आगे पीछे एक साथ लंड घुसवाने का मजा लिया!

force sex stories in hindi पढ़े ! पहले तो मुझे डर लगा कि मैं मर जाऊँगी क्योंकि मैंने दो लंड लिए हुए था। लेकिन मुझे बहुत मज़ा आया।

नमस्कार दोस्तो, मैं मधु, यह मेरी यौन कहानी है।

मेरी पिछली कहानी

लॉकडाउन के दौरान आंटी की चुदाई।

अब तक की कहानी में आपने पढ़ा था कि कैसे मेरी जिंदगी में किशोरकाल आया और हम दोनों ने अपने शरीर की भूख मिटाई।

जब एक किशोर का लंड मेरी चूत में घुसा, मैं बार-बार उसका लंड लेने लगी।

अब force sex stories in hindi का आनंद:

किशोर और मैं हमेशा सेक्स करते रहे, और सब कुछ ठीक चल रहा था।

हम दोनों के बारे में अभी तक किसी को कुछ नहीं पता था; मेरी किसी सहेली को भी नहीं पता था।

किंतु हम दोनों का यह शासन बहुत देर नहीं चला।

फिर मेरी जिंदगी में एक ऐसी घटना हुई कि मुझे किशोर की तरह कई लोगों के साथ सोना पड़ा।

मैं इस कहानी में आपको उस घटना बता रही हूँ।

किशोर और मैं बार-बार मिलते और चुदाई करते रहे।

किशोर के खेत, जंगल या नदी के आसपास चुदाई का खेल होने लगा।

फिर हुआ यूं कि कभी-कभी मैं चुपके से रात में घर से निकल जाती थी और किशोर के खेत में बने मकान में चुदाई करने के बाद सुबह होने से पहले वापस आ जाती थी।

इसी तरह एक दिन मेरे घर में सिर्फ भइया भाभी थे और मेरे मम्मी पापा शादी के कार्यक्रम से बाहर गए हुए थे।

उस रात मैं किशोर से मिलने जा रही था।

रात के बारह बजे मैं अपने घर से बाहर निकली और किसी तरह छुपते छुपाते किशोर के खेत चली गयी।

जब मैं वहां पहुंची तो मैंने देखा कि किशोर शराब पीते हुए चूर था क्योंकि उसे शराब पीने की आदत थी।

उस दिन, जब मैं उसके पास पहुंची, उसने मुझे भी शराब पिला दी।

हम दोनों ने चुदाई शुरू की और लगभग एक बजे किशोर मुझे घोड़ी बनाकर गांड चोद रहा था।

हम दोनों चुदाई कर रहे थे कि अचानक दरवाजा खुला और दो आदमी सामने खड़े थे।

मैंने घोड़ी की तरह उन्हें देखा। मैं इतना भयभीत थी..। जैसे काटो, खून नहीं निकलता।

मैं चादर ओढ़कर बिस्तर पर बैठ गयी।

वो दोनों आदमी हमारे गाँव के थे।

एक अमित और दूसरा मोनू था।

दोनों युवा मित्र थे।

उन दोनों ने चुदाई करते हुए एक दूसरे को देखा तो मेरा और किशोर का राज खुल गया।

उस दिन शायद किशोर ने पीकर दरवाजा नहीं बंद किया था।

मैं भी बहुत नशा नहीं करती थी।

दोनों ने दरवाजा खोला।

मुझे कुछ नहीं बताया, लेकिन किशोर को बताने लगे कि हमें भी चूत चाहिए।

किशोर बहुत देर तक मना करता रहा, लेकिन वे लोगों को मानने को तैयार नहीं थे।

हम दोनों को भय था कि ये लोग गांव में इसे फैलाएंगे।

किशोर ने नहीं मानने पर कहा, “हमें अकेले में बात करने दो, फिर फैसला करते हैं।”

इसके बाद वे दोनों हमें अकेले छोड़कर चले गए।

किशोर ने पूछा: क्या किया जाए?

मैं- मैं क्या कहूँ?

किशोर: अगर हम नहीं मानते, तो वे पूरे गांव में हमारी कहानी बता देंगे।

बहुत सोचने के बाद हम दोनों ने हां कह दिया क्योंकि हम दोनों को बदनामी का डर था।

मैंने किशोर से कहा- तुम बाहर चले जाओ क्योंकि मैं तुम्हारे सामने नहीं चुद सकती.

किशोर कपड़े पहनकर बाहर निकल गया।

उसके जाते ही चार मैंने बड़े घूँट नीट दारू की बोतल मुँह से लगाकर पी लिया।

मुझे उन दोनों से चुदने का साहस चाहिए था, जो दारू से मिल सकता था।

कुछ देर में दोनों ने दरवाजा बंद कर दिया।

मैं पूरी तरह से चादर ओढ़े हुए नंगी होकर पलंग पर बैठी हुई थी।

उसने चादर खींचकर अलग कर दी जब वह मेरे करीब आया।

मैं अपने नंगे शरीर को अपने हाथों से छुपाने की असफल कोशिश करती रही।

अमित और मोनू ने भी अपने कपड़े निकाल दिए और नंगे हो गए.

दोनों के लंड मेरे ध्यान में आए।

अमित का लंड सामान्य था, लेकिन मोनू का लंड देखकर मुझे डर लग गया क्योंकि वह बड़ा था और उसके आगे अमित का लंड कुछ भी नहीं था।

उसका मोटा, करीब 7 इंच लंबा लंड था।

मैं उनके सामने छोटी थी क्योंकि वे दोनों ही शादीशुदा और मुझसे काफी बड़े थे।

लेकिन मेरा बदन किसी भी औरत से कम नहीं था।

हम दोनों बिस्तर पर आ गए और अमित मुझे घुटनों के बल खड़ा करके मेरा दूध चूसने लगा।

मोनू मेरे पीछे आकर मेरी पीठ पर लिपट गया।

मोनू मुझसे इस तरह से लिपटा हुआ था वह जानबूझकर अपना लंड मेरी चूतड़ों के नीचे से मेरी गांड के छेद में रगड़ रहा था।

डर था कि वह मेरी गांड में अपना लंड ऐसे ही न डाल दे।

मैं उसके बड़े लंड से अपनी गांड चुदवाना नहीं चाहती थी।

इधर, अमित मेरे दूध को जोश से चूस रहा था।

मेरे दूध को भी मोनू बगल से अपने हाथ से दबाया।

फिर वह कभी-कभी अपने हाथों से मेरे बड़े-बड़े चूतड़ों को सहलाता और दबाता।

दोनों के बीच में मैं दबी जा रही थी।

मेरे नंगे शरीर से वे बहुत देर तक खेलते रहे। फिर मैं कुछ समय बाद मैं बिस्तर पर गिर पड़ी।

उसने मेरे ऊपर आकर मेरे होंठ चूमकर अपना लंड मेरी चूत में डाल दिया।

उसने एक झटके में पूरा लंड मेरी चूत में डाल दिया और मुझे जोर से धक्के मारने लगा।

मैंने दोनों हाथ उसके सीने पर रखे।

लेकिन वह चुदाई करने में माहिर था।

उसने मेरे सीने पर अपना सीना रखकर मुझे दबाते हुए चुदाई शुरू की।

थोड़ी देर बाद, मोनू मेरे बगल में आकर बैठ गया वह हाथों से अपना लंड सहला रहा था।

बगल में बैठकर वह अपना लंड कभी गालों पर, कभी होंठों पर घुमाता।

फिर उन्होंने अचानक मेरे मुँह में अपना लंड डाल दिया, और मुझे न चाहते हुए भी उसका लंड चूसना पड़ा।

अब मोनू का लंड मेरे मुँह में था और अमित का लंड मेरी चूत में था।

कुछ समय बाद मुझे उनकी चुदाई में भी मज़ा आने लगा।

मुझे मादक आहें निकलने लगी, “आह आआह आह..।” ऊऊऊऊऊ हहह”

वह मुझे कुछ समय तक ऐसे ही चोदता रहा, लेकिन जब अमित का पानी निकलने वाला था, तो उसने अपना लंड निकालकर मोनू पर चढ़ गया।

मैंने सोचा कि अगर ये दोनों मुझे बार-बार चोदते रहेंगे तो मेरी हालत खराब हो जाएगी।

मोनू ने मेरे ऊपर आकर एक बार में मेरी चूत में अपना लंड डाल दिया।

वह इतना मोटा था कि मैं जोर से चिल्ला पड़ी, “ऊऊ ऊईई माँ..।” मर गई..। आराम से करो!

थोड़ा बेरहम होकर मोनू ने मुझे गाली दी: “साली मादरचोद, इतनी रात में चुदवाने आई और अब तेरी गांड फट रही है।” गांव में रोज अपनी ताकत दिखाती थी। मेरी कुतिया, आज मैं तुम्हें जमकर चोदना चाहता हूँ।

उसने इतना कहने के बाद अपनी पूरी शक्ति लगाकर मुझे चोदने लगा।

वह सिर्फ चोदता जा रहा था, जबकि मैं चिल्लाती जा रही थी।

उसने अपना पूरा वजन मेरे ऊपर लाद दिया औरअपने दोनों हाथों से दूध पकड़ लिया।

किशोर और अमित की चुदाई से तुलना करने पर मोनू की चुदाई काफी तेज और दर्दनाक थी।

तुरंत मेरी चूत से फच फच की आवाज आई। उसके जोरदार धक्के मेरे पेट पर लग रहे थे।

मोनू को रोकने की मेरी कोशिशों के बावजूद, मैं अपने पेट को कसकर पकड़ने की कोशिश करती थी।

बगल में खड़े होकर अमित अपना लंड सहला रहा था, पूरा बिस्तर जोर से हिल रहा था।

मोनू मुझे करीब दस मिनट तक बेरहमी से चोदता रहा।

उसके बाद वो मेरे ऊपर से उठा और मेरा हाथ पकड़कर मुझे बिस्तर से नीचे खींच लिया.

उसने मुझे फर्श पर खड़ा करके अमित से कहा, “तू आगे से इसकी चूत चोद।” पीछे से मैं इसकी गांड चोदता हूँ।

यह सुनकर मैं अपने नखरे चोदने लगी और मैंने कहा कि मैं ऐसा नहीं करवाऊंगी। मैं दोनों को एक साथ नहीं सह सकती।

मोनू ने कहा, “चुप रह, मादरचोद, मनोरंजन खराब मत कर”। हम सिर्फ तुम्हें प्यार से चोद रहे हैं। तुम सिर्फ चुदवाने आई हो न? तो अब जी भर के चुदवा।

मैं जीभ को अपने होंठों पर फेर रही थी।

मैंने बिना शर्म के मुँह से लगा लिया जब उसने मेरी तरफ अद्धा किया।

दारू पीकर चुदाई करने में मज़ा आने लगा था और आज पहली बार दो आदमी मेरे साथ खेल रहे थे।

जब दारू हलक के नीचे गई, तो मुझे उसका मत सही लगने लगा।

मेरी गांड और चूत दोनों खुली थीं, इसलिए मैं एक साथ आगे पीछे से लंड लेने का डबल सेक्स भी करने वाली थी।

मैंने सोचा कि मैं ड्रामा करता रहूँगी और दोनों के लंड का मजा लेता रहूँगी।

उसने फिर अपना लंड मेरी चूत में डालकर कमर में हाथ डाला।

मोनू ने पीछे से मेरी गांड में थूक लगाया और लंड छेद में डालने लगा. लंड बार-बार छिटककर बाहर निकल जा रहा था।

उसने मेरी चूत पर पानी डाला और उसे पूरी तरह से गीला किया।

फिर उसने अपने दोनों हाथों से मेरे चूतड़ों को फैलाकर लंड छेद में घुसने लगा।

इस बार उसका लंड पूरी तरह से अंदर चला गया।

उसके मोटे लंड से मैंने तिलमिला कर कहा, “ऊऊ ऊईई ई मांआआ आआह आआह आराम से आआह..।”

किंतु वे मेरी बात नहीं सुन रहे थे, वे मेरी गांड और चूत को एक साथ चोदने लगे।

मैं खड़ी खड़ी अपने दोनों छेद पर दनादन लंड ले रही थी।

थोड़ी देर में दोनों के लंड पूरी तरह से बाहर निकलने लगे।

डबल सेक्स शुरू में मुझे परेशान कर रहा था, लेकिन बाद में मुझे पूरा मजा आने लगा।

वह अकेले ही चोदता था, इसलिए किशोर भी ऐसा मज़ा नहीं दे पाता था।

लेकिन आज मैं एक साथ दो लंड ले रही थी।

वे दोनों ही चुदाई करते रहे। मैं बहुत देर टिक नहीं पायी और गिर गयी।

बाद में अमित भी गिर पड़ा और बिस्तर पर लेट गया।

किंतु मोनू ने मुझे पलंग पर झुकाकर मुझे कुतिया की तरह चोदने लगा।

उसने मुझे बहुत देर तक चोदा और फिर झड़ गया।

सुबह चार बजे तक उन दोनों ने मुझे तीन बार बुरी तरह से चोदा।

फिर मैं अपने कपड़े पहने हुए घर की ओर चला गयी।

आज की चुदाई से मैं बहुत थक चुकी थी और चलते भी नहीं बन रहा था।

किसी तरह मैं अपने घर पहुंची और सीधे बिस्तर पर सो गयी।

उस दिन के बाद, दोस्तों, अमित और मोनू मुझे बार-बार चोदने लगे।

किशोर मुझे कम चोदता था, लेकिन वे दोनों मुझे हर दिन चोदते थे।

मैंने सोचा कि चुदाई इतनी बुरी आदत बन गई थी कि अगर हमें दस मिनट का भी समय मिलता, तो हम चुदाई कर लेते।

रोज शाम होने के बाद मैं उन तीनों में से किसी एक को अपने घर के पिछवाड़े पर बुला लेती, बस मुझे अपने सलवार का नाड़ा खींचना होता और खड़े-खड़े चुदाई करके वापस घर आ जाती।

साथ ही, रात में किशोर के खेत पर तीनों ने मेरी चुदाई भी की।

दारू के साथ चुदाई का मजा चारों ओर फैलता।

मुझे लगता था कि चुदाई एक बुरी आदत है, इसलिए मैं अब चुदाई नहीं कर सकती थी।

दोस्तो, उन तीनों ने ही मेरी प्यास बुझाई थी जब तक मैंने शादी नहीं की।

मैं अपने पति से ही खुश थी और उसके बाद मुझे मायके जाने का उतना मौका नहीं मिला।

मेरी उम्र अब 47 साल की हो गई है और मैं अभी भी चुदाई करती हूँ।

मुझे आशा है कि मेरी जिंदगी की ये XXX कहानी आपको पसंद आएगी।

मैं रिया जी को धन्यवाद देना चाहती हूँ कि उन्होंने मेरी कहानी को प्रकाशित करने की अनुमति दी।

force sex stories in hindi पढ़ने के लिए धन्यवाद। तुम चाहो तो मेल कर सकते हो।

riyaxxxkahani090@gmail.com

Related Posts

Leave a Comment