पापा ने प्यार से चोदा – Papa ne mujhe choda

नमस्कार दोस्तों मेरा नाम कल्याणी है और मैं तमिलनाडु के एक छोटे से गांव में रहती हूं, आज मैं अपनी सच्ची घटना बताने जा रही हूं जिसमें आपको पता चलेगा कि एक बेटी अपने आप से कैसे चुदाई करवाती है। यह घटना मेरी जीवन का सत्य घटना है इसलिए कृपया ध्यान से पढ़िएगा और यह मेरी पहली चुदाई की कहानी है इसीलिए लिखने में कोई भूल हो तो मुझे माफ करिएगा।
मेरा उम्र 25 साल है यह कहानी तक की है जब मैं 19 साल की थी और मेरे घर में मैं और मेरे पिता ही रहते थे मेरी मां का देहांत 2 साल पहले कैंसर की वजह से हो गया था उसके बाद घर के काम में ही देखा करती थी और पिताजी का भी ख्याल रखती थे।
मुझे सेक्स स्टोरी पढ़ने की आदत बहुत पहले लग गई थी, जब मैं कक्षा 10 में थी तभी मेरी सहेली ने मुझे सेक्स स्टोरी की वेबसाइट के बारे में बताया था और मैं तभी से प्रतिदिन चुदाई की कहानी पढ़ती थी, मैंने रिश्तो में चुदाई की कहानी बहुत पहले ही पढ़ ली थी लेकिन मुझे सारी कहानी झूठी लगती थी लेकिन बात एक दिन की है जब मुझे सारी कहानी सच लगने लगे, क्योंकि अब यह मेरे साथ होने लगा था।
मैं अक्सर सेक्स स्टोरी पढ़ने के बाद अपनी चूत को रगड़ देती थी और पानी निकाल कर सो जाती थी मेरा कमरा अलग था और मेरे कमरे में पिताजी कभी नहीं आया करते थे, इसीलिए मैं कभी-कभी चुत में उंगली करने के बाद आधी नंगी ही सो जाती थी।
1 दिन में सुबह बाथरूम में नहाने गई, तो मुझे अपनी ब्रा पर वीर्य के निशान दिखाई दिए क्योंकि मैं काफी समय से चुदाई की कहानी पढ़ रही थी और पॉर्न वीडियो भी देखा था तो मुझे साफ पता था कि यह वीर्य का निशान है और मैंने बहुत सारी कहानियों में पढ़ा था कि अक्सर पुरुष अपनी पसंद की स्त्री के ब्रा और पेटी में मूठ मारना पसंद करता है।
मुझे यह देखकर बेहद हैरानी हुई और अंदर ही अंदर एक्साइटमेंट भी हुआ क्योंकि मेरे घर में मेरे अलावा सिर्फ मेरे पिता रहते थे तो इसका मतलब साफ था कि मेरे पिता ने मेरे ब्रा पर मुठ मारा था।
यह देखकर मुझे लगा कि हो जाता है कभी कबार, मां के देहांत हुए 2 साल हो गया है पिताजी की कोई गलती नहीं है लेकिन अगले सुबह यह फिर हुआ और मुझे अब यह अच्छा लगने लगा था।
पहले तो मैं ब्रा पर लगे वीर्य को सूंघती थी और उसके सुगंध को अपने नाक में भर लेती थी और मुझे बहुत मजा आता था अब यह रोज का हो गया था, कभी मेरी ब्रा पर तो कभी मेरी पैंटी पर पिताजी का वीर्य मिल ही जाता था और मैं उसे वीर्य को सूंघते हुए अपनी चूत को रगड़ के चूत का पानी निकाल देती थी।
मैं अपनी चूत में उंगली नहीं डाल पाती थी क्योंकि मेरी चूत में उंगली जाने का जगह बना ही नहीं था अभी मैं पूरी कुंवारी थी।
यह सिलसिला लगभग 15 दिन चला और अब मैं भी गर्म होने लगी थी, अब मैं चुदाई की कहानी की वेबसाइट पर सिर्फ आप और बेटी की चुदाई की कहानी पढ़ा करती थी और साथ ही पोर्न में भी वही वीडियो देखा करती थी जिसमें पापा अपनी बेटी की चुदाई करता होता था।
मुझे लगने लगा था कि यह पिताजी का एक संकेत है और यदि मैं भी संकेत दूंगी तो पिताजी जरूर मेरी चुदाई करेंगे, क्योंकि अब मैं जवान हो गई थी मुझे भी एक लण्ड की तलाश थी और यदि लण्ड अपने घर में ही किसी का मिल जाए, तो इससे अच्छा क्या होगा।
अब मैं भी घर में छोटे कपड़े पहनना शुरू कर दिया, पहले मैं घर में सूट सलवार पहना करती थी, लेकिन अब मैं घुटने के ऊपर तक का शॉर्ट्स और टाइट टॉप बनने लगी।
कभी-कभी मैं टॉप के अंदर ब्रा भी नहीं पहनती थी, मेरी चूचियां 34 की थी, जो कि बिना ब्रा के टॉप में बहुत उछला करते थे और मैं अब जानबूझकर अपनी चूची को और उछाला करती थी।
अब मैं सोच लिया था कि पापा इतना संकेत दे ही रहे हैं तो मैं भी अब अपना खेल शुरू करती हूं, हालांकि बिना ब्रा के टाइट टॉप पहनना, शॉर्ट्स पहनना एक संकेत ही था लेकिन अब मैं चुदाई करवाना चाहती थी क्योंकि मैं करीबन 20 से 25 दिन से सिर्फ पिताजी के वीर्य सूंघ कर चूत में से पानी निकल रही थी, अब मैं चाहती थी कि मेरे पिताजी का लण्ड मेरी चूत में घुस जाए और मुझे जमकर चोदे।
एक शाम जब पिताजी घर आए तब मैंने जानबूझकर अपने रूम का दरवाजा खुला रखा और मैं बिना शॉर्ट्स के और बिना पैंटी के अपने बेड पर लेटी रही और ऐसा दिखावा किया कि मैं सो रही हूं।
पापा को शायद याद नहीं था, लेकिन आज मेरा जन्मदिन था और मैं आज इस जन्मदिन के अवसर पर अपनी चूत में अपने सगे पापा का लण्ड लेना चाहती थी, मैं अपने मुंह पर एक हाथ रखकर सोने का दिखावा किया था, हाथ के नीचे से हल्की सी आंख खोलकर मैं पिताजी की तरफ देख रही थी।
पहले तो पिताजी की नजर मेरे ऊपर पड़ी नहीं कुछ देर बाद जब उनकी नजर मेरे ऊपर पड़ी तो वह पहले इग्नोर करते हुए अपने रूम में चले गए और मुझे लगा कि शायद मैं जल्दी बाजी कर दी।
लेकिन कुछ देर बाद पिताजी वापस से आए और उन्होंने मुझे आवाज लगाया कल्लो कल्लों, यह मेरे घर का नाम था अक्सर पिताजी मुझे इसी नाम से बुलाया करते थे मैं जानबूझकर कोई जवाब नहीं दी क्योंकि मैं चाहती थी कि पिताजी को लगे कि मैं सो गई हूं
कुछ देर मेरा नाम बुलाने के बाद पिताजी मेरे रूम के दरवाजे के पास पहुंच गए जैसा कि मैं पहले बताया था कि पिताजी मेरे रूम में कभी नहीं आया करते थे लेकिन आज मैंने अपने पापा को अपने रूम में आने के लिए मजबूर कर दिया था कुछ देर पापा रूम के दरवाजे पर ही खड़े रहे और फिर से मुझे आवाज लगाया बेटी कल्लो सो गई क्या? उठो मैं आ गया हूँ।
मैं बिल्कुल नींद में सोने की एक्टिंग करती रही और अपने पिता की हालत देखकर मन ही मन मुस्कुरा रही थी अब दरवाजे पर खड़े होकर मेरे पिता ने अपने लंड को पेट में सही से सेट किया क्योंकि अब उनके पेंट में उभर देखना शुरू हो गया था और 2 मिनट वहां खड़ा रहने के बाद वह मेरे पास आ गए और खड़े होकर मुझे निहारने लगे।

इसे भी पढ़ें   गर्लफ्रेंड की माँ को जबरदस्त चोदा | Mom Sex Story in Hindi

मैं हवस की आग में जल रही थी, लेकिन मुझे शर्म भी बहुत आ रही थी मैंने कभी सोचा नहीं था कि मैं अपने ही पापा के सामने ऐसे आधी नंगी लेटी रहूंगी, लेकिन मुझे चुदाई का भूत चढ़ा हुआ था और मैं चुदाई के लिए कुछ भी करने को तैयार थी।
पापा ने फिर से मुझे आवाज दिया और मैं फिर वैसे ही सोने का नाटक करती रही, अब पिताजी झुकें और मेरी दोनों टांगें काफी फैली हुई थी, जिसके वजह से मेरी चूत साफ दिखाई दे रही थी और मेरे चुत के होंठ हल्के खुले हुए भी थे, पिताजी ने हल्के से मेरी चूत को छुआ मेरे शरीर में चिंगारी सी दौड़ गई, मन तो हुआ कि मैं तुरंत उठकर पिताजी को गले से लगा लूं, लेकिन मैं काम बिगड़ना नहीं चाहती थी इसलिए मैं वैसे ही अपनी सांसों को काबू में करते हुए पड़ी रही।
पहले तो हल्का-हल्का चूत को छूने के बाद पिताजी ने दोनों हाथ से छूट के भागों को खोल और बड़े ध्यान से देखने लगे, फिर वह मेरे कान के पास आए और बोले बेटी मुझे पता है तुम जाग रही हो लड़की की चूत का गीलापन उसकी सारी सच्चाई बयां कर देता है, अगर तुम शर्मा रही हो तो कोई बात नहीं तुम ऐसे ही लेटी रह सकती हो।
मुझे पता है तुम्हारा भी मन मुझसे प्यार पाने का हो रहा है और मैं आज अपनी बेटी को 19 में जन्मदिन के मौके पर अपना प्यार जरूर दूंगा और ऐसा कहते हुए उन्होंने मेरे लिप्स पर हल्का सा किस कर लिया, मैं इस किस के लिए बिलकुल तैयार नहीं थी, मैं लगभग काँप सी गयी।
मैं कंफ्यूज भी हो गई कि मुझे उठ जाना चाहिए या ऐसे ही पड़े रहना चाहिए, आखिर में मैंने सोचा कि कुछ देर ऐसे ही पड़ी रहती हूं उसके बाद उठ तो जाना ही है,
पापा अब मेरे टांगों के बीच में चले गए और मेरी चूत पर मुंह रखकर चुत चूसने लगे सबसे पहले उन्होंने मेरी चूत के दाने को जीभ से टच किया और फिर उसे बिल्कुल छोटे बच्चे जैसे निप्पल चूसते हैं वैसे चूसने लगे।
मैं अपने आप पर अब कंट्रोल नहीं कर पा रही थी दोनों हाथों से मैं चादर को तेजी से पकड़ी हुए थी और अपनी सांसों पर कंट्रोल करने की कोशिश कर रही थी और एक हाथ से पापा मेरी चूत के छेद को टटोल रहे थे और उन्हें अब अंदाजा लग गया था कि मैं कुंवारी हूं और मुझे चोदने में बेहद मेहनत करना पड़ेगा, कुछ देर चुत चूसने के बाद मैं झड़ गई और मेरी चूत का पानी तेजी से बाहर निकल गया, मैं लगभग चिल्लाते चिल्लाते रह गई और मुझे पहली बार झड़ने पर इतने आनंद का अनुभव हुआ था।
अब पिताजी वापस से मेरे कान के पास आए और बोल बेटी अगर तुम उठ जाती तो बेहतर होता क्योंकि तुम अभी पूरी कुंवारी हो इसे खोलने में तुम्हारी सहयोग की आवश्यकता होगी कुछ देर बाद उठ जाना तब तक मैं तुम्हें और प्यार करता हूं,
मैं हल्के से मुस्कुरा दी लेकिन आंखें अभी भी हाथ से ढकी हुई हल्की खुली हुई थी।
मैं समझ चुकी थी कि आज मेरी चुदाई होकर रहेगी तभी पिताजी रूम के बाहर गए और एक थैला लेकर अंदर आए और बोल बेटा उठ जाओ देखो मैं तुम्हारे लिए गिफ्ट लाया है मैं ना चाहते हुए भी अपने हाथ को अपने आंखों से हटाई और शर्म आते हुए उठने के नाटक करने लगी।
मैं जैसे उठ कर बैठी मैंने देखा जहां पर मैं लेटी हुई थी वहां पर मेरी चूत के पानी से बेडशीट गीली हो चुकी थी मैं और शर्मा गई लेकिन मेरे पिताजी मुझे देखकर हल्का-हल्का मुस्कुरा रहे थे और बोल बेटा देखो मैं तुम्हारे लिए क्या गिफ्ट लाया है और उन्होंने पहले से बाहर निकाल कर कुछ गिफ्ट के बॉक्स रख दिए हैं अब मैं एक-एक करके गिफ्ट बॉक्स खोलने लगी एक गिफ्ट बॉक्स में पेंटी की तीन सेट है, यह पेंटी सिर्फ दिखावे की थी, इससे मुझे नहीं लगता कि कुछ ढकेगा हल्की सी पट्टी थी, जो की चूत से गांड तक होकर जाती मैंने उसे किनारे रख दिया और हल्का-हल्का शरमाते हुए मुस्कुराने लगी।
अगला गिफ्ट बॉक्स खोली तो देखा उसमें तीन सेट ब्रा के थे उसके बाद मैं आखिरी बॉक्स खोल उसमें दो डिलडो और एक वाइब्रेटर था, जिसको देखकर मैं बहुत घबरा गई और शर्मा भी गई तभी पिताजी ने मुझे अपनी और खींचा और गले से लगा लिया और मेरे कान में बोले बेटी अब तुम जवान हो गई हो अब तुम्हें इन सब चीजों की आवश्यकता होगी, मुझे लगा था तुम्हारा कोई बॉयफ्रेंड होगा और तुम शारीरिक रूप से खुश होंगे, लेकिन मैं ना चाहते हुए भी तुम्हारे ब्रा और पेटी पर कभी-कभी मुठ मार लेता था मैं चाहता था कि मैं अपनी बेटी की चुदाई खुद करूं जिसे मैं बेटी को खुशी दे पाऊं।
और मैं खुश हूं कि तुमने भी मुझे चुना, और फिर उन्होंने मुझे किस कर लिया इस बार किस थोड़ा लंबा चला क्योंकि मैं भी साथ दिया, शुरुआत में उन्होंने अपना जीभ मेरे मुंह में डाल दिया और किस करते हुए मैं उनका जीभ चूसने लगी, उसके बाद मैंने भी अपना जीभ उनके मुंह में डाल दिया और उन्होंने मेरा जीभ चूसना शुरू कर दिया, करीब 5 मिनट यह किस चला और मेरी चूत अब किसी नदी की तरह बहने लगी थी और मुझे महसूस हो रहा था कि पिताजी का लैंड भी पूरा टाइट हो गया था क्योंकि अब वह पेन्ट में एकदम तंबू बन दिख रहा था।
पापा अब मुझसे थोड़ी सी दूर हटें और मुझे देखकर हल्का-हल्का मुस्कुराते हुए अपना सारा कपड़ा उतारने लगे देखते देखते ही पिताजी पूरे नंगे हो गए. उनका लंड बहुत बड़ा तो नहीं था लेकिन मोटा अच्छा खासा था, तकरीबन उनका लंड 7 इंच का होगा और 5 इंच के आसपास मोटा आज से पहले मैंने कभी जीवन में असली लण्ड नहीं देखा था यह मेरे लिए सौभाग्य की बात थी कि मैं अपने जीवन का पहला लण्ड अपने पापा का लेने जा रही थी, यह वही लण्ड था जिसके बीज से मैं बनी थी।
अब पापा मेरे पास आए और मेरा टॉप उतरने लगे टॉप के अंदर मैंने कुछ नहीं पहना हुआ था, इसलिए टॉप उतरते ही मेरी चूचियां बाहर आ गई अब मैं हल्का सा और शर्मा गई और अपने हाथों से अपने चूचियों को ढकने की कोशिश करने लगी, तभी बड़े प्यार से पापा ने दोनों हाथ मेरी चूचियों से हटाया और बारी-बारी से मेरे दोनों चूचिओं पर एक-एक किस किया।

इसे भी पढ़ें   मामा को मुठ मारते देखा। Gay Ki Mast Gand Kahani

अब हम दोनों नंगे थे, और हमारे घर में कोई और नहीं रहता था इसलिए हम जहां चाहे वैसे चुदाई कर सकते थे, पिताजी ने मुझे उठाया और मुझे हाल में ले गए और मैंने देखा कि हाल में उन्होंने पहले से कुछ व्यवस्था कर रखा है जिसमें नीचे एक सफेद कलर का बेड लगा हुआ है जिस पर सफेद कलर का चादर बिछा है और उसके आसपास फूल रखे हुए हैं और वहां पर एक केक है पिताजी मुझे उसे बेड पर बैठा दिया और उसके बाद केक लेकर मेरे पास है और कहां लगे बेटा लो अपना केक काटो लेकिन उनके हाथ में कोई चाकू नहीं था।
मैं आसपास चाकू देखने लगे तभी उन्होंने कहा लो चाकू और केक काटो और ऐसा कहते हुए उन्होंने अपना लंड मेरे हाथ में थमा दिया मैं समझ चुकी थी पिताजी क्या चाहते थे, मैंने उनका लंड हल्के हाथों से पकड़ा और लण्ड पकड़ते ही मैं एकदम गरम सी हो गई, लण्ड एकदम कठोर था और गरम था, मैंने लण्ड पड़कर केक पर रखा और दबाव डाला, लण्ड केक में घुस गया, उन्होंने मुझसे कहा हैप्पी बर्थडे बेटा और उसके बाद लण्ड पर लगा केक उन्होंने हल्की सी मुझे खिला दिया और उन्होंने लण्ड मेरे मुंह के आगे कर दिया और कहा बेटा लोग केक खाओ।
मैं अब बिना शर्माए उनका लंड अपने मुंह में लेली, पहले मैंने कभी लण्ड देखा तो था नहीं, तो मुंह में लेने की बात तो दूर की है, लेकिन मैं कोशिश कर रही थी कि अपने पिता को ज्यादा से ज्यादा खुशी दूं।
मैं पॉर्न वीडियो में यह बहुत बार देखा था कि लण्ड कैसे चूसते हैं, आज परीक्षा की घड़ी थी मैं जीभ निकाली और लण्ड के टॉप को जीभ से चाटने लगी और केक खाने लगी, फिर मैंने धीरे से लण्ड के टोपे पर लगे केक को खाया और पापा के लण्ड के चमड़े को पीछे खींच और चूसने लगी, पापा आंख बंद करके मेरे लण्ड चुसाई का आनंद ले रहे थे।
फिर पापा नीचे लेट गए और मैं उनके दोनों पैरों के बीच में आकर उनका लंड चूसने लगी, अब लण्ड पर लगा केक खत्म हो चुका था, इसलिए मैंने अपने हाथ से थोड़ा सा केक और उठाया और उनके लण्ड पर लगा दिया और वापस से चूसने लगी और हल्की सी आंखें ऊपर करके मैंने देखा तो पिताजी आंख बंद करके एंजॉय कर रहे थे।
कुछ देर लूं चूसने के बाद पिताजी ने मेरा बाल पड़ा और मुझे अपने ऊपर खींच लिए और मुझे किस करने लगे और बोल बेटी अब तुम लेट जाओ अब मुझे केक खाना है मैं समझ गई थी कि पिताजी अब मेरा चूत चाटने वाले हैं मैं दोनों पैर फैला कर बिस्तर पर लेट गई पिताजी चूत पर केक लगाए और चूत के साथ-साथ उन्होंने मेरे पेट और चूची पर भी अच्छे से केक पाट दिया और शुरुआत चूत से किया
पहले उन्होंने चूत को अच्छी तरीके से साफ किया, उसके बाद हल्का-हल्का ऊपर आते हुए पहले नाभि के अंदर का केक खाएं फिर पेट के ऊपर लगा सारा केक खाया फिर चूँची पर लगी हुई केक को बारी-बारी से दोनों चूचियों से साफ किया, अब मैं बहुत गर्म हो चुकी थी मेरी गांड अपने आप ऊपर नीचे हो रहे थे, आप समझ सकते हैं कि ऐसा होने पर लड़की कितनी गर्म हो चुकी होती है।
पिताजी भी यह बात समझ रहे थे और अब वह मुझे वापस से झुक कर किस करने लगे और बोले बेटी थोड़ा दर्द होगा, लेकिन मैं तुमको पहले ही बता दूं कि इस दर्द के बीच में मैं रुकूंगा नहीं क्योंकि अगर बीच में रुक गए, तो तुम्हारी चुदाई का आनंद खराब हो जाएगा इसीलिए मुझे पहले ही माफ करना।
अब पिताजी बेड से नीचे उतरे और मेरी गांड को बेड के किनारे लगाया, जैसे कि मेरी कमर के बाद का हिस्सा हवा में आ गया अब मुझे हल्का सा बेड की तरफ खींचते हुए मेरी गांड के नीचे दो तकिया लगा दिया जैसे कि मेरी चूत ऊपर की तरफ आ गई और आराम से खड़ा होकर पापा का लैंड मेरी चूत पर लग रहा था।
उन्होंने मेरे चूत पर अपने लंड को रगड़ना शुरू किया, फिर उन्होंने अपने हाथ की हथेली मेरे मुंह के पास ले आए और बोल बेटी इस पर अपना थूक दो पहले तो मैं उन्हें देखि, फिर मैं बिना कुछ सोचे समझे उनके हाथ पर थूक दिया फिर उन्होंने कहा की बेटी इतनी थूक से कुछ नहीं होगा ढेर सारे थूक की आवश्यकता है।
फिर मैं थोड़ा-थोड़ा थूक और दिया उसके बाद उसको उन्होंने लिया और अपने लण्ड पर रगड़ने लगे और उसके बाद थोड़ा सा थूक मेरी चूत पर रगड़ के मेरी और देखा और बोल बेटी इससे दर्द थोड़ा काम होगा लेकिन आज तुमको मैं जवानी का मजा देकर रहूंगा।

इसे भी पढ़ें   बहन और भाभी एकसाथ चुदी (सामूहिक चुदाई) भाग-2

फिर पापा ने अपना लंड मेरी चूत के छेद पर टिकाया, जैसा कि मैं पहले ही बता दिया था कि मेरी चूत का छेद इतना टाइट है कि उसमें उंगली तक नहीं जाती है अब मैं थोड़ा डर रही थी क्योंकि पापा का मोटा लैंड मेरे चूत में कैसे जाएगा जबकि मेरी चूत में एक उंगली तक नहीं जाती है और पापा मेरे बूब्स की तरफ झुक कर मेरे लिप्स पर किस करने लगे।
किस करते-करते उन्होंने अचानक एक धक्का मारा और उनके लण्ड का टोपा मेरी चूत में समा गया, मैं मचल सी गई, मुझे कुछ समझ में नहीं आ रहा था क्योंकि मुझे दर्द बहुत तेज हो रहा था।
पापा ने मेरे होंठ पर अपना होंठ जमाया हुआ रखा जिसकी वजह से मेरी चीख बहुत ज्यादा बाहर नहीं निकली, और उन्होंने उसके तुरंत बाद एक जोर का धक्का मारा और उनका लंड मेरी चूत में लगभग पूरा घुस गया। अब मैं छटपटाना लगी, मुझे बहुत तेज दर्द हो रहा था, मुझे कुछ समझ में नहीं आ रहा था, अब मुझे लग रहा था कि बस यह खेल अभी रुक जाए, मुझे चुदाई नहीं करवाना।
पापा ऐसे ही थोड़ी देर रुक रहे और मेरी आंखों में देखते रहें, कुछ देर बाद मेरा दर्द हल्का कम हुआ और पिताजी धक्का लगाना वापस शुरू कर दिया, अब वह लण्ड को थोड़ा बाहर निकलते और वापस अंदर डाल देते, ऐसा करते रहे कुछ देर बाद मेरा दर्द हल्का-हल्का कम होने लगा और मुझे मजा आने लगा और अब लगभग 5 मिनट बीत जाने के बाद पापा अपना लंड पूरा चुत से बाहर निकलते और अंदर डालते और मैं भी अपनी गांड उछाल कर उनका लंड अपनी चूत में ले रही थी।
मुझे बहुत मजा आ रहा था करीब 20 मिनट चुदाई के बाद पिताजी ने अपना बीज मेरी चूत में ही निकाल दिया और मेरे ऊपर ही लेट गए कुछ देर बाद उठे और बाथरूम जाकर उन्होंने अपने लंड की सफाई की और मैं भी बिस्तर से उठी, बिस्तर से उठने के साथ मैंने देखा कि सफेद चादर पर लाल खून के धब्बे लगे हुए थे, मुझे साफ समझ में आ रहा था कि मैं अपनी वर्जिनिटी लूज कर दी है और यही खून मेरी चूत से निकला है।
उसके बाद में लंगड़ाते हुए बाथरूम गई और वहां अपनी चूत की सफाई की मेरी चूत थोड़ी सी सूज गई थी, वापस आने के बाद मैंने कपड़े पहने और अब मैं शर्म आने लगी थी, क्योंकि अब मेरा हवास खत्म हो गया था और मैं सोच रही थी कि क्या मैं गलत किया या सही।
कुछ देर बाद पापा मेरे पास है और बोल बेटा ज्यादा सोचने की जरूरत नहीं है मैं जानता हूं तुम्हारे दिमाग में क्या चल रहा है आराम से सो जाओ कल सुबह सब ठीक हो जाएगा
मैं भी ज्यादा कुछ ना सोते हुए सोने का निश्चय किया क्योंकि मैं अब बहुत थक चुकी थी तभी पिताजी ने एक दवा दिया, जिसे कहा कि इसे खा लेना नहीं तो गर्भ ठहर सकता है मैंने उसे दवा को खाया और मैं सो गई।

यदि आप भी अपनी कहानी इस वेबसाइट पर पब्लिक करवाना चाहते हैं तो नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके अपने कहानी हम तक भेज सकते हैं, हम आपकी कहानी आपके जानकारी को गोपनीय रखते हुए अपनी वेबसाइट पर प्रकाशित करेंगे

कहानी भेजने के लिए यहां क्लिक करें ✅ कहानी भेजें

Related Posts

Report this post

मैं रिया आपके कमेंट का इंतजार कर रही हूँ, कमेंट में स्टोरी कैसी लगी जरूर बताये।

1 thought on “पापा ने प्यार से चोदा – Papa ne mujhe choda”

Leave a Comment