अब भी मुझे देख रही थी।

मुझे पता नहीं क्यों शर्म आने लगी।

मैंने उससे माफी मांगी और कहा कि मैंने इस पर ध्यान नहीं दिया था. कृपया मुझे गलत मत समझिए।

उसने सब कुछ दिखा दिया, इसमें समझने के लिए अब कुछ भी नहीं है।

मैंने कहा कि मैं नहीं जानता था कि ये सब कब हुआ था. यह अच्छा है कि आपने बताया क्योंकि अगर ऐसा नहीं होता तो मैं बदनाम हो जाता।

वह: जो कुछ हुआ, जाने दीजिए।

मुझे मौसा मिल गया और मैं उनकी तरफ बढ़ने लगा।

तब मैंने पीछे से कहा, “मामा जी, आपने बहुत देर कर दी, मैं यहां खड़ी खड़ी थक गई हूँ।”

मैं इस आवाज को जानता था।

मैंने देखा कि वही लड़की मेरे तम्बू पर नजर लगाए हुए थी।

मैं चौंक गया और वहीं खड़ा रहकर देखने लगा कि क्या हो रहा है।

तब मौसा ने कहा, “रिकी, घर नहीं जाना है क्या? या यहीं रहोगे?”

इसे भी पढ़ें   बारह सालों से चाची की प्यासी चुत चोदी। Hot Nangi Chachi Ki Chudai Ki Kahani

मैं—मौसा जी।

वह मुझे ऐसे घूर रही थी जैसे उसे एक कठोर झटका लगा हो।

मैं सिर्फ उसकी आंखें देख रहा था, इसलिए मैं जानने के लिए उसकी क्या प्रतिक्रिया थी।

तब हम बाइक पर बैठे। मैं और वह लड़की। मौसा गाड़ी चला रहे थे।

हम तीनों घरों की ओर चले गए।

जैसा कि आप सब जानते हैं, गांव की सड़कें इतनी गड्डीदार हैं कि एक आदमी बाइक पर बैठ ही नहीं सकता।

मैंने बैग के किनारे अपने पैर को रखा हुआ था, जिससे उस लड़की और मेरे बीच में ज्यादा दूरी नहीं थी।

अब उसकी चूचियां मेरी पीठ पर रगड़ती थीं हर बार गाड़ी गड्डे में जाती।

मुझे इसमें बहुत मजा आया। ऐसे ही बार-बार गिरने से मेरे और उस लड़की के बीच बहुत दूरी नहीं बची।

अब उसकी चूचियां मेरी पीठ से पूरी तरह चिपकी हुई थीं, जिससे मेरा लंड फिर से उठ गया।

तब उसने कहा, “मामा जी, पीछे बैठने में मुझे परेशानी हो रही है।”

डिंपी, क्या हुआ?

Antavasna Girl Ki Sexy Kahaniya

डिंपी: मामा, यहां इतने गड्डे हैं, इसलिए पीछे बैठना मुश्किल है।

ठीक है, मोसा जी, तुम बीच में बैठ जाओ और रिकी पीछे बैठ जाएगा।

मैं जानता था कि इसे ये सब पसंद नहीं ।

अब मैं थोड़ा दूर बैठ गया, लेकिन सड़क को ये सब पसंद नहीं था।

गड्डों की वजह से हमारे बीच का फासला कम होता जा रहा था, और मेरा लंड, डिंपी की चूचियों की वजह से खड़ा हुआ था, अब सिर्फ डिंपी की गांड तक पहुंचने वाला था।

तभी सामने से गाय आ गई और मौसा जी ने अचानक ब्रेक मारा, जिससे मैं एक झटके में आगे खिसक गया और डिंपी की गांड से मेरा लंड चिपक गया।

तेज झटके ने उसकी कमर को कसके पकड़ा।

उसने कसमसा दिया।

अब मैं डिंपी की गांड के मजे ले रहा था, फूल मूड में।

ऐसे ही हम घर पहुंचे।

डिंपी ने उतरते ही सीधा अंदर चला गया, मेरी तरफ भी नहीं देखा।

मैंने सोचा कि इसे किसी को बताना गलत होगा।

मैंने उसकी ओर देखा।

फिर शाम को वह अकेली मिली तो मैंने उसे सॉरी कहा।

लेकिन वह मुँह फेर कर चली गई।

मैं उसका हाथ पकड़कर रोका, उसके कान पकड़कर सॉरी बोलकर उठकर बैठने लगा।

इसलिए वह हंस पड़ी।

मैंने देखा कि वह मान गई है।

मैं अब माफी चाहता हूँ।

डिंपी: अभी नहीं, दो सौ और डाल दो।

मैं सोचता हूँ कि अगर कोई इसे देखेगा तो क्या सोचेगा?

डिंपी: बहुत अच्छा, सर. बाइक पर हुआ सब कुछ देखकर कोई क्या सोचेगा?

मैं माफी चाहता हूँ; मैं जानबूझकर कुछ गलत नहीं किया।

डिंपी: हां, तो जानबूझकर 30 और डालो।

मैं: अरे, पहले बीस अब चालीस, यह चीटिंग है।

डिंपी: अगर आप नहीं करते तो मैं मामा को फोन करुँगी।

मैं- नहीं, मैं करता हूँ।

डिंपी: अच्छे आदमी, तुम इतने फिट हो कि हर दिन जिम में इससे ज्यादा काम करेंगे।

मैं-हाँ, लेकिन ऐसी किसी लड़की के सामने ऐसा नहीं करता।

डिंपी—अब बहुत कुछ करना पड़ेगा, इसलिए इसे एक आदत बनाओ।

क्या आपका मतलब है?

डिंपी ने शैतानी मुस्कुराहट के साथ कहा कि देखो।

तब से हम नॉर्मल बोलने लगे। इंट्रोडक्शन प्रकार की बात

फिर जीएफ बीएफ पर बात चली।

मैं आपके पास बहुत सारे बीएफ होंगे।

डिंपी: हां, मैं दस छोड़ चुकी हूँ और अभी तीन अतिरिक्त हैं।

मैं इतने बीएफ कैसे हो सकते हैं?

डिंपी: एक लड़का चार से पांच लड़कियों के साथ घूमता है।

मैं—मजाक मत करो।

हां, इस तरह का प्रश्न भी नहीं पूछना चाहिए।

मैं: बीएफ होगा ही नहीं!

Desi Girl Nonveg Sexy Story

डिंपी: हमारे पास कुछ ऐसा है; हमें अपने आप से काम करना चाहिए।

मैंने समझा कि ये चूत में उंगली डालने की बात है।

फिर भी मैं अंजान हो गया और खुद से पूछा, मतलब?

डिंपी: मैं अकेले रहती हूँ, आपकी तरह, दिन भर अपने बीएफ के बारे में सोचते रहती हूँ ।

इसे भी पढ़ें   भाभी की ख़ातिर भैया से चुदवा लिया | Bhai Behan Ki Free Xxx Kahani

मैं- कुछ भी, आपको ऐसा कहने वाला किसने था?

डिंपी, मैंने दिन भर में सब कुछ नहीं देखा था।

मैं भी कहता हूँ कि छोड़ो उस बात को।

डिंपी-छोड़ने का मतलब यह है कि कोई इतना कुछ खो सकता है कि उसे अपने घर की याद ही नहीं आती।

मैं- मैं उस पर ध्यान नहीं दिया था!

डिंपी: आप इतनी प्यारी लड़की से प्यार कर रहे हैं!

मैं नहीं हूँ; मैं सिंगल हूँ, जैसा कि हॉट लड़कियां अक्सर अकेली रहती हैं। अपने आप को देखो।

डिंपी: मैं हॉट हूँ, जी!

मैं-हां, जी, इसमें कोई शक नहीं कि मेरे क्लास में आपके जितनी सुंदर लड़की नहीं है।

डिंपी: लेकिन मेरी किस्मत में कोई नहीं है, तो ऐसी हॉटनेस का क्या लाभ है?

मैं कहता हूँ कि अब सिंगल रहकर खुश रहो।

डिंपी: ऐसा भी होता है?

मैं-हां जी, आजकल सब कुछ होता है, मेरे दोस्त अकेले बहुत खुश है।

डिंपी: कुछ मज़े अकेले नहीं होते; बीएफ जीएफ होना आवश्यक है।

मैं—उसे सिर्फ एक आदमी और एक महिला की जरूरत है,न की बीएफ जीएफ।

डिंपी: आप लगता है कि यह सब कुछ कर चुके हैं।

मैं भी अपनी उसी दोस्त के साथ अपने अनुभवों को शेयर करता हूँ, जी।

डिंपी ने कहा कि तुम बहुत भाग्यशाली हो, मैं भी नहीं होता।

मैं—ऐसा दोस्त आपके आसपास भी मिल सकता है।

डिंपी: वह कैसा है?

मैं उसके पास खिसक गया और उसकी जांघ पर हाथ लगाया।

मैं हूँ।

Kamukta Girl Ki Xxx Chudai Kahani

डिंपी, आप अलग दुनिया में रहते हैं और पहले से ही एक प्रेमी है, तो इससे क्या फायदा?

मैं: मैं आपको लाभ देता हूँ; आप बस लाभ उठाते हैं।

डिंपी: क्या आप इसी तरह चलते रहोगे?

मैं उसकी जांघ को धीरे-धीरे सहलाने लगा, लेकिन उसने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी।

फिर मैं उससे चिपककर बैठ गया और दोनों जांघों के बीच में हाथ डालकर सहलाने लगा।

उसने लंबी सांस छोड़ी।

डिंपी ने कहा: रिकी, कोई देखेगा।

मैंने कहा कि, शश्श, इतने अंधेरे में कोई कुछ नहीं देख पाएगा; बस आनंद लो।

मैंने अपना हाथ अंदर ले जाकर उसकी चूत के ऊपर रखकर उसकी एक जांघ उठाकर अपनी जांघ पर रखने लगा।

फिर उसने आंखें बंद कर लीं और एक लंबी सांस भरी।

फिर मैंने धीरे-धीरे उसकी जींस के अंदर हाथ डालकर उसकी चूत को रगड़ने लगा।

उसने मादक सिसकारियां भरने शुरू कीं।

तब मैं अपनी जीभ उसके मुँह में डालकर किस करने लगा।

अब मैंने उसको वहीं लेटा दिया और जींस नीचे करके उस देसी लड़की की नंगी चूत में उंगली डालने लगा।

क्या सुंदर गीली चूत थी उसकी, बस मेरे लिए बनाई गई थी।

उसकी आंखें फिर से बंद थीं।

यह देखकर मैंने जोर से अपनी उंगली अंदर तक डाल दी, जिससे उसकी आह निकल गई और उसकी आंखें खुली की खुली रह गईं।

मैं उसकी चूचियों को दबाने लगा और उंगली को उसकी चूत में डालने लगा।

अब वह भी मेरे मुँह में किस करने लगी।

मैं भी जोर से उसकी चूचियां दबाने लगा।

अब मेरा लंड लोहे की रॉड जैसा गर्म और मजबूत था।

उसने एक झटके में लंड को जकड़ लिया, जब मैंने उसका हाथ अपने शॉर्ट्स में डाल दिया।

वह हॉट बेबी धीरे-धीरे मेरे लिंग को हिलाने लगी।

मैं खुश होने लगा।

हम दोनों बहुत जल्दी गर्म हो गए।

हम दोनों कुछ देर तक ऐसा ही करते रहे।

मैं उसकी चूचियों और चूत के साथ खेलता रहा और वह मेरा लंड हिलाती रही।

डिंपी ने कहा, “रिकी, मेरी चूत में अपना लोहा डालो!”

मैं भी अपने शॉर्ट्स निकालकर उसकी टांगों को कंधों पर रखकर उसकी चूत पर लंड रखकर पोज बनाने लगा।

वासना ने उसे सिसकारियां भर दीं।

धीरे-धीरे मैंने अपना लंड उसकी गीली चूत में डाला, जिससे सुपारा आसानी से घुस गया।

वह मचल उठी।

मैंने उसकी चूत में लंड डालने के लिए कसके को पकड़ा।

वह रोने लगी।

Indian Hot Ladki Ki Free Sex Kahani

मैंने उसके मुँह में उंगलियां डालकर उसे चूसने को कहा।

इसे भी पढ़ें   विडियो कॉल पर चूत में ऊँगली करके दिखाया दीदी ने

उसने मुँह में उंगली डालकर दर्द बाँटने लगी।

धीरे-धीरे मैं उसकी चूत में धक्के मारने लगा।

पर उसकी चूत इतनी टाइट थी कि मेरा लंड पूरी तरह से अंदर नहीं जा सका।

मैंने आखिरकार उसकी चूचियों को कसकर उसके मुँह में अपनी जीभ डालकर जोर से धक्का मारा।

मैंने फिर से धक्का लगाया, वह रोने लगी।

लंड थोड़ा और अंदर गया।

उसने मुझे और अधिक उत्तेजित करने के लिए उसके नाखून मेरे शरीर में डालने लगे।

तभी मैंने उसकी टांगों को और झुकाकर सैट किया, चूचियों को कसकर, पूरी ताकत से लंड को अंदर डाल दिया।

बिन पानी की मछली की तरह, उसकी आंखों से आंसू बहने लगे, जो उसके नाखूनों में, मेरी पीठ में और उसके नाखूनों में घुस गए।

मैं दस सेकेंड रुका और फिर उसे जोर से चोदना शुरू किया।

उसकी हर चीख मेरे मुँह में जाकर खत्म होती थी।

उसकी चूत को चीरते हुए मेरा लंड अंदर तक जा रहा था, और मेरा लंड उसकी चूत पर बढ़ता जा रहा था।

अब वह मेरी पीठ पर नाखूनों से निशान छोड़ने लगी।

मैं भी उसे बिना परवाह किए चोदता जा रहा था।

इस बीच, उसकी चूत में दो बार पानी छोड़ दिया गया, जिससे उसकी चूत चिकनी हो गई और लंड पूरी खुशी से अंदर जा रहा था।

ऐसा कुछ समय तक चलता रहा।

मेरा लंड खत्म होने वाला था।

मैंने उसके मुँह पर अपना लंड रखकर उसकी एक चूची को जोर से मसला।

मैंने लंड को उसके मुँह में डालकर उसके होंठ खोले।

मैं उसके मुँह को कुछ देर चोदता रहा, फिर अपना सारा पानी अंदर छोड़ दिया।

वह वीर्य पीने लगी, लेकिन मैंने लंड को सिर्फ मुँह में रखकर उसकी नाक दबा दी, जिससे उसे मेरा वीर्य पीना पड़ा।

मैंने रस खत्म होते ही अपना लंड निकाल लिया।

डिंपी: तुमने मेरी चूत फाड़ दी, बहुत दर्द हो रहा है।

मेरा मतलब है कि आपको मज़ा नहीं आया। फिर दोस्ती यहीं समाप्त होती है।

डिंपी: मैं उससे सहमत नहीं थी।

आपका क्या मतलब था?

डिंपी: तुमने ऐसा व्यवहार किया जैसे ये सिर्फ आखिरी बार हो… और मैं कल जाऊंगा।

मैंने सोचा कि पहला मज़ा भरपूर होना चाहिए, क्योंकि मैं नहीं जानता कि बाद में मौका मिलेगा या नहीं।

डिंपी: आप दस दिन रुकने वाले हैं और आपको कई अवसर मिलेंगे, लेकिन आपने मुझे फिर से चोदने लायक नहीं छोड़ा।

मैं कहता हूँ कि ये दर्द सिर्फ कुछ समय का है. कल तुम्हारी चूत फिर से ऐसे प्यासी हो जाएगी, जैसे कुछ नहीं हुआ हो।

डिंपी: अगर कोई हमें खोजने आता है, तो हमारे पास कोई समस्या नहीं होगी और यह हमारी आखिरी चुदाई होगी।

मैं-हां, तुम जल्दी से कपड़े पहनो।

फिर हम कपड़े पहनने लगे।

इस चुदाई के बाद वो ठीक से चल नहीं पा रही थी तो सबने पूछा- क्या हुआ.

तो उसने बोला कि उसके पैर की नस खिंच गई है, इसलिए चल नहीं पा रही है.

पर आप सबको तो पता ही है, उसके ठीक से न चल पाने की क्या वजह थी.

इसके आगे की सेक्स कहानी जानने के लिए मुझसे जुड़े रहें और आपको ये Hot Baby Xxx Desi Kahani कैसी लगी, इसके बारे में Sexykahani@gmail.com पर मेल करके जरूर बताएं.

Related Posts

Report this post

मैं रिया आपके कमेंट का इंतजार कर रही हूँ, कमेंट में स्टोरी कैसी लगी जरूर बताये।

1 thought on “मौसा के घर आई लड़की को चोद दिया। Hot Baby Xxx Desi Kahani”

Leave a Comment