पापा ने करी बहन की चुदाई | Father Sex With Sister Xxx Kahani

Father Sex With Sister Xxx Kahani पढ़े । मैं अपनी माँ के यहां बुआ की शादी में गया। जब हम शादी से लौटे, मैंने सोचा कि मेरे पापा और मेरी बहन एक दूसरे से बदतर थे। बाप और बेटी के बीच क्या हुआ?

दोस्तो, मेरा नाम विवेक (बदला हुआ) है और मैं रोहिणी, दिल्ली के व्यस्त इलाके में रहता हूँ। मैं, मेरी बहन और मेरे मां-पापा मेरे घर में रहते हैं। मेरे पिता का बिजनेस सही चल रहा था, इसलिए हमारी जिन्दगी बहुत आराम से चल रही थी।

Father Sister Sex Kahani

मैं कहानी को आगे बढ़ाने से पहले आपके परिवार से परिचय देता हूँ। यहां, गोपनीयता के लिए मैंने कहानी के पात्रों के नाम बदल दिए हैं। मैं 23 वर्ष का हूँ और मेरी बहन 21 वर्ष की है। मेरे पापा पचास वर्ष के हैं और मेरी मां चालीस वर्ष की है। मैं ग्रेजुएशन कर चुका हूँ और अब मास्टर कर रहा हूँ। मेरी बहन ग्रेजुएशन का अंतिम वर्ष है।

मैं पाठकों को बताना चाहता हूँ कि ये मेरी पहली Father Sex With Sister Xxx Kahani है। इसमें भी कुछ कमी हो सकती है। इसलिए आप इस कहानी का आनंद लेंगे और अगर कुछ गलत हो तो मुझे बाद में बता सकते हैं।

यदि आप भी अपनी कहानी इस वेबसाइट पर पब्लिक करवाना चाहते हैं तो नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके अपने कहानी हम तक भेज सकते हैं, हम आपकी कहानी आपके जानकारी को गोपनीय रखते हुए अपनी वेबसाइट पर प्रकाशित करेंगे

कहानी भेजने के लिए यहां क्लिक करें ✅ कहानी भेजें

यह मेरी बुआ के घर पर हुई शादी की बात है। जून महीने है। हम सब शादी करने की तैयारी कर रहे थे। मगर पिता का जाना कैंसिल हो गया क्योंकि बिजनेस में समस्याएं आईं।

अब मेरी मां, बहन और मैं जाने वाले थे। फिर मां ने निर्णय लिया कि बहन घर पर रह जाएगी। Papa के पास कोई नहीं था। मेरी बहन को ये बात सुनकर थोड़ा दुःख हुआ। लेकिन मां ने कहा कि विवेक और मैं (मॉम) ही शादी में जाएंगे।

मां और मैं शादी के लिए बुआ के घर गए। एक सप्ताह के बाद हम वापस घर आ गए। घर आने पर फिर से वही दिनचर्या शुरू हो गई। मैं अपनी पढ़ाई में व्यस्त था और मेरी बहन भी। Papa बिजनेस में व्यस्त थे।

एक बात जो मैं देख रहा था, वह यह था कि अब मेरे पापा और मेरी बहन के बीच संबंध कुछ बदल गए हैं। वे लोग पहले से ही कुछ अलग तरह से व्यवहार करने लगे थे।

मैंने सोचना शुरू किया कि अब वो पहले से ज्यादा नजदीक आ गए थे। मैंने सोचा कि पापा-बेटी का प्यार होता ही है, लेकिन उनके व्यवहार में उन दिनों से बहुत फर्क था।

Father Dauther Sex Kahani

मेरे पापा अक्सर मेरी बहन को कार में बाहर ले जाते थे। न चाहते हुए भी मुझे संदेह होने लगा। मैंने इसकी पूरी जांच करने का विचार किया। मैंने पहले से ही उन दोनों पर अधिक ध्यान देना शुरू कर दिया।

उन्हें एक दिन बाहर जाना पड़ा। पापा और बहन एक गाड़ी में चले गए। मैं भी उनके पीछे चला गया। मैंने उनका पीछा करते हुए देखा कि वे एक होटल में गए। ये दोनों होटल में क्या करने गए, यह देखकर मुझे हैरान कर दिया।

मैं वहीं बाहर उनका इंतजार करने लगा जब मेरा शक बढ़ा। लगभग दो घंटे के बाद लोग निकल गए। मुझे अब कुछ समझ आने लगा। जब मैं घर पर था, मैं सिर्फ पापा और बेटी की हरकतों पर ध्यान देता था।

एक दिन मैंने मेरे पापा को मेरी बहन की गांड पर हाथ से सहलाते देखा। वह किचन में थी और उसके पिछवाड़े पर पापा हाथ से सहला रहे थे। मैंने उन दोनों की तस्वीर चुपचाप क्लिक की। ताकि मेरे पास स्पष्ट सबूत हो, मैंने तीन या चार चित्र ले लिए।

मैं अगली सुबह अपनी बहन के कमरे में गया। उस समय वह सो रही थी। मैंने उसे जगाया।
उसने कहा कि इतनी सुबह मुझे क्यों जगा रहे हो?
मैंने कहा कि मुझे आपसे कुछ बात करनी है।
“अभी सोने दो, बाद में कर लेना,” उसने कहा।

मैंने फोन को अपनी जेब से निकालकर उसे आंखें खोलकर देखने को कहा। जब उसने चित्र देखा, उसकी आंखों से सारी नींद गायब हो गई। मेरे फोन पर सेव की गई तस्वीर को देखकर वह सहम सी गई।

इसे भी पढ़ें   लन्ड की मालिश करवाकर मम्मी को चोदा

मैंने कहा, “डरो मत, मैं सिर्फ इस बारे में कुछ पूछने आया हूँ।”
मैं इससे पहले कुछ और कहूँगा। मेरी बहन रोने लगी, आंखों में पानी आ गया।
वह मुझसे लिपट गई जब मैं उसके कंधे पर हाथ रखा। मैंने उसे शांत किया और आराम से पूछा, “श्वेता, बस मुझे बता दो कि ये सब कब से शुरू हुआ और कैसे शुरू हुआ?”

प्रिय, मेरी बहन का आकार बहुत सुंदर है। 32-28-30 साइज के साथ वह पूरी तरह से हुस्न की परी की तरह लगती थी। मैं भी उसके बदन को छूकर कुछ बदल गया था, लेकिन उससे पहले मुझे पूरी बात जाननी चाहिए थी।

फिर वह बोलना शुरू किया:

भैया, आप तो उस दिन मां की शादी में गए थे। मैं शादी में नहीं जा पाई थी, इसलिए मेरा मन बहुत दुखी था। मैं अपने मूड को ठीक करने के लिए अपने फोन पर पोर्न वीडियो देखने लगी और अपनी चूत को सहलाने लगी।

Father Sister Hindi Sexy Kahani

मैं उत्तेजित हो गया और अपनी चूत पर उंगली चलाने लगी। उसके बाद मैं जाकर शांत हो गया। फिर मेरा मनोबल कुछ सुधर गया, लेकिन हर दिन की तरह खुश नहीं था।

शाम को फिर पापा आए। मैंने चाय बना दी। पिताजी ने मुझे अपने पास बैठाकर पूछा-तुम्हारा मुंह क्यों लटका हुआ है? हम दोनों कहीं बाहर घूमने जाएंगे।

मैं पापा का हाथ अपनी जांघ पर था। उनके हाथ अजीब लगे। कुछ मज़ा आया। मैंने अपने पिता का कठोर हाथ छू लिया और मुझे लगता था कि मेरी चूत में कुछ अच्छा लग रहा है।

तुम कहां घूमना चाहती हो? वह मेरी जांघ को सहलाते हुए पूछा। हम अभी चल रहे हैं। आप कहां जाना चाहते हैं?
मैंने कहा कि हम NSP के किसी पब में जाएंगे।
Papa ने कुछ देर सोचा और फिर हां कर दिया। मैं खुश हूँ।

मुझे उनकी जांघ पर बैठा दिया। उनकी जांघों के बीच मेरे चूतड़ टिक गए। मैं नीचे से उनका वह अनुभव किया।
Vivek ने मुझसे पूछा: वह क्या है?
श्वेता ने कहा कि वह उनका है।
मैंने स्पष्ट रूप से पूछा कि क्या वह उसे लगा रखा है या नहीं।

श्वेता ने कहा कि पापा का पेनिस मेरी गाड़ी पर टकरा रहा था। उनके पेनिस का टच मुझे बहुत अच्छा लगा। मैंने सोचा कि मैं अपने पिता के साथ थोड़ा मनोरंजन कर सकता हूँ।

मैं अपनी रेड वाली ड्रेस पहनकर गया। पीछे से मेरी पोशाक बैकलेस थी। वह बहुत छोटी थी। Papa मुझे देखते ही रह गये जब मैं उस ड्रेस पहनकर आई।

दोनों हम पब में जाने के लिए तैयार हो गए। जब हम पब में गए, वेटर और बहुत से लोग मुझे ही देख रहे थे।
साथ ही एक वेटर ने पापा से कहा कि आप बहुत भाग्यशाली हैं सर, आपकी गर्लफ्रेंड बहुत सुंदर है। इस उम्र में भी आपकी ऐसी प्रेमिका बहुत अजीब लगती है।

यह सुनकर पिता गुस्सा हो गया। वह वेटर से कुछ कहने वाले थे, लेकिन मैंने उनका हाथ खींचकर कहा, “पापा, आज की रात मुझे कुछ देर के लिए मम्मी ही समझ लो।” हम अपनी पार्टी को बिगाड़ने नहीं आए हैं।

मैंने कहा कि पिताजी मान गए। तब हम अंदर गए। वहाँ पर मैंने दो पेय ले लिया।
हम दोनों ने मिलकर पेय पीया। तब हम डांस करने लगे। Papa अभी तक बहुत खुल नहीं रहे थे।

मैंने उनका हाथ अपनी कमर पर रखवाया।
श्वेता ने कहा कि क्या कर रही हो, किसी को पता चला तो बहुत बदनामी होगी।
मैंने कहा, पापा, हम सिर्फ डांस कर रहे हैं, इसमें बदनामी का डर क्या है? वैसे भी, हमें इस स्थान पर कौन पता है?

मैं अपने पिता के साथ डांस करने लगी। मैं जानता था कि पिता कोई कार्रवाई नहीं करेंगे। इसलिए मैंने पहल करने का निर्णय लिया।
मैंने अपने पिता से आंखें बंद करने को कहा। मैंने पिताजी को होंठों पर किस करते हुए उनकी आंखें बंद की।

इसे भी पढ़ें   मैंने और साली ने नहाते हुए सेक्स किया। Hot Jija Sali Hindi Sex Story

पीछा करने लगे। लेकिन मैं खुद को खुश महसूस कर रहा था। Papa’s hammer को छूने के बाद से मुझे कुछ हुआ।
पिताजी ने कहा कि श्वेता, सब देख रहे हैं कि आप क्या कर रहे हैं।
मैंने कहा, “पापा, कुछ नहीं होता, इंजॉय करो।”

Papa भी खुश हो गए, एक दो बार मना करने के बाद। धीरे-धीरे वे सुरूर होने लगे। अब मेरे पिता खुद मेरे होंठों को किस करने लगे। मैं भी पूरी तरह से उनका साथ दे रहा था।

Sister And Father Hindi Sex Kahani

मैंने पापा का लंड उनकी पैंट में उठते देखा। ये देखकर मेरा मनोरंजन बढ़ गया। मैंने अपने पिता का लंड हाथ से सहलाया। मेरी गांड पर हाथ दबाने लगे, बिना कुछ कहे।

फिर हम लोगों से नहीं रुका। हम पब से निकलते ही गाड़ी में बैठकर घर वापस आ गए। द्वार पर पहुंचते ही मेरे पिता ने मुझे गोद में उठा लिया और मुझे बेड पर पटक दिया।

मेरे पिता हवस से मेरे बूब्स को घूर रहे थे। मैंने उनके होंठों को चूसने लगी और उनको अपने ऊपर लिटा लिया। उसने मेरी जांघों पर अपना लंड रगड़ते हुए भी मुझे किस किया। मैं खुश हो रहा था और पापा भी गर्म हो गये।

वह मेरे होंठों को सक करने के बाद कपड़ों के ऊपर से ही मेरे बूब्स को दबाने लगे। उनके सख्त हाथों से अपने बूब्स दबवाने में मुझे बहुत मज़ा आया। मेरे बूब्स आधे नंगे हो गए जब मैंने अपनी ड्रेस को नीचे खींच दिया।

पिताजी ने उनके आधे नंगे बूब्स को देखकर उनका किस करना शुरू कर दिया। मैंने हाथों से उनके सिर को सहलाना शुरू किया। मैं भी अपने पापा की पीठ को हाथ से सहला रही थी।

फिर नीचे की ओर चले गए। मेरी पैंटी दिखाई दी जब वे मेरी ड्रेस को उतारे। मेरी पैंटी पर होंठों से किस करना शुरू कर दिया। मैं खुश होने लगा। मेरी चूत को कोई प्यार कर रहा था।

मैं खुश होने लगी। Papa भी मुझे जोर से किस करने लगे। मेरी पैंटी उनके थूक से गीली हो गई। Papa ने मेरी चूत को चाटने लगा और मेरी पैंटी निकाल दी। जब मेरे पापा ने मेरी चूत चाटना शुरू किया, मुझे सिसकारी आने लगी।

चूत चटवाने का मजा किसी और में नहीं मिलता। मैं भी मेरे पूर्व प्रेमी से बहुत देर तक अपनी चूत चटवाती थी। वह सिर्फ मेरी चूत का पानी अपने मुंह में निकालता था। मैं बहुत खुश था।

फिर मेरे पिता ने मेरी ड्रेस निकाली। मैंने अपने पिता को कसकर पकड़ लिया। मैं जोर से पापा के लिप्स को किस करने लगी। Papa मेरे बूब्स जोर से दबा रहे थे। मेरा हाथ पापा ने अपने लंड पर रख लिया। पैंट के ऊपर से ही मैंने पापा का लंड हाथ में पकड़ लिया। मेरे पूर्व प्रेमी का लिंग उनका लिंग से बड़ा था।

मेरे पूर्व प्रेमी का लंड छह इंच का था, जबकि मेरे पिता का लगभग सात इंच का था। मैंने पहली बार इतना बड़ा लंड देखा था। मैंने अपना हाथ पापा की पैंट की जिप में डालकर उनकी पैंट खोल दी। मैंने पापा का लंड पकड़ लिया और हाथ अंदर डाल दिया।

वह अपनी पैंट को पूरी तरह उतार दिया और पिता से रुका नहीं। वह पूरी तरह से नंगे हो गए। जब मैंने पापा का लंड देखा, तो मुझे पानी आ गया। पिताजी का मोटा और सुंदर लंड था। उनका सुपाड़ा बहुत सुंदर था।

मैं पिता का लंड चूसने लगी। पापा का लंड देखकर मैं बहुत खुश हो गया। मैं जानता था कि आज रात मैं बहुत खुश रहूँगा। मैं उत्साहित होकर पिता का लंड चूस रहा था।

पिताजी की आवाज निकल रही थी, आह्ह। ओह..। मेरे प्यारे डॉटर..। मेरी प्यारी बेटी, मुझे ऐसे चूसो। आह्ह।तुम्हारी माँ भी कभी मेरा लंड इतने प्यार से नहीं चूसती थी..। आह..। देखो इसे..। ओह्ह।

इसे भी पढ़ें   मामा जी के बेटी की सील तोड़ चुदाई | Sexy Sister Porn Kahani

Desi Sister And Father Porn Kahani

मैं पापा के लंड को दस मिनट तक चूसती रही और फिर वह मेरे मुंह में झड़ गया। मैंने पिताजी का लंड निकालकर नैपकिन से साफ किया। फिर मैंने पापा के लंड को फिर से चूसना शुरू किया।

पिताजी का लंड फिर से टाइट हो गया। Papa ने मुझे अपने ऊपर लेटा और मेरी चूत में लंड डाला। थोड़ी मशक्कत के बाद उनका बड़ा लंड अंदर गया। मैं लंड लेने के बाद धीरे-धीरे उछलने लगी।

मैं बहुत खुश था। पिताजी भी बहुत खुश थे। वह मेरी चूचियों को किस करते और कभी-कभी हाथ में लेकर रगड़ते थे। इसमें मुझे बहुत मजा आया। पति से चुदाई करने में भी मुझे उतनी खुशी नहीं मिली जितना मेरे पिता से।

मैं दस मिनट तक अपने पिता के लंड पर ऊपर नीचे रही। फिर पिता मेरे ऊपर आए। ऊपर आकर पिता ने मुझे जोर से पीटा। मेरी चूत अब दर्द करने लगी। पिताजी का लंड भी बहुत अच्छा था।

वह हर पांच मिनट में स्थान बदलते थे। हमने आधे घंटे तक चुदाई की। पिताजी से चुदने में मुझे बहुत मज़ा आया था, हालांकि मैंने पहले भी ऐसा किया था।

पिताजी ने मेरी चूत में झड़ा, जिससे मेरी चूत में उनका सीमन बहुत गर्म था। मैं अपने पिता से प्यार करता हूँ। उनका सुंदर लिंग है। उसके बाद मैं और पिता हर रात चुदाई करने लगे।

तुम (विवेक) और मॉम ने शादी से वापस आने तक घर में रहकर बहुत मजे लिए। आपके आगमन के बाद हमें फिर से चुदाई करने का मौका नहीं मिल रहा था। यही कारण था कि मेरे पिता कभी-कभी किचन में तो कभी बाथरूम में मेरा पीछा करते थे।

उस दिन पिताजी ने पीछे से मेरी गांड मसलना शुरू कर दिया। उसी समय मेरी चूत में पानी आना शुरू हो गया। अब पापा और मैं एक दूसरे को बहुत पसंद करते हैं, हालांकि मैं नहीं जानता कि तुमने ये चित्र कब लिया था।

दोस्तो, मेरी सगी बहन श्वेता ने ये सब कहते हुए मेरा लंड अकड़ गया। मैं अभी अपनी चुदक्कड़ बहन की चूत को चोदूँगा। मैं भी उसकी चूत चोद कर खुश हो सकता हूँ जब वह पापा के लंड से चुद कर इतना मजा ले सकती है।

लेकिन मॉम तभी कमरे में आई। मैं फिर बाहर आ गया। अब मैं अपने पापा और दीदी की चुदाई की योजना बनाने लगा और अपनी बहन की चुदाई भी करने लगा। उसके गोरे बदन को देखकर मेरा लिंग भी मचल गया।

Indian Father Sister Sex Xxx Kahani

यहीं से बात शुरू हुई, हालांकि दीदी ने अपनी कहानी बताकर बात खत्म कर दी। मैं भी अपनी बहन की चूत की गर्मी जानता था। Papa उसकी चूत में मजे ले रहे थे।

आप इस Father Sex With Sister Xxx Kahani को पसंद किया या नहीं? मुझे बताओ। नीचे दी गयी ईमेल पर मैसेज करें और कमेंट बॉक्स में इस कहानी पर अपना फीडबैक दें। बाय-बाय।

Read More Sexy Kahani…

हॉट आंटी की काली चूत चुदाई की कहानी | Hot Aunty Xxx Chut Chudai Ki Kahani

पड़ोस की आंटी को गर्म करके चोदा | Hot Aunty Antarvasna Kahani

Related Posts

Report this post

मैं रिया आपके कमेंट का इंतजार कर रही हूँ, कमेंट में स्टोरी कैसी लगी जरूर बताये।

Leave a Comment